jee main result 2021 july session link

JEE Main Result 2021: JEE Main के सेशन 3 का परिणाम हुआ घोषित जानें जीवन की मूल परीक्षा कौन सी है?

Education News
Share to the World

JEE Main Result 2021: आपको बता दे कि हाल ही में JEE Main session 3 एग्जाम की आंसर-की जारी कर दी गई है। रिजल्ट jeemain.nta.nic.in पर जारी किया गया है । Exam देने के बाद विद्यार्थियों को यही इंतजार रहता है कि हमारा परिणाम (रिजल्ट) कब घोषित किया जाएगा । बता दें कि JEE Main का आयोजन IITs, NITs तथा अन्य संस्थानों में दाखिला पाने के लिए किया जाता है। इस exam को पास करने के बाद विद्यार्थी JEE Advanced और IIT एडमिशन टेस्ट के लिए भी क्वालीफाई हो जाता है।

Contents hide

JEE Main Result 2021 सम्बन्धी मुख्य बिंदु

  • इस वर्ष के लिए JEE Main जुलाई का रिजल्ट  घोषित कर दिया गया है 
  • विद्यार्थियों को परिणाम देखने हेतु लिंक भी उपलब्ध की गईं हैं 
  • एक दिन पहले 05 अगस्त को एनटीए ने JEE Main session-3 फाइनल आंसर-की जारी कर दी गई थी
  • इस परीक्षा के लिए पूरे देश से कुल 7.09 लाख विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन किया था 
  • यह परीक्षा कुल 13 भाषाओं में आयोजित की जाती है 
  • वर्तमान में शिक्षा ने व्यवसायिक रूप ले लिया है। 
  • हमारे मानवीय जीवन का उद्धार केवल आध्यात्मिक शिक्षा प्राप्त करने के उपरांत ही हो सकता है 
  • हमें पूर्ण गुरु (आध्यात्मिक शिक्षक) ही इस जीवन रूपी परीक्षा से पास करा सकते है 

JEE Main Result 2021 के बारे में विस्तार से जानते हैं 

लाखो बच्चों ने इस परीक्षा में भाग लिया था और वे इसके परिणाम का इंतजार कर रहे थे। आज नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने जेईई मेन जुलाई 2021 परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है। आज, 06 अगस्त रात 8 बजे के बाद जेईई मेन्स की वेबसाइट jeemain.nta.nic.in पर रिजल्ट का लिंक एक्टिव किया गया है। आपको मुख्य बात बता दें कि एक दिन पहले ही 05 अगस्त को एनटीए ने जेईई मेन सेशन-3 फाइनल आंसर-की जारी की थी ताकि छात्र अपने प्रश्नपत्र, आंसर की से मिलान कर सकें।

यह बात विद्यार्थी जानते हैं  कि यह परीक्षा अप्रैल 2021 में आयोजित होनी थी। कोरोना के दुष्प्रभाव के कारण यह परीक्षा टल गई थी। कोरोना की दूसरी लहर के प्रकोप के कारण यह तीसरे सत्र की परीक्षा अप्रैल में न होकर जुलाई 2021 में 20, 22, 25 और 27 जुलाई को आयोजित की गई थी। इस वर्ष की परीक्षा में देशभर से कुल 7.09 लाख विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन किया था।

विद्यार्थी परीक्षा परिणाम JEE Main Result Websites पर आसानी से देख सकते हैं 

एनटीए के रिजल्ट घोषित किए जाने के बाद उम्मीदवार अपने परिणामों को देखने के लिए यह कदम उठा सकते हैं:

  • चरण 1: jeemain.nta.nic.in वेबसाइट पर जाएं
  • चरण 2: होमपेज पर, जेईई मेन 2021 सत्र 3 परिणामों के लिए विकल्प खोजें। इस पर क्लिक करें
  • चरण 3: अब अपने परिणामों को देखने के लिए अपने क्रमांक आदि दर्ज करें
  • चरण 4: जेईई मेन 2021 सत्र 3 के परिणाम प्रदर्शित किए जाएंगे, पेज डाउनलोड करें
  • चरण 5: परिणाम का प्रिंट आउट लें और इसे भविष्य के संदर्भ के लिए सुरक्षित रखें

