Rajasthan BSTC admit card 2020 Exam: राजस्थान राज्य ने राजस्थान BSTC परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र जारी कर दिए हैं । यह प्रारंभिक शिक्षा विभाग, राजस्थान सरकार की ओर से प्रवेश पत्र 26 अगस्त 2020 को जारी किए गए हैं। आज जानेंगे यथार्थ शिक्षा में कैसे मिलता है प्रवेश।

Pre D.El.Ed. Notification 2020: मुख्य बिंदु

  • राजस्थान राज्य में BSTC परीक्षा के प्रवेश पत्र हुए जारी, 31 अगस्त को होगी परीक्षा
  • प्री डीएलएड की आधिकारिक वेबसाइट की मदद से करने होंगे प्रवेश पत्र डाउनलोड
  • BSTC की परीक्षा को ही अब कहते है Pre D.El.Ed.
  • प्री डीएलएड परीक्षा 2020 होगी ऑफलाइन मोड से 31 अगस्त 2020 समय दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक
  • बिना डीएलएड कोर्स के नहीं मिलता शिक्षक का पद
  • आध्यात्मिक सत ज्ञान है वह पाठ्यक्रम जिससे मिलेगा सतलोक में स्थान
  • बिना सद्भक्ति के नहीं मिलेगी मुक्ति

Pre D.El.Ed. Notification 2020 pdf: प्रवेश पत्र (एडमिट कार्ड) हुए जारी

BSTC परीक्षा हेतु प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने 26 अगस्त 2020 को प्रवेश पत्र (प्रवेश पत्र (एडमिट कार्ड)) जारी कर दिए हैं । यह परीक्षा डीएलएड कोर्स करने के लिए कराई जाती है। प्रत्येक वर्ष एक बार BSTC की परीक्षा होती है। इसके जरिए जो योग्य अभ्यार्थी होते हैं उन्हें राजस्थान के विभिन्न कॉलेजों में डीएलएड कोर्स करने के लिए दाखिला मिलता है ।

कौन सी वेबसाइट से करें Rajasthan BSTC 2020 Admit Card Download

जो भी अभ्यार्थी इस परीक्षा में भाग लेंगे उन सभी को मालूम होना चाहिए कि परीक्षा के प्रवेश पत्र (एडमिट कार्ड) DEE, राजस्थान की आधिकारिक साइट पर जारी किए गए हैं। ऑफिशियल वेबसाइट predeled.com है।

Download Pre D.El.Ed. Notification 2020 pdf

Rajasthan BSTC 2020 Admit card को डाउनलोड कैसे करें?

  • पहला चरण: predeled.com आधिकारिक वेबसाइट खोलें।
  • दूसरा चरण: होम पृष्ठ पर, प्रवेश पत्र (एडमिट कार्ड) डाउनलोड लिंक पर क्लिक करें।
  • तीसरा चरण: स्क्रीन पर एक नया पेज खुल जाएगा।
  • चौथा चरण: एप्लिकेशन आईडी और पासवर्ड जैसी मांगी गई जरूरी डिटेल दर्ज करें।
  • पाँचवा चरण: इसके बाद लॉग-इन बटन को क्लिक करें।
  • छठवाँ चरण: ऐसा करने पर राजस्थान बीएसटीसी प्रवेश पत्र (एडमिट कार्ड) 2020 खुल जाएगा, डाउनलोड कर प्रिंटआउट ले लें।

Pre D.El.Ed. Notification 2020: कब होगी परीक्षा?

31 अगस्त 2020 को परीक्षा होगी जो कि राजस्थान राज्य में ही आयोजित की जाएगी। मुख्य बात बता दें कि परीक्षा ऑफलाइन मोड में होगी। जिसका समय दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक है।

Rajasthan BSTC 2020 कैसे होगी?

  • Rajasthan BSTC 2020 Admit card: यह परीक्षा पेन-पेपर मोड में रहेगी जिसमें परीक्षा 3 घंटे की होगी और इसमें बहु-विकल्पीय प्रश्न, MCQ होंगे।
  • उम्मीदवार यह ध्यान दें कि परीक्षा में कोई नकारात्मक अंकन नहीं होगा।
  • परीक्षा में केवल 200 प्रश्न पूछे जाएंगे जिसमें भाषा अनुभाग में संस्कृत और हिंदी के 30 प्रश्न शामिल हैं।
  • अधिक से अधिक जानकारी हेतु उम्मीदवार प्रारंभिक शिक्षा विभाग, राजस्थान की आधिकारिक साइट पर जा कर देखें।

हमारा कल्याण किस शिक्षा से होगा?

वर्तमान समय में शिक्षा ने व्यवसायिक रूप ले लिया है। आज लोग इसलिए पढ़ाई करते हैं ताकि उन्हें अच्छी नौकरी प्राप्त हो सके और वे अपने जीवन को अच्छे से जी सके, फिर भी अच्छा व्यवसाय प्राप्त हो जाने मात्र से ही हमारा जीवन सफल नहीं होता है। जीवन को सफल बनाने के लिए पूर्ण परमात्मा की पहचान करना बहुत जरूरी है। अब बात यह आती है कि पूर्ण परमात्मा की पहचान कहां से की जाए?

पूर्ण परमात्मा की पहचान कैसे हो?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पूर्ण परमात्मा की पहचान हमारे चारों वेदों और सभी शास्त्रों में प्रमाणित ज्ञान से की जा सकती है और इनकी पहचान के लिए हमें शिक्षित होने की आवश्यकता पड़ती है जिससे यथार्थ ज्ञान जानने में आसानी हो। असली शिक्षा का वास्तविक उद्देश्य है कि मनुष्य जन्म में करने योग्य कर्तव्यों का बोध हो जाए।

Also Read: UGC Exam 2020-Spiritual Education is also Important 

मनुष्य अपने परमात्मा को पहचान ले और सद ग्रंथों से प्रमाणित ज्ञान को समझ लें । इस आध्यात्मिक ज्ञान को श्रीमद्भगवद गीता में तत्वज्ञान कहा गया है। इस ज्ञान को यदि मानव नहीं समझता है तो उसका मानव जीवन पशुओं और पक्षियों की तरह ही समाप्त हो जाता है।

Sant Rampal Ji Maharaj Satsang

इसके समझे बिना हमें परमात्मा प्राप्ति का ज्ञान नहीं होगा। इसलिए हमें गीता 4:34 के अनुसार आध्यात्मिक शिक्षक अर्थात तत्वदर्शी संत की खोज कर यह शिक्षा प्राप्त कर मानव जीवन का कल्याण करवाना चाहिए। जिसके संकेत श्रीमद्भगवत गीता जी के अध्याय – 15 के श्लोक न. 1 से 4 व 16 और 17 में है ।

कौन है आध्यात्मिक शिक्षक?

वास्तव में आध्यात्मिक शिक्षक उसे कहा जाता है जो हमें सभी सदग्रंथों पर आधारित ज्ञान प्रदान करता है। वर्तमान समय में तथाकथित कथा वाचकों और आध्यात्मिक गुरुओं का तांता लगा हुआ है किंतु इनमें सच्चा सतगुरु जो वास्तव में आध्यात्मिक शिक्षक है उसकी पहचान कैसे की जा सकती है?

इस प्रश्न के उत्तर के लिए आपको यह पहचान करनी चाहिए कि ऐसा कौन गुरु है जो हमें सभी सदग्रंथों पर आधारित सत ज्ञान बताता है । पूरे विश्व में एकमात्र तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज ऐसा ज्ञान बताते हैं जो सभी धर्मों के सदग्रंथो पर आधारित है और उनमें प्रमाणित है। इस पूरे ब्रह्मांड में संत रामपाल जी महाराज ही सच्चे आध्यात्मिक गुरु है जो मानव कल्याण हेतु सद्भक्ति प्रदान करते हैं ।

कैसे मिलेगा दाखिला आध्यात्मिक शिक्षा हेतु?

काल के लोक में चौरासी लाख योनियां होती हैं जिनमें मानव शरीर बहुमूल्य होता है। मनुष्य योनि में हम पूर्ण सतगुरु और पूर्ण परमात्मा के लिये भक्ति कर सकते हैं और पूर्ण मोक्ष प्राप्त कर सकते हैं। आज हमें मानव शरीर प्राप्त है अतः हमें यह समझना चाहिए कि पूर्ण मोक्ष प्राप्त करने की विधि बताने वाले आध्यात्मिक विद्यालय में हम प्रवेश करने के लिए बिल्कुल तैयार हैं।

सच्चे मुमुक्षु को पूर्ण संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा लेकर गुरु मर्यादा में रहकर सतभक्ति करनी चाहिए जिससे उसके सभी पाप कर्म कट जाएंगे और सांसारिक दुखों से छुटकारा पाकर पूर्ण मोक्ष मिलेगा। साधकों को सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल पर सत्संग सुनने चाहिए और संत रामपाल जी द्वारा लिखित पुस्तक जीने की राह पढ़नी चाहिए।