Sidhu Moose Wala Murder News | चलती गाड़ी में 30 गोलियों की फायरिंग से दिनदहाड़े हुई मूसेवाला की हत्या!

spot_img

Sidhu Moose Wala Death News [Hindi] | इस साल की शुरुआत में कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में पंजाब विधानसभा चुनाव लड़ने वाले गायक शुभदीप सिंह सिद्धू उर्फ सिध्दू मूसे वाला की पंजाब के मानसा जिले के जवाहरके गांव के पास गोली मारकर हत्या कर दी गई। हमलावरों ने ताबड़तोड़ गाेलियां चलकर मौके पर दो अन्य लोगों को भी जख्मी कर दिया।

Sidhu Moose Wala Death News Hindi: मुख्य बिंदु

  • सिद्धु मुसेवाला की चलती गाड़ी में गोली मार कर हत्या कर दी गई।
  • सिद्धु की गाड़ी को आगे और पीछे से 2 वाहनों द्वारा घेर लिया गया फिर की गई 30 गोलियों की फायरिंग।
  • सिद्धु के 2 अन्य साथी गंभीर रूप से घायल है। 
  • यह हमला पंजाब सरकार द्वारा मूसेवाला सहित 424 लोगों को प्रदान की गई सुरक्षा वापस लेने के ठीक बाद हुआ।
  • मामले की तहकीकात करने के लिए गठित की गई है SIT 

कैसे हुई सिद्धू मूसेवाला की मौत?

अपने गानों के माध्यम से गन कल्चर को बढ़ावा देने वाले पंजाबी गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या से पंजाब में हड़कंप मच गया है। उन पर मानसा के जवाहरके गांव में अज्ञात हमलावरों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की है। बताया जा रहा है कि सिद्धू मूसेवाला पर करीब 30 गोलियां दागी गईं। पंजाब के डीजीपी वीके भावरा ने कहा कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्‍मेदारी लारेंस बिश्‍नोई ग्रुप ने ली है। 28 वर्षीय गायक को पॉइंट ब्लैंक रेंज में गोली मारी गई और मानसा के सिविल अस्पताल में पहुंचने पर उसे मृत घोषित कर दिया गया। 

अपने गानों के जरिए गन कल्चर को बढ़ावा देने वाले पंजाबी सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की तथाकथित हत्या से पंजाब में अफरा तफरी मच गई है। गोली किसने चलाई, यह किसी को पता नहीं है, लेकिन हो सकता है कि किसी अज्ञात हमलावर ने गोली चलाई हो। बताया जा रहा है कि सिद्धू मूसेवाला को करीब 30 गोलियां मारी गईं। सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी लॉरेंस बिश्नोई गुट ने ली है। 

28 वर्षीय गायक को मनसा के सिविल अस्पताल में पहुंचते ही मृत घोषित कर दिया गया। अस्पताल में कुल तीन लोगों को लाया गया था, जिनमें से मूसेवाला की मौत हो गई। 

मूसेवाला पर हमला पंजाब सरकार द्वारा गायक सहित 424 लोगों को प्रदान की गई सुरक्षा वापस लेने के ठीक बाद हुआ। उन्हें पंजाब पुलिस की इंडिया रिजर्व बटालियन से चार सशस्त्र सुरक्षाकर्मी मुहैया कराए गए थे। इनमें से दो सुरक्षाकर्मियों को हटा लिया गया है। इस हत्या से पंजाब में आक्रोश फैल गया क्योंकि विपक्षी दलों ने आप सरकार पर 424 सुरक्षा प्राप्त लोगों की सूची बनाने का आरोप लगाया, जिनसे राज्य पुलिस ने सुरक्षा वापस ले ली थी, यह जानते हुए भी कि यह इन सुरक्षा प्राप्त लोगों के जीवन को खतरे में डाल सकती है।

Sidhu Moose Wala Death News | सिद्धु मूसेवाला की हत्या की पूरी घटना

महिंद्रा थार चलाकर, सिद्धू मूसेवाला अपने दो साथियों – गुरविंदर सिंह (पड़ोसी) और गुरप्रीत सिंह (चचेरे भाई) के साथ मूसा गांव में अपने आवास से शाम करीब 4.30 बजे निकले थे। वह अपने दो सुरक्षा कर्मियों को अपने साथ नहीं ले गया और अपनी टोयोटा फॉर्च्यूनर में यात्रा नहीं की, जिसे उसने इस जीवन के लिए खतरे के कारण बुलेट-प्रूफ वाहन में बदल दिया था।

Also Read | Punjabi Singer Diljaan Death: मशहूर पंजाबी गायक दिलजान की सड़क हादसे में मृत्यु

पंजाब के डीजीपी वीके भावरा ने कहा कि मूसे वाला की हत्या लॉरेंस बिश्नोई और लकी पटियाल समूहों के बीच एक अंतर-गिरोह प्रतिद्वंद्विता का मामला प्रतीत होता है। पिछले साल अगस्त में मोहाली में यूथ अकाली दल (YAD) के नेता विक्रमजीत सिंह उर्फ ​​विक्की मिद्दुखेड़ा की हत्या में गायक के मैनेजर शगनप्रीत का नाम सामने आया था। शगनप्रीत बाद में ऑस्ट्रेलिया भाग गई थी।

लॉरेंस बिश्नोई दल ने ली मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी

डीजीपी भावरा ने कहा कि मिद्दुखेड़ा की हत्या की प्रतिक्रिया में लॉरेंस बिश्नोई गिरोह ने मूसेवाला की गोली मारकर हत्या कर दी है और उसने कनाडा से गायक की हत्या की जिम्मेदारी सोशल मीडिया पर ली है। मनसा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) गौरव तोरा ने कहा कि कनाडा के गैंगस्टर गोल्डी बरार ने एक फेसबुक पोस्ट में मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी ली है।

मामले में तहकीकात करने के बाद SSP और DGP के बयान 

एसएसपी ने कहा कि हत्यारों द्वारा तीन वाहनों का इस्तेमाल किए जाने का संदेह है क्योंकि हत्यारों ने शाम करीब साढ़े पांच बजे मूसे वाला को ग्रे महिंद्रा स्कॉर्पियो और सामने से सफेद बोलेरो और पीछे से एक सफेद टोयोटा कोरोला ने रोका। बताया जा रहा है कि हत्यारों ने करीब 30 राउंड फायरिंग की। मूसेवाला को स्थानीय लोगों ने ड्राइवर की सीट पर गिरा पाया था।

डीजीपी ने कहा, “अलग-अलग बोरों से करीब 30 खाली केस बरामद किए गए हैं, जिनमें 7.62 एमएम, 9 एमएम और 0.30 एमएम शामिल हैं, जिससे पता चलता है कि इस घटना में अलग-अलग बोर के तीन हथियारों का इस्तेमाल किया था।”

CM मान ने की लोगों से शांति बनाए रखने की अपील

शांति की अपील करते हुए, मुख्यमंत्री भगवंत मान ने ट्वीट किया, “सिद्धू मूसेवाला की भीषण हत्या से मैं स्तब्ध और अत्यंत दुखी हूं। इसमें शामिल किसी को बख्शा नहीं जाएगा। मेरी और उनके दुनिया भर के प्रशंसकों की प्रार्थनाएं उनके और उनके परिवार के साथ हैं। मैं सभी से शांत रहने की अपील करता हूं।”  आप संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी लोगों से शांति बनाए रखने का आग्रह किया और कहा कि दोषियों को कड़ी सजा दी जाएगी।

Sidhu Moose Wala Death मामले में गठित की गई SIT 

मुख्यमंत्री के निर्देश पर डीजीपी भवरा ने आईजी बठिंडा रेंज प्रदीप यादव को हत्या की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित करने का निर्देश दिया है. एसआईटी में मानसा एसपी धर्मवीर सिंह, बठिंडा डीएसपी विश्वजीत सिंह और मानसा सीआईए प्रभारी पृथ्वीपाल सिंह शामिल है। “आईजी बठिंडा रेंज पहुंच गए हैं और वहां डेरा डाले हुए हैं। मानसा के एसएसपी गौरव तोरा के अलावा बठिंडा के एसएसपी जे एलानचेजियान भी वहां पहुंच गए हैं। पूरे क्षेत्र में अभियान चलाया जा रहा है और एडीजीपी कानून-व्यवस्था ने आवश्यक अतिरिक्त बल जुटाया है। इस मामले को जल्द से जल्द सुलझाने की पूरी कोशिश की जा रही है।

आखिर क्यों होती है अकाल मृत्यु?

प्राणी के जीवन की अवधि यानी कि उसकी आयु पहले से ही निर्धारित होती है। निर्धारित की गई आयु के खत्म हो जाने के बाद जीव को एक स्वास भी अतिरिक्त नहीं मिलता। आयु खत्म होने से पहले हो जाने वाली मृत्यु को अकाल मृत्यु कहा जाता है। अकाल मृत्यु केवल उसी मनुष्य की होती है जो पूर्ण सतगुरु से दीक्षा लेकर सत भक्ति नहीं करते। मनुष्य जीवन में जो प्राणी सत भक्ति नहीं करते उनका जीवन केवल उनके प्रारब्ध में अंकित कर्मों के आधार से ही चलता है। 

यानी कि जब तक उनके अच्छे कर्म बचे है तब तक उनको सुख प्राप्ति होती है और जब बुरे कर्मो का दौर शुरू होता है तब उन पर दुखों का दौर शुरू हो जाता है। जो साधक मनुष्य जीवन में सत भक्ति नहीं करते उनसे उनका मनुष्य शरीर छीन लिया जाता है और 84 लाख प्रकार के प्राणियों के शरीर में कष्ट सहने के लिए डाल दिया जाता है।

आखिर कौन कर सकता है आपत्ति के समय में हमारी रक्षा?

परमपिता परमात्मा पूर्ण ब्रह्म बंदीछोड कबीर साहेब जी सर्व सृष्टि के रचनहार और पालनहार है। कबीर परमेश्वर सर्वशक्तिमान है और सबकुछ करने में सक्षम है। वे जीव की आयु तक बढ़ा सकते है। वे ही आत्मा के सच्चे साथी है जो रक्षक बनकर संकट के समय में साधक की सहायता करते है जैसे कि परमात्मा ने नरसिंह अवतार धारण कर भक्त प्रह्लाद की रक्षा की थी, मीरा बाई की रक्षा की थी। पूर्ण सतगुरु से दीक्षा लेकर सत भक्ति करने वाले साधक के रक्षक परमेश्वर कबीर जी स्वयं है। परमेश्वर कबीर जी ही आत्मा के सच्चे रक्षक है। अधिक जानकारी के लिए संत रामपाल जी महाराज एंड्रॉयड एप डाउनलोड करें।

Latest articles

रक्तदान से मानवता को संदेश: संत रामपाल जी के हजारों भक्तों ने पेश किया उदाहरण 

कबीर निर्वाण दिवस और संत रामपाल जी बोध दिवस के शुभ अवसर पर संत...

Blood Donation Drive by Devotees of Saint Rampal Ji Maharaj at Satlok Ashrams

The followers of Saint Rampal Ji Maharaj have showcased exceptional dedication and compassion by...

37वां संत रामपाल जी बोध दिवस और 506वां कबीर साहेब निर्वाण दिवस कार्यक्रम हुआ सम्पन्न

37वें संत रामपाल जी महाराज के बोध दिवस और 506वें कबीर परमेश्वर के निर्वाण...

World Peace and Understanding Day 2024: Know How Ultimate Peace Can Be Obtained

World Peace and Understanding Day 2024: The day is celebrated to restore the lost...
spot_img

More like this

रक्तदान से मानवता को संदेश: संत रामपाल जी के हजारों भक्तों ने पेश किया उदाहरण 

कबीर निर्वाण दिवस और संत रामपाल जी बोध दिवस के शुभ अवसर पर संत...

Blood Donation Drive by Devotees of Saint Rampal Ji Maharaj at Satlok Ashrams

The followers of Saint Rampal Ji Maharaj have showcased exceptional dedication and compassion by...

37वां संत रामपाल जी बोध दिवस और 506वां कबीर साहेब निर्वाण दिवस कार्यक्रम हुआ सम्पन्न

37वें संत रामपाल जी महाराज के बोध दिवस और 506वें कबीर परमेश्वर के निर्वाण...