हरियाणा सरकार को जबाब देने के लिए, हाइकोर्ट ने जारी किया नोटिस।

संत रामपाल जी के समर्थकों के ऊपर दर्ज FIR के ट्रायल के दौरान उनको उनके अधिकारों से दूर रखने को लेकर दाखिल याचिका पर पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी कर जबाब मांगा है।याचिका दाखिल करते हुए रामपाल जी के 73 समर्थकों ने हाइकोर्ट को हिसार की जेल में चल रहे ट्रायल में हो रहे भेदभाव से अवगत कराया,जिसमें हाइकोर्ट को बताया गया कि ट्रायल के लिए सैकड़ों लोगों को एक मैदान में रखा जाता है इस दौरान वहाँ ना तो पानी पीने की व्यवस्था होती है और ना ही उनको अपने केस की ट्रायल देखने का मौका मिलता है, याचिका दायर करने वाले ने बताया कि ट्रायल के दौरान जो सबूत पेश किए जाते हैं और जो दलीलें दी जाती हैं उसे आरोपी को देखने का अधिकार होता है एक छोटे से कमरे में ट्रायल होता है और आरोपियों को बाहर धूप में रखा जाता है किसी भी आरोपी को अपने केस का ट्रायल देखने का मौका नहीं मिल पाता है।
समर्थकों ने हाइकोर्ट से अपील की सरकार को निर्देश दिए जाएं कि ट्रायल सही तरीके से पूरे हों,और हमारे अधिकारों का हनन ना हो,इसके लिए कोर्ट को किसी बड़े स्कूल या किसी अन्य स्थान पर भी लगाया जा सकता है ताकि वहां पर सभी लोग पहुँच सकें और अपने ट्रायल को देख सकें हाइकोर्ट ने अपील सुनने के बाद हरियाणा सरकार को नोटिस जारी कर इस बारे में जबाब दाखिल करने के आदेश दिए हैं।