Lockdown Hindi News India: 25 मार्च से भारत में लॉकडाउन लगाया गया था। 8 जून से शुरू हुए अनलॉक भारत पर फिर से लॉकडाउन की स्थिति गहरा रही है। आइए जानते हैं क्या है पूरी खबर

दुनियाभर में कोरोनावायरस महामारी और लॉकडाउन जनसाधारण और समाज पर अपनी गहरी छाप छोड़ रहा है। जहां लॉकडाउन के कारण लाखों करोड़ों जिंदगियां मौत के मुंह में जाने से बच सकीं वहीं सभी देशों की अर्थव्यवस्था चरमरा गई। खैर, जिंदगी बचाना अर्थव्यवस्था को बचाने से कहीं ज़रूरी था क्योंकि प्रत्येक ज़िंदगी कीमती है। अर्थव्यवस्था लोगों द्वारा बनाई जाती है। चीन, फ्रांस,इटली, ब्राज़ील, अमेरिका कोरोनावायरस से बुरी तरह से प्रभावित हुए और भारत में दिल्ली और महाराष्ट्र कोरोनावायरस की चपेट में आने से खुद को बचा न सके।

महाराष्ट्र की राज्य सरकार स्थिति का आकलन कर रही है

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को संकेत दिया कि राज्य में कोरोनवायरस के प्रसार को रोकने के लिए देशव्यापी लाकडाऊन को फिर से लागू किया जा सकता है, ठाकरे ने कहा कि अगर अनलॉक की स्थिति जोखिम भरी साबित होती है तो बेशक लॉकडाउन फिर से लगाया जा सकता है।

बुधवार को, माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर उन्होंने लिखा “यदि लॉकडाउन में ढील देना जोखिम भरