Arpita Mukherjee News [Hindi] | ‘कैश क्वीन’ अर्पिता मुखर्जी: तृणमूल कांग्रेस नेता पार्थ चटर्जी की करीबी के घर से मिला 51 करोड़ कैश

spot_img

Arpita Mukherjee News [Hindi] : पश्चिम बंगाल के मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता चटर्जी आज कल काफी सुर्ख़ियों में हैं। आइये जानते हैं क्या है पूरी जानकारी। चटर्जी को प्रवर्तन निदेशालय [ED] ने कथित शिक्षक भर्ती घोटाले में गिरफ्तार किया था। कोलकाता में अर्पिता मुखर्जी के बेलघोरिया के फ्लैट पर ED की रेड से 29 करोड़ कैश और 5 किलों का सोना बरामद हुआ है। ED दो हजार और पांच-पांच सौ के नोटों के बंडल लगभग 20 ट्रंक में भरकर लेकर निकली। अब तक उनके दो फ्लैटों से 51 करोड़ कैश मिला है। पिछले सप्ताह 21.2 करोड़ रूपये कैश मिला था। पार्थ चटर्जी और अर्पिता को पश्चिम बंगाल में स्कूल नौकरी घोटाले के सिलसिले में ED ने गिरफ्तार किया है। 54 लाख रूपये की विदेशी मुद्रा और 22 मोबाइल फ़ोन भी उनसे प्राप्त हुए हैं।  

Arpita Mukherjee News [Hindi]: मुख्य बिंदु

  • अर्पिता मुखर्जी के कोलकाता स्थित बेलघोरिया के फ्लैट से 29 करोड़ कैश बरामद
  • अब तक उनके दो फ्लैटों से करीब 51 करोड़ कैश बरामद
  • गुरुवार की शाम अर्पिता के तीसरे फ्लैट चिनार पार्क अपार्टमेंट पर छापेमारी हुई   
  • सूत्रों के मुताबिक अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट से नोटों से लदी 4 लग्जरी गाड़ियां गायब हैं
  • शिक्षक भर्ती घोटाले में पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी दोनों को ED [ प्रवर्तन निदेशालय ] ने दोषी बनाया है
  • मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया है। 
  • अर्पिता मुखर्जी बंगाली, उड़िया और तमिल फिल्मों में काम कर चुकी हैं और एक मॉडल रह चुकी हैं
  • भ्रष्टाचार और घोटाले आम बात हो गई है संत रामपाल जी महाराज के तत्वज्ञान से मिलेगी इनसे निजात 

SCC घोटाला : शिक्षक भर्ती मामले में ED की छापेमारी 

Arpita Mukherjee News [Hindi] | ED [प्रवर्तन निदेशालय ] ने पश्चिम बंगाल के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी के घर पर शिक्षक भर्ती घोटाले के सम्बन्ध में छापा मारा। ED ने पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी, शिक्षा राज्य मंत्री परेश सी अधिकारी, विधायक और पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष माणिक भट्टाचार्य सहित कई लोगों के ठिकानों पर भी छापेमारी की। सूत्रों के अनुसार तलाशी के दौरान अर्पिता मुखर्जी के घरों से अब तक लगभग 51 करोड़ रुपये की नकदी बरामद हुई। ED को संदेह है कि इतनी बड़ी रकम का स्कूल सेवा आयोग (SCC) घोटाले से सीधा संबंध है। 

क्या है स्कूल सेवा आयोग (SCC) घोटाले जुड़ा पूरा मामला? 

