Goa News | संत रामपाल जी के अनुयायियों ने लगाया रक्तदान शिविर (Blood Donation Camp), मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे मुख्यमंत्री

spot_img

Goa News: भारत के सबसे छोटे राज्य गोवा में संत रामपाल जी के तत्वावधान में बीते रविवार को रक्तदान शिविर (Blood Donation Camp) का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में गोवा के मुख्यमंत्री डॉ. प्रमोद सावंत भी पहुँचे तथा रक्तदाताओं के लिए भोजन, विश्राम की व्यवस्था के साथ साथ आध्यात्मिक सत्संग का भी आयोजन किया गया। पढ़िये गोवा में हुए रक्तदान की खबर।

Goa News [Hindi]: मुख्य बिंदु

  • देश के सबसे छोटे राज्य गोवा में संत रामपाल जी के शिष्यों ने लगाया रक्तदान शिविर (Blood Donation Camp)
  • 60 युनिट किया गया रक्तदान (ब्लड डोनेशन)
  • ब्लड डोनेशन कैम्प के उपरांत किया गया आध्यात्मिक सत्संग का आयोजन
  • रक्तदान करने वाले लोगों के भोजन पानी की गई संत रामपाल जी के अनुयायियों द्वारा सुव्यवस्था
  • मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे गोवा के मुख्यमंत्री डॉ. प्रमोद सावंत

देश के छोटे राज्य गोवा में लगाया गया रक्तदान शिविर

गोवा, जहां एक लंबे समय तक पुर्तगालियों का शासन रहा है, लेकिन वर्तमान समय में यह हमारे देश का अभिन्न अंग हैं। देश के इसी सबसे छोटे राज्य में बीते रविवार 18 जून को संत रामपाल जी महाराज के शिष्यों द्वारा नामदान केंद्र गोवा में रक्तदान शिविर (Blood Donation Camp) का आयोजन किया गया, जोकि सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक आयोजित हुआ।

संत रामपाल जी के शिष्यों से प्रेरित होकर गोवासियों ने भी किया रक्तदान

Goa News : संत रामपाल जी महाराज की शिक्षाओं पर चलते हुए उनके अनुयायियों ने इस रक्तदान शिविर (Blood Donation Camp) में स्वयं तो रक्तदान किया ही। साथ ही संत रामपाल जी के शिष्यों से प्रेरित होकर गोवासियों ने भी बढ़ चढ़कर रक्तदान किया और इस तरह बहुत ही कम समय में कुल 60 युनिट रक्तदान हुआ।

मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे मुख्यमंत्री

संत रामपाल जी महाराज के सानिध्य में सतलोक आश्रम वेरना, गोवा (Satlok Ashram Goa) में आयोजित रक्तदान शिविर में मुख्य अतिथि के रूप में गोवा (Goa News) के मुख्यमंत्री डॉ. प्रमोद सावंत भी पहुंचे और व्यवस्थाओं का जायजा लिया। साथ ही उन्होंने संत रामपाल जी व उनके अनुयायियों की इस समाज हित कार्य की सराहना की।

■ यह भी पढ़ें: संत रामपाल जी के शिष्यों ने रक्तदान कर ओडिशा रेल दुर्घटना (Odisha Train Accident) में घायल लोगों को पहुंचाई मानवीय सहायता

भोजन व विश्राम की रही उचित व्यवस्था

इस रक्तदान शिविर में संत रामपाल जी महाराज के शिष्यों द्वारा रक्तदान करने आए हुए लोगों के लिए रक्तदान (Blood Donation) के बाद भोजन व विश्राम की भी उचित व्यवस्था की गई थी। जिससे किसी भी रक्तदाता (Blood Donor) को रक्तदान के बाद कोई भी परेशानी न हो।

ब्लड डोनेशन कैम्प के बाद किया गया आध्यात्मिक सत्संग का आयोजन

Goa News : वहीं रक्तदान (Blood Donation) सम्पूर्ण होने के बाद संत रामपाल जी महाराज जी अनुयायियों ने संत रामपाल जी के आध्यात्मिक सत्संग का भी आयोजन किया। जहां रक्तदान करने पहुँचे लोगों को प्रोजेक्टर के माध्यम से सत्संग दिखाया गया। सत्संग में संत रामपाल जी महाराज ने सभी धर्मों के पवित्र सद्ग्रंथों से प्रमाणित ज्ञान सुनाया। जिसमें उन्होंने बताया कि हमें मानव जीवन सतभक्ति करने के लिए प्राप्त हुआ है जोकि गीता अध्याय 3 श्लोक 7, 8 व अध्याय 5 श्लोक 2 तथा यजुर्वेद अध्याय 40 मंत्र 15 के अनुसार दैनिक कार्य करते करते करनी होती है। इस विषय में सूक्ष्मवेद में कहा गया है कि :

नाम उठत नाम बैठत, नाम सोवत जाग रे।
नाम खाते नाम पीते, नाम सेती लाग रे ।।

भावार्थ :- गुरू जी द्वारा दिए नाम का जाप दैनिक कर्म करते-करते कर। सुबह उठते ही परमात्मा का नाम जाप कार्य से आराम करते समय व्यर्थ न बैठ नाम जाप कर। किसी विशेष आसन की आवश्यकता नहीं है। न किसी विशेष मुद्रा की आवश्यकता नहीं है। जैसे भी विश्राम के समय बैठते हो। उसी तरह बैठकर नाम जाप कर। रात्रि में सोने से पहले नाम जाप कर उठकर कार्य करते-करते नाम जाप कर खाना खाने से पहले नाम का जाप कर, पानी पीते समय परमात्मा को याद कर।

संत रामपाल जी कर रहे समाज हित के कार्य

जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज अपने सत्संगों में बताते हैं कि मानव को भक्ति के साथ साथ समाज हित में जन कल्याणकारी कार्य करते रहना चाहिए। साथ ही उनका उद्देश्य समाज से पाखण्ड, अंध विश्वास, कु परंपराओं तथा सर्व बुराइयों जैसे दहेज प्रथा, नशा, भ्रूण हत्या, भ्रष्टाचार, जातिवाद, धार्मिक भेदभाव को समाप्त कर सर्व धर्मग्रंथों के अनुसार मानव समाज को सतभक्ति प्रदान कर उनका मोक्ष कराना है। 

वहीं, संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी अपने गुरुदेव की बताई गई शिक्षा-दीक्षा को प्रथम मानकर समाजहित के कार्य में सदैव अग्रणी रहते हैं और उनके ज्ञान को जन-जन तक पहुंचा रहे हैं तथा संत रामपाल जी महाराज के जन कल्याण के कार्यों में उनके अनुयायी भी बढ़-चढ़ कर अपनी सहभागिता निभाते हैं। अधिक जानकारी के Sant Rampal Ji Maharaj App गूगल प्ले स्टोर से डाऊनलोड करें।

Latest articles

6.4 Magnitude Earthquake Jolts Japan 

Japan was rocked by a powerful 6.4 magnitude earthquake on April 17, 2024, according...

Mahavir Jayanti 2024: Know Why Mahavir Jain Suffered Painful Rebirths in the Absence of Tatvagyan

Last Updated on 17 April 2024 IST: Mahavir Jayanti 2024: Mahavir Jayanti is one...

UPSC CSE Result 2023 Declared: यूपीएससी ने जारी किया फाइनल रिजल्ट, जानें किसने बनाई टॉप 10 सूची में जगह?

संघ लोकसेवा आयोग ने सिविल सर्विसेज एग्जाम 2023 के अंतिम परिणाम (UPSC CSE Result...
spot_img

More like this

6.4 Magnitude Earthquake Jolts Japan 

Japan was rocked by a powerful 6.4 magnitude earthquake on April 17, 2024, according...

Mahavir Jayanti 2024: Know Why Mahavir Jain Suffered Painful Rebirths in the Absence of Tatvagyan

Last Updated on 17 April 2024 IST: Mahavir Jayanti 2024: Mahavir Jayanti is one...