JEE Main Result 2021: परिणाम के आंकड़ों पर एक नजर

100 परसेंटाइल पाने वाले कुल उम्मीदवारों की संख्या 17 है। लड़कियों में सिर्फ एक छात्रा उत्तर प्रदेश की पाल अग्रवाल को 100 परसेंटाइल प्राप्त हुए है। 100 परसेंटाइल पाने वाले विद्यार्थियों के राज्यों के नाम इस प्रकार हैं आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान और कर्नाटक। 

जेईई मेन 2021 टॉपर्स लिस्ट (JEE Main Toppers List)

आंध्र प्रदेश: कर्णम लोकेश, दुग्गनेनी वेंकट पनीश, पासला वीरा शिवा, कंचनपल्ली राहुल नायडू

तेलंगाना: पोलु लक्ष्मी साईं लोकेश रेड्डी, मादुर आदर्श रेड्डी, वेलावली वेंकट कार्तिकेय साईं व्यधिक, जोस्युला वेंकट आदित्य

  • दिल्ली: रुचिर बंसल, प्रवर कटारिया
  • हरियाणा: हर्ष, अमोल
  • उत्तर प्रदेश: पाल अग्रवाल, अमैया सिंघल
  • बिहार: वैभव विशाल
  • राजस्थान: अंशुल वर्मा
  • कर्नाटक: गौरव दास

JEE Main Result 2021: अन्य जानने योग्य बात

क्या आपको पता है, अब एनटीए जेईई मेन सेशन-4 (JEE Main session 4) का विंडो ओपन करेगा। जिन स्टूडेंट्स ने इसके लिए अप्लाई नहीं किया है या किसी कारण से नहीं कर पाए हैं, उन्हें मौका मिलेगा। जिन्होंने अप्लाई किया है, उन्हें आवेदन में जरूरी सुधार करने का मौका मिलेगा। इसका शेड्यूल एनटीए जल्द जारी करेगा। यह परीक्षा अगस्त में ली जाएगी। इस नोटिफिकेशन का थोड़ा इंतजार करना पड़ सकता है।

जेईई मेन की परीक्षा इस साल 13 भाषाओं में आयोजित हुई थी

परीक्षा में किसी भी राज्य का इच्छुक उम्मीदवार भाग ले सकता है। जैसा कि आप सभी जानते है कि प्रत्येक राज्य में अलग – अलग भाषा का उपयोग किया जाता है। जेईई मेन की परीक्षा इस साल 13 भाषाओं में आयोजित की गई है। ये 13 भाषाएं हैं : इंग्लिश, हिन्दी, गुजराती, असमी, बंगाली, कन्नड़, मलयालम, मराठी, उड़िया, पंजाबी, तमिल, तेलुगू, उर्दू।

जेईई मेन 2021 उम्मीदवार और परीक्षा केंद्र 

जेईई मेन 2021 के तीसरे सत्र को एनटीए ने लगभग 7.09 लाख उम्मीदवारों के लिए कंप्यूटर आधारित परीक्षा (सीबीटी) के रूप में आयोजित किया था। एनटीए ने पूरे भारत में 334 शहरों और 828 केंद्रों पर जेईई मेन परीक्षा आयोजित की थी ।

JEE Main Cut Off Marks 2021: जेईई मेन रैंक लिस्ट

तीसरी बार के रिजल्ट के साथ JEE Main 2021 rank list जारी नहीं की जाएगी। ये लिस्ट चौथे और फाइनल सेशन के बाद ही जारी हो सकेगी। एनटीए के अनुसार, परीक्षार्थी जेईई मेन 2021 के चौथे और अंतिम सत्र में परीक्षा में शामिल होंगे, उसके परिणाम के साथ सर्वश्रेष्ठ चार पर विचार किया जाएगा। अंतिम सत्र के बाद एजेंसी जेईई मेन कट ऑफ मार्क्स 2021 और मौजूदा एडमिशन सेशन के लिए क्वालीफाइंग मार्क्स जारी करेगी। जेईई मेन 2021 एआईआर और जेईई एडवांस 2021 के लिए अंतिम कट-ऑफ एनटीए स्कोर पर आधारित होगा।

Also Read: JEE Main 2021 Results Out: But Salvation Remains Actual Goal

यह बात सभी छात्र ध्यान में रखें कि जेईई मेन 2021 की कट-ऑफ चौथे सत्र के बाद जारी की जाएगी। लेकिन तीसरे सत्र के खत्म होने के साथ ही आने वाले हफ्तों में छात्रों को तीसरे सत्र में बनाए गए अंकों का पता चल जाएगा। इसके बाद उसके आधार पर छात्र पिछले सत्र के लिए उसी हिसाब से अभ्यास कर सकते हैं।

आध्यात्मिक शिक्षा और आध्यात्मिक शिक्षक (पूर्ण गुरु) के बारे में

वर्तमान समय में शिक्षा ने व्यवसायिक रूप ले लिया है। आज लोग इसलिए पढ़ाई करते हैं ताकि उन्हें अच्छी नौकरी प्राप्त हो सके और वे अपने जीवन को अच्छे से जी सके, फिर भी अच्छा व्यवसाय प्राप्त हो जाने मात्र से ही हमारा जीवन सफल नहीं होता है।

JEE Main Result 2021 Special Knowledge: जीवन को सफल बनाने के लिए पूर्ण परमात्मा की पहचान करना बहुत जरूरी है। अब बात यह आती है कि पूर्ण परमात्मा की पहचान कहां से की जाए? आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पूर्ण परमात्मा की पहचान हमारे चारों वेदों और सभी शास्त्रों में प्रमाणित ज्ञान से की जा सकती है और इनकी पहचान के लिए हमें शिक्षा की आवश्यकता पड़ती है अन्यथा शिक्षा की आवश्यकता नहीं थी। वास्तव में असली शिक्षा वही है जिससे आप अपने परमात्मा को पहचान ले और सदग्रंथों से प्रमाणित ज्ञान को समझ लें ।

वह कोर्स है आध्यत्मिक ज्ञान जिसे गीता जी में तत्वज्ञान कहा गया है। इस ज्ञान को यदि मानव नहीं समझता है तो उसका मानव जीवन पशुओं और पक्षियों की तरह ही समाप्त हो जाता है। इसके समझे बिना हमें परमात्मा प्राप्ति का ज्ञान नहीं होगा। इसलिए हमें आध्यात्मिक शिक्षक की खोज कर यह शिक्षा प्राप्त कर मानव जीवन का कल्याण करवाना चाहिए। जिसके संकेत श्रीमद्भगवत गीता जी के अध्याय – 15 के श्लोक न. 1 से 4 व 16 और 17 में हैं। वर्तमान में एकमात्र तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज  तत्वदर्शी संत हैं उनकी शरण में जाकर नाम दीक्षा लेकर अपना कल्याण कराएं।  

हमारे मानवीय जीवन का उद्धार केवल आध्यात्मिक शिक्षा प्राप्त करने से ही हो सकता है

मानव जीवन परमात्मा की असीम दया से प्राप्त होता है । जिसे हम मुफ्त में व्यर्थ कर जाते हैं। मनुष्य को हर क्षण अनेकों  परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है, फिर भी नहीं समझ पाता है कि क्या पाया मैंने इस जीवन में..?  दुःख- दर्द -गरीबी-रोग-प्राकृतिक आपदाएं -लड़ाई (झगड़े) सबसे हर क्षण सामना करते करते अंत में हार मानना ही पड़ती है और मौत को गले लगाना ही पड़ता है। 

Also Read: MPPSC Prelims Exam 2020-21 Admit Card: मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग ने जारी किए एडमिट कार्ड, जानें शिक्षा के मूल उदेश्य को

