गणतंत्र दिवस 2024 (Republic Day) पर जानिए परमात्मा के संविधान की विशेषताएं

spot_img

Last Updated on 24 January 2024 IST: आज हम गणतंत्र दिवस 2024 (Republic Day in Hindi) के बारे में वास्तविक जानकारी साझा करने जा रहे हैं। इस ब्लॉग में, आपको भारत के गणतंत्र दिवस के बारे में सभी जानकारी मिलेगी जैसे कि गणतंत्र दिवस क्या है? हम 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Gantantra Diwas) के रूप में क्यों मनाते हैं? भारत में गणतंत्र दिवस 2024 के मुख्य अथिति कौन होंगे? इसके अलावा हम गणतंत्र दिवस का महत्व, और परमेश्वर के संविधान का महत्व भी समझेंगे।

Table of Contents

गणतंत्र दिवस क्या होता है?

Republic day 2024 | गणतंत्र दिवस क्या है – गणतंत्र दिवस (Gantantra Diwas) उस दिन को सम्मानित करने के लिए मनाया जाता है जिस दिन भारत का संविधान लागू हुआ था। यह पूरे देश में मनाया जाता है। गणतंत्र दिवस 2024 (Republic Day) भारत के 75वें गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाएगा। डॉ बी आर अम्बेडकर को “भारत के संविधान के पिता” के रूप में माना जाता है।

26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस (Gantantra Diwas) के रूप में क्यों मनाते हैं?

भारत को 15 अगस्त 1947 को ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता मिली थी। उसके बाद, भारत के संविधान का मसौदा तैयार करने की प्रक्रिया शुरू की गई। संविधान का मसौदा तैयार करने में 2 साल 11 महीने 18 दिन लगे और आखिरकार 26 जनवरी 1950 को हमारे देश का संविधान लागू हुआ और भारत एक गणतंत्र बन गया। इसलिए हम हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में ऐतिहासिक दिवस के रूप में मनाते हैं।

भारत में गणतंत्र दिवस 2024 के मुख्य अतिथि कौन होंगे?

Republic day 2024 | गणतंत्र दिवस (Gantantra Diwas in Hindi) भारत में एक राष्ट्रीय अवकाश है। इस दिवस को मनाने के लिए देश भर में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। राजपथ, नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड हमेशा से गणतंत्र दिवस समारोह का मुख्य आकर्षण रहा है। इस वर्ष गणतंत्र दिवस के मुख्य समारोह में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों मुख्य अतिथि के रूप में आ रहे हैं। भारत जब से आजाद हुआ है तब से पड़ोसी एवं मित्र देशों से मुख्य अतिथि आते रहे हैं। सबसे पहले गणतंत्र दिवस समारोह में इंडोनेशिया के तत्कालीन राष्ट्रपति सुकर्णों आए हुए थे। मिस्त्र के राष्ट्रपति का यह पहला भारत भ्रमण होगा। 

गणतंत्र दिवस पर जाने भारत के संविधान का महत्व (Importance of Republic Day in Hindi)

भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा संविधान है। यह राजनीतिक संहिता, कर्तव्यों, प्रक्रियाओं और सरकार की शक्तियों, नागरिकों के मौलिक अधिकारों और कर्तव्यों की नींव रखता है।

संविधान की आवश्यकता क्यों होती है?

  • नियमों का एक सेट स्थापित करने के लिए जो समाज के सदस्यों के बीच न्यूनतम समन्वय की अनुमति देता है।
  • एक समाज में निर्णय लेने का अधिकार स्थापित करने के लिए सरकार पर सीमाएँ निर्धारित करना और इस तरह इसे नागरिकों के मौलिक अधिकारों के अतिक्रमण से रोकना।
  • समाज की आकांक्षाओं को प्राप्त करने के लिए सरकार की मदद करना और समाज के लिए अपने नागरिकों के लिए अनुकूल परिस्थितियों का निर्माण करने के लिए संविधान की जरूरत होती है।

Republic Day in Hindi: विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान भारतीय संविधान

भारतीय संविधान बनाते समय संविधान सभा ने सभी देशों अमेरिका, जर्मनी, इंग्लैंड, रूस आदि देशों से भी कुछ नियम ग्रहण किए थे। भारत का संविधान पूरी दुनिया में किसी भी सम्प्रभु देश द्वारा लिखित सबसे बड़ा संविधान है। इसके 25 भाग हैं और 448 अनुच्छेद, 12 अनुसूचियां हैं। भारतीय संविधान कठोर एवं लचीले संविधान का मिश्रित उदाहरण है। कठोर संविधान में आसानी से संशोधन नहीं किए जा सकते हैं। जिसकी संशोधन प्रक्रिया आसान होती है उसे लचीला संविधान कहते हैं। भारत का संविधान पूर्ण रूप से कठोर नहीं है और न ही पूर्ण रूप से लचीला है। संसद में ⅔ बहुमत से इसके नियम संशोधित किए जा सकते हैं।

क्या वास्तव में नागरिक हमारे देश के संविधान का पालन कर रहे हैं?

क्या गणतंत्र दिवस (Gantantra Diwas) का जश्न लोगों को हमारे संवैधानिक अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति जागरूक करता है? अफसोस की बात है कि इसका जवाब “नहीं” है। पहले गणतंत्र दिवस के 75 साल बाद संविधान ने सत्ता में बैठे लोगों के सामने अपनी शक्ति खो दी है। भ्रष्टाचार दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। रिश्वतखोरी एक सामान्य व्यवसाय बन गया है। बलात्कार पीड़ितों पर बलात्कार और हत्या के प्रयास हर दूसरे दिन देश को हिलाते हैं। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि भारत दुनिया में ‘सबसे भ्रष्ट’ देशों की सूची में 9वें और ‘महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश’ की सूची में 40वें स्थान पर है।

एक ड्रग्स, दहेज और अन्य हर तरह की बुराई का खतरा भारत को शर्मसार करता है। भारत जैसे देश में, जो कभी विश्व का आध्यात्मिक केंद्र हुआ करता था, यह पतन आखिर क्यों होने लगा है? ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि लोग सर्वोच्च भगवान के संविधान को भूल गए हैं।

Republic Day in Hindi: क्या भगवान का भी कोई संविधान होता है?

जी हाँ, आपने सही पढ़ा “भगवान का संविधान“। सर्वशक्तिमान भगवान का भी एक संविधान है जिसका पालन सभी जीवित प्राणियों को करना चाहिए। वे व्यक्ति जो उनके संविधान से विचलित होते हैं, उन्हें कड़ी सजा दी जाती है क्योंकि कोई व्यक्ति भगवान के सामने झूठ बोलने का जोखिम नहीं उठा सकता है। उनका संविधान काफी विस्तृत है और उसी के अनुसार हमारे सभी पवित्र शास्त्रों को निर्धारित किया गया है।

Republic Day in Hindi (Gantantra Diwas): परमेश्वर के संविधान का महत्व

इस गणतंत्र दिवस 2024 (Gantantra Diwas) पर आइए जानें परमेश्वर के संविधान के महत्व के बारे में।  संसार के सभी अपराधों और बुराइयों को समाप्त करने की शक्ति परमेश्वर के संविधान में ही निहित है। संसार में जब भी अराजकता बढ़ती है, तो ईश्वर स्वयं आकर या अपने अधिकृत संत को अपने संविधान और सांसारिक शांति को बहाल करने के लिए पृथ्वी पर भेजता है। आज जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज ही परमेश्वर के संविधान का ज्ञान दे रहे हैं। भगवान का संविधान हमारे पवित्र वेद, श्रीमद्भागवत गीता, बाइबिल और पवित्र कुरान है।  ये भगवान के शास्त्र अपरिहार्य हैं। 

परमपिता परमात्मा कबीर साहिब ने अपनी पवित्र अमृतवाणी में कहा:

सुरापन मद मांसाहारी, गमन करे भोगे परनारी।

सत्तर जनम कटत है शीशम, साक्षी साहेब है जगदीशम्।।

पर द्वारा स्त्री का खोले, सत्तर जनम अंधा हो डोले।

मदीरा पीवे कड़वा पानी, सत्तर जन्म स्वान के जानी।।

सौ नारी जारी करे, सुरापान सौ बार।

एक चिलम हुक्का भरे डूबे काली धार।।

वो काफिर जो कन्या मारे, वो काफिर जो बन खंड जाए।

वो काफिर रिन हत्या राखे, वे काफिर परदारा ताके।।

काफिर स्वाल सुखान को मोड, काफिर प्रीति नीच सु जोर।

इन अमृतवाणियो के माध्यम से कबीर परमेश्वर साहेब ने स्पष्ट किया कि:

मांस खाना पाप है

Republic day 2024: जो लोग मांस का सेवन करते हैं, शराब पीते हैं और व्यभिचार करते हैं, उनके सिर लगातार सत्तर जन्मों के लिए कलम किए जायेंगे। इसके अलावा, वे अपने अपराधों का फल नरक में भी भुगतेंगे।

व्यभिचार एक जघन्य पाप है

“पर द्वार स्त्री का खोले, सत्तार जन्म अंधा हो डोले” जो व्यभिचार करते हैं वे अगले सत्तर जन्मों के लिए अंधे होंगे। तो, कबीर परमेश्वर जी हमें कहते हैं कि अन्य महिलाओं को अपनी मां, बहन या बेटियों के रूप में मानें।

शराब का सेवन वर्जित है

‘मदीरा पीवे कड़वा पानी, सत्तर जन्म स्वान के जानी’ भगवान द्वारा शराब, बीयर या किसी भी प्रकार के नशीले पदार्थ का सेवन वर्जित है। शराब का सेवन करने वालों को अगले सत्तर जन्म कुत्ते के मिलते हैं और फिर वह गंदी चीजों का सेवन करते हैं।

धूम्रपान तम्बाकू या हुक्का वर्जित है

सो नारी जारी करे, सुरापान सौ बार।

एक चिलम हुक्का भरे वो डूबे काली धार ||  

तम्बाकू का सेवन सबसे जघन्य अपराध है क्योंकि यह ईश्वर प्राप्ति के मार्ग को अवरुद्ध करता है। धूम्रपान में किसी की मदद करना भी 100 बार व्यभिचार करने और 100 बार शराब पीने से ज्यादा गंभीर पाप है। सोचिए फिर उसका सेवन करने वाले कितने पाप इकट्ठे करते होंगे?

मूवी देखना, गाना, डांस करना मना है

किसी भी मौके पर गाना गाना और डांस करना भक्ति के नियमों के खिलाफ है। मानव जीवन हमें ईश्वर को समर्पित करने के लिए दिया गया है कि इसे व्यर्थ के कार्यों में बर्बाद न करें। रिश्वत लेना, चोरी करना, जुआ खेलना, दहेज लेना या देना आदि ये सभी गतिविधियाँ भी प्रतिबंधित हैं। परमेश्वर का संविधान भी कहता है कि यदि कोई व्यक्ति सभी बुराइयों और कुकर्मों का त्याग कर सच्चे संत (गुरु) से दीक्षा लेकर भगवान की पूजा करता है तो उसके सभी पापों को क्षमा कर दिया जाएगा।

Republic Day in Hindi: परमेश्वर के संविधान के अनुसार भक्ति के नियम

  • एक सच्चे ईश्वर की भक्ति: व्यक्ति को केवल परमेश्वर की पूजा करनी चाहिए, जो सभी के निर्माता हैं। शास्त्रों के निषेध के विरुद्ध की जाने वाली किसी भी प्रकार की आध्यात्मिक गतिविधि व्यर्थ बताई है।
  • कम उम्र में शुरू करें भक्ति: भगवान की भक्ति जल्द से जल्द शुरू की जा सकती है। परमेश्वर के संविधान के अनुसार जब कोई बच्चा 3 वर्ष की आयु पूरी करता है तो उसे दीक्षा दी जा सकती है।
  • सच्चे संत की पहचान करें: सच्चे संत की पहचान करना बहुत आसान है। वेद और भगवद गीता जी सच्चे संत की पहचान करने का प्रमाण देते हैं लेकिन हम उनकी पहचान इस आधार पर भी कर सकते हैं कि सच्चा संत वही होगा जो परमेश्वर के संविधान और हमारे सभी पवित्र शास्त्रों से परिचित होगा।

गणतंत्र दिवस पर संत रामपाल जी का संदेश 

सबसे पहले तो संत रामपाल जी ही हैं जिन्होंने हमें परमेश्वर के संविधान का ज्ञान दिया। क्योंकि पूर्ण संत स्वयं सभी नियमों का पालन करता है और अपने अनुयायियों को भी सभी नियमों का पालन करवाता है। उनके शिष्य भी उनके आदेश को ईश्वर का आदेश मानते हैं और परिणाम सभी के देखने के लिए सबके सामने हैं। जहां दुनिया भर के लोग भ्रष्टाचार, रिश्वतखोरी, चोरी, नशा, शराब जैसी बुराइयों से जूझ रहे हैं, वहीं संत रामपाल जी महाराज के शिष्य इन बुराइयों से दूर रहते हैं और दूसरों को भी इन चीजों को छोड़कर भगवान की शरण में आने की सलाह देते हैं। संत रामपाल जी के अनुयायी सभी महिलाओं को अपनी मां और बहन के रूप में देखते हैं और सभी के साथ समान व्यवहार करते हैं, किसी प्रकार का भेदभाव नहीं करते।

ये वे परिवर्तन हैं जो संत रामपाल जी की शिक्षाओं से उनके शिष्यों में आते हैं। वह अकेले दम पर एक बेहतर समाज का निर्माण कर रहे हैं। जैसे-जैसे भारत और विदेशों में उनके अनुयायी बढ़ रहे हैं, बहुत जल्द, पूरी दुनिया संत रामपाल जी की शिक्षाओं को सुनेगी और दुनिया रहने के लिए एक बेहतर जगह बन जाएगी। प्रमाण के साथ परमेश्वर के संविधान के सभी नियमों को पढ़ने के लिए आप संत रामपाल जी द्वारा लिखित पवित्र पुस्तक “ज्ञान गंगा” प्राप्त कर सकते हैं और आप साधना चैनल पर शाम 07:30 बजे (IST) उनके आध्यात्मिक प्रवचन भी सुन सकते हैं। या आप अपने एंड्रॉयड मोबाइल में “Saint RampalJi Maharaj एप्प” को गुगल प्लेस्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं।

Republic Day 2024 Quotes [Hindi] 

  • “संविधान वह मार्गदर्शक है जिसे मैं कभी नहीं छोड़ूंगा।”- जॉर्ज वाशिंगटन
  • “हमारा संविधान आशा की किरण है। एच सद्भाव के लिए, ओ अवसर के लिए, पी लोगों की भागीदारी के लिए और ई समानता के लिए। (HOPE)” – नरेंद्र मोदी
  • “अगर मुझे लगता है कि संविधान का दुरुपयोग हो रहा है, तो मैं इसे जलाने वाला पहला व्यक्ति होऊंगा।” – भीमराव अम्बेडकर
  • “संविधान केवल वकीलों का दस्तावेज नहीं है, यह जीवन का वाहन है, और इसकी आत्मा हमेशा युग की भावना है।” – भीमराव अम्बेडकर
  • “यह सुनिश्चित करके कि सरकार में किसी के पास बहुत अधिक शक्ति नहीं है, संविधान आम अमेरिकियों को हर दिन सत्ता के दुरुपयोग से बचाने में मदद करता है।” – जॉन रॉबर्ट्स

FAQ about Republic Day in Hindi

26 जनवरी को क्या मनाया जाता है?

26 जनवरी गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है जोकि भारत का राष्ट्रीय त्योहार है।

भारत का संविधान कठोर है या लचीला?

भारत का संविधान न तो पूर्ण रूप से कठोर है और न ही पूर्ण रूप से लचीला। यह कठोर एवं लचीले का सम्मिश्रण है।

भारतीय संविधान के कितने भाग हैं?

भारतीय संविधान के 25 भाग हैं जो 251 पृष्ठ पर अंकित हैं।

भारत का संविधान किसने लिखा था?

भारत का संविधान प्रेम बिहारी रायजादा ने लिखा था।

संविधान पर हस्ताक्षर करने वाले पहले व्यक्ति कौन थे?

पंडित जवाहर लाल नेहरू भारतीय संविधान पर हस्ताक्षर करने वाले पहले व्यक्ति थे।

भारतीय संविधान लागू होने की क्या तिथि है?

भारत का संविधान 26 जनवरी सन 1950 को लागू हुआ था।

भारतीय संविधान में नियम कैसे बदले जाते हैं?

भारतीय संविधान के कोई भी नियम या अनुच्छेद संसद में बहुमत पास करवा कर बदले जाते हैं।

भारतीय संविधान का निर्माता किसे कहा जाता है?

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को भारतीय संविधान का जनक कहा जाता है।

निम्नलिखित सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर हमारे साथ जुड़िए

WhatsApp ChannelFollow
Telegram Follow
YoutubeSubscribe
Google NewsFollow

Latest articles

The Accordion’s 195th Patent Anniversary: Google Doodle Showcases Accordion’s Diversity

On May 23rd, 2024, Google celebrated the accordion's 195th patent anniversary with a delightful...

કબીર પ્રગટ દિવસ 2024 [Gujarati] : તિથિ, ઉત્સવ, ઘટનાઓ, ઇતિહાસ

કબીર પ્રગટ દિવસ ધરતી પર પરમાત્મા કબીર સાહેબના પ્રાગટ્ય પ્રસંગે ઉજવવામાં આવે છે. ભગવાન...

ಕಬೀರ ಪ್ರಕಟ ದಿವಸ 2024 [Kannada] : ದಿನಾಂಕ, ಆಚರಣೆ, ಘಟನೆಗಳು, ಇತಿಹಾಸ

ಕಬೀರ ಪ್ರಕಟ ದಿವಸ ಪರಮಾತ್ಮಕಬೀರ ಸಾಹೇಬರು ಪೃಥ್ವೀ ಮೇಲೆ ಪ್ರಕಟವಾಗಿರುವ ಸಂದರ್ಭದ ಮೇರೆಗೆ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಭಗವಂತ ಕಬೀರ ಸಾಹೇಬರು...

কবীর প্রকট দিবস 2024 [Bengali] : তিথি, উৎসব, ঘটনা সমূহ, ইতিহাস

কবীর প্রকট দিবস, পরমাত্মা কবীর সাহেবের এই ধরিত্রী-তে প্রকট হওয়া উপলক্ষে পালন করা হয়।...
spot_img

More like this

The Accordion’s 195th Patent Anniversary: Google Doodle Showcases Accordion’s Diversity

On May 23rd, 2024, Google celebrated the accordion's 195th patent anniversary with a delightful...

કબીર પ્રગટ દિવસ 2024 [Gujarati] : તિથિ, ઉત્સવ, ઘટનાઓ, ઇતિહાસ

કબીર પ્રગટ દિવસ ધરતી પર પરમાત્મા કબીર સાહેબના પ્રાગટ્ય પ્રસંગે ઉજવવામાં આવે છે. ભગવાન...

ಕಬೀರ ಪ್ರಕಟ ದಿವಸ 2024 [Kannada] : ದಿನಾಂಕ, ಆಚರಣೆ, ಘಟನೆಗಳು, ಇತಿಹಾಸ

ಕಬೀರ ಪ್ರಕಟ ದಿವಸ ಪರಮಾತ್ಮಕಬೀರ ಸಾಹೇಬರು ಪೃಥ್ವೀ ಮೇಲೆ ಪ್ರಕಟವಾಗಿರುವ ಸಂದರ್ಭದ ಮೇರೆಗೆ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಭಗವಂತ ಕಬೀರ ಸಾಹೇಬರು...