Coronavirus Update India in hindi

Coronavirus Update India: भारत में चार महीने में सबसे बड़ा उछाल, नाम दीक्षा एकमात्र औषधि

CoronaVirus Updates Hindi News
Share to the World

Coronavirus Update India: कोरोना महामारी से भारत सहित पूरी दुनियाँ परेशान है। लॉकडाउन के एक वर्ष बाद भी कोरोना का प्रभाव और अधिक बढ़ता दिखाई दे रहा है। वैक्सीन की शुरुआत होने के बाद लापरवाही के कारण वर्तमान में कोरोना की चपेट में बहुत लोग आ रहे हैं। इस महामारी की चपेट में बहुत से राज्य आ गए हैं। कैबिनेट सचिव ने मुख्य सचिवों से बात की है सभी राज्य अभी पूर्ण लॉकडाउन से बच रहे हैं। वर्तमान में कोरोना जैसी महामारियों का समाधान केवल तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज के पास में है।

Contents hide

Coronavirus Update India: मुख्य बिंदु

  • 24 घंटे में देश में कोरोना द्वारा 714 लोगों की हुई मौत, आज 6,58,909 संक्रमितों की संख्या 
  • देश के कुछ राज्यों में अप्रैल में होने वाली परीक्षा स्थगित कर दी गई है
  • महाराष्ट्र बेहाल, दिल्ली में भी दिख रहा कोरोना का प्रकोप
  • छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक रहेगा लॉकडाउन
  • अबतक सात करोड़ तीस लाख से अधिक लोगों को लगाई गई वैक्सीन 
  • सद्भक्ति के द्वारा हम किसी भी रोग को समाप्त कर सकते हैं 

Coronavirus Update India: कोरोना की दूसरी लहर का कहर जारी 

आपको बता दें कि देश में 24 घंटों में कोरोना के कारण 714 मौतों के मामले सामने आये हैं । बात यदि पिछले चार महीनों की करें तो रिकॉर्ड टूट चुका है। इसका सीधा अर्थ है कि लगभग 89 हजार 129 नए मामले सामने आए हैं। सबसे डरावनी बात तो यह है कि COVID-19 संक्रमितों की वर्तमान संख्या करीब 6,58,909  तक पहुंच गई है। अभी तक भारत में 1,64,110 कोरोना संक्रमित लोग अपनी जान दे चुके हैं ।  

तीन चौथाई से अधिक मामले 8 राज्यों में

हमारे देश के 8 राज्यों में कोरोना के नए केसों में भारी उछाल देखा गया है। आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 89 हजार 129 कोरोना के नए मामले आए हैं। पिछले साल दिसंबर 2020 के बाद एक दिन में सबसे ज्यादा केस आए हैं। महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, केरल, पंजाब,  तमिलनाडु, गुजरात, मध्य प्रदेश, एवं कर्नाटक, में कोरोना के मामलो में लगातार इजाफा हो रहा है। इन 8 राज्यों में कोरोना के 80 फीसदी से ज्यादा मामले दर्ज हुए हैं। 

Coronavirus Update India: कैबिनेट सचिव ने की मुख्य सचिवों के साथ बैठक

देश की बड़ी आबादी तेजी से संक्रमण की चपेट में आ रही है। कोरोना के बढ़ते मामलों को देख सरकार भी घबरा रही है । इसी कारण शुक्रवार को कैबिनेट सचिव ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों के साथ बैठक की है। कैबिनेट सचिव ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रभावित राज्यों के साथ बातचीत की है। बताया जा रहा है कि बैठक में हुई बातचीत के के बाद केंद्र राज्यों के लिए नई गाइडलाइन जारी कर सकता है। प्रत्येक अस्पताल में तीन महीने तक निरंतर सेवाएं घोषित की गई है और अब किसी भी राज्य में कोई भी अस्पताल इलाज के लिए मना नहीं कर सकेगा।

Also Read: क्या कोरोना वायरस (Coronavirus) का इलाज सतभक्ति है? 

