सतज्ञान, सतलोक और सतभक्ति: जानें संत रामपाल जी महाराज के अद्भुत और अनूठे ज्ञान को

spot_img

मनुष्य जीवन में, आध्यात्मिक जागरण ही वह प्रकाश है जो हमें सही रास्ते को चुनने में मदद कर सकता है। संत रामपाल जी महाराज की शिक्षाएं अनगिनत जीवों के जीवन में नया उजाला ला चुकी हैं। उन्होंने मनुष्य जीवन के सही उद्देश्य के बारे में बताया है। इस लेख में, हम उनकी शिक्षाओं के माध्यम से जीवन के रहस्यों की खोज करने का प्रयास करेंगे।

नये ज्ञान का आविष्कार

आध्यात्मिक ज्ञान की समझ हमें जीवन की मुश्किलों को सुलझाने में मदद करती हैं। संत रामपाल जी महाराज ने उस ज्ञान को उजागर किया है जो आम लोग नहीं जानते। उनकी शिक्षाएं हमें उस सत्य की ओर ले जाती हैं जो जनमानस को सामान्यतया पता नहीं है। इसी ज्ञान के द्वारा काल के कर्मफल के जाल को समझा जा सकता है और सही भक्ति करके जन्म मृत्यु के चक्र को तोड़ा जा सकता है।

जीवन का लक्ष्य सतगुरु से नाम दीक्षा लेकर मर्यादा में रहकर सतभक्ति करके पूर्ण मोक्ष पाना है। परमेश्वर कबीर जी ने स्वयं चारों युगों में पृथ्वी पर प्रकट होकर जीवों को सतज्ञान का उपदेश दिया है। वर्तमान में उन्हीं के प्रतिनिधि संत रामपाल जी महाराज जीवों के कल्याण में जुटे हैं। आईए, जानते है सतज्ञान को बारीकी से।     

सतनाम

संत रामपाल जी महाराज के अनुसार, सतनाम का जाप करने से व्यक्ति को आध्यात्मिक उन्नति मिलती है। सतनाम का सांकेतिक नाम है ॐ तत। इस मंत्र के जाप से कर्म समाप्त हो जाते हैं। यह मंत्र काल के लोक से मुक्ति के लिए काफी है।

सारनाम

“सारनाम” परमात्मा का मूल नाम है। यह एक गुप्त मंत्र है जिसे गुरु शिष्य को दीक्षा के समय प्रदान करते हैं। सारनाम का सांकेतिक नाम है “ॐ तत सत” । “ॐ तत सत” एक विशेष आध्यात्मिक मंत्र है जिसे मोक्ष पाने के किए विशेष विधि से जपा जाता है। “ॐ तत सत” परम ब्रह्म या पूर्ण परमात्मा के पाने के लिए है। 

भगवद गीता में 17:23 में तीन स्तर के नाम मंत्र 

भगवद गीता के 17:23 में कहा गया है: “ॐ तत् सत् इति निर्देशो ब्रह्मणस्त्रिविधः स्मृतः।” संत रामपाल जी महाराज इस श्लोक के माध्यम से बताते हैं कि तीन प्रकार के मंत्र होते हैं जो व्यक्ति को पूर्ण आध्यात्मिक लाभ पहुंचा सकते हैं। ये ही तीन मंत्र हैं जिन्हें वे अपने शिष्यों को दीक्षा के समय प्रदान करते हैं।

ॐ (Om):

लोक: काल लोक

विवेचन: “ॐ” को ब्रह्मांड में प्रणव मंत्र के रूप में माना जाता है। इसके माध्यम से ब्रह्म लोक की प्राप्ति होती है।

तत (Tat):

लोक: अक्षर पुरुष लोक

विवेचन: “तत” सांकेतिक है वास्तविक मंत्र सतगुरु के द्वारा बताया जाता है। यह उस अव्यक्त ब्रह्म की ओर इशारा करता है जो काल की सीमा से परे है। यह अक्षर पुरुष के लोक को प्राप्त कराता है, जहां आत्मा का अस्तित्व काल ब्रह्म से मुक्त होता है। लेकिन इस लोक की प्राप्ति से पूर्ण मोक्ष नहीं होता है। यहाँ भी जन्म मृत्यु होती है हालांकि आयु बहुत लंबी होती है।   

सत (Sat):

लोक: पूर्ण ब्रह्म लोक या सतलोक

विवेचन: “सत” वह मंत्र है जो सतलोक को प्राप्त कराता है, जहां पूर्ण ब्रह्म या परमात्मा निवास करता है जिन्हे सतपुरुष भी कहते हैं।    

इन मंत्रों से आध्यात्मिक लाभ:

  • आत्मा की शुद्धि: सतनाम और सारनाम का जाप करने से आत्मा शुद्ध होती है और व्यक्ति के पाप नष्ट होते हैं।
  • मानसिक शांति: इन मंत्रों का जाप करने से साधक को मानसिक शांति और संतोष मिलता है।
  • आध्यात्मिक उन्नति: नाम दीक्षा और इसके उपरांत नियमित जाप से भक्त की आध्यात्मिक उन्नति होती है। साधक के ऊपर से काल ब्रह्म का प्रभाव काम होता जाता है और वह परमात्मा के प्रति अधिक समर्पित होता है।
  • मोक्ष अवस्था: “ॐ तत सत” के माध्यम से आत्मा पूर्ण मोक्ष की अवस्था में पहुंच जाती है। पूर्ण मोक्ष वह अवस्था है जहां आत्मा संसारिक बंधनों और पुनर्जन्म के चक्र से मुक्त हो जाती है।

कबीर साहेब ही पूर्ण परमात्मा है: साक्ष्य और प्रमाण

संत रामपाल जी महाराज बताते है कि कबीर साहेब पूर्ण परमात्मा हैं। वे विभिन्न धार्मिक ग्रंथों के उदाहरण देते हैं जो कबीर साहेब को भगवान साबित करते हैं। वे बताते है कि कबीर परमेश्वर द्वारा दिया गया ज्ञान हमें सत्पुरुष तक पहुंचा सकता है। कबीर परमेश्वर पुण्य आत्माओं को सतज्ञान देकर काल जाल से मुक्त कराने के लिए हर युग में अवतरित होते हैं। लगभग 600 वर्ष पहले कबीर परमेश्वर ने 120 वर्ष धरती पर लीला की और सशरीर सतलोक गमन कर गए।

  • “कबीर” नाम अरबी भाषा में “अल-कबीर” से आया है जिसका अर्थ है “महान“। काशी में लहरतारा तालाब में कमल पुष्प पर प्राकट्य के बाद कबीर साहेब को एक ब्राह्मण से मुस्लिम बने दम्पत्ति उठाकर ले गए। नामकरण के लिए आये काजी मुल्ला ने कुरान खोली और पाया कि सभी अक्षर कबीर-कबीर हो गए। बालक के बुदबुदाने पर वे उनका नाम कबीर रखकर चल पड़े। इस तरह कबीर परमेश्वर ने अपना नाम स्वयं रखा। 
  • कुछ काजी कबीर साहेब की सुन्नत करने के उद्देश्य से आये तथा कबीर साहेब ने उन्हें एक लिंग के स्थान पर कई लिंग दिखाए जिससे डर कर वे वापस लौट गए। इस लीला का वर्णन पवित्र कबीर सागर में भी है।
  • काशी के ब्राह्मणों ने अफवाह फैला रखी थी कि मगहर में मरने वाले की मुक्ति नहीं होती और काशी में शरीर छोड़ने से स्वर्ग मिलता है। लंबे समय काशी में रहने के बावजूद अंत समय में कबीर साहेब मगहर गए। वहाँ कबीर साहेब मरे नहीं अपितु सशरीर सतलोक प्रस्थान कर गए। वेदों में भी वर्णित है कि परमेश्वर कबीर माँ के गर्भ से जन्म नहीं लेते और कभी नहीं मरते है वह अमर और अविनाशी परमात्मा है। 

संत कबीर से मिलकर किन महापुरुषों ने जाना कि कबीर पूर्ण परमात्मा हैं?

कबीर परमात्मा कई पुण्य आत्माओं से मिले और उन्हें तत्वज्ञान से परिचित करवाया। कबीर साहेब इन आत्माओं को उनके मूल स्थान सचखंड लेकर गए और वहाँ उन्हें अपनी वास्तविकता से परिचित करवाया कि वे (कबीर साहेब) स्वयं पूर्ण परमात्मा हैं। इन महापुरुषों ने सत्य जानने के बाद कबीर साहेब के बारे में क्या कहा, जानते हैं –  

  • आदरणीय धर्मदास जी  

आज मोहे दर्शन दियो जी कबीर।

सत्यलोक से चल कर आए, काटन जम की जंजीर।।

  • गरीबदास जी महाराज

गैबी ख्याल विशाल सतगुरु, अचल दिगम्बर थीर है |

भक्ति हेत काया धर आये, अविगत सत् कबीर हैं ||

  • आदरणीय गुरुनानक जी

फाही सुरत मलूकी वेस, उह ठगवाड़ा ठगी देस |

खरा सिआणां बहुता भार, धाणक रूप रहा करतार || ( गुरु ग्रन्थ साहेब, राग सिरी, महला 1)

हक्का कबीर करीम तू बेएब परवरदीगार |

नानक बुगोयद जनु तुरा तेरे चाकरा पाखाक || (गुरु ग्रन्थ साहेब, राग तिलंग, महला 1)

  • आदरणीय दादू जी

जिन मोकू निज नाम दिया, सोई सतगुरु हमार |

दादू दूसरा कोई नहीं, कबीर सृजन हार ||

  • आदरणीय मलूक दास जी

जपो रे मन सतगुरु नाम कबीर|

जपो रे मन परमेश्वर नाम कबीर ||

कबीर साहेब के पूर्ण परमात्मा होने का शास्त्रों में प्रमाण 

परमात्मा स्वयं तत्वदर्शी संत के रूप में पृथ्वी पर आते हैं और तत्वज्ञान का प्रचार करते हैं। परमेश्वर कबीर तत्वज्ञान को दोहों, चौपाइयों, शब्द इत्यादि के माध्यम से अपनी प्यारी आत्माओं तक पहुंचाते हैं किंतु परमेश्वर से अनजान आत्माएं उन्हें नहीं समझ पाती। परमेश्वर कबीर साहेब ने अपनी समर्थता बताने के लिए हजारों लोगों की उपस्थिति में किए ढेरों चमत्कार जो कबीर सागर में वर्णित हैं।

संत रामपाल जी महाराज बताते है कि कबीर साहेब ही पूर्ण परमात्मा है। वेद, कुरान बाइबल भी कबीर नाम को लेकर परमात्मा के धरती पर प्रकट होने का प्रमाण देते हैं – 

  • वेद

वेदों में बार-बार “कविर्देव” का उल्लेख होता है। वेदों में प्रमाण है कि कबीर साहेब प्रत्येक युग में धरती पर आते हैं। कबीर दास जी (कबीर परमात्मा) का धरती पर अवतरण माता के गर्भ से नहीं होता तथा उनका पोषण कुंवारी गायों के दूध से होता है। अपने तत्वज्ञान को अपनी प्यारी आत्माओं तक वाणियों के माध्यम से कहने के कारण वे एक कवि की उपाधि भी धारण करते हैं। यजुर्वेद अध्याय 29 मन्त्र 25, ऋग्वेद मंडल 9 सूक्त 96 मन्त्र 17, ऋग्वेद मंडल 9 सूक्त 96 मन्त्र 18 और ऋग्वेद मंडल 9 सूक्त 1 मन्त्र 9 में कबीर का नाम कविर्देव वर्णित है।   

  • भगवद गीता

गीताजी में श्री कृष्ण के शरीर में काल ब्रह्म अर्जुन को परम ब्रह्म के बारे में बता रहे हैं, वहां संत रामपाल जी महाराज बताते है कि वे कबीर परमेश्वर की ओर इशारा कर रहे हैं।

कविम्, पुराणम् अनुशासितारम्, अणोः, अणीयांसम्, अनुस्मरेत्,
यः, सर्वस्य, धातारम्, अचिन्त्यरूपम्, आदित्यवर्णम्, तमसः, परस्तात्।।गीता 08:09।।

अनुवाद: कविर्देव, अर्थात् कबीर परमेश्वर जो कवि रूप से प्रसिद्ध होता है वह अनादि, सबके नियन्ता सूक्ष्म से भी अति सूक्ष्म, सबके धारण-पोषण करने वाले अचिन्त्य-स्वरूप सूर्यके सदृश नित्य प्रकाशमान है। जो उस अज्ञानरूप अंधकार से अति परे सच्चिदानन्दघन परमेश्वर का सुमरण करता है। (गीता 08:09)

  • कुरान

कुरान में “कबीर” या “कबीरा” का उल्लेख है, जो कि  कबीर साहेब से संबंधित हैं। पवित्र कुरान शरीफ, सूरत फुरकान 25, आयत 52 से 59 में कहा गया है कि “तुम काफिरों का कहा न मानना क्योंकि वे कबीर को अल्लाह नहीं मानते। कुरान में विश्वास रखो और अल्लाह के लिए संघर्ष करो, अल्लाह की बड़ाई करो।”

  • बाइबल

बाइबल में भी कुछ ऐसे उल्लेख हैं जोकि कबीर साहेब से संबंधित हैं। पवित्र बाइबल में भी प्रमाण है कबीर परमेश्वर साकार है। पवित्र बाइबल के उत्पत्ति ग्रन्थ के अध्याय 1:26 और 1:27 में प्रमाण है कि परमेश्वर ने 6 दिनों में सृष्टि रचना की। बाइबल के अध्याय 3 के 3:8, 3:9, 3:10 में प्रमाण है कि परमात्मा सशरीर है। ऑर्थोडॉक्स यहूदी बाइबल के अय्यूब 36:5 में प्रमाण है कि “परमेश्वर कबीर (शक्तिशाली) है, किन्तु वह लोगों से घृणा नहीं करता है। परमेश्वर कबीर (सामर्थी) है और विवेकपूर्ण है।

  • गुरु ग्रंथ साहिब

गुरु ग्रंथ साहिब में कबीर परमेश्वर जी के बहुत सारे श्लोक हैं। संत रामपाल जी इनसे भी प्रमाणित करते हैं कि कबीर साहेब ही पूर्ण परमात्मा हैं। गुरु ग्रन्थ साहेब में प्रमाण है कि कबीर साहेब ही वे परमात्मा हैं जिसने सर्व ब्रह्मांडों की रचना की। वह साकार है और उसी परमेश्वर कबीर ने काशी, उत्तर प्रदेश में जुलाहे की भूमिका भी निभाई। (गुरु ग्रन्थ साहेब के पृष्ठ 24 राग सिरी, महला 1, शब्द संख्या 9; गुरु ग्रंथ साहेब पृष्ठ 721 महला 1 तथा गुरु ग्रंथ साहेब, राग असावरी, महला 1 के अन्य भाग)

  • स्वयं संत कबीर (कविर्देव) जी ने बताया अपना भेद 

स्वयं संत कबीर दास जी (कविर्देव)  ने अपनी अमृतवाणी में कहा है –

अविगत से चल आए, कोई मेरा भेद मर्म नहीं पाया। (टेक)

न मेरा जन्म न गर्भ बसेरा, बालक हो दिखलाया।

काशी नगर जल कमल पर डेरा, वहाँ जुलाहे ने पाया।।

मात-पिता मेरे कुछ नाहीं, ना मेरे घर दासी (पत्नी)।

जुलहा का सुत आन कहाया, जगत करें मेरी हाँसी।।

पाँच तत्व का धड़ नहीं मेरा, जानुं ज्ञान अपारा।

सत्य स्वरूपी (वास्तविक) नाम साहेब (पूर्ण प्रभु) का सोई नाम हमारा।।

अधर द्वीप (ऊपर सत्यलोक में) गगन गुफा में तहां निज वस्तु सारा।

ज्योत स्वरूपी अलख निरंजन (ब्रह्म) भी धरता ध्यान हमारा।।

हाड़ चाम लहु ना मेरे कोई जाने सत्यनाम उपासी।

तारन तरन अभय पद दाता, मैं हूँ कबीर अविनाशी।।

संत रामपाल जी बताते है कि जब किसी जीव को सच्चे गुरु का आश्रय मिलता है और वह सतनाम और सारनाम की साधना करता है, तब उसे पूर्ण मोक्ष मिलता है और वह सतलोक पहुंच जाता है। आगे जानेंगे सतलोक से जुड़ी पूरी जानकारी।  

सतलोक की जानकारी

सतलोक, परमात्मा कबीर का निवास स्थान है। यह एक अनंत और अविनाशी स्थल है जहां आत्मा अपने मूल रूप में रहती है। संत रामपाल जी महाराज के अनुसार, सतलोक ही वह स्थान है जहां आत्मा को सच्ची मुक्ति मिलती है।

सतलोक क्या है? 

सतलोक वह स्थान है जहां पूर्ण परमात्मा या परम ब्रह्म निवास करता है। यह एक ऐसा स्थान है जहां जन्म-मरण, दुःख, और संसार के अन्य बंधन नहीं होते। सतलोक अन्य सभी लोकों से न्यारा है।

सतलोक कैसा है?

सतलोक का वर्णन धार्मिक ग्रंथों और संतों के उपदेशों में एक परम पवित्र स्थल के रूप में किया गया है। संत रामपाल जी महाराज अपने सत्संगों में बताते हैं कि सतलोक पूर्ण परमात्मा का स्थाई निवास है। वे इसे निम्नलिखित प्रकार से वर्णित करते हैं:

  •  पूर्ण परमात्मा का निवास: सतलोक एक अद्वितीय, पवित्र, और पूर्ण परमात्मा का निवास स्थल है। पूर्ण परमात्मा कबीर को सत्पुरुष, परम ब्रह्म कहा जाता है। यहाँ पर आकर हंस आत्माओं को पूर्ण परमात्मा के असीम प्रेम का अनुभव होता है।
  •  उच्च अविनाशी स्थल: सतलोक अचल अविनाशी और सभी लोकों में श्रेष्ठ है। सतलोक अपार प्रकाश से भरा हुआ है। यहाँ आत्मा पूर्ण परमात्मा के सान्निध्य में रहती है। यहाँ जन्म और मृत्यु नहीं होती।
  •  सतलोक के निवासी: सतलोक में रहने वाले आत्माओं को हंस कहा जाता है। उन आत्माओं के शरीर में 16 सूर्यों जितना प्रकाश है। वहां पर नर नारी की ऐसी ही सृष्टि है। वहाँ श्वासों से शरीर नही चलता। वहाँ सभी अमर है।
  •  पूर्ण सुख और शांति: सतलोक में काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार तथा तीन गुण हंस आत्माओं को दुखी नहीं करते। यहाँ के प्राणी पूर्ण सुख और शांति में रहते हैं। हर एक हंस आत्मा का अपना महल है तथा अपना विमान है जो बहुत सुंदर हैं और हीरे, पन्नों से जड़े हुए हैं।
  •  संत गरीबदास जी ने संसार के मानव को समझाया है सनातन परम धाम सत्यलोक सुख सागर है। उन्होंने सुख सागर अर्थात् अमर लोक की संक्षिप्त परिभाषा भी बताई है:-
    संखों लहर मेहर की ऊपजैं, कहर नहीं जहाँ कोई।
    दास गरीब अचल अविनाशी, सुख का सागर सोई।।

