फाइजर कोरोनावायरस वैक्सीन (Pfizer Corona Vaccine News Update): कोरोनावायरस की वैक्सीन ढूंढने के लिए अनेकों देशों की कम्पनियों ने अपनी रिसर्च प्रारम्भ कर दी थी। बहुतों ने अपने – अपने आंकड़े भी दिए हैं। इस समय एक वैक्सीन आ रही है फाइजर और बायोनटैक कम्पनी से। सतभक्ति सर्वोत्तम वैक्सीन है जो किसी बीमारी को होने नहीं देती और यदि बीमारी है तो उसे ठीक कर देती है।

फाइजर कोरोनावायरस वैक्सीन (Pfizer Corona Vaccine News) के मुख्य बिंदु

  • फाइजर और बायोनटैक कम्पनी की कोरोनावायरस की वैक्सीन 90 प्रतिशत लोगों में प्रभावी बताई जा रही है
  • 27 जुलाई से प्रारम्भ हुआ था तीसरा ट्रायल
  • वैक्सीन को अब तक 6 देशों में 43500 लोगों में परीक्षण किया जा चुका है
  • सुरक्षा को लेकर कोई चिंताएं नहीं आईं सामने
  • फाइजर के अध्यक्ष और सीओ ने बताया इसे विज्ञान और मानवता के लिए बड़ा दिन
  • सतभक्ति से बड़ी कोई वैक्सीन नहीं

फाइजर व बायोनटैक आपात काल आवेदन की तैयारी में

कोविड-19 से बचने के लिए फाइजर व बायोनटैक कम्पनियों द्वारा वैक्सीन सफल परिणामों के साथ लाई जा रही है। कंपनी इसे आपात काल में उपयोग के लिए आवेदन करने की पूरी तैयारी में हैं। अमेरिका की लेटेस्ट ट्रायल दौड़ में आगे खड़ी 10 कम्पनियों में इन कम्पनियों के नाम भी शामिल है। ये पहली ऐसी कम्पनियाँ हैं जो एक बड़े पैमाने पर सफल आंकड़ा जुटाने में सक्षम रही हैं। हालांकि 4 अन्य कम्पनियों के शोध जारी है।

Pfizer Corona Vaccine News Updates: 43500 लोगों पर किए जा चुके हैं ट्रायल

जारी की गई जानकारी के मुताबिक कोरोना के बिना लक्षण वाले मरीजों को दी गई यह वैक्सीन 90 प्रतिशत प्रभावी रही है। इस ट्रायल में 43538 लोग शामिल थे जिनमें 42 प्रतिशत लोग ऐसे थे जिन्होंने कोरोना वायरस के लिहाज से ज्यादा सावधानियां नहीं बरतीं थीं। हालांकि 164 कोरोना संक्रमितों पर ट्रायल किया जाना बाकी है। फाइजर के प्रोटोकॉल का अनुसार पहला अंतरिम ट्रायल तब होना था जब 32 लोग कोरोना पॉज़िटिव हो जाएं। इन 32 मे प्लेसिबो और वैक्सीन दोनों तरह के शॉट पाने वाले हैं। अंतिम ट्रायल में 164 मामलों में आधे मामले सफल रहने पर भी वैक्सीन को सफल मान लिया जाता है।

Pfizer Corona Vaccine News: क्या होगी उपलब्ध वैक्सीन भारत में?

फाइजर के अध्यक्ष और सीईओ डॉ. अल्बर्ट बोरला ने बताया है कि यह विज्ञान और मानवता के लिए बड़ा दिन है। हम वैक्सीन तलाशने में नया आयाम स्थापित कर रहे हैं। फाइजर ने अब तक भारत मे उपलब्धता कराने की कोई घोषणा नहीं है। वैक्सीन के स्टोरेज के लिए -94 डिग्री फैरेनहाइट से कम तापमान चाहिए होता है। इसी वजह से वैक्सीन की कीमतें बढ़ भी सकती हैं। आमजनों के लिए वैक्सीन शीघ्र उपलब्ध होने की संभावना नहीं है।

ब्रिटिश अस्पतालों में वैक्सीन लगने की तैयारी

ब्रिटिश अस्पतालों में वैक्सीन लगने की भी तैयारियां होने लगी हैं। यह महीना खत्म होने से पहले वैक्सीन का डिस्ट्रीब्यूशन किया जा सकता है। शुरुआत में यह वैक्सीन केयर होम रेसिडेंट्स, 80 वर्ष के अधिक उम्र के लोगों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को दी जानी है । खुराक और वैक्सीन कहाँ दी जानी है उन स्थानों की लिस्ट भी तैयार हो गई है।

विशेषज्ञ फाइजर और बायोनटैक कंपनी से शीघ्र ही आंकड़ों की उम्मीद

विशेषज्ञ फाइजर और बायोनटैक कंपनी से आंकड़ों की उम्मीद कर रहे हैं। चूंकि यह केवल शुरुआती आंकड़े हैं अभी आगे काम करने की आवश्यकता है इसलिए इससे अधिक प्रभावित होने की आवश्यकता नहीं है । हालांकि कंपनी का कहना है कि वह आने तीसरे चरण के ट्रायल को साइंटिफिक पीयर रिव्यू पब्लिकेशन में सबमिट करेगी। यानी यह रिसर्च के लिए रिव्यू के लिए उपलब्ध होगा।

सतभक्ति से उत्तम कोई वैक्सीन नहीं

बीमारियाँ मानव के लिए कोई नया विषय नहीं हैं। काफी जन और धन की हानि के बाद आखिर कुछ न कुछ तोड़ मिल ही जाता है। ये बहुत अनोखी बात नहीं है। यह नियम है अब तक हुई जनहानि का और लोगों द्वारा उठाये कष्टों को कोई वापस नहीं ला सकता। लेकिन यदि मानव सतभक्ति करे तो इस तरह की कोई बीमारी नहीं हो सकती है। पूर्ण परमात्मा कविर्देव द्वारा दी गई सत्य साधना एक पूर्ण तत्वदर्शी सन्त से नामदीक्षा लेकर की जा सकती है। यही शास्त्रानुकूल भक्ति है जिसे गीता, वेदों में बताया गया है। गीता अध्याय 4 के श्लोक 34 में कहा है तत्वदर्शी सन्त की खोज करने के लिए। वर्तमान में पूरे विश्व में एकमात्र तत्वदर्शी सन्त हैं रामपाल जी महाराज। उनसे नामदीक्षा लेकर अपना कल्याण करवाएँ। अधिक जानकारी के लिए देखें सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल