World Book and Copyright Day  2022 [Hindi] | विश्व पुस्तक और प्रकाशनाधिकार दिवस पर जाने पुस्तकें कैसे हमारे जीवन को सफल बना सकती है

Date:

विश्व पुस्तक दिवस 2022 | World Book and Copyright Day  2022 [Hindi] : पुस्तक ज्ञान का भंडार होती है पुस्तकों से ही हमें ज्ञान प्राप्त होता है। पुस्तक के बगैर अब जीने की राह आसान नहीं है विश्व पुस्तक दिवस को महान लेखकों और साहित्यकारों के जन्म और पुण्यतिथि को ध्यान में रखकर उनको सम्मान और श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए 23 अप्रैल का दिन को घोषित किया गया था इसी दिवस को महान लेखक विलियम शेक्सपियर, मिगुएल डे सर्वेंट्स और जोसेफ प्ला की पुण्ययतिथि है तथा मैनुअल मेजिया वैलेजो और मैरिस ड्रोन का जन्म दिवस है ।

विश्व पुस्तक दिवस 2022: विश्व पुस्तक दिवस का इतिहास (History of World Book Day)

विश्व पुस्तक दिवस और World Book Copyright Day के लिए सन् 1995 को पहली बार यूनेस्को में महान लेखकों को सम्मान और श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए 23 अप्रैल को जनरल कॉन्फ्रेंस में घोषणा कर दी गई थी क्योंकि इस दिवस को महान लेखक और साहित्यकारों जैश विलियम शेक्सपियर , मैनुअल डे सर्वेंट्स की पुण्यतिथि और हल्डोर लाक्सनेस , मेजीया वाल्लीजो का जन्म दिवस भी है ।

विश्व पुस्तक दिवस 2022: विश्व पुस्तक दिवस 2022 की थीम क्या है? [Hindi] 

विश्व पुस्तक दिवस के मौके पर पुस्तकों के प्रति लोगों को आकर्षित और उनमें लगाव उत्पन्न करने के लिए यूनेस्को द्वारा थीम जारी की जाती है।  इस वर्ष की थीम अभी तक जारी नहीं की गई है। वर्ष 2021 की थीम ‘To share a story’ ‘एक कहानी साझा करें’ है

विश्व पुस्तक दिवस 2022 Quotes: विश्व पुस्तक दिवस पर महान पुरुषों के कथन 

  • “किताब जैसा वफादार कोई दोस्त नहीं ~ Ernest
  • “आइए याद रखें, एक किताब एक कलम एक बच्चा और एक शिक्षक दुनियां बदल सकता है~ मलाला यूसुफजई
  • “मेरा सबसे अच्छा दोस्त वह व्यक्ति है जो मुझे वह किताब देगा जो मैंने नहीं पढ़ी है । ~ Abraham linkan 
  • “केवल एक चीज जिसे आपको पूरी तरह जानना है, वह है पुस्तकालय का स्थान ।~ Albert  Einstein
  • “जब तक जीना तब तक सीखना, अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक है” ~ स्वामी विवेकानंद

विश्व पुस्तक दिवस 2022: विश्व पुस्तक दिवस का महत्व (Importance of World Book Day)

विश्व पुस्तक दिवस आज 100 से भी अधिक देशों में मनाया जाता है। विश्व भर में पुस्तकों के प्रति लोगों में रुचि और जागरूकता  फैलाने के लिए लोगों में बौद्धिक विकास और शैक्षणिक योग्यता का विस्तार हेतु विश्व स्तर पर यह अभियान लेखक, पब्लिशर्स, लाइब्रेरियन, पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर, एन जी ओ द्वारा चलाया जाता है । इससे विश्व भर में शिक्षा के प्रति लोगों में जागरूकता अभियान और पुस्तकों के प्रति लोगों का रुझान बढ़ाया जाता है।

विश्व पुस्तक दिवस 2022: पवित्र पुस्तकों में छुपा है हमारा इतिहास 

हमारे इलहामी किताबों के पन्नों में हमारा इतिहास छुपा है। बाइबिल , क़ुरआन शरीफ़, जबूर, वेदों,  गीता जैसे हमारे धर्मग्रंथों के पन्नों में ही मानव उत्पत्ति ( जन्म और मृत्यु ) के बारे में जानकारी है। इस सृष्टि की उत्पत्ति और रचना का क्रम भी हमें इन्हीं किताबों के पन्नों में मिलता है जिसे समझने के लिए इन्हीं किताबों में तत्वदर्शी संत के बारे में कहा गया है जो हमारे अनसुलझे सवालों के जवाब और हमें अपने परमधाम के बारे में बता कर वहां ले जाने का सुगम मार्ग प्रशस्त करता है। 

■ Read in English | World Book Day (World Book and Copyright Day): Date, Significance, History, Quotes 

इन्हीं किताबों से हमें वह बाखबर संत अल्लाह, गॉड, खुदा, रब, परमेश्वर के बारे में जानकारी समझाता है जो कि वर्तमान में संत रामपाल जी महाराज जी हैं, जो चार वेद, छह शास्त्र, अठारह पुराणों सहित गीता, बाइबिल, कुरआन शरीफ़ और अन्य सभी धर्म ग्रंथों से प्रमाणित ज्ञान देकर विश्व कल्याण का कार्य कर रहे हैं ।

विश्व पुस्तक दिवस 2022: दुनिया को दिखा रहे हैं “जीने की राह” संत रामपाल जी 

संत रामपाल जी महाराज जी का ज्ञान शिखर पर हैं उनके द्वारा लिखी पुस्तक ” ज्ञान गंगा” और “जीने की राह ” अब तक करोड़ों लोगों ने पढ़ी व सुनी है जीने की राह और “ज्ञान गंगा” पुस्तक ” करोड़ों लोगों तक मुफ्त में बांटने का भी रिकॉर्ड संत रामपाल जी महाराज जी ने बनाया है । संत रामपाल जी महाराज जी की “ज्ञान गंगा” पुस्तक तो “गागर में सागर” है, सर्व धर्म ग्रंथों का निचोड़ और तत्वज्ञान इस पुस्तक में है। इन दोनों पुस्तक से मानव जीवन के मूल उद्देश्यों की पूर्ति हो जाती है और जीवन भी आसान हो जाता है । जीने की राह पुस्तक की पीडीएफ फाइल अब तक लाखों लोगों ने मुफ्त Download भी की है। ये दोनों पुस्तकें अब तक की सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली पुस्तकों में हैं।

विश्व पुस्तक दिवस 2022: किताबो के पन्नों की तरह आसानी से पलट सकती है जिंदगी 

संत रामपाल जी महाराज जी द्वारा लिखी पुस्तक “जीने की राह” मानव जीवन को आसान बनाने में अद्वितीय है। इसको पढ़ने वाले की जीवन यात्रा आसान हो जाती है। लाखों लोगों ने पढ़कर नशा मुक्ति, चोरी जारी, जुआ, व्यभिचार और अनेकों अवगुणों को त्याग कर मुख्य धारा की राह पकड़ कर अपना जीवन सफल बनाया हैं । 

संत रामपाल जी महाराज जी विश्व कल्याण मिशन के तहत लाखों दहेज मुक्त शादियां (रमैनी) करा चुके हैं, रक्त दान, देहदान और भी परमार्थ के कार्य में उनका स्थान अद्वितीय है। करोड़ों लोगों ने ” ज्ञान गंगा” के माध्यम से उनसे उपदेश प्राप्त करके अपना और अपनों का मानव जीवन सफल बनाया है। आप जी भी उनके द्वारा चलाए जा रहे इस विश्व कल्याण मिशन में अपना योगदान दे सकते हैं। आप Sant Rampal Ji Maharaj App download करके उनके तत्वज्ञान को समझ सकते हैं ।

विश्व पुस्तक दिवस कब है?

Ans – विश्व पुस्तक दिवस 23 अप्रैल को है।

विश्व पुस्तक दिवस कब से मनाया जा रहा है ?

 Ans – विश्व पुस्तक दिवस 1995 से मनाया जा रहा है।

विश्व पुस्तक दिवस की शुरुआत कब और कहां से हुई

Ans – विश्व पुस्तक दिवस की शुरुआत 23 अप्रैल सन् 1995 में यूनेस्को की आमसभा से हुई थी।

World book day और विश्व कॉपीराइट डे कब है ?


Ans – World book day और विश्व कॉपीराइट डे 23 अप्रैल को है।

दुनिया में सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली पुस्तकें कौन सी है?


Ans “जीने की राह” और “ज्ञान गंगा”

World Book Day 2022 की Theme क्या है?

विश्व पुस्तक दिवस 2022 की थीम अभी तक जारी नहीं की गई है। वर्ष 2021 की थीम ‘To share a story’ ‘एक कहानी साझा करें’ है।

SA NEWS
SA NEWShttps://news.jagatgururampalji.org
SA News Channel is one of the most popular News channels on social media that provides Factual News updates. Tagline: Truth that you want to know

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × 3 =

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related