Dispensary Case की सुनवाई अब 27 मार्च को

आज 20 मार्च 2019 दिन बुधवार को हिसार के सेंट्रल जेल नम्बर 1 में सतलोक आश्रम प्रकरण से सम्बंधित Dispensary Case की सुनवाई हुई जिसमें अदालत ने अगली तारीख 27 मार्च दे दी है।
गौरतलब है कि सतलोक आश्रम में अवैध रूप से दवाइयां रखने का आरोप है जिसमें आज तक पुलिस को एक भी सबूत हाथ नही लग पाया है जिससे ये सिद्ध हो सके कि सतलोक आश्रम में अवैध रूप से दवाइयां रहती थी।

समर्थकों से भरा रहा पार्क

हिसार के टाउन पार्क में समर्थकों का हुजूम देखने को मिला,जहां कोई खाना खा रहा है तो कोई बैठकर आपस मे चर्चा कर रहा है बहुत से समर्थक हिसार शहर में तथा मटका चौक और रेलवे स्टेशन पर बैठे नजर आए।

होली के विषय मे क्या कहते हैं समर्थक

समर्थकों से हमारी न्यूज़ टीम द्वारा ये प्रश्न पूछा गया कि आप होली का त्योहार नजदीक होने पर भी आप इतनी दूर से संत रामपाल जी की तारीख पर क्यों आये हो ?
इस पर अनुयायियों का कहना था कि हमारे सतगुरूदेव जी को सरकार ने झूठे केस लगाकर जेल में डाल रखा है,पहले जब भी होली का त्योहार आता था तो हम अपने सतगुरुदेव जी के दर्शन व सत्संग सुनने बरवाला आश्रम जाया करते थे असली होली तो हम वहां खेलते थे जो राम रंग की होली होती थी लेकिन आज इस सरकार ने हमारा आश्रम बंद करवा दिया और हमारे परमपूज्य सतगुरुदेव जी को भी झूठा मुकदमा बनाकर जेल में डाल दिया हम जाएं तो कहा जाएं हमे जेल धाम के आगे मत्था टेककर प्रणाम करने से ही शांति मिलती है जिससे हम बार बार यहां आते हैं। ऐसा संत रामपाल जी के समर्थकों ने बताया ।

समर्थकों ने मामले की दी जानकारी

समर्थकों ने मामले के विषय में बताया कि, सतलोक आश्रम में दवाइयां रखी थी जो बीमार व बूढे लोग आते थे और सतगुरुदेव जी के आशीर्वाद लेने के पश्चात जब वो ठीक हो जाते थे तो वो दवाइयां वापस ले जाना उचित नही समझते थे और वही छोड़ कर घर चले जाते थे जिसके कारण वहाँ कुछ दवाइयां रखी पायी गईं थी उसी को लेकर पुलिस ने झूठी FIR लिखकर एक झूठा मुकदमा बना दिया जो कि किसी भी सूरत पर नही बनता।