SA News Channel, New Delhi: जैसा की आप सब जानते हैं कि आज पूरा विश्व कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहा है. आज भारत में कोरोना वायरस महामारी के चलते प्रधानमंत्री मोदी जी ने लॉकडाउन को 3 मई तक बड़ा दिया है जिसे lockdown 2.0 in india नाम दिया गया है. आइए जानते है विस्तार से. Lockdown 2.0 in India Hindi News Highlights

कोरोनावायरस के चलते भारत में लॉकडाउन-2.0

कोरना वायरस के चलते आज मोदी जी ने लॉकडाउन को आगे बढ़ाते हुए दो सप्ताह बाद लॉकडाउन-2.0 का और भी सख्ताई से अनुपालन करने व करवाने का आदेश दिया। घर घर जाकर संक्रमित व्यक्तियों की खोज का कार्य तेज किया गया। संक्रमित संभावितों को क्वारंटाइन किया गया।

भारत में लॉकडाउन-1

भारत ने चीन की सफलता और कई विकसित देशों की असफलता से सबक लेते हुए बड़ी समझदारी का परिचय दिया और चीन की तर्ज पर 25 मार्च 2020 से 14 अप्रैल 2020 तक पूरे देश में 21 दिनों का पूर्ण लॉकडाउन लागू कर दिया। प्रधानमंत्री ने मंत्र दिया “जान है जहान है” परिणाम स्वरूप जहां 8 लाख लोग संक्रमित होते यह आंकड़ा 10 हजार तक सीमित रहा। भारत में कोरोना वायरस से 350 मौतें हुईं। सरकार ने लॉकडाउन में बहुत सी पाबंदियों के साथ कोविड-19 के लिए विशेष उपकरणों, दवाईयों , स्वास्थ्य कर्मी प्रशिक्षण, अस्पतालों इत्यादि का विशेष प्रबंध किया ।

भारत में लॉकडाउन-2

लॉकडाउन-1 से आशा के अनुरूप लाभों को देखते हुए प्रधानमंत्री ने 14 अप्रैल 2020 को लॉक डाउन-2 की घोषणा द्वारा 15 अप्रैल 2020 से 3 मई 2020 तक के लिए बढ़ा दिया। यह विश्व का 130 करोड़ की जनसंख्या के देश में सबसे लंबा लॉकडाउन है जिसमें अर्थव्यवस्था की जगह अपने देश के नागरिकों के स्वास्थ्य और जीवन की चिंता की गई है। इस बार प्रधानमंत्री ने मंत्र दिया है “जान भी जहान भी” और इस अवधि में सरकार कुछ संक्रमण रहित भौगोलिक क्षेत्रों में कृषि, व्यापारिक एवं औद्योगिक कार्यों को चलाने की सशर्त छूट पर विचार कर रही है ताकि कामधंधा भी पटरी पर आए।

Lockdown 2.0 in India Hindi News Highlights

पीएम मोदी जी ने जनता से कही ये 7 बातें

  1. अपने घर के बड़े-बुजुर्गों का विशेष ख्याल रखें।
  2. गाइडलाइन का सख्ती से पालन करें था करवाए।
  3. अपनी इम्युनिटी बढ़ाएं इसके लिए आयुष मंत्रालय के दिशा-निर्देशों का पालन करें।
  4. आयुष ऐप जरुर डाउन लोड करें और करवाए।
  5. जितना हो सके उतना गरीब परिवार की मदद करें उनके लिए भोजन की आवश्यकता करें।
  6. आप अपने व्यवसाय, अपने उद्योग में अपने साथ काम करने वाले लोगों के प्रति संवेदना रखें, किसी को नौकरी से न निकालें
  7. देश के कोरोना योद्धाओं, हमारे डॉक्टर- नर्सेस, सफाई कर्मी, पुलिसकर्मी इन सभी का पूरा सम्मान करें।

चीन में कैसे लागू किया लॉकडाउन

विश्व स्वास्थ्य संगठन सहित विशेषज्ञों की राय के विपरीत चीन ने 23 जनवरी 2020 को 1.1 करोड़ की आबादी के शहर में एक बहुत कठिन लॉकडाउन को लागू किया। इस दौरान शहर से बाहर की ओर या अंदर आने की ओर सभी आवागमन प्रतिबंधित कर दिए, यहाँ तक कि उन्हें भी जिन्हें आपातकालीन इलाज की आवश्यकता थी। कोरोना वायरस के इलाज में लगे वाहनों के अतिरिक्त सभी सरकारी या व्यक्तिगत वाहनों पर पाबंदी लगा दी।

वयस्कों या दिव्यांगों के लिए सेवारत लोगों के अतिरिक्त सभी लोगों को घर पर रहना अनिवार्य था। स्कूल और विश्वविद्यालय चीनी नववर्ष पर बंद थे उन्हें आगे तक के लिए बंद रखा गया । दुकानों को बंद कर दिया गया । केवल दवाईयों की दुकानें और सुपर बाजार खुले रखे गए । लोगों को मुखौटा पहन कर जरूरी समान और दवाएं लाने की अनुमति थी ।

लॉकडाउन से चीन को बड़ी सफलता

लॉकडाउन के दौरान संभावित संक्रमित नागरिकों को क्वारंटाइन कर, अलग अलग रखकर और सभी नागरिकों को मुखौटा पहनाकर सामाजिक दूरी के सिद्धांतों के अनुसार कोरोना वायरस के संक्रमण पर नियंत्रण पाया जा सका। कोरोना वायरस पर विजय पाकर लगभग दो महीने के बाद लॉकडाउन को वापस उठाने की घोषणा की।

विकसित देशों ने अर्थव्यवस्था को चुना और झटका खाया

कुछ देशों जैसे अमेरिका, इटली, ईरान, फ़्रांस, स्पेन, जर्मनी और इंग्लैंड जैसे विकसित देशों ने चीन की तरह तत्काल पूर्ण लॉकडाउन लगाने में कोताही बरती और नतीजा बहुत बुरा हुआ। बहुत अधिक लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। जहां चीन में 82 हजार संक्रमितों के साथ 3300 मौतें हुई और 77 हजार लोग ठीक हुए वहीं अमेरिका में लगभग 6 लाख संक्रमितों के साथ 23 हजार मौतों और पूरे विश्व में 19 लाख संक्रमितों और 1.2 मौतों का यह आंकड़ा बहुत आगे निकाल गया ।