इन सब परेशानियों का कारण है कि हमें आध्यत्मिक शिक्षा प्राप्त न होने के कारण जीवन जीने की कला और जीवन रूपी परीक्षा पास करना नहीं आ पा रहा है। समय निकला जा रहा है हम भूल रहे हैं  केवल परमात्मा की सद्भक्ति – सत्यज्ञान को जो हमें हर कठिन परीक्षा से पास कराके मोक्ष प्रदान करेगा । क्या कारण है कि हम इस धरा पर बार बार जन्मते और मरते है फिर भी नहीं समझ पा रहे इस विकट जाल को, इसका कारण है कि हमने मानव जीवन का मूल्य ही नहीं समझा है ।

सद्गुरु (आध्यात्मिक शिक्षक) ही जीवन रूपी परीक्षा से पास करा सकते हैं

कबीर साहेब जी कहते है कि :-

मनुष्य जन्म पाए कर, जो नहीं रटे हरि नाम। 

जैसे कुआ जल बिन, बनवाया किस काम।। 

परमात्मा समझाते है कि यदि मानव जन्म प्राप्त होते हुए आप भगवान के नाम का सुमरण, सद्भक्ति नहीं करते है तो आपका मानव जीवन व्यर्थ है। जैसे मेहनत करके बिन पानी का कुंआ बना लिया जाए, वह किस काम का बनाया गया, केवल समय बर्बाद हुआ ।

हमें जीवन रूपी परीक्षा से यदि पास होकर सारी परेशानियों से पीछा छुड़वाना है तो केवल आध्यामिक गुरु (सद्गुरु) की शरण में जाकर उनके बताए गए भक्ति मार्ग के अनुसार ही हम पूर्ण छुटकारा पा कर मोक्ष प्राप्त कर सकते हैं । इसलिए इन परेशानी-दायक परीक्षाओं से छुटकारा पाने के लिए जल्द से जल्द पूर्ण संत की पहचान कर उनकी शरण में जाएं । 

अभी भी समय है यदि यह निकल गया तो पछतावा ही रह जाता है और मानव जीवन हाथ से निकल जाता है । इसलिए  समय रहते सद्गुरु की पहचान करके उनके द्वारा बताई मोक्षदायिनी भक्ति साधना को अपना कर मोक्ष प्राप्त करने में ही भलाई है। इससे लाभ यह होगा कि यह लोक भी सुखी साथ में परलोक भी सुखदाई होगा !

समझदार को संकेत ही काफी है

इस मानव जीवन में कितना भी धन दौलत कमा लो, इज्जत कमा लो बिना भक्ति के सब व्यर्थ ही है । इसलिए आध्यात्मिक शिक्षा को समझकर, पूर्ण आध्यत्मिक शिक्षक की खोज करके, सद्भक्ति हेतु सत्य ज्ञान पूर्णता समझने में ही हमारा हित है ।

गुरु के मिले कटें  दुःख पापा, जन्म – जन्म के मिटें संतापा ।।

पूर्ण सद्गुरु की शरण में आने से हमारे सारे दुःख दर्द दूर हो जाते हैं । इसके साथ ही जन्मों पुराने पाप भी भस्म हो जाते हैं। इसके बाद हमें बहुत सुख होता है, इस मानव जीवन में। मुफ्त में मोक्ष की प्राप्ति होगी यदि हम आध्यत्मिक शिक्षा को अपनाएंगे ।

वर्तमान में सद्भक्ति (आध्यत्मिक शिक्षा) केवल तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज के पास है

वर्तमान में पूरे विश्व में एकमात्र केवल तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी ही हैं जो वास्तविक तत्वज्ञान करा कर पूर्ण परमात्मा की पूजा आराधना बताते हैं। समझदार को संकेत ही काफी होता है। वह पूर्ण परमात्मा ही है जो हमें धनवृद्धि कर सकता है, सुख शांति दे सकता है व रोगरहित कर मोक्ष दिला सकता है। सर्व सुख और मोक्ष केवल तत्वदर्शी संत की शरण में जाने से सम्भव है। तो सत्य को जाने और पहचान कर पूर्ण तत्वदर्शी सन्त रामपाल जी महाराज से अपना कल्याण करवाएं । अधिक जानकारी के हेतु सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल पर सत्संग श्रवण करें, जीने की राह पुस्तक पढ़ें और शाम 7:30 से साधना चैनल पर मंगल प्रवचन  सुने ।


Share to the World

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *