Dilip Kumar Death News [Hindi]: ‘ट्रेजडी किंग’ दिलीप कुमार सुपुर्द-ए-खाक; फिल्म उद्योग में सफल लेकिन क्या मानव जीवन के मुख्य उद्देश्य ‘मोक्ष’ से चूके?

spot_img

बॉलीवुड के मशहूर कलाकार दिलीप कुमार (Dilip Kumar Death News) की 98 वर्ष की आयु में मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में बुधवार की सुबह 7:30 बजे मृत्यु हो गयी। बुधवार शाम 5 बजे राजकीय सम्मान के साथ सांताक्रूज मुंबई में स्थित जुहू के कब्रिस्तान में उनका पार्थिव शरीर सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया। कई विशिष्ट सम्मानों दादा साहब फाल्के, पद्म भूषण और पद्म विभूषण से नवाजे जा चुके दिलीप कुमार पाकिस्तानी सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-इम्तियाज से भी सम्मानित किए गए थे। आध्यात्मिकता को समझने वाले पाठकों के लिए यह प्रश्न स्वाभाविक है कि जीवन में बेहद  सफल हुए दिलीप कुमार ने अपने मानव जीवन के मुख्य उद्देश्य ‘मोक्ष’ को प्राप्त किया या नहीं ?

Dilip Kumar Death News [Hindi]:  मुख्य बिन्दु

  • बॉलीवुड के मशहूर कलाकार दिलीप कुमार ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया है
  • बुधवार शाम 5 बजे उन्हें राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई
  • सांताक्रूज मुंबई में स्थित जुहू के कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक
  • कई विशिष्ट सम्मानों दादा साहब फाल्के, पद्म भूषण और पद्म विभूषण से नवाजे जा चुके हैं
  • पाकिस्तानी सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-इम्तियाज से भी हुए सम्मानित   
  •  लंबी आयु, सम्पूर्ण ऐश्वर्य और ख्याति प्राप्त कर भी क्या असली उद्देश्य को पूरा कर पाए
  • सभी प्रश्नों का उत्तर जानने के लिए संत रामपाल जी महाराज की पवित्र पुस्तक जीने की राह अवश्य पढें

Dilip Kumar Death News [Hindi]: दुनिया को अलविदा कह गए दिलीप कुमार

भारतीय फिल्म उद्योग के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार की 98 वर्ष की आयु में मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में बुधवार की सुबह 7:30 बजे मृत्यु हो गयी। 1922 में पाकिस्तान के पेशावर में जन्में दिलीप कुमार ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया है। दिलीप कुमार के मृत्यु का समाचार सुनकर पूरा बॉलीवुड गमगीन है। दिलीप कुमार ने अपने मजबूत व्यक्तित्व और अच्छे अभिनय के कारण काफी लोगों के हृदय में अपना स्थान बनाया। उन्हें केवल स्वदेश ही नहीं विदेशों में भी प्यार किया जाता है। 

कई विशिष्ट सम्मानों से नवाजे गए थे

दिलीप कुमार को कई विशिष्ट सम्मानों जैसे दादा साहब फाल्के, पद्म भूषण और पद्म विभूषण से नवाजा जा चुका है। स्मरण रहे कि दिलीप कुमार वर्ष 2000 में राज्यसभा के सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए थे। पाकिस्तान ने भी उन्हें अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-इम्तियाज से सम्मानित किया था।  

Dilip Kumar Death News: पार्थिक शरीर अंतिम दर्शन के लिए घर पर रखा गया

अभिनेता दिलीप कुमार के पार्थिक शरीर को कब्रिस्तान ले जाने के पहले उनके प्रियजनों के अंतिम दर्शन के लिए उनके घर पर रखा गया। इस अवसर पर कई फिल्मी हस्तियाँ जैसे धर्मेंद्र, शाहरुख खान, रणबीर कपूर, अनुपम खेर, और विद्या बालन दिलीप कुमार की पत्नी सायरा बानो से मिलने उनके घर आए।  

कोविड प्रोटोकॉल में जुहू कब्रिस्तान में सुपुर्दे खाक

बुधवार की सायं लगभग 5 बजे मुंबई के सांताक्रूज के जुहू कब्रिस्तान में ’ट्रेजडी किंग’ अदाकार दिलीप कुमार के पार्थिव शरीर को सुपुर्द-ए-खाक किया गया। खार स्थित उनके घर से पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनकी अंतिम यात्रा शुरू की गई थी। उनके पार्थिव शरीर को भारतीय ध्वज में लपेटकर एम्बुलेंस से सांताक्रूज कब्रिस्तान ले जाया गया था। कोरोना महामारी नियमों के अंतर्गत अंतिम संस्कार में केवल 20 लोगों को ही आने की अनुमति दी गई थी।

Dilip Kumar Death News: गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया

दिलीप कुमार (Dilip Kumar Death News) के पार्थिव शरीर को एम्बुलेंस द्वारा घर से ले जाने से पहले और कब्रिस्तान में मिट्टी देने से पहले गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया। दिलीप कुमार की पत्नी सायरा बानो भी कब्रिस्तान पहुंची थीं। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री  उद्धव ठाकरे ने उनके अंतिम दर्शन को यादगार बनाने के लिए विशेष निर्देश दिए थे। इन्हीं निर्देशों के अनुसार उनकी अंतिम यात्रा पूरे राजकीय सम्मान के साथ संपन्न की गई।  उनके प्रशंसक अभिनेता की आखिरी झलक देखने के लिए उत्साहित थे और मीडिया की भी जबरदस्त भीड़ मौजूद थी। किसी भी स्थिति को संभालने के लिए कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए थे।

Dilip Kumar Death News:  सायरा बानो ने निभाई सारी जिम्मेदारियां

पत्नी सायरा बानो अपने पति की मृत्यु से गम में डूबीं हुईं थी। मास्क से ढके चेहरे पर दर्द साफ झलक रहा था। फिर भी सायरा बानो खुद को किसी तरह संभालते हुए सारी जिम्मेदारियां पूरी कर रही थीं। दिलीप कुमार के ऑफिशियल ट्विटर हैन्डल से भी ट्वीट किया गया।  

https://twitter.com/TheDilipKumar/status/1412600233062699008

प्रधानमंत्री मोदी ने दी सायरा बानो को सांत्वना

बॉलीवुड के फिल्मी कलाकारों से लेकर राजनेता तक सभी दुख जता रहे थे। प्रधानमंत्री मोदी ने भी दिलीप कुमार की पत्नी अभिनेत्री सायरा बानो से फोन पर बात करके उनके साथ सांत्वना जताई। 

■ Also Read: Dr. KK Aggarwal Death: Vaccine की दो Dose भी नहीं बचा सकीं उनकी जिंदगी ; सत भक्ति ही कारगर उपाय

राहुल गांधी ने कहा दिलीप कुमार के भारतीय सिनेमा के लंबे समय तक कार्य को आने वाली कई पीढ़ियां याद रखेंगी। बहुत से लोग सायरा को ढांढस बंधा रहे थे। 

Dilip Kumar Death News: विभाजन के दौरान आए थे मुंबई

दिलीप कुमार का बचपन गरीबी में बीता उनके पिता ने फल बेचकर परिवार का गुजारा किया। विभाजन के दौरान परिवार के साथ मुंबई आकर बस गए और उन्होनें एक कैंटीन में काम करना शुरू कर दिया। यही उनकी मुलाकात एक्ट्रेस देविका रानी से हो गई जिन्होंने उस नौजवान को फिल्मों में काम करने का निमंत्रण दे दिया। देविका रानी ने उनका नाम युसूफ खान से बदलकर दिलीप कुमार रख दिया। 

■ Also Read: Dilip Kumar Death: नहीं रहे बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार

थोड़े ही समय में उन्होंने बॉलीवुड में अपनी एक विशिष्ट पहचान बना ली। सिनेमा के बड़े पर्दे पर उनके दुखभरे चरित्र बहुत प्रसिद्ध हुए और उन्हें ‘ट्रेजडी किंग’ के नाम से जाने जा लगा। दिलीप कुमार 25 वर्ष से भी कम आयु में ही फिल्मी दुनिया के सबसे बड़े अभिनेता बन गए।

क्या जीवन के मुख्य उद्देश्य को पूरा कर पाए? 

पाठकों को यह जानना भी जरूरी है दिलीप कुमार को उनके प्रारब्ध कर्मों के कारण अपार सुख प्राप्त हुए। 98 वर्ष की लंबी आयु मिली। पूरे जीवन साथ देने वाली पत्नी  मिली। धन दौलत, सम्पूर्ण ऐश्वर्य और ख्याति प्राप्त हुई । लेकिन इतना पाकर भी क्या दिलीप कुमार मनुष्य जीवन के असली उद्देश्य को पूरा कर पाए? क्या उन्हे पूर्ण मोक्ष मिला होगा अथवा मुस्लिम मान्यता के अनुसार महा प्रलय के समय तक अपनी कब्र के पास उनकी आत्मा प्रतीक्षा करेगी?

सभी प्रश्नों का सही उत्तर जानने के लिए संत रामपाल जी महाराज की पवित्र पुस्तक जीने की राह अवश्य पढें। इन सबके बीच ये बात जरूर ध्यान में रखनी चाहिए कि दिलीप कुमार जैसे लोग अपने पुण्यों का खात्मा करके यहां से चले गए उन्हे यहां सभी सुख सुविधाएं पुराने पुण्यों से थी लेकिन वर्तमान में कोई सत साधना ना करने से उनके पुण्यों का भंडारा नही भर सका। बिना पुण्य कर्मों के आगे की डगर बहुत मुश्किल होती है। वर्तमान में यदि कोई भी अपने पुण्यों का खजाना भरना चाहता है तो उसके पास संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा लेने का मौका है। 

