December 1, 2023

Dowry Free Marriages [Hindi] | दहेज मुक्त समाज, मानवता के लिए वरदान: जगतगुरू संत रामपाल जी महाराज

Published on

spot_img

Last Updated on 11 June 2023, 12:33 PM IST: Dowry Free Marriages in Hindi: संत रामपाल जी महाराज द्वारा दहेज मुक्त भारत: दहेज एक भयानक और अनैतिक प्रथा है जो समाज की पीड़ा बन गई है। दहेज प्रथा शादी जैसे एक पवित्र आयोजन को कलंकित कर देती है। वह दहेज प्रथा ही है जिसके कारण विवाह जैसा एक पवित्र आयोजन, केवल एक व्यावसायिक व्यवस्था में बदल जाता है। दहेज प्रथा के चलते समाज में महिलाओं की स्थिति बहुत दयनीय है। जब तक इस व्यवस्था को समाप्त नहीं किया जाता, तब तक भारतीय समाज में विकास की कोई गुंजाइश नहीं है। सरकार ने 1961 से दहेज निषेध अधिनियम लागू किया है पर समाज पर इसका कोई उत्साहजनक प्रभाव नहीं पड़ा है।

दहेज प्रथा पर कुछ सवाल 

नाम, शोहरत और पैसे के लालच ने लोगो में इंसानियत खत्म कर दी है। प्रश्न जैसे : दहेज अच्छा है या बुरा? दहेज के प्रभाव क्या हैं? दहेज का उद्देश्य क्या है? दहेज अवैध क्यों है? भारतीय दुल्हनें दहेज क्यों देती हैं? दहेज के कारण क्या हैं? दहेज मृत्यु कांड क्या है? दहेज प्रथा की रोकथाम क्या है? दहेज प्रथा का समाधान क्या है? – समाज के लोगों से बार-बार पूछने की आवश्यकता है ताकि मीडिया और पत्रकारिता की शक्ति से इस अभिशाप को एक सामाजिक मुद्दे के रूप में उठाया जा सके (क्योंकि यह लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है)। आइए हम इन विषयों और समस्या के समाधान पर प्रकाश डालते हैं।

भारत में दहेज प्रथा: मुख्य बिंदु

  • दहेज जैसे अभिशाप को खत्म करने से पहले हमें कुछ अवधारणाओं को समझने की जरूरत है जैसे: दहेज का उद्देश्य क्या है? दहेज के कारण क्या हैं? दहेज के प्रभाव क्या हैं?
  • जैसा कि अधिकांश परिवारों के लिए दहेज एक अभिशाप है और दहेज की अवधारणा को समझने के बाद हमें दहेज प्रथा की रोकथाम के बारे में भी जागरूक होना चाहिए ताकि इस अभिशाप को समाज से मिटाया जा सके।
  • दहेज प्रथा की रोकथाम और दहेज मुक्त विवाह समाज प्राप्त करने के उपदेश के साथ-साथ इसे रोकने के लिए दहेज प्रथा का समाधान भी आवश्यक है क्योंकि इसके अभाव में हम अपने समाज से दहेज को समाप्त नहीं कर सकते हैं।
  • 1961 से सरकार द्वारा कानून बनाए गए हैं लेकिन उनका कार्यान्वयन नहीं किया गया है। हमें दहेज मुक्त विवाह समाज तैयार करने के लिए दहेज मुक्त संस्कृति का पालन करने में अत्यधिक अनुशासन के साथ नियमों का सख्त कार्यान्वयन की आवश्यकता है।
  • संत रामपाल जी महाराज (हरियाणा से) द्वारा दहेज मुक्त विवाह समाज तैयार किया जा रहा है।
  • रमैनी की पहल से दहेज विरोधी आंदोलन ने कई महिलाओं की जान बचाई है और दुनिया भर में कई परिवारों को राहत की सांस दी है।

भारतीय दुल्हनें दहेज क्यों देती हैं?

दहेज के प्रभाव के बारे में सभी जानते हैं और फिर भी लोग इसका अभ्यास करते हैं क्योंकि पैसे के बढ़ते लालच और दहेज के लेन/देन के दिखावे ने इस अभिशाप को एक भारतीय विवाह की रस्म में बदल दिया है। लोगों का मानना है कि बिना दहेज के शादी नहीं हो सकती।

दहेज प्रथा के कारण क्या हैं?

Dowry Free Marriages in Hindi: दहेज एक ऐसा शब्द है जो सभी को समझ में आता है क्योंकि यह पैसे के आदान-प्रदान से संबंधित है और लोग इसे अच्छी तरह से जानते हैं। दहेज के आदान-प्रदान में वृद्धि का मुख्य कारण धन या महँगी वस्तुओं को उपहार के रूप में स्वीकार करने का लोभ है। लोगों के पैसे के लिए बढ़ते लालच के कारण, कोई भी इस मुफ्त की अच्छी खासी दौलत को खोना नहीं चाहता । 

भारत में दहेज प्रथा के प्रभाव क्या हैं?

जैसा कि दहेज का कारण सभी को पता है, प्रभाव भी किसी से छिपा नहीं है। दहेज का भार लड़की के परिवार को उठाना पड़ता है। सबसे पहले दहेज की व्यवस्था करना या हम कह सकते हैं कि दूल्हे के परिवार की उक्त मांगों को पूरा करना, हर दुल्हन के पिता के लिए आसान काम नहीं है। यदि दहेज मांग के अनुसार दिया जाता है तो भविष्य में लगातार ऐसी मांग होती रहेगी और यदि मांग के अनुसार दहेज नहीं दिया जाता है तो शादी के बाद लड़की को कम दहेज लाने के लिए प्रताड़ित किया जाता है, जो बदले में उसके माता-पिता को प्रताड़ित करता है और मानसिक दबाव उत्पन्न करता है। 

इन सभी के परिणामस्वरूप दहेज हत्याओं की संख्या में वृद्धि हुई है। वर्तमान में दहेज मृत्यु केस अध्ययन से पता चलता है कि दहेज के कारण प्रतिदिन 20 महिलाओं की मृत्यु होती है, इसलिए यह समस्या भारतीय समाज के लिए एक अभिशाप है।

दहेज प्रथा के रोकथाम के उपाय क्या हैं?

Dowry Free Marriages in Hindi: दहेज के नाम पर लोग शादी के चक्कर में खासकर लड़की पक्ष के लोगों की भावनाओं और भरोसे से खिलवाड़ कर रहे हैं। हालांकि सरकार ने दहेज प्रतिषेध अधिनियम 1961 लागू किया है, फिर भी इसकी स्थापना के दिन से ही स्थिति दिन-ब-दिन खराब होती जा रही है। कानून का कोई क्रियान्वयन नहीं है। दहेज के आदान-प्रदान को रोकने के लिए, हमें अत्यधिक अनुशासन के साथ इसके आदान-प्रदान को समाप्त करने पर सख्त कार्यान्वयन की आवश्यकता है। यदि नहीं, तो मामले इसी तरह बढ़ते रहेंगे और दुष्प्रभाव बढ़ते रहेंगे।

■ Read in English: Dowry Free India: Dowry System is a curse for Society: Jagatguru Saint Rampal Ji Maharaj

भारत में दहेज प्रथा के कारण 

  • प्राचीन काल में पिता की सारी संपत्ति उसके पुत्रों की होती थी, जिसमें पुत्रियों का अधिकार नहीं हो सकता था, इसलिए पिता अपनी पुत्री के विवाह के अवसर पर संपत्ति का कुछ भाग उपहार के रूप में देता था और उस समय इस अभ्यास को एक गुण माना जाता था। कार्य माना जाता था। परन्तु समाज में अनेक परिवर्तनों के कारण यह पुण्य कर्म समाज के लिए अभिशाप बन गया और दहेज प्रथा की असंख्य बुराइयाँ उत्पन्न हो गई।
  • किसी लड़की से उसकी अपनी जाति, या उपजाति में शादी करने से उसकी शादी का दायरा सीमित हो जाता है, इसलिए दूल्हे पक्ष ने लड़की की शादी के लिए दहेज प्रथा को अनिवार्य कर दिया। इसके अलावा बाल विवाह भी दहेज प्रथा का एक कारण है क्योंकि माता-पिता स्वयं वर-वधू का चयन करते हैं, जिससे वे लाभ कमाने के लिए दहेज की मांग कर मनमानी राशि तय करते हैं। हिन्दुओं में लड़कियों का विवाह अनिवार्य माना जाता है और इस स्थिति का लाभ उठाकर वर द्वारा अधिक से अधिक दहेज की माँग की जाती है जिसका भार जीवनपर्यंत लड़की पक्ष के परिवार पर रहता है। इसके अतिरिक्त उच्च कुल के लड़कों का विवाह करने के लिए भी कन्या पक्ष को अधिक दहेज देना अनिवार्य होता है, अतः विवाह की बाध्यता भी दहेज प्रथा का कारण है। 
  • शिक्षा और सामाजिक प्रतिष्ठा का अभाव भी दहेज प्रथा का कारण है क्योंकि सामाजिक प्रतिष्ठा के कारण लोग अपनी बेटी की शादी अच्छे लड़के से करना चाहते हैं और समाज में इन लड़कों की कमी के कारण अधिक दहेज इन काबिल लड़कों द्वारा लिया जाता है। 
  • दहेज प्रथा का मुख्य कारण महंगाई भी है, वर्तमान में व्यक्ति को सभी प्रकार की जरूरतों को पूरा करने के लिए बहुत अधिक धन की आवश्यकता होती है और वे विवाह को लड़की पक्ष से धन और अधिक धन प्राप्त करने का एक अच्छा अवसर मानते हैं। मांग कर ही वे अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति करने में सफल हो जाते हैं।
  • कुछ लोगों का मानना है कि बेटी को अधिक दहेज देने से उन्हें समाज से सम्मान मिलेगा, जिसके कारण वे अपनी बेटियों को अधिक दहेज देकर अपनी झूठी प्रतिष्ठा दिखाते हैं। इसके अलावा जिन लोगों ने अपनी बेटी की शादी में ज्यादा दहेज दिया है, वे अपने बेटों की शादी के जरिए उस पैसे को वापस पाने की कोशिश करते हैं और इसी वजह से हमारे समाज में दहेज प्रथा को बढ़ावा मिलता है।

दहेज प्रथा का समाधान क्या है?

दहेज मुक्त भारत (Dowry Free Marriages in Hindi) : दहेज प्रथा का समाधान हरियाणा के प्रसिद्ध संत रामपाल जी महाराज को छोड़कर हर सरकार और संगठनों या धार्मिक संप्रदायों की पहुंच से बाहर लगता है। संत रामपाल जी ने रमैनी नामक दहेज मुक्त विवाह की एक शानदार पहल की है जो दहेज के किसी भी आदान-प्रदान को स्वीकार नहीं करती है। इस दहेज विरोधी आंदोलन की सफलता की कहानी संत रामपाल जी महाराज के शिष्यों द्वारा उनके नेतृत्व में दहेज के आदान-प्रदान पर रोक लगाने के अनुशासन पर आधारित है। ये अपने आप में अनोखा है। इस तरह का दहेज विरोधी आंदोलन समाज से ऐसे अभिशाप को खत्म करने में उपयोगी हो सकता है जिसने कई मासूम महिलाओं की जान ले ली है।

Dowry Free Marriages in Hindi: दहेज उद्धरण (Quotes in Hindi)

  • यह गलत धारणा है कि अच्छे दहेज से ही शादी चलेगी। दहेज सिर्फ एक लड़की के परिवार को आंकने का मानव निर्मित मापदंड है जो अपने आप में पूरी तरह से गलत है।
  • दहेज सिगरेट के पैकेट के समान है, यह लोगों को मार रहा है और अभी भी लोग इसका आदान प्रदान कर रहे हैं।
  • एक पूर्ण संत द्वारा दिए गए सच्चे आध्यात्मिक ज्ञान के बारे में जागरूकता से भारतीय समाज की जड़ों में बसे दहेज को समाप्त किया जा सकता है।
  • संत रामपाल जी महाराज द्वारा दहेज मुक्त विवाह ने यह प्रदर्शित किया है कि लोगों में ईमानदारी अभी भी मौजूद है, आवश्यकता केवल उनको सच्चे आध्यात्मिक ज्ञान को समझने की है।

गुरुवाणी से 17 मिनट में बिना दहेज के विवाह संपन्न

एक ओर जहां पूरी दुनिया दहेज लेकर या देकर अपनी और अपनी बेटियों की दुर्दशा बढ़ा रही है, वहीं संत रामपाल जी महाराज के शिष्य रमैनी के जरिए शादी कर दहेज प्रथा को खत्म करने में अपना सहयोग दे रहे हैं। दुनिया भर में संत रामपाल जी महाराज के सभी आश्रमों में हर दिन सैकड़ों लोग रमैनी द्वारा विवाह करते हैं, यहां कुछ भक्तों के नाम लिखे गए हैं:

  1. जम्मू-कश्मीर के भजन दास के बेटे दीपक दास ने कठुआ जम्मू-कश्मीर के सुभाष दास की बेटी काजल दासी से शादी की।
  2. भागलपुर, बिहार के अधिका लाल दास के पुत्र गोविंद दास की शादी कहलगांव (काजीपुरा), भागलपुर, बिहार के महेश चौधरी की बेटी कोमल दासी से हुई।
  3. हरदा, मध्य प्रदेश के हलकेराम रैकवार के पुत्र बसंत दास का विवाह जबलपुर, मध्य प्रदेश के संतोष नागवंशी की पुत्री वंदना दासी से हुआ।

दहेज विरोधी आंदोलन (दहेज मुक्त भारत): रमैनी क्या है?

Dowry Free Marriages in Hindi: जगतगुरु संत रामपाल जी महाराज अपने प्रवचनों में शाश्वत ज्ञान, विवेक, संतोष, प्रेम, सहनशीलता, दया, क्षमा, विनय, त्याग, वैराग्य, शांति, धर्म, भक्ति, समभाव जैसे महान गुणों को अपनाने का उपदेश देते हैं। महान संत ने सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ प्रभावी कदम उठाए हैं। उन्होंने दहेज मुक्त विवाह समारोह का एक अभिनव तरीका तैयार किया है, जिसे रमैनी के नाम से जाना जाता है, जो सत्रह मिनट में दहेज के रूप में धन और वस्तुओं के आदान-प्रदान के बिना होता है। इसमें कोई धूमधाम और दिखावा नहीं होता, और इस तरह उनके भक्त न केवल पैसे बचाते हैं बल्कि कीमती समय भी बचाते हैं।

दहेज मुक्त भारत और विवाह पर FAQ [Hindi]

भारत में कौन सा राज्य दहेज मुक्त है?

भारत सरकार द्वारा ‘बेटी बचाओ अभियान’ जैसे अभियान चलाए जा रहे हैं। साथ ही संत रामपाल जी ने दहेज मुक्त भारत अभियान की भी शुरुआत की है, जिससे आम लोग भी जागरूक हुए हैं। उन्नाव जिले का सेवाखेड़ा गांव और दो पूर्वोत्तर राज्य सिक्किम और मिजोरम भारत में लगभग दहेज मुक्त राज्य हैं।

भारत में दहेज प्रथा को किसने रोका?

कई समाज सुधारकों की कड़ी मेहनत के बाद सरकार कई कानून (दहेज निषेध अधिनियम 1961) लेकर आई है, लेकिन उनका कार्यान्वयन पूरी तरह से नहीं हो पाया। अब संत रामपाल जी महाराज ने रमैनी विवाह में किसी भी रूप में दहेज लेने पर सख्ती से रोक लगा दी है।

दहेज प्रथा कब प्रतिबंधित हुई ?

भारत की संसद द्वारा अनुमोदित दहेज निषेध अधिनियम 1961 और बाद में भारतीय दंड संहिता की धारा 304बी और 498ए सहित विशिष्ट भारतीय कानूनों के तहत दहेज का भुगतान लंबे समय से प्रतिबंधित है। फिर भी इन कानूनों पर अमल नहीं हो रहा है।

दहेज प्रथा क्यों समाप्त होनी चाहिए ?

दहेज की उच्च मांग के कारण महिलाओं को परिवार पर वित्तीय बोझ के रूप में देखा जाता है, और कई माता-पिता लड़कियों का गर्भपात करा देते हैं या उन्हें जन्म के बाद मरने देते हैं। यह महिलाओं को पुराने अवमूल्यन और भारी लैंगिक असमानता दोनों की ओर ले जाता है।

क्या शादी के लिए दहेज जरूरी है?

नहीं! शादी के लिए दहेज बिल्कुल जरूरी नहीं है। संत रामपाल जी महाराज के सानिध्य में कई शादियां कराई जा रही है जो पूरी तरह से दहेजमुक्त है।

Latest articles

Video | दिव्य धर्म यज्ञ दिवस: बैतूल के सतलोक आश्रम में अध्यात्म पर्व में विशाल प्रदर्शनी

मध्यप्रदेश में हुए तीन दिवसीय विशाल भंडारे में लगी विशाल प्रदर्शनी जिसे हजारों श्रद्धालुओं...

Video | दिव्य धर्म यज्ञ दिवस: हरियाणा के एक छोटे से गाँव धनाना में क्यों उमड़ा श्रद्धा का सैलाब?

आज आपको इस वीडियो के माध्यम से बताएंगे क्यों हरियाणा के सोनीपत जिले के...
spot_img

More like this

Video | दिव्य धर्म यज्ञ दिवस: बैतूल के सतलोक आश्रम में अध्यात्म पर्व में विशाल प्रदर्शनी

मध्यप्रदेश में हुए तीन दिवसीय विशाल भंडारे में लगी विशाल प्रदर्शनी जिसे हजारों श्रद्धालुओं...

Video | दिव्य धर्म यज्ञ दिवस: हरियाणा के एक छोटे से गाँव धनाना में क्यों उमड़ा श्रद्धा का सैलाब?

आज आपको इस वीडियो के माध्यम से बताएंगे क्यों हरियाणा के सोनीपत जिले के...