Shivrajyabhishek 2020: आसान नहीं था राज्याभिषेक

Date:

शिवराज्याभिषेक 2020 (Shivrajyabhishek 2020): छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज और राज्य सभा सांसद उदयन राजे संभाजी राजे छत्रपति ने छत्रपति शिवाजी के अनुयायियों से इस वर्ष के राज्याभिषेक को घर पर रहने की अपील की है।

इस वर्ष का राज्याभिषेक समारोह अलग है

छत्रपति शिवाजी महाराज के राज्याभिषेक समारोह की वर्षगांठ के अवसर पर हर साल 6 जून को महाराष्ट्र के रायगढ़ में शिवराज्याभिषेक समारोह मनाया जाता है। हर साल समारोह में भाग लेने के लिए हजारों अनुयायी आते थे, यह साल‌ अलग है।

शिवराज्याभिषेक 2020 (Shivrajyabhishek 2020) समारोह

राज्यसभा सांसद और शिवाजी महाराज के 13वें वंशज उदयन राजे संभाजी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल द्वारा सभी को शिवाजी राज्याभिषेक की शुभकामनाएं दीं। शिवराज्याभिषेक 2020 समारोह के बारे में बोलते हुए, संभाजी राजे ने कहा, “एक ही जुनून, एक ही उत्साह, एक ही क्षण फिर से अनुभव किया जाएगा, लेकिन इस बार हमारे अपने घर से। उन्होंने यह भी पुष्टि की कि वार्षिक परंपरा के अनुसार रायगढ़ के दुर्गराज में शिवराज्याभिषेक कार्यक्रम शुरू हो गए हैं। राज्य में चल रहे कोरोना वायरस संकट के मद्देनजर, छत्रपति शिवाजी के अनुयाई इसमें शामिल नहीं हो पाएंगे।

मुख्य प्वाइंटस

  • छत्रपति शिवाजी महाराज को 6 जून, 1664 को ताज पहनाया गया था।
  • हर साल, महाराष्ट्र के रायगढ़ में अखिल भारतीय कोरोनेशन समिति द्वारा शिवराज्याभिषेक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।
  • छत्रपति शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक हर साल 6 जून को दुर्गराज, रायगढ़ में शिवराज समारोह आयोजित किया जाता है।

छत्रपति शिवाजी महाराज कौन थे?

छत्रपति शिवाजी महाराज भारत के एक महान राजा एवं रणनीतिकार थे जिन्होंने 1674 ई. में पश्चिम भारत में मराठा साम्राज्य की नींव रखी। उन्होंने कई वर्ष औरंगज़ेब के मुगल साम्राज्य से संघर्ष किया। सन 1674 में रायगढ़ में 6 जून को उनका राज्यभिषेक हुआ और वह “छत्रपति” बने। 3 अप्रैल, 1680 को छत्रपति शिवाजी का देहान्त हो गया।

Shivrajyabhishek 2020-शिवाजी का राज्याभिषेक

पश्चिमी महाराष्ट्र में स्वतंत्र हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के बाद शिवाजी ने अपना राज्याभिषेक करना चाहा, परन्तु मुस्लिम सैनिकों ने ब्राह्मणों को धमकी दी कि जो भी शिवाजी का राज्याभिषेक करेगा उनकी हत्या कर दी जायेगी। जब ये बात शिवाजी तक पहुंची की मुगल सरदार ऐसे धमकी दे रहे हैं तब शिवाजी ने इसे एक चुनौती के रुप में लिया और कहा की अब वो उस राज्य के ब्राह्मण से ही अभिषेक करवायेंगे जो मुगलों के अधिकार में है।

आसान नहीं था राज्याभिषेक

राज्याभिषेक के 12 दिन बाद ही उनकी माता का देहांत हो गया था इस कारण से 4 अक्टूबर 1674 को दूसरी बार शिवाजी ने छत्रपति की उपाधि ग्रहण की। दो बार हुए इस समारोह में लगभग 50 लाख रुपये खर्च हुए। इस समारोह में हिन्दवी स्वराज की स्थापना का उद्घोष किया गया था। शिवाजी के निजी सचिव बालाजी आवजी ने इसे एक चुनौती के रूप में लिया और उन्होंने काशी में गंगाभ नामक एक ब्राह्मण के पास तीन दूतों को भेजा, किन्तु गंगाभ ने प्रस्ताव ठुकरा दिया, क्योंकि शिवाजी क्षत्रिय नहीं थे।

उसने कहा कि क्षत्रियता का प्रमाण लाओ तभी वह राज्याभिषेक करेगा। बालाजी आव जी ने शिवाजी का सम्बन्ध मेवाड़ के सिसोदिया वंश से संबंध के प्रमाण भेजे, जिससे संतुष्ट होकर वह रायगढ़ आया ओर उसने राज्याभिषेक किया। राज्याभिषेक के बाद भी पूना के ब्राह्मणों ने शिवाजी को राजा मानने से मना कर दिया। विवश होकर शिवाजी को ‘अष्टप्रधान मंडल’ की स्थापना करनी पड़ी। (Source: Wikipedia)

About the author

Administrator at SA News Channel | Website | + posts

SA News Channel is one of the most popular News channels on social media that provides Factual News updates. Tagline: Truth that you want to know

SA NEWS
SA NEWShttps://news.jagatgururampalji.org
SA News Channel is one of the most popular News channels on social media that provides Factual News updates. Tagline: Truth that you want to know

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × three =

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related