ईद के मौके पर जोधपुर में हुई साम्प्रदायिक हिंसा (Jodhpur Communal Clash) की घटना, बना तनाव का माहौल

spot_img

Jodhpur Communal Clash [Hindi] | जोधपुर के जालोरी चौक पर बालमुकुंद बिस्सा सर्किल पर लगे झंडे को उतारकर सामुदायिक झंडे लगाने के बाद हुई हिंसा में 5 पुलिसकर्मी और 4 पत्रकार हुए घायल, हिंसा के बाद पूरे शहर में डर का माहौल है। स्थानीय लोग खौफ में है, सरकार ने शहर में आरएसी कंपनी की तैनाती कर दी है, इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी है। मुख्यमंत्री ने शांति बनाए रखने की अपील की। पाठकजन पूरे घटनाक्रम को जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर।

Jodhpur Communal Clash [Hindi] : मुख्य बिंदु

  • सामुदायिक विशेष के झंडे लगाने से हुई हिंसा की शुरुआत
  • राजस्थान के जोधपुर जिले के जालोरी चौक की है घटना
  • इंटरनेट सेवाएं हुई बंद, कई इलाकों में धारा 144 लगाई गई।
  • 97 लोगों की अब तक गिरफ्तारी हो चुकी है
  • हिंसा के बाद भारी तनाव है जारी
  • मुख्यमंत्री ने दोनों गुटों से की शांति व्यवस्था बनाये रखने की अपील
  • पूर्ण संत के सत्संग को सुनने से खत्म होती है हिंसक प्रवृत्ति, पनपती है दयालुता
  • आज पूरे विश्व को पूर्ण संत रामपाल जी द्वारा लिखित पुस्तक एवं सत्संग सुनने की है विशेष आवश्यकता

जोधपुर हिंसा (Jodhpur Violence) | जानें क्या था मामला!

दो गुटों के बीच झंडा विवाद को लेकर हुई झड़प में 5 पुलिसकर्मी और 4 पत्रकार के घायल होने की खबर राजस्थान के जोधपुर से आई है। हिंसा में खूब पत्थरबाजी चली। कुछ वाहनों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया। मौके पर पुलिस की तैनाती से हालात पर काबू पाया गया। सोमवार की आधी रात में जालोरी गेट के चौराहे पर धार्मिक झंडे को लेकर विवाद शुरू हुआ, इस दौरान दोनों गुटों के बीच खूब पत्थरबाजी चली, पुलिसकर्मियों पर भी पथराव किया गया। 

■ यह भी पढ़ें | Delhi Riots Hindi News: शोभा यात्रा में मामला गरमाया! आगजनी, पथराव, लाठी-डंडे और तलवार से मचा उपद्रव 

इसके जवाब में पुलिस ने भी लाठी चार्ज किया, आंसू गैस के गोले दागे जिससे भीड़ तीतर बितर हो गई। घटना स्थल पर उपस्थित एक पीड़ित ने बताया कि लोग रॉड, पाईप, लाठी डंडे लेकर आए थे, बाहर शोर मचा रहे थे, उन लोगों ने मेरी गाड़ी क्षतिग्रस्त कर दी, कुछ लोग कह रहे हैं घटना सीसीटीवी में कैद हुई है फुटेज देखकर उपद्रवियों पर कार्यवाही करें।

Jodhpur Communal Clash [Hindi] | झंडे को लेकर पनपी थी विवाद की स्तिथि

राजस्थान के जोधपुर शहर के जालोरी चौक के पास हुई हिंसा की वजह समुदाय विशेष का झंडा लगाना बताया जा रहा है। बालमुकुंद बिस्सा सर्किल पर लगे झंडे को उतारकर फेंकने उसकी जगह समुदाय विशेष का झंडा लगाने से विवाद शुरू हुआ। यह घटना शांत हुई नहीं थी कि एक किलोमटर दूर कबूतर चौक पर भी हिंसा शुरू हो गई। भीड़ ने दुकानें लूटी। छोटी बच्ची से मारपीट की। इस घटना से सरकार और पुलिस प्रशासन सकते में है और भारी पुलिस बल के साथ आरएसी कंपनी भी तैनात कर दी गई है।

Jodhpur Communal Clash की वजह से  इंटरनेट सेवाएं अस्थायी रूप से रोकी गयीं

जिला कलेक्टर हिमांशु गुप्ता ने अगले आदेशों तक पूरे जिले में इंटरनेट सेवा बंद करने के आदेश जारी कर दिए हैं। ईदगाह की नमाज के मद्देनजर संवेदनशील इलाकों पर पुलिस बल तैनात किया गया है।

10 थाना इलाकों पर लगेगा कर्फ्यू

जोधपुर पुलिस उपायुक्त मुख्यालय राजकुमार चौधरी ने झंडा विवाद के बाद आदेश जारी कर कहा कि इस सीमा के व्यक्ति बिना अनुमति पत्र घर की सीमा से बाहर नहीं निकलेंगे। इसके अलावा थाना क्षेत्र सदर कोतवाली, उदय मंदिर, सरदारपुरा, सुरसागर, प्रताप नगर, सदर देवनगर, खांडाकलसा, सदर बाजार नागोरी गेट में कर्फ्यू के आदेश दिए हैं। बुधवार रात 12 बजे तक रहेगा कर्फ्यू।

जोधपुर हिंसा (Jodhpur Violence) के बाद भी है तनाव जारी

झंडा विवाद के बाद शुरू हुए तनाव के कारण जोधपुर के सभी बाजार को बंद करवा दिया गया हैं। घटना के बाद अन्य स्थानों पर नारेबाजी हंगामा जारी है। हिंसा रोकने के लिए आरसी की कंपनी भी तैनात कर दी गई है।

मुख्यमंत्री ने ट्वीट के माध्यम से शांति स्थापित करने की अपील की, आगे के कार्यक्रम भी निरस्त किये

इस घटना के बाद मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा कि “जोधपुर के जालोरी गेट के निकट दो गुटों में झड़प से तनाव पैदा होना दुर्भाग्यपूर्ण है। प्रशासन को हर कीमत पर शांति एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए निर्देश दिए हैं।” उन्होंने आगे कहा कि “जोधपुर मारवाड़ की प्रेम एवं भाईचारे की परंपरा का सम्मान करते हुए मैं सभी पक्षों से मार्मिक अपील करता हूं कि शांति बनाए रखें एवं कानून व्यवस्था बनाने में सहयोग करें।”

सीएम गहलोत ने हिंसा पर की समीक्षा बैठक 

जोधपुर हिंसा के बाद गहलोत सरकार ने उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है। इस हिंसा पर सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालो पर कड़ी कार्यवाही करने की बात कही। गृह राज्य मंत्री राजेन्द्र सिंह के अलावा जोधपुर प्रभारी मंत्री सुभाष गर्ग, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक को जोधपुर तत्काल रवाना होने का निर्देश दिया। उन्होंने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने की बात कही।

कलयुग में सतयुग जैसा होगा दृश्य, संत रामपाल जी महाराज जी के सतज्ञान से विश्व में पुनः होगी शांति स्थापित 

आज देश ही नहीं बल्कि पूरा विश्व हिंसा की आग में जल रहा है, कहीं साम्राज्य विस्तार के लिए तो कहीं अपने धर्म को सर्वश्रेष्ठ बताने के लिए हिंसाएं हों रही है, जबकि दूसरी ओर संत रामपाल जी ऐसा तत्वज्ञान दे रहे हैं जिससे माया, राजपाठ की हवस, जाति का भेदभाव हमेशा के समाप्त हो जाता है। 

सबके रचनहार परमपिता परमात्मा कबीर साहेब जी हैं

अपने-अपने भगवान को श्रेष्ठ साबित करने की होड़ में आज धार्मिक लोग ऐसे लड़ रहे हैं जैसे छोटे बच्चे आपस में लड़ते है, कहते हैं ये मेरा पापा है, दूसरे भाई व बहन कहते हैं नहीं ये मेरा पिताजी हैं। अज्ञानता ने आज हमें एक-दूसरे के खून के प्यासे बना दिए हैं। सभी धर्म ग्रंथों में एकमात्र पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब जी को बताया गया है औऱ संत रामपाल जी महाराज ने सभी धर्मों के ग्रन्थों से इसे प्रमाणित करके भी बता दिया है। एक बार ये बात सभी को समझ आ जाए तो इस देश से क्या पूरे विश्व से धर्म के नाम पर होने वाली हिंसा हमेशा के लिए समाप्त हो जाएगी। अधिक जानकारी के लिए Sant Rampal Ji Maharaj App को डाउनलोड करें प्ले स्टोर से।

Latest articles

6.4 Magnitude Earthquake Jolts Japan 

Japan was rocked by a powerful 6.4 magnitude earthquake on April 17, 2024, according...

Mahavir Jayanti 2024: Know Why Mahavir Jain Suffered Painful Rebirths in the Absence of Tatvagyan

Last Updated on 17 April 2024 IST: Mahavir Jayanti 2024: Mahavir Jayanti is one...

UPSC CSE Result 2023 Declared: यूपीएससी ने जारी किया फाइनल रिजल्ट, जानें किसने बनाई टॉप 10 सूची में जगह?

संघ लोकसेवा आयोग ने सिविल सर्विसेज एग्जाम 2023 के अंतिम परिणाम (UPSC CSE Result...
spot_img

More like this

6.4 Magnitude Earthquake Jolts Japan 

Japan was rocked by a powerful 6.4 magnitude earthquake on April 17, 2024, according...

Mahavir Jayanti 2024: Know Why Mahavir Jain Suffered Painful Rebirths in the Absence of Tatvagyan

Last Updated on 17 April 2024 IST: Mahavir Jayanti 2024: Mahavir Jayanti is one...