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक पूरी तरह रहेगा लॉकडाउन

छत्तीसगढ़ राज्य के दुर्ग जिले में भी पूरी तरह रहेगा लॉकडाउन। यहाँ के कलेक्टर के अनुसार कोरोना दर बढ़नें के कारण जिले में अब 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक पूरी तरह रहेगा लॉकडाउन। पहले लॉकडाउन के वक्त जो नियम लागू थे, उन्हीं नियमों का पालन किया जाएगा। दूसरी ओर मध्यप्रदेश के एक दर्जन से अधिक जिलों में हर रविवार को लॉकडाउन लगाया जा रहा है।

Coronavirus Update India: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने  बुलाई इमरजेंसी मीटिंग

महाराष्ट्र में कोरोना ने पूरी तरह अपने पैर पसार रखे हैं। मुंबई, पुणे, ठाणे में कोरोना संक्रमण के केस में भारी उछाल देखा गया है। मुंबई में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 8 हजार से ज्यादा मामले सामने आए। कोरोना के मद्देनजर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई है। बताया जा रहा है कि यदि यही हाल जारी रहा तो राज्य सरकार लॉकडाउन लगाने पर विचार कर सकती है। मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने गत दिवस  संकेत दिया था कि 2 अप्रैल से शहर में कुछ और पाबंदी लगाई जा सकती है।

Coronavirus Update India: दिल्ली के मुख्यमंत्री ने बुलाई आपात बैठक

जहां मुंबई में कोरोना के नए मामलों ने सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए वहीं दिल्ली में कोरोना के नए मामले बढ़ते देखते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आपात बैठक बुलाई है। फिलहाल दिल्ली में वैसे तो सबकुछ सामान्य चल रहा था। लेकिन कोरोना ने दबे पांव दस्तक दे दी है। ऐसे में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। कोरोना की स्थिति को नियंत्रित करने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही है और फिलहाल लॉकडाउन से बच रही है।

मध्यप्रदेश ने भी लिए कई निर्णय

मध्यप्रदेश में हर अस्पताल में अब इलाज के लिए मरीज जा सकेंगे । बढ़ते मामलों की वजह से मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा 11 अप्रैल को होने वाली प्रारम्भिक परीक्षा स्थगित कर आगे बढ़ा दी गई हैं ।

कोरोना का सीधा असर कुम्भ में दिखा

कोरोना के चलते वर्तमान में चल रहे कुंभ की फीकी रही शुरुआत। गुरुवार को शुरू हुआ हरिद्वार महाकुंभ जिसमें पहले दिन काफी कम रही श्रद्धालुओं की संख्या। कोरोना के चलते पूरी तरह गाइडलाइन्स को मानना पड़ रहा है, और यही रहा है मुख्य कारण।

भारतीय ड्रग रेगुलेटर ने मांगी रूसी कोविड वैक्सीन स्पूतनिक V से और जानकारी

भारतीय ड्रग रेगुलेटर ने रूसी कोविड वैक्सीन स्पूतनिक V को नहीं दी इमरजेंसी इस्तेमाल करने की मंजूरी। इसके लिए कहा वैक्सीन से रिलेटेड और डेटा दिया जाए। भारत में डेढ़ हजार लोगों पर हुआ था स्पूतनिक V का फेज 2 ट्रायल। फिलहाल में तीसरे फेज के ट्रायल पर काम अभी जारी है।

वैक्सीन का असर रहता है छह माह से ज्यादा

जानकारी के मुताबिक वैक्सीन का असर 6 माह से ज्यादा रहता है। कोरोना टीका बनाने वाली कंपनी फाइजर का है दावा कि 6 माह तक असरदार रहती है हमारी कोरोना वैक्सीन। कंपनी ने इसका असर जानने के लिए 44 हजार वॉलंटियर्स पर की थी स्टडी।

कोविड गाइडलाइन का पालन करना जरूरी

गौरतलब है कि कोरोना की दूसरी लहर ने जिस तरह से देश में एंट्री की है उससे तो साफ है कि स्थिति भयानक होने वाली है। लोगों को फिर से पिछले साल जैसे स्थिति का सामना ना करना पड़े। हालांकि पिछले साल के मुकाबले सरकार सतर्क हैं। देश में कोरोना के टीकाकरण का तीसरा चरण चल रहा है। अभी तक 6 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। फिर भी देश का बड़ा हिस्सा टीका से वंचित है। ऐसे में सावधानी, सतर्कता और कोविड गाइडलाइन्स का पालन करना ही समझदारी है।  

सद्भक्ति ही कर सकती है महारोगों का नाश

आइए अब हम कुछ नजर आध्यात्मिक ज्ञान पर डालते है जिसके द्वारा हम उस महामारी से बच सकते हैं। बात सिर्फ कोरोना की नहीं है, हम हर पल किसी न किसी रोग से पीड़ित है। कैंसर, टीबी, शुगर, एड्स, अस्थमा आदि जैसे रोगों से भी रोज बहुत से व्यक्तियों की मौत हो रही हैं। हम जिस लोक में रहते है, यहाँ एक पल भी सुखी नहीं है कोई भी व्यक्ति क्योंकि यह लोक दुःख का सागर है । हम सत्यधाम (सतलोक ) के वासी है, जहां जन्म – मरण है ही नहीं। सदा सुखी रहते थे हम वहाँ, इस बात को अधिक विस्तार में जानने के लिए हम आध्यात्मिक ज्ञान को समझना जरूरी है। इसके लिए हमें पूर्ण संत की खोज कर, तत्वज्ञान को विस्तार से समझना होगा। इसका प्रमाण श्रीमद्भागवत गीता जी के अध्याय न. 15 के श्लोक 1 से 4 व 16, 17 में है कि तत्वज्ञान को तत्वदर्शी संत से समझना होगा फिर हमारी पूरी भूल-भुलैया हमें समझ आ जाएगी और हमारे दुखों का अंत कैसे हो इसका समाधान भी हो जाएगा।

गुरु के मिले कटें  दुःख पापा, जन्म -जन्म के मिटें संतापा ।।

पूर्ण परमात्मा की भक्ति हमारे सर्व पापों का अंत कर हमें सुखी जीवन प्रदान करती है

यदि हम तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज की शरण जाकर उनके बताए अनुसार भक्ति करते हैं तो हमें कोई परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है। हमें कोई भी रोग नहीं सता सकता क्योंकि पूर्ण परमात्मा की भक्ति हमारे सर्व पापों का अंत कर हमें जीवन प्रदान करती है। इसका प्रमाण हमारे सर्व वेद पुराण है कि परमात्मा सर्व पापों का नाश कर हमें मोक्ष प्रदान करते हैं।

सुमरण से सुख होत है, सुमरण से दुःख जाए ।

कहे कबीर सुमरण किए, सांई में समाए ।।

कबीर साहेब जी कहते है कि केवल भगवान के नाम का सुमरण ही हमें सुख प्रदान करता है और सुमरण से ही दुःख दूर भागता है । सुमरण करने से ही हमें परमात्मा प्राप्त होता है और मोक्ष मिलता है । इसलिए हे मानव केवल भगवान की सद्भक्ति और सुमरण ही जीवन का सार है।

सत्य नाम सुमरण से अनेकों पापों का नाश हो जाता है पल भर में

कोई भी रोग हमें छू नहीं सकता है, यदि हम पूर्ण संत जी के द्वारा बताई सदभक्ति कर रहे हैं । परमात्मा के नाम में वो शक्ति है कि सर्व पापों का पल  में नाश कर हमें पूर्णतः सुख प्रदान करता है। हम जब सत्य नाम (तत्वदर्शी संत द्वारा प्राप्त किया जाता है ) का एक सुमरण करते है तो अनेकों पापों का नाश पल में ऐसे हो जाता है जैसे पुराने घाँस के ढेर में एक आग की चिंगारी पड़ जाए जो पूरे घाँस के ढेर को पल में राख बना देती है।

कबीर, जबही सत्य नाम ह्रदय धरो,भयो पाप को नाश ।

जैसे चिंगारी अग्नि की, पड़ी पुराने घाँस ।।

समझदार को संकेत ही काफी है, समय है और वर्तमान में केवल और केवल पूर्ण तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज ही है जो हमें मोक्षदायिनी सद्भक्ति प्रदान करते हैं  जिससे हम पूर्ण सुखी हो सकते हैं।

तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज की शरण में आयें

वर्तमान में पूरे विश्व में एकमात्र केवल तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी ही हैं जो वास्तविक तत्वज्ञान करा कर पूर्ण परमात्मा की पूजा आराधना बताते है। तो सत्य को जानें और पहचान कर पूर्ण तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज से मंत्र नाम दीक्षा लेकर अपना जीवन कल्याण करवाएं। अधिक जानकारी के हेतु सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल पर सत्संग श्रवण करें। आज ही जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी से मुफ्त नाम दीक्षा लें


Share to the World

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *