Solution for Dowry System [Hindi]: संत रामपाल जी महाराज के सानिध्य में सम्पन्न हुए दहेज रहित विवाह बने चर्चा का विषय

spot_img

Last Updated on 29 March 2022, 3:33 PM IST: Solution of Dowry System: क्या आपने ऐसा कोई विवाह देखा है जहां दूल्हा-दुल्हन साधारण वेशभूषा में हों? जहाँ बिना हल्दी, मंडप आदि रस्मों के पूर्ण परमात्मा की उपस्थिति में विवाह सम्पन्न हुआ हो? जहां दहेज के नामोनिशान न हो? हाँ जी, ऐसा सम्भव हो पाया वो भी केवल संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में चलाये जा रहे दहेज मुक्त विवाह अभियान से। आपको सोचने में थोड़ा अचंभित सा लग सकता है क्योंकि ऐसे विवाहों की कल्पना करना भी मुश्किल है फिर धरातल पर होना तो बहुत बड़ी बात है पर आज हम आपके सामने ऐसे ही कुछ विवाह पेश कर रहे हैं जिनके बारे में जानकर आपको सचमुच लगेगा कि क्या आज के आधुनिक युग में भी इतने सादगीपूर्ण विवाह सम्भव हैं।

Solution of Dowry System: सम्बंधित मुख्य बिंदु

  • संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में सपन्न हुए दहेज मुक्त विवाह 
  • बिना किसी फिजूलखर्ची के होने वाले इन दहेज मुक्त विवाहों की लोगों ने की भरपूर सराहना
  • इन दहेज मुक्त विवाहों को देखने वाले और सुनने वाले हर शख्स ने की इन अद्वितीय दहेज मुक्त विवाहों की तारीफ
  • संत भाषा में इन दहेज मुक्त विवाहों को ‘रमैनी’ नाम से जाना जाता है
  • पाखंडवाद व आडंबरों से मुक्त इन दहेज रहित विवाहों की चारों ओर है गूंज
  • संत रामपाल जी महाराज ही एकमात्र सच्चे समाजसुधारक पूर्ण संत हैं

Solution of Dowry System: चर्चित अद्वितीय दहेज मुक्त विवाह

  • पूजा दासी पुत्री जयराम दास (सेक्टर 15 रोहिणी दिल्ली) का विवाह दिलीप दास पुत्र वीरेंद्र दास (सेक्टर 89 बादशाहपुर फरीदाबाद) से दिनाँक 24/01/2022 को सतलोक आश्रम फरीदपुर फरीदाबाद में हुआ।
  • सविता दासी पुत्री सुरेश दास (सिंघासर, तहसील गुनौर, पन्ना, मध्यप्रदेश) का विवाह अरविंद दास पुत्र राजकुमार अहिरवार (पन्ना) से हुआ।
  • राहुल दास पुत्र रामचन्द्र दास (संजय इनक्लेव जिला फरीदाबाद राज्य उत्तर प्रदेश) का विवाह पूजा दासी पुत्री रामचन्द्र दास (टेडी बगिया जिला आगरा राज्य उत्तर प्रदेश)
  • अजय दास पुत्र रामजीवन दास (नगर महापालिका, नवाबगंज, कानपुर नगर, उत्तर प्रदेश) का विवाह प्रियंका दासी पुत्री रमेश चंद्र दास (पट्टी ठाकुर, बिधनू, जिला औरैया, उत्तर प्रदेश) से हुआ।
  • ओमप्रकाश दास पुत्र राजा राम (बेलतरा, थान खम्हरिया, जिला बेमेतरा, छत्तीसगढ़) का विवाह शीतल दासी पुत्र पन्ना लाल (दानी कोकड़ी, धमधा, जिला दुर्ग छत्तीसगढ़) से हुआ।
  • रीता दासी (गाँव नानई लिसडा, हसनपुर, मुरादाबाद मंडल, जिला अमरोहा, उत्तर प्रदेश)