सतलोक के बारे में प्रमाण

  • सतलोक का वर्णन कबीर सागर में 25वे अध्याय ‘‘अमर मूल‘‘ पृष्ठ 191 पर है। यहाँ पर सतलोक के बारे में विस्तार से बताया गया है।
  •  गीता अध्याय 15 श्लोक 4, अध्याय 18 श्लोक 62 में गीता ज्ञानदाता कहता है कि उस परमेश्वर की शरण में जा जिसकी कृपा से ही तू परम शान्ति तथा सनातन परम धाम सतलोक चला जाएगा। जहाँ जाने के पश्चात् साधक का जन्म-मृत्यु का चक्र सदा के लिए छूट जाता है।
  •  परमेश्वर कबीर जी कई महान आत्माओं को सत्यलोक लेकर गए। सभी ने अपनी वाणी में परमात्मा और सतलोक की कलम तोड़ महिमा गाई। नानक साहेब ने सतलोक देखने के बाद कहा :-

फाही सुरत मलूकी वेस, उह ठगवाड़ा ठगी देस।।

खरा सिआणां बहुता भार, धाणक रूप रहा करतार।।

सतलोक कैसे पहुँचें?

सतलोक पहुंचने का मार्ग गुरु से उपदेश लेकर आध्यात्मिक साधना करने से ही मिलता है। जब किसी साधक को सच्चे गुरु मिलते हैं, तो वे उसे सतनाम और सारनाम जैसे मंत्रों का नामदान करते हैं। मंत्रों का सतगुरु द्वारा बताए तरीके से नियमित जाप करके साधक आध्यात्मिक प्रगति करता है और अंततः सतलोक पहुंचता है।

सतलोक के नीचे कौन से लोक हैं?

सतलोक के नीचे विभिन्न लोक हैं, जो निम्नलिखित हैं:

  •  अक्षर पुरुष का लोक: यह काल लोक से अच्छा स्थान है, लेकिन सतलोक से श्रेष्ठ नहीं है।
  •  ब्रह्मलोक: यह काल ब्रह्म का लोक है, जहां क्षर पुरुष काल ब्रह्म निवास करता है।
  •  काल ब्रह्म के लोक के नीचे विष्णुलोक, शिवलोक, ब्रह्मा लोक, स्वर्ग और नरक इत्यादि हैं। ये सभी लोक सतलोक से बहुत निम्न स्तर के हैं। कर्मों के आधार पर जीवात्माएं यहाँ आकर सुख दुख प्राप्त करती हैं। पुण्य कर्म क्षीण होने पर पुनः मृत्यु लोक में आना पड़ता है जहां 84 लाख योनियों में जीव भटकता है और दुख भोगता है। 

जन्म मृत्यु की सच्चाई

जन्म और मृत्यु का चक्र संसार में हर प्राणी के जीवन का हिस्सा है। इस चक्र से मुक्ति पाने का मार्ग सत्य ज्ञान में है। जब हम सतभक्ति करके सतलोक जाते है तभी इस जन्म-मृत्यु के चक्र से पार जा पाते हैं और अमरत्व की प्राप्ति करते हैं। जन्म और मृत्यु से पार पाने का मार्ग पूर्ण सतगुरु की शरण में जाकर ही मिल पाता है।

काल लोक में जन्म और मृत्यु की वास्तविकता:

  •  जन्म-मृत्यु का चक्र: काल लोक में जीवात्मा अपने कर्मों के आधार पर जन्म और मृत्यु के चक्र में फंसा रहता है। अच्छे कर्म जीवात्मा को स्वर्गीय सुख देते हैं, जबकि पाप कर्म उसे दुःख और कष्ट में डालते हैं।
  •  अनित्यता: काल लोक में कुछ भी निश्चित नहीं है। सुख, समृद्धि, और आयु सब कुछ समय के साथ समाप्त होता है।

सतलोक में जन्म और मृत्यु की वास्तविकता:

  •  अविनाशी जीवन: सतलोक में हंस आत्मा अविनाशी है। यहाँ जन्म और मृत्यु का चक्र नहीं होता।
  • शाश्वत सुख: सतलोक में हंस आत्मा शाश्वत सुख और शांति में रहता है। वहाँ कोई दुःख, दर्द या कष्ट नहीं होते।

जन्म-मृत्यु के चक्र से पार पाने का मार्ग:

  • सतगुरु का आश्रय: सच्चे गुरु का आश्रय लेना पहला चरण है। सतगुरु ही जीवात्मा का सही मार्गदर्शन कर सकते हैं।
  • नाम दीक्षा: सतगुरु जीवात्मा को नाम दीक्षा प्रदान करते हैं, जिससे वह अपनी आध्यात्मिक प्रगति कर सकता है।
  • साधना और जाप: सतगुरु द्वारा प्रदान किए गए मंत्र का नियमित जाप और साधना करने से जीवात्मा का परमात्मा से संबंध मजबूत होने लगता है।
  • कर्मों का निवारण: साधना, सेवा, और गुरु के उपदेशों का पालन करने से जीवात्मा के कर्म कटने शुरू हो जाते हैं।

इस प्रकार, जन्म-मृत्यु के चक्र से पार पाने के लिए जीवात्मा को सतगुरु का आश्रय लेना, उनके उपदेशों का पालन करना, और निरंतर साधना में लगे रहना चाहिए।

निष्कर्ष

इस लेख में हमने संत रामपाल जी महाराज की शिक्षाओं के माध्यम से सतलोक और सत्यमार्ग को समझने का प्रयास किया है। उनकी शिक्षाएं हमें जीवन के उद्देश्यों को जानने और पूरा करने में सहायक होती हैं। संत रामपाल जी महाराज से तत्वज्ञान मिलने के बाद जीवन की असली खोज पूरी होती है। सतलोक, जहां परमात्मा निवास करता है, वही हमारा असली घर है और हमें वहां पहुंचाने का मार्ग सतभक्ति ही है। अब हमें चाहिए कि हम इस ज्ञान को स्वीकार करे और अपनी आध्यात्मिक यात्रा को सफल बनाएं।

Latest articles

6.4 Magnitude Earthquake Jolts Japan 

Japan was rocked by a powerful 6.4 magnitude earthquake on April 17, 2024, according...

Mahavir Jayanti 2024: Know Why Mahavir Jain Suffered Painful Rebirths in the Absence of Tatvagyan

Last Updated on 17 April 2024 IST: Mahavir Jayanti 2024: Mahavir Jayanti is one...

UPSC CSE Result 2023 Declared: यूपीएससी ने जारी किया फाइनल रिजल्ट, जानें किसने बनाई टॉप 10 सूची में जगह?

संघ लोकसेवा आयोग ने सिविल सर्विसेज एग्जाम 2023 के अंतिम परिणाम (UPSC CSE Result...
spot_img

More like this

6.4 Magnitude Earthquake Jolts Japan 

Japan was rocked by a powerful 6.4 magnitude earthquake on April 17, 2024, according...

Mahavir Jayanti 2024: Know Why Mahavir Jain Suffered Painful Rebirths in the Absence of Tatvagyan

Last Updated on 17 April 2024 IST: Mahavir Jayanti 2024: Mahavir Jayanti is one...