  • कोलकाता उच्च न्यायालय के निर्देश पर पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग की सिफारिशों पर हुई भर्तियों में हुई कथित अनियमितताओं की जांच CBI कर रही है। पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा प्रायोजित व सहायता प्राप्त स्कूलों में समूह ‘C’ और ‘D’ के कर्मचारियों व टीचरों की भर्ती में हुई थी। इसी मामले में प्रवर्तन निदेशालय कथित मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहा है। 
  • अभी त्यागपत्र देने के पहले तक पार्थ चटर्जी बंगाल सरकार में उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री थे। घोटाले के समय वे शिक्षा मंत्री थे।  इस घोटाले के संबंध में सीबीआई उनसे दो बार पूछताछ कर चुकी है। उनसे पहली बार 25 अप्रैल, जबकि दूसरी बार 18 मई को पूछताछ की गई थी। 
  • ED ने पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी, शिक्षा राज्य मंत्री परेश सी अधिकारी, विधायक और पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष माणिक भट्टाचार्य सहित कई लोगों के ठिकानों पर रेड की। 
  • ईडी के सूत्रों के अनुसार तलाशी के दौरा पार्थ चटर्जी की करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के घरों से अबतक लगभग 51  करोड़ रुपये की नकदी बरामद हुई। ED को संदेह है कि इतनी बड़ी रकम का स्कूल सेवा आयोग (SCC) घोटाले से सीधा संबंध है। अर्पिता मुखर्जी के यहाँ से 20 से अधिक मोबाइल फोन भी प्राप्त हुए हैं। इन मोबाईल फ़ोनों की भी जांच की जा रही है ताकि इनके उपयोग का पता लगाया जा सके। 
  • पश्चिम बंगाल के शिक्षा राज्य मंत्री परेश सी अधिकारी से भी सीबीआई पूछताछ कर चुकी है। आपको बता दें उनकी बेटी स्कूल अध्यापक की अपनी नौकरी गंवा चुकी हैं। 

Arpita Mukherjee News [Hindi] | SCC घोटाला : पार्थ चटर्जी कौन है? 

पार्थ चटर्जी तृणमूल कॉंग्रेस वरिष्ठ नेता और पश्चिम बंगाल के पूर्व मंत्री हैं। यह मामला 2016 का है, सरकारी स्कूलों और सरकार द्वारा सहायता प्राप्त स्कूलों में शिक्षक भर्ती घोटाले के समय पार्थ चटर्जी के पास शिक्षा विभाग का प्रभार था। हालांकि कुछ समय पश्चात उनसे यह विभाग वापस ले लिया गया। ED ने पार्थ को शनिवार को ही इस मामले में गिरफ्तार किया था। कलकत्ता उच्च न्यायालय के रविवार को दिए निर्देश के अनुसार चटर्जी को स्वास्थ्य जांच के लिए एयर एंबुलेंस से भुवनेश्वर- एम्स ले जाया गया। कोलकाता के एक न्यायालय ने सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय (ED) को अर्पिता मुखर्जी को 10 दिन की हिरासत दी थी। अर्पिता मुखर्जी को भी इस मामले में गिरफ्तार किया गया है।

■ यह भी पढ़ें: ED Raid Pooja Singhal IAS Officer | 21 साल की उम्र में आईएएस बनने वाली पूजा सिंगल के यहां छापों में अब तक 19 करोड़ बरामद हुए

Arpita Mukherjee News [Hindi] | अर्पिता मुखर्जी के घर पर रेड से अब तक करोड़ों के कैश बरामद हो चुके हैं। शिक्षक भर्ती घोटाले के मुख्य पार्थ चटर्जी पर सर्च आपरेशन अभी भी जारी है। पार्थ चटर्जी ईडी की हिरासत में है। उनको एसएससी भर्ती घोटाले के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। तृणमूल विधायक मानिक भट्टाचार्य भी ED के निशाने पर हैं। 

अर्पिता मुखर्जी कौन है?

ED द्वारा चलाये गए सर्च आपरेशन के दौरान करोड़ों का कैश अर्पिता मुखर्जी के बंगलों से बरामद हुआ हैं। पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी बंगला, उड़िया और तमिल फिल्मों में काम कर चुकी हैं। ये माडलिंग भी कर चुकी हैं। पार्थ चटर्जी के साथ साथ इनसे  भी ई डी की पूछताछ अभी जारी है। करोड़ों की बरामदगी में ई डी को काफी मशक्कत करनी पड़ी। नोट गिनने की तीन मशीन भी लगायी गई। तृणमूल कॉंग्रेस ने साफ इनकार किया है कि पार्टी से इस घोटाले का कोई लेना देना है।  

‘कैश क्वीन’ अर्पिता मुखर्जी की नोटों से लदी 4 लग्जरी गाड़ियां गायब

सूत्रों के मुताबिक अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट से 4 लग्जरी गाड़ियां गायब हैं। बताया जा रहा है इन गाड़ियों में बड़ी मात्रा में नकदी रखी थी। समाचारों के अनुसार अर्पिता के डायमंड सिटी फ्लैट कॉम्पलेक्स से उनकी चार लग्जरी गाड़िया गायब हैं। माना जा रहा है कि इन गाड़ियों में बड़ी मात्रा में नकदी हो सकती है। इन गाड़ियों के माध्यम से इस नकदी को छुपाने की कोशिश की जा रही है। पूरे मामले की जांच सीसीटीवी फुटेज खंगाल कर की जा रही है। खबर यह भी है कि अर्पिता की एक अन्य मर्सिडीज कार को ईडी द्वारा जब्त कर लिया है। 

अर्पिता मुखर्जी ने माना पैसा पार्थ चटर्जी का – ममता ने छीना मंत्री पद

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं । ED द्वारा अर्पिता के घर पर छापा मारकर भारी संख्या में कैश प्राप्त करने के बाद अर्पिता ने कबूल किया कि यह सारा पैसा पार्थ चटर्जी (Partha Chatterjee) का है। अर्पिता ने यह भी बताया कि उन्हें पैसों वाले कमरे में जाने नहीं दिया जाता था। इस खबर की पुष्टि के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया है। 

Arpita Mukherjee News [Hindi] | ED की रेड से हिली ‘ममता सरकार’

बंगाल की राजनीति में लगातार बदलाव आ रहा है। बीजेपी ममता बनर्जी सरकार पर कोई भी हमला करने से नहीं छोड़ रही है। पिछले विधानसभा चुनाव में  बंगाल में बीजेपी मुख्य विपक्षी दल की भूमिका में आ गई थी। बीजेपी तृणमूल कांग्रेस सरकार को लगातार घेर रही है। पार्थ चटर्जी के मुद्दे ने मानो बीजेपी को बड़ा अवसर दे दिया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पूरी तरह बैकफुट पर आ गई है। बंगाल बीजेपी ने एक ट्वीट किया है, इस ट्वीट में फुटबॉल में बहुत सारे नोट दिखाकर लिखा है घोटाला होबे, चोरों की रानी ममता। असलियत में ममता ने बंगाल चुनाव के दौरान फुटबॉल के साथ चुनाव प्रचार किया था। 

संत रामपाल जी के तत्वज्ञान से होगा भ्रष्टाचार का अंत 

आज भ्रष्टाचार और घोटाले आम बात हो गए है। तत्वज्ञान से मिलेगी इनसे निजात। संत रामपाल जी महाराज बताते हैं कि 

भक्ति बिना क्या होत है भ्रम रहा संसार। 

 रति कंचन पाया नहीं रावण चलती बार।। 

संत रामपाल जी महाराज बताते हैं कि बिना भक्ति और तत्वज्ञान के इंसान सांसारिक सुख और माया ही जोड़ने में लगा रहता है जबकि भक्ति के बिना सब व्यर्थ है रावण जैसे धनवान भी यहाँ से एक रति सोना नहीं ले जा सके। ये सांसारिक धन व्यर्थ है ये यही रह जायेगा साथ तो सिर्फ भक्ति रूपी धन ही जायेगा। इसलिए संत रामपाल जी के तत्वज्ञान को समझ कर अपना अनमोल जीवन सफल बनाये, उनके तत्वज्ञान को जानने के लिए डाउनलोड करें Sant Rampal Ji Maharaj App। 

Latest articles

Devshayani Ekadashi 2024 : देवशयनी एकादशी पर जानिए पूर्ण परमात्मा की सही पूजा विधि

Last Updated on 12 July 2024 IST: आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष एकादशी यानी...

धीरेंद्र शास्त्री बागेश्वर धाम क्यों है सनातन धर्म के शत्रु? 

पिछले साल एक नए कथावाचक ने भारतीय धार्मिक भक्त समाज में ज़ोरदार एंट्री मारी...

TRP Driven Indian Media: A Disgrace to Democracy

Purveyors of sensationalism and falsehoods, the Indian media has once again proven it is...
spot_img

More like this

Devshayani Ekadashi 2024 : देवशयनी एकादशी पर जानिए पूर्ण परमात्मा की सही पूजा विधि

Last Updated on 12 July 2024 IST: आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष एकादशी यानी...

धीरेंद्र शास्त्री बागेश्वर धाम क्यों है सनातन धर्म के शत्रु? 

पिछले साल एक नए कथावाचक ने भारतीय धार्मिक भक्त समाज में ज़ोरदार एंट्री मारी...