का विवाह नरेश दास (गाँव घनसूरपुर, जिला अमरोहा, उत्तर प्रदेश) के साथ दिनांक 6/2/2022 को हुआ।

  • प्रदीप दास पुत्र झब्बू दास (ग्राम बड़ी कोनी इटवा, तहसील पाटन, जिला जबलपुर, मध्यप्रदेश) का विवाह शालनी दासी पुत्री शशिकांत दास (ग्राम बेलखाड़ू, तहसील पनागर, जबलपुर, मध्यप्रदेश) से हुआ।
  • मोनू दास पुत्र रमेश दास (बाजपुर, यू.एस. नगर, उत्तराखंड) का विवाह अनीता दासी पुत्री हरद्वारी दास (बाजपुर, यू.एस. नगर, उत्तराखंड) से हुआ।
  • नवीन दास पुत्र अनिल दास (सुजातपुर, जिला अंबाला, हरियाणा) का विवाह पूजा दासी पुत्री मुल्तान (गांव उरनाए, शहर पिहोवा, जिला कुरुक्षेत्र,राज्य हरियाणा) से हुआ।
  • विशनाराम दास पुत्र भीयाराम जी (दांतिवाडा, जिला जोधपुर, राजस्थान) का विवाह सुमन दासी पुत्री तेजाराम (पिपाडसिटी, जिला जोधपुर, राजस्थान) से हुआ।
  • सुरेन्द्र दास पुत्र इन्द्रबहादुर दास (महादेवा, जिला सतना, मध्यप्रदेश) का विवाह सतरूपा दासी पुत्री रामप्रकाश कुशवाहा (रहिकवारा, जिला सतना, मध्यप्रदेश) से हुआ।
  • राजकुमार दास पुत्र कुदौआ दास (रहिकवारा, जिला सतना, मध्यप्रदेश) का विवाह प्रीती दासी पुत्री रामचरण (खितौली, जिला कटनी, मध्यप्रदेश) से हुआ।
  • विक्रांत दास पुत्री हरिप्रकाश (दिल्ली) का विवाह कीर्ति पुत्री सुरेश (कोटा, राजस्थान) से दिनांक 19/02/2022 को हुआ।
  • मोहित दास पुत्र यशपाल (महेश नगर,जिला जयपुर, राजस्थान) का विवाह आरती दासी पुत्री ईश्वर दास
  • (गाँव रामपुराखुर्द, जिला दौसा, राजस्थान) से हुआ।
  • सुरेंद्र दास पुत्र यशपाल जी (महेश नगर, जिला जयपुर, राजस्थान) का विवाह रेणु दासी पुत्री ईश्वर दास
  • (गाँव रामपुराखुर्द, जिला दौसा, राजस्थान) से हुआ।
  • मोहनदास पुत्र बनसिंग (गांव खोड सोनार, मर्दापाल, जिला कोंडागांव, छत्तीसगढ़) का विवाह पार्वती पुत्री शिवकुमार (गांव तरेंगा, तहसील भाटापारा, जिला बलौदा बाजार, राज्य छत्तीसगढ़) से दिनाँक 25/02/2022 को नामदान केंद्र बलौदा बाजार में हुआ।
  • ज्योति दासी पुत्री सुन्दर दास संग लव दास का विवाह गाँव बसन्तपुर, तहसील चांदपुर, जिला बिजनौर में दिनाँक 26/02/2022 को हुआ।
  • प्रदीप दास पुत्र अशोक (गोपालपुरा, कमतरी बाह आगरा, उत्तरप्रदेश) का विवाह अनामिका दासी पुत्री अशोक दास (इसलाम गंज, प्रेमनगर, झांसी, उत्तरप्रदेश) से हुआ।
  • सुरेश दास पुत्र योगेन्द्र दास (बेलही, जिला सुपौल, बिहार) का विवाह कविता दासी पुत्री प्रमोद दास (गोबिन्दपुर, जिला सुपौल, बिहार) से हुआ।
  • अंकित दास (ललितपुर, उत्तर प्रदेश) का विवाह महिमा दासी (गुना, मध्य प्रदेश) के साथ दिनाँक 3 मार्च 2022 को हुआ। 
  •  राहुल दास (झांसी, उत्तरप्रदेश) का विवाह रजनी दासी (ललितपुर, उत्तरप्रदेश) के साथ हुआ।
  • आनंद दास (बाराबंकी, उत्तरप्रदेश) का विवाह (माधुरी दासी (बाराबंकी, उत्तरप्रदेश) से हुआ।
  • रवि दास पुत्र कैलाश दास (जिला देवरिया, उत्तरप्रदेश) का विवाह निशा दासी पुत्री विजय दास (जिला कुशीनगर, उत्तरप्रदेश) से हुआ।
  • रघुवीर दास (कानपुर, उत्तर प्रदेश) का विवाह गीतांजलि दासी (कानपुर, उत्तर प्रदेश) से हुआ।
  • अजय दास (अमेठी, उत्तरप्रदेश) का विवाह अनु दासी (अमेठी, उत्तरप्रदेश) से हुआ।
  • मोतीलाल दास (सुल्तानपुर, उत्तरप्रदेश) का विवाह मंजू दासी (अंबेडकर नगर, उत्तरप्रदेश) से हुआ। 
  • सचिन दास (जिला देवास, मध्यप्रदेश) का विवाह खुशबू दासी (जिला उज्जैन, मध्यप्रदेश) से हुआ।
  • मनोज दास पुत्र साहब दास (सागर, मध्यप्रदेश) का विवाह रंजीता दासी पुत्री संतोष दास (सागर मध्यप्रदेश) से हुआ।
  • संजय दास पुत्र साहब दास (सागर, मध्यप्रदेश) का विवाह पूजा दासी पुत्री संतोष दास (सागर, मध्यप्रदेश) से हुआ।
  • योगिता दासी पुत्री सुनील दास (हरकेश कॉलोनी, जिला फरीदाबाद, उत्तरप्रदेश) का विवाह आकाश दास पुत्र महेश दास (गांव लटेनी, बीजगया, तहसील साहबाद, जिला हरदोई, उत्तर प्रदेश) से दिनाँक 9/03/2022 को सतलोक आश्रम फरीदाबाद में हुआ।
  • अवनीश दास पुत्र मोमराज सिंह (नेकपुर, खुर्जा, जिला बुलंदशहर, उत्तरप्रदेश) का विवाह निधि दासी पुत्री अनिल दास (बुध विहार कॉलोनी खुर्जा, बुलंदशहर, उत्तरप्रदेश) से हुआ।
  • हेमराज दास पुत्र आनंदी दास (ग्राम पथरिया , तहसील शहपुरा, जबलपुर, मध्यप्रदेश) का विवाह मधु दासी पुत्री नथ्थू दास (ग्राम जिरिया, बरही, कटनी, मध्यप्रदेश) से हुआ।
  • अजय दास (अंबेडकरनगर, उत्तर प्रदेश) का विवाह प्रीती दासी (अंबेडकरनगर, उत्तर प्रदेश) से हुआ।
  • सूरज दास पुत्र प्रेम दास (पदमपुर, राजस्थान) का विवाह गीता दासी पुत्री ओमप्रकाश दास (सावंतसर, पदमपुर, राजस्थान) से हुआ।
  • दिनांक 10 सितम्बर 2021 को राजस्थान के जिला अजमेर में संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में एक दहेज मुक्त अंतर्जातीय विवाह संपन्न हुआ जिसमें वधु दीपिका दासी ग्राम बांदनवाड़ा, तहसील भिनाय, जिला अजमेर की निवासी हैं तथा वर तरुणदास गंगानगर में निवासरत हैं। वैवाहिक दम्पत्ति का कहना था कि संत रामपाल जी महाराज जी के द्वारा चलाई जा रही दहेज मुक्त विवाह की अनूठी पहल समाज की भावी पीढ़ी के उत्थान व पुनर्निर्माण में मुख्य भूमिका अदा करेगी।
  • ग्राम मुरमाड़ी, जिला गोंदिया निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी पन्चुदास ने अपनी पुत्री कामिनदासी का दहेज मुक्त विवाह ग्राम गुगवारा, जिला सागर मध्यप्रदेश निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी कडोरीदास के पुत्र मोहनदास के साथ दिनाँक 9 सितम्बर 2021, मंगलवार को सम्पन्न किया।
  • राजस्थान के अजमेर की निवासी दिव्या ने पाली जिले की सोजत तहसील के वेनाराम के साथ मात्र 17 मिनिट में बिना फेरों के और बिना किसी दिखावे के बैंड बाजे से रहित दहेज मुक्त विवाह संपन्न किया।
  • रानाघाट, जिला नादिया पश्चिम बंगाल निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी जोयदीप दास ने कृष्णागर जिला नादिया पश्चिम बंगाल निवासी संत  रामपाल जी महाराज जी की अनुयायी इंद्राणी दासी के साथ 21 अगस्त 2021 को दहेज मुक्त विवाह मात्र 17 मिनिट मे गुरुवाणी से सम्पन्न किया।
  • ग्राम सुथली, तहसील मकराना जिला नागौर निवासी संत रामपाल जी महाराज जी की अनुयायी हैमलता ने अपने गुरु जी संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में ग्राम उन्हैड़ी यमुनानगर जिला नागौर निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी सचिन के साथ बिना किसी दान दहेज के दहेज मुक्त विवाह मात्र 17 मिनिट में गुरु वचनों से सम्पन्न किया।
  • ग्राम बफरा, तहसील खैरागढ़ छत्तीसगढ़ निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी सुकदेव दास ने अपने पुत्र धर्मेंद्र दास का दहेज मुक्त विवाह ग्राम नागलदह तहसील राजनांदगांव, जिला राजनांदगांव छत्तीसगढ़ निवासी रूप दास की पुत्री प्रियंका दासी के साथ 22 सितम्बर 2021 को नामदान केंद्र सिंघोला पर सम्पन्न किया।
  • दिनाँक 26/09/2021को जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में ग्राम थोना तहसील निवाड़ी में सत्संग का आयोजन किया गया जिसमें थोना के निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी कृष्णकांत प्रजापति की दो पुत्री, बंदना प्रजापति का दहेज मुक्त विवाह नन्दकिशोर प्रजापति पिता आशाराम ग्राम गर्धा, तहसील गाडरवारा, जिला नरसिंहपुर से व द्वितीय पुत्री ऋतु प्रजापति का विवाह पवन नामदेव पिता मनोज नामदेव ग्राम चन्द्रपुरा, तहसील पृथ्वीपुर, जिला निवाड़ी के साथ अंतर्जातीय विवाह बिना किसी आडम्बर के मात्र 17 मिनिट में सम्पन्न किया।
  • संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में नामदान केंद्र ओड़िसा, भुवनेश्वर, रघुनाथपुर में एक अद्वितीय विवाह संपन्न हुआ। ग्राम सीडीए सेक्टर-7, प्लाट नम्बर 365/F बिडानसी जिला कटक निवासी मंटू कर्मकार के पुत्र संजय दास ग्राम गढ़िया साही ब्लॉक खण्डपडा, जिला नयागढ़ भुवनेश्वर निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी पागल नायक की पुत्री वर्षारानी दासी के साथ वैवाहिक बंधन ने बंधे। इस विवाह की खासियत यह रही कि इस विवाह में एक रुपये का भी दान दहेज वर पक्ष द्वारा नही लिया गया और न ही विवाह के नाम पर कोई विशेष ताम झाम दिखे अर्थात सादगी की मिसाल था यह विवाह।
dowry free rameni at chahisgardh
  • जिला पाली राजस्थान निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी विनोद कुमार वैष्णव ने अपने पुत्र प्रतीक दास का दहेज मुक्त विवाह संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में सम्पन्न किया।
  • तहसील नागपुर, जिला नागपुर महाराष्ट्र निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी प्रमोद सोनी ने अपनी पुत्री प्राची दासी का विवाह बिना किसी दिखावे व दान दहेज के संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में गुरुवाणी से मात्र 17 मिनट में सम्पन्न किया।
  • ग्राम सूती खेड़ा, तहसील विजयनगर, जिला अजमेर में दो अनोखे विवाह सम्पन्न हुये। इन विवाह की खासियत यह रही कि इन विवाह में एक भी रुपया दहेज़ के नाम पर नही लिया गया और साथ ही ताम झाम के नाम पर होने वाली फिजूलखर्ची भी पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रही। वर भगत महावीर दास ने संत रामपाल जी महाराज की के सानिध्य में दहेज मुक्त विवाह कर ललिता दासी को अपनी जीवन संगिनी चुना। वहीं लक्ष्मण दास जी ने अपने गुरुवचनों को साक्षी मानकर फुल्ला दासी को जीवन संगिनी चुना और आजीवन सर्व बुराइयों दूर रहने का संकल्प लिया।
  • छाया दासी पिता प्रताप सिंह (नारायणपुर पुलिस चौकी, तहसील औरैया, उत्तरप्रदेश) के विवाह प्रदीप दास पिता खुशीलाल (औरैया, उत्तरप्रदेश) से हुआ।
  • वर्षा दासी (जिला धमतरी) का विवाह तामेश्वर दास (जिला रायपुर) से हुआ।
  • शांतनु दास (जिला बुलन्दशहर, उत्तरप्रदेश) का विवाह वर्षा दासी (जिला बरेली उत्तरप्रदेश) से हुआ
  • दीपक दास (जिला रतलाम, मध्यप्रदेश) का विवाह वर्षा दासी (जिला भिंड, मध्यप्रदेश) से 15 जनवरी 2022 को हुआ।
  • संजय दास (जिला मुरैना, मध्य प्रदेश) का विवाह
  • माधुरी दासी (जिला भिंड, मध्य प्रदेश) से 16 जनवरी 2022 को हुआ।
  • परमा दासीपिता नरेंद्र दास (ग्राम व तहसील रामगढ़, जिला सांबा) का विवाह बलवीर दास पिता बुट्टी (ग्राम इंद्री, तहसील खोर, जिला जम्मू,जम्मू व कश्मीर) से हुआ।
  • संजय दास (मुरैना, मध्यप्रदेश) का विवाह माधुरी दासी (भिण्ड, मध्यप्रदेश) से हुआ।
  • दोर्जे दास पिता प्रेम लामा (शहर बारगोलाई, जिला तिनसुकिया, स्टेट असम) का विवाह मंजू दासी पिता रंधोज तामांग (गांव उदयपुर नंबर 3, जिला तिनसुकिया, राज्य असम)
  • संत रामपाल जी महाराज जी के अद्वितीय ज्ञान से प्रेरित होकर रेवाड़ा मैया, तहसील पचपदरा, जिला बाड़मेर राजस्थान निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी चुनाराम मेघवाल ने अपनी पुत्री स्वरूपी का सादगीपूर्ण दहेज मुक्त विवाह ग्राम नांदड़ी, जिला जोधपुर राजस्थान निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी भगवानराम मेघवाल के पुत्र सुरेंद्र के साथ मात्र 17 मिनट में गुरुवाणी से सम्पन्न हुआ।
  • दिनांक 25/10/2021 को ग्राम ग्राम गंगहेड़ी, कुरुक्षेत्र निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी दर्शन दास ने अपनी पुत्री प्रियंका दासी का दहेज मुक्त विवाह (जिसे संत भाषा मे रमैनी कहा जाता है) ग्राम चुडीयाला, जिला अम्बाला निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी प्रेम दास के पुत्र सुमित दास के साथ सतलोक आश्रम कुरुक्षेत्र में सम्पन्न किया।
प्रियंका दासी
  • संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में हो रहे दहेज मुक्त अंतर्जातीय विवाहों की आज हर जुबां पर चर्चा है इसी कड़ी में 31 अक्टूबर 2021 को नाहरकटिया, जिला डिब्रूगढ़ असम में भगत सागर दास पुत्र रूपसिंह दास का दहेज मुक्त विवाह भक्तमति अमृता दासी पुत्री जयमती गोढ़ के साथ मात्र 17 मिनट में बेहद ही सादगीपूर्ण तरीके से बिना किसी दान दहेज व दिखावे के पूर्ण परमात्मा की स्तुति के साथ सम्पन्न हुआ।
  • दिनांक 31/10/2021 को राजस्थान के टोंक जिले की देवली तहसील निवासी शंकरलाल वर्मा पुत्र श्री कैलास वर्मा का दहेज मुक्त विवाह मनीषा पुत्री छोटू लाल वर्मा निवासी देवगाव तहसील केकडी, जिला अजमेंर से हुआ। यह शादी मात्र 17 मिनट में सम्पन्न हुई तथा दोनों पक्षों की तरफ से किसी प्रकार का लेद-देन नहीं हुआ। इस विवाह में दोनों पक्ष संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षित हैं।
  • संत रामपाल जी महाराज के कुरुक्षेत्र से शिष्य ऋषभ दास पुत्र अशोक कुमार का विवाह रचना दासी पुत्री राजेंद्र सिंह जालंधर से, के साथ 5 नवंबर को संपन्न हुआ।
  • 31 अक्टूबर, 2021 को नाहरकटिया, जिला डिब्रूगढ़ असम के सागर दास, पुत्र रूपसिंग दास की रमैणी भक्तमति अमृता दासी, पुत्री जयमती गोढ़, के साथ मात्र सत्रह मिनट में संपन्न हुई। रमैणी वाले दिन पहले सुबह सत्संग हुआ और बाद में परमात्मा की स्तुति करके और परमात्मा को ही साक्षी मान कर यह विवाह बेहद सादगी के साथ संपन्न हुआ।

देहदान कर दिया मानव समाज को अनमोल संदेश

Solution of Dowry System: जगतगुरु संत रामपाल जी महाराज के ज्ञान से प्रभावित होकर संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में अनुयायियों द्वारा जबलपुर मेडिकल कॉलेज में देह दान किया गया। इस अवसर पर मेडिकल कॉलेज के डीन प्रदीप कसार व स्टाफ उपस्थित रहा।

व्यसनों तथा बुराइयों से मुक्त स्वर्णिम समाज का हो रहा है निर्माण

Solution of Dowry System: संत रामपाल जी महाराज के सानिध्य में दहेज मुक्त सादगीपूर्ण विवाह (रमैनी) के माध्यम से दहेज व नशा मुक्त विश्व बनाने के लिए सम्पूर्ण विश्व में वैश्विक स्तर पर जागरूकता लाई जा रही है। संत रामपाल जी महाराज के अनुयायी नशाखोरी, चोरी, जारी, रिश्वतखोरी, भ्रूणहत्या आदि बुराइयों को पूर्ण रूप से त्याग चुके हैं।

Solution of Dowry System: अब कोई बहन-बेटी दहेज रूपी राक्षस की बलि नहीं चढ़ेगी

संत रामपाल जी महाराज जी के अनमोल आध्यात्मिक ज्ञान से और संत रामपाल जी महाराज के द्वारा चलाये गए दहेज़ मुक्त अभियान से आज हमारे समाज में दहेज़ रूपी राक्षस का अंत हो रहा है और हमारे सभ्य समाज की बहन-बेटियों का जीवन सुखी हो रहा है।

“सुखी होगा हर इंसान, धरती बनेगी स्वर्ग समान।”

फिजूलखर्ची का नहीं होगा नामोनिशान

अक्सर देखा गया है कि लोगों के द्वारा मान-बड़ाई की बेड़ियों में जकड़कर दिखावटी शान के लिए साज-सज्जा के नाम पर लाखों रुपये पानी की तरह बर्बाद कर दिए जाते हैं। तमाम तरह के ताम-झाम किये जाते हैं। तीव्र आवाज में डी.जे. बजाए जाते हैं, लोग नाचते हैं, गाते हैं। तो वहीं दूसरी ओर सन्त रामपाल जी महाराज के अनुयायियों द्वारा बेहद ही सादगीपूर्ण तरीके से बिना किसी लेन-देन के दहेज़ मुक्त अंतर्जातीय विवाह (रमैनी) किये जाते हैं, जिनमें ना तो कोई शोर-शराबा किया जाता है और न ही कोई रश्मो-रिवाज और ना ही किसी प्रकार के नाच-गान का आयोजन किया जाता है।

विश्व को एक सूत्र में बांधती संत जी की अनमोल विचारधारा

संत रामपाल जी महाराज जी की जो विचारधारा है वह बहुत ही कल्याणकारी व समूचे विश्व को एक सूत्र में बाँधती है तथा जातियों, धर्मों, सम्प्रदायों तथा कबीलों में बंटे हुए समाज को पुनः मानवता के एकसूत्र में बांध रही है।

जीव हमारी जाति है, मानव धर्म हमारा।

हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, धर्म नहीं कोई न्यारा।।

संत रामपाल जी महाराज की विचारधारा दें रही है संदेश

दहेज़ रूपी कलंक से समाज को मुक्त कराने के लिए कई सरकारों की बड़ी-बड़ी समितियों ने कई पहल की, कई योजनाएं, कई कानून बनाये पर वह सिर्फ कागजों तक ही सीमित रह गए, परन्तु संत रामपाल जी महाराज जी ने अपने अनमोल तत्वज्ञान से दहेज रूपी राक्षस को अंत की ओर ला खड़ा किया है। संत रामपाल जी महाराज जी की इस अनमोल विचारधारा से जुड़ने के लिए आज ही संत रामपाल जी महाराज जी से निःशुल्क नाम दीक्षा प्राप्त करें तथा उनकी अनमोल विचारधारा को विस्तारपूर्वक जानने के लिए समाजसुधारक संत रामपाल जी महाराज जी द्वारा लिखित जीने की राह नाम पुस्तक घर बैठे निःशुल्क मंगाए तथा इस अनमोल पुस्तक का अध्ययन करें।

Latest articles

National Science Day 2024: Know about the Knowledge that Connects Science and Spirituality

Last Updated on 26 February 2024 | On 28th Feb, every year, National Science...

Shab-e-Barat 2024: Only True Way of Worship Can Bestow Fortune and Forgiveness

Last Updated on 26 Feb 2024 IST: A large section of Muslims believes Shab-e-Barat...

शब-ए-बारात (Shab E Barat 2024) पर जाने सच्चे खुदा की सच्ची इबादत का तरीका

Last Updated on 26 Feb 2024 IST: शब-ए-बारात 2024 (Shab E Barat Hindi)...

Why God Kabir is Also Known as Kabir Das? [Facts Revealed]

In this era of modern technology, everyone is aware about Kabir Saheb and His contributions in the field of spiritualism. And every other religious sect (for example, Radha Saomi sect, Jai Gurudev Sect, etc) firmly believes in the sacred verses of Kabir Saheb and often uses them in their spiritual discourses as well. Amidst such a strong base and belief in the verses of Kabir Saheb, we are still not known to His exact identity. Let us unfold some of these mysteries about the identity of Kabir Saheb (kabir Das) one by one.
spot_img

More like this

National Science Day 2024: Know about the Knowledge that Connects Science and Spirituality

Last Updated on 26 February 2024 | On 28th Feb, every year, National Science...

Shab-e-Barat 2024: Only True Way of Worship Can Bestow Fortune and Forgiveness

Last Updated on 26 Feb 2024 IST: A large section of Muslims believes Shab-e-Barat...

शब-ए-बारात (Shab E Barat 2024) पर जाने सच्चे खुदा की सच्ची इबादत का तरीका

Last Updated on 26 Feb 2024 IST: शब-ए-बारात 2024 (Shab E Barat Hindi)...