Ramaini News in india

17 मिनट में गुरुवाणी से देश विदेशों में सम्पन्न हुए दहेज मुक्त विवाह (रमैनी) बने चर्चा का विषय

Blogs Hindi News Ramaini News

आज के आधुनिक युग में देखा जाए तो मानव समाज का एक धड़ा ऐसा है जो सिर्फ ताम-झाम व दिखावटी चमक के लिए रुपये को पानी की तरह बहाकर बर्बाद कर देता है, तो वहीं दूसरी ओर संत रामपाल जी महाराज जी के अद्वितीय ज्ञान की विचारधारा से प्रेरित होकर संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायियों द्वारा बेहद सादगीपूर्ण, बिना किसी लेनदेन अर्थात दान-दहेज के पूर्णतः दहेज मुक्त विवाह “रमैनी” सम्पन्न किये जाते हैं।

इन दहेज मुक्त विवाहों सम्बंधी मुख्य बिंदु

  • देश ही नहीं विदेशों में भी बढ़चढ़कर अपनाई जा रही है यह दहेज़ मुक्त विवाह (रमैनी) की अद्वितीय पहल
  • प्राचीन काल से मानव समाज पर लगे दहेज़ प्रथा नामक कलंक से मिलेगा छुटकारा
  • फिजूलखर्ची पर लगेगा विराम
  • बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का सपना होगा साकार
  • आज की युवा पीढ़ी के लिए दहेज मुक्त विवाह रमैनी हैं एक अद्भुत प्रेरणा स्त्रोत
  • दहेज़ मुक्त विवाहों (रमैनी) से बाल विवाह व पारिवारिक झगड़ों पर लगेगा अंकुश
  • सर्व प्रकार की बुराइयों पर विराम चिन्ह सिर्फ सतभक्ति से ही लगाया जा सकता है

आइये एक नजर डालते हैं इन देश-विदेश में हुए दहेज मुक्त विवाहों (रमैनी) पर

  • Monte san giusto (MC) Italy (इटली) निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी नक्षत्र दास जी ने संत रामपाल जी महाराज की के अद्वितीय ज्ञान से प्रेरित होकर अपनी पुत्री अंजलि दासी उम्र-27 वर्ष का पूर्ण संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में पूर्णतः दहेज मुक्त विवाह “रमैनी” के द्वारा सम्पन्न किया। अंजलि दासी जी वर्तमान में Gala S.R.L. में कार्यरत हैं।
  •  Monte san giusto (MC) Italy (इटली) निवासी संत रामपाल जी महाराज जी अनुयायी नक्षत्र दास जी ने संत रामपाल जी महाराज की के अद्वितीय ज्ञान से प्रेरित होकर अपनी द्वितीय पुत्री करिश्मा दासी उम्र-25 वर्ष का पूर्ण संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में दहेज मुक्त विवाह “रमैनी” के द्वारा सम्पन्न किया। करिश्मा दासी जी वर्तमान में Ma. Si. C. में कार्यरत  हैं।
  •  दिनाँक 25/04/2021 को   गांव दियानी जिला साम्बा में संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में एक अद्वितीय दहेज़ मुक्त विवाह “रमैनी” के द्वारा सम्पन्न हुआ। जिला-कठुआ जम्मू व कश्मीर निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी रोमेश लाल जी ने अपनी पुत्री मधु दासी का पूर्णतः दहेज मुक्त विवाह (रमैनी) जिला-कठुआ जम्मू व कश्मीर के निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी ताराचंद दास जी के पुत्र गुलशन दास जी के साथ बहुत ही सादगी से सम्पन्न किया।
  • लंबी गली, कोट खालसा, अमृतसर निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी तिलक राज जी ने समाज सुधारक संत रामपाल जी महाराज जी के अनमोल ज्ञान से प्रेरित होकर एक्सिस बैंक में पदस्थ अपने पुत्र रमन कुमार (उम्र -29) का संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में पूर्णतः दहेज मुक्त विवाह संपन्न किया। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग रमन कुमार जी की शैक्षणिक योग्यता है।
  • संत रामपाल जी के अनुयायी जनक राज जी (निवासी लंबी गली, कोट खालसा अमृतसर) ने संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में अपने पुत्र लव दीप उम्र-26 का पूर्णतः दहेज मुक्त विवाह (रमैनी) सम्पन्न किया।
  • संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में उत्तर प्रदेश के जिला गाजियाबाद तहसील लोनी में भी एक दहेज मुक्त विवाह (रमैनी) सम्पन्न हुआ।
  • दिनांक 09/05/2021 को गांव-धीयारी तहसील-रामनगर जिला उधमपुर में एक अनोखी दहेज मुक्त रमैनी (विवाह) का कार्यक्रम हुआ।।  गांव-धीयारी, तहसील-रामनगर, जिला-उधमपुर, जम्मू व कश्मीर निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी चरण दास जी ने अपनी पुत्री प्रीति दासी का दहेज मुक्त विवाह जिसे संत भाषा में “रमैनी” कहा जाता है, गांव-जगतपुर, तहसील-मरहीन, जिला-कठुआ, जम्मू व कश्मीर के निवासी संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी दीपक दास पुत्र ताराचंद दास के साथ गुरु वाणी द्वारा पूर्ण परमेश्वर कविर्देव जी व 33 कोटि देवताओं की स्तुति कर दहेज मुक्त विवाह “रमैनी” सम्पन्न हुआ। वर्तमान स्थिति में COVID-19 के नियम-सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए इस विवाह में नाम मात्र के लोग शामिल हुए।
  •  दिनांक 9 मई को ग्राम अरलाई, तहसील-रामगंजमंडी, जिला-कोटा (राजस्थान) में संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में एक दहेज मुक्त विवाह  (रमैनी) सम्पन्न हुआ। यह दहेज मुक्त विवाह स्थानीय लोगों में खास चर्चा का विषय बना हुआ और इस विवाह की तारीफ हर शख्स की जुबां पर है।

न घोड़ा, न बाराती, न कोई आडम्बर मात्र 17 मिनिट में गुरुवाणी से सम्पन्न हुआ दहेज मुक्त विवाह

संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयाई अपने गुरुदेव (संत रामपाल जी महाराज जी) के वचनों का पालन करते हुए एक ऐसा विवाह (रमैनी) मानव समाज के सामने पेश कर रहे हैं जो सचमुच में देखने व प्रेरणा लेने के योग्य है। इन दहेज़ मुक्त विवाह ‘रमैनी’ में किसी भी प्रकार का दिखावा जैसे- न डीजे, न बैंड, न बारात, न भात, न मंडप, न फेरे इत्यादि देखने को नहीं मिलते हैं अपितु अपने गुरुदेव परम् संत रामपाल जी महाराज जी के मुख से उच्चरित “17 मिनट की वाणी (जिसे दूसरे शब्दों में रमैणी कहा जाता है )”, को साक्षी मानकर जीवन भर एक दूसरे का सुख-दुख में साथ देने, प्रेम पूर्वक रहने व किसी भी प्रकार की बुराई (जैसे- चोरी- जारी, रिश्वतखोरी, भ्रष्टाचार, बेईमानी, ठगी) न करने का वचन लेते हैं।

यह भी पढ़ें: मात्र 17 मिनिट में गुरुवाणी से सादगीपूर्ण दहेज मुक्त विवाह (रमैनी) हुए सम्पन्न 

रमैनी यह 17 मिनट की असुर निकंदन रमैणी होती है जिसे फेरों के स्थान पर बोला जाता है। जिसमें सर्व 33 करोड़ देवी-देव तथा पूर्ण परमात्मा कविर्देव जी का आह्वान तथा स्तुति, प्रार्थना की जाती है। जिससे सर्व शक्ति उस विवाहित जोड़े (वर-वधु) की सदा रक्षा करते हैं। जिससे की जीवन में आने वाले दुःखों का निवारण आसानी से हो सके।

संत रामपाल जी महाराज का ये है सपना।

दहेज मुक्त मानव समाज हो अपना।।

सभ्य मानव समाज में दहेज़ प्रथा एक जहर है: संत रामपाल जी महाराज

संत रामपाल जी महाराज जी अपने अनमोल सत्संगों में बताते हैं कि दहेज़ का लेन-देन तो जहर के लेन-देन के जैसा है और बुद्धिजीवी प्राणी ऐसी मूर्खता करने का प्रयत्न स्वप्न में भी नहीं करेगा।

जैसे किरका जहर का रंग होरी हो,

कहो कौन तिस खावे राम रंग होरी हो।।

संत रामपाल जी महाराज जी से जानें सत साधना की सार्थक विधि

वर्तमान में पूरे विश्व में एकमात्र केवल तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी ही हैं जो वास्तविक तत्वज्ञान करा कर पूर्ण परमात्मा की पूजा आराधना बताते है। तो सत्य को जानें और पहचान कर पूर्ण तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज से मंत्र नाम दीक्षा लेकर अपना जीवन कल्याण करवाएं। अधिक जानकारी के हेतु सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल पर सत्संग श्रवण करें । जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी से निःशुल्क नाम  दीक्षा लेने के लिए कृपया नीचे दिए गए फॉर्म को भरकर आज ही पंजीकरण करें . दुनिया की सबसे अधिक डाउनलोड की जाने वाली सबसे लोकप्रिय आध्यात्मिक बुक जीने की राह आप भी इसे जरूर पढ़ें।

2 thoughts on “17 मिनट में गुरुवाणी से देश विदेशों में सम्पन्न हुए दहेज मुक्त विवाह (रमैनी) बने चर्चा का विषय

  1. 💫कबीर, मानुष जन्म दुर्लभ है, मिले न बारं-बार।
    तरवर से पत्ता टूट गिरे, बहुर ना लागे डार।।
    कबीर परमात्मा जी ने समझाया है कि हे मानव शरीरधारी प्राणी! यह मानव जन्म बार-बार नहीं मिलता। इस शरीर के रहते-रहते शुभ कर्म तथा परमात्मा की भक्ति कर, अन्यथा यह शरीर समाप्त हो गया तो आप पुनः मानव शरीर को प्राप्त नहीं कर पाओगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *