राजसमंद जिले के नाथद्वारा में जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज के अमृत प्रवचनों का सत्संग 17 फरवरी को रखा गया जिसमें आस-पास के गांव से काफी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया संत जी ने अपने अमृत वचनों में बताया कि मानव समाज शास्त्रों के अनुकूल साधना नहीं करने के कारण नर्क की ओर जा रहा है उसे कोई लाभ नहीं मिल रहा सभी मानव केवल अपने कर्म को ही भोग रहे हैं समाज में सभी के पुण्य लगातार क्षीण होता जा रहा हैं लेकिन जब से संत रामपाल जी महाराज पूर्ण परमात्मा के अनमोल ज्ञान का समाज में प्रचार कर रहे हैं तब से समाज अमन शांति, स्वच्छता की तरफ तेजी से बढ़ रहा है जो भक्त भाई संत जी द्वारा बताई गई शास्त्र अनुकूल भक्ति साधना कर रहे हैं उनके पुण्य तेजी से बढ़ रहे हैं और पाप कट रहे हैं लोग का नशा त्याग कर स्वच्छ जीवन अपना रहे हैं।

 इस तरह समाज लगातार सुधर रहा है कुछ ही समय में पूरे विश्व में अमन और शांति कायम होगी सभी लोग उस एक पूर्ण परमात्मा की पूजा करेंगे
  संत जी ने बताया शास्त्रों के अनुकूल भक्ति साधना करने से ही हमारा जन्म और मृत्यु रूपी रोग कट सकता हैं।
देलवाडा सत्संग में 12 पुण्यात्माओं ने संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा लेकर आजीवन मर्यादा में रहकर मोक्ष प्राप्ति का प्रण लिया।
संत रामपाल जी महाराज ऐसा अनमोल ज्ञान बांट रहे हैं कि पूरा विश्व सहज और शांति से मोक्ष की प्राप्ति कर लेगा।