Dilip Kumar Death News:  केन्द्रीय केबिनेट, CCEA बैठकें स्थगित

दिलीप कुमार की मृत्यु के बाद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई नेताओं ने श्रद्धांजली अर्पित की।  बुधवार दोपहर को होने वाली कैबिनेट की बैठक को भी स्थगित कर दिया गया। कैबिनेट के साथ होने वाली इस आर्थिक मामलों से  संबंधित मंत्रिमंडल (CCEA) की बैठक को आगे के लिए टाल दिया गया। अभिनेता दिल्ली कुमार की मृत्यु का समाचार मिलने पर 11 बजे होने वाली बैठक को रोक दिया गया। 

मुख्यमंत्री और राज्यपाल ने किया अंतिम नमन

महाराष्ट्र के राज्यपाल कोशियारी ने दिलीप कुमार को उनकी पीढ़ी का महानायक बताते हुए याद किया। कोश्यारी ने बताया कि अभिनेता की इकलौती फिल्म उन्होंने देखी है। उन्होंने कहा, ‘भारतीय फिल्म उद्योग निस्संदेह दुनिया में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है। इस सफलता का श्रेय महान फिल्म निर्माताओं, निर्देशक, गीतकारों, टेक्नीशियन, संगीतकारों, प्लेबैक सिंगर और अन्य के साथ ही दिलीप कुमार जैसे फिल्मी सितारों को भी जाता है। कोई भी उनका स्थान नहीं ले सकता। मेरे लिए वह महानायक थे।’ कोशियारी ने आगे कहा, ‘मैं दिवंगत आत्मा को नमन करता हूं और सायरा बानो और दिलीप कुमार के अनगिनत प्रशंसकों के प्रति गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं।’ राज्यपाल के अलावा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी दिलीप कुमार के निधन पर शोक जताया है।

अमिताभ भी थे दिलीप कुमार (Dilip Kumar) की कलाकारी के कायल

अमिताभ बच्चन जो सदी के महानायक कहे माने जाते हैं वे भी दिलीप कुमार की अदाकारी के प्रशंसक हैं। अमिताभ बताते हैं कि जब वे इलाहाबाद में स्कूल में पढ़ाई कर रहे थे तब उनकी फिल्में  देखने बार-बार जाते थे। 

Latest articles

Guru Purnima 2024 [Hindi]: गुरु पूर्णिमा पर जानिए क्या आपका गुरू सच्चा है? पूर्ण गुरु को कैसे करें प्रसन्न?

Guru Purnima in Hindi: प्रति वर्ष आषाढ़ की पूर्णिमा के दिन को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। गुरु पूर्णिमा 13 जुलाई, शुक्रवार को आषाढ़ माह की पूर्णिमा के दिन भारत में मनाई जाएगी। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर हम गुरु के जीवन में महत्व को जानेंगे साथ ही जानेंगे सच्चे गुरु के बारे में जिनकी शरण में जाने से हमारा पूर्ण मोक्ष संभव है।  

Gonda Train Accident: चंडीगढ़ डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस के 14 डिब्बे उतरे पटरी से, तीन की मौत, 34 घायल

Gonda Train Accident: चंडीगढ़ से डिब्रूगढ़ जा रही 15904 एक्सप्रेस की दुर्घटना गत गुरुवार...

Guru Purnima 2024: Know about the Guru Who is no Less Than the God

Last Updated on18 July 2024 IST| Guru Purnima (Poornima) is the day to celebrate...

Rajasthan BSTC Pre DElED Results 2024 Declared: जारी हुए राजस्थान बीएसटीसी प्री डीएलएड परीक्षा के परिणाम, उम्मीदवार ऐसे करें चेक

राजस्थान बीएसटीसी परीक्षा परिणाम का इंतजार कर रहे छात्रों के लिए एक अच्छी खबर...
spot_img

More like this

Guru Purnima 2024 [Hindi]: गुरु पूर्णिमा पर जानिए क्या आपका गुरू सच्चा है? पूर्ण गुरु को कैसे करें प्रसन्न?

Guru Purnima in Hindi: प्रति वर्ष आषाढ़ की पूर्णिमा के दिन को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। गुरु पूर्णिमा 13 जुलाई, शुक्रवार को आषाढ़ माह की पूर्णिमा के दिन भारत में मनाई जाएगी। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर हम गुरु के जीवन में महत्व को जानेंगे साथ ही जानेंगे सच्चे गुरु के बारे में जिनकी शरण में जाने से हमारा पूर्ण मोक्ष संभव है।  

Gonda Train Accident: चंडीगढ़ डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस के 14 डिब्बे उतरे पटरी से, तीन की मौत, 34 घायल

Gonda Train Accident: चंडीगढ़ से डिब्रूगढ़ जा रही 15904 एक्सप्रेस की दुर्घटना गत गुरुवार...

Guru Purnima 2024: Know about the Guru Who is no Less Than the God

Last Updated on18 July 2024 IST| Guru Purnima (Poornima) is the day to celebrate...