Shraddha Aftab News Update (Hindi): जाने श्रद्धा मर्डर केस की दिल दहलाने वाली पूरी कहानी और समाधान

spot_img

Shraddha Aftab News Update (Hindi): 26 साल की श्रद्धा वाकर मुंबई की एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करती थी। वहीं उसकी मुलाकात आफताब अमीन पूनावाला से हुई। दोनों एक-दूसरे को पसंद करने लगे। तीन साल चली प्रेम कथा में श्रद्धा की हत्या आफताब ने कर दी। पहले उसका गला घोटकर मार डाला। फिर शव को ठिकाने लगाने के लिए 35 टुकड़े किए। दिल्ली के महरौली इलाके में हुए श्रद्धा हत्याकांड में हर रोज नए खुलासे हो रहे हैं। हर तरफ इस हत्याकांड की चर्चा हो रही है। श्रद्धा की जान बच सकती थी, लेकिन एक गलती ने उसकी जान ले ली। आइए जानते हैं आखिर कैसे श्रद्धा अपनी जान बचा सकती थी? ये केस कैसे दूसरों के लिए एक बड़ा सबक है?     

Shraddha Aftab News Update (Hindi): मुख्य बिंदु

  • दिल्ली के महरौली इलाके में हुए श्रद्धा हत्याकांड में हर रोज नए खुलासे हो रहे हैं
  • श्रद्धा की हत्या उसके प्रेमी आफताब अमीन पूनावाला ने की
  • गला घोटकर मारने के बाद शव को ठिकाने लगाने के लिए 35 टुकड़े किए
  • श्रद्धा ने पहले भी जताई थी हत्या की आकांक्षा
  • पुलिस करा सकती है नार्को टेस्ट 

कौन हैं आफताब और श्रद्धा? 

श्रद्धा मुंबई के मलाड़ में रहती थी और एक कॉल सेंटर में काम करती थी। आफताब अमीन पूनावाला भी मुंबई का रहने वाला है। दोनों की मुलाकात एक डेटिंग एप के जरिए हुई। इसके बाद दोनों के प्रेम संबंध बन गए। श्रद्धा के घरवालों को इस रिश्ते की जानकारी हुई तो उन्होंने श्रद्धा को आफताब का साथ छोड़ने के लिए कहा, लेकिन वह नहीं मानी। हिमाचल और उत्तराखंड घूमने की बात कहकर श्रद्धा आफताब के साथ मुंबई से निकल गई। दोनों ऋषिकेश घूमने गए और वापस आकर दिल्ली के छतरपुर, महरौली इलाके में रहने लगे। श्रद्धा के पिता को ये बात जब मालूम हुई तो उन्होंने उससे बातचीत बंद कर दी। कभी-कभी श्रद्धां अपनी मां से जरूर बात कर लिया करती थी। 

Shraddha Aftab News Update (Hindi): आखिर क्यों आफताब ने श्रद्धा का मर्डर किया? 

18 मई को आफताब और श्रद्धा के बीच झगड़ा हो गया। पुलिस को मिली जानकारी के अनुसार श्रद्धा ने आफताब से शादी का प्रस्ताव रखा। आफताब शादी नहीं करना चाहता था। इसी बात को लेकर दोनों के बीच लड़ाई हो गई। आफताब ने एक हाथ से श्रद्धा का मुंह दबाया। जब श्रद्धा चिल्लाने लगी तो आरोपी ने दूसरे हाथ से उसका गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद उसने शव को बाथरूम में रखा। रातभर शव के साथ रहने के बाद दूसरे दिन आफताब मिनी आरी लेकर आया और श्रद्धा के शव को 35 टुकड़ों में काट दिया। 

■ Also Read: Sidhu Moose Wala Murder News | चलती गाड़ी में 30 गोलियों की फायरिंग से दिनदहाड़े हुई मूसेवाला की हत्या!

पहले हाथ, फिर पैर और एक-एक करके शरीर के सारे अंगों को काटने के बाद उसने पानी से उसे साफ किया। फिर उस पर बोरिक पाउडर छिड़कर अलग-अलग पन्नी में सारे टुकड़ों को भर दिया। इसके बाद पन्नी को फ्रीजर में रख दिया। रोज फ्रिज से शव के एक दो टुकड़े लेकर अपने बैग में रखता और उसे महरौली के जंगल में फेंक आता। पूरे शव को ठिकाने लगाने के बाद आफताब ने फ्लैट बदल दिया। 

पुलिस मामले की जांच कर रही है

Shraddha Aftab News Update (Hindi): ‘पुलिस की जांच में सामने आया है कि पिछले तीन साल के रिलेशन में दोनों के बीच खूब लड़ाई भी होती थी। यहां तक कि आफताब श्रद्धा पर हाथ उठाता था। उसे मारता पीटता था। जांच में श्रद्धा के मोबाइल की आखिरी लोकेशन महरौली के जंगल में मिली है। अब पुलिस उसकी तलाश कर रही है। ये भी सामने आया है कि श्रद्धा के अकाउंट से 55 हजार रुपये निकाले गए थे। बताया जाता है कि इससे कई बड़े खुलासे हो सकते हैं। 

आफताब का होगा नार्को टेस्ट

पुलिस ने कोर्ट से आफताब के नार्को टेस्ट के लिए इजाजत भी मांगी है। दक्षिण दिल्ली में साकेत में स्थित अदालत ने शातिर आरोपी आफताब पूनावाला का नार्को टेस्ट करने की इजाजत दी है। पूनावाला पुलिस को लगातार गलत जानकारी दे रहा है। पुलिस को संदेह है कि पूनावाला ने अपनी प्रेमिका श्रद्धा वाकर के साथ क्रूर व्यवहार किया हो। जिस धारदार आरी का कथित तौर पर उसने प्रयोग किया, उसके बारे में सही जानकारी नहीं देकर वह जांच को बाधित करने का प्रयास कर रहा है।

Shraddha Aftab News Update (Hindi): कैसे बच सकती थी श्रद्धा की जान? 

मनोवैज्ञानिक विशेषज्ञों के अनुसार श्रद्धा की जान बच सकती थी। आफताब श्रद्धा को मारता पीटता था। उसने कई बार आफताब की हरकतों को नजरअंदाज किया। बार-बार मारपीट इस बात की तरफ इशारा करती है कि सामने वाला शख्स गुस्से में आपके साथ कुछ भी कर सकता है। ऐसी स्थिति को भांपते ही लोगों को अपने घर-परिवार और करीबियों से बात करनी चाहिए। अपने दोस्तों को भी बात को साझा करना चाहिए। अगर फिर भी हालात नहीं सुधरें तो कानूनी कदम उठाना जरूरी है। यदि वह शख्स किसी दूसरी महिला के साथ संबंध में रहता है तो यह महिला भी सुरक्षित नहीं रह सकती है। इस तरह की गंभीर बातों को नजरअंदाज करने का नतीजा काफी दर्दनाक हो सकता है।

अपराध क्यों करते है लोग ?

मन काल का दूत है। लोग त्रिगुण मयी माया से वशीभूत और अज्ञानता के कारण अपराध करते हैं। मनुष्य का जन्म होते ही वह काम, क्रोध, मोह, लोभ, अहंकार से प्रभावित हो जाता हैं। तीनों गुण मनुष्य को बांध कर रखते हैं। इनके प्रभाव से पशु -पक्षी और अन्य समस्त जीव भी अछूते नहीं है। 

परमेश्वर का संविधान कहता है कि प्राणी जैसा कर्म करेगा वैसा ही फल भोगेगा। पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब जी ने अपनी अमृतमय वाणी में बताया हैं –

मन तू पावेगा अपना किया रे। 

भोगेगा अपना किया रे ।।

लोग कह देते हैं, किसने देखा है कि मृत्यु के पश्चात क्या होगा। सतज्ञान जानने वाले आदरणीय संत गरीबदास जी महाराज अपनी अमृत वाणी में बताते है –

तुमने उस दरगाह का महल नहीं देखा।

धर्मराज कै तिल तिल का लेखा।। 

यम राज के पास मनुष्य के हर कर्म का हिसाब रहता है। मृत्यु के बाद आत्मा को पाप पुण्यों दोनों का फल भोगना पड़ता है।

पृथ्वी से अपराध कैसे मिटायें? 

मन के आधीन रहकर मनुष्य पाप कर्म करता है। आइए जानते है कैसे अपराधों को समाज से मिटाया जाए और कैसे पृथ्वी को स्वर्ग समान बनाया जाए? जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी के पदचिन्हों पर चलकर आज उनके लाखों अनुयाई समाज में व्याप्त बुराइयां छोड़ रहे हैं। उनके भक्त नशीली वस्तुओं का सेवन, भ्रष्टाचार, दहेज प्रथा, अश्लीलता, फिल्म–सीरियल देखना, चोरी, जारी, ठगी, हत्या आदि को त्यागकर समाज को एक विशेष संदेश दे रहे हैं। संत रामपाल जी महाराज जी की शिक्षाओं पर चलकर सभी बुराइयों को जड़ से समाप्त किया जा सकता है।

मनुष्य जीवन को सार्थक करने के लिए क्या करें? 

अपने जीवन को सार्थक करने के लिए सभी प्राणियों को संत रामपाल जी महाराज जी के मंगल प्रवचनों को सुनना चाहिए। सतज्ञान को जानकर सतगुरु रामपाल जी से नामदीक्षा लेकर उनके द्वारा बताए गए भक्तिमार्ग पर चलना चाहिए। ऐसा करने से धारती स्वर्ग समान हो जायेगी। कलयुग में सतयुग जैसा माहौल पैदा होगा। समाज में किसी भी प्रकार की बुराइयां नहीं रहेंगी। लोग प्रेम व भाईचारे से आपस में रहेंगे। पूर्ण परमात्मा की अधिक जानकारी के लिए पढ़े आध्यात्मिक पुस्तक “जीने की राह” व “ज्ञान गंगा”। अवश्य देखें सतगुरु रामपाल जी महाराज के आध्यात्मिक सत्संग प्रत्येक दिन सायं 7:30 बजे साधना टीवी पर।

Latest articles

World Celebrates 27th February as World NGO Day: Saint Rampal JI Reforming Society From His True Spiritual Knowledge

Last Updated on 25 February 2024 | World NGO Day 2024: World NGO Day...

संत रामपाल जी महाराज के सतलोक आश्रम धनाना धाम में लगाया गया नेत्रदान और नेत्र जांच शिविर

चाहे सामाजिक सुधार हो या समाज हित, जन कल्याण तथा मानव सेवा के कार्यों...

Guru Ravidas Jayanti 2024: How Ravidas Ji Performed Miracles With True Worship of Supreme God?

Last Updated on 24 February 2024 IST: In this blog, we will learn about...
spot_img

More like this

World Celebrates 27th February as World NGO Day: Saint Rampal JI Reforming Society From His True Spiritual Knowledge

Last Updated on 25 February 2024 | World NGO Day 2024: World NGO Day...

संत रामपाल जी महाराज के सतलोक आश्रम धनाना धाम में लगाया गया नेत्रदान और नेत्र जांच शिविर

चाहे सामाजिक सुधार हो या समाज हित, जन कल्याण तथा मानव सेवा के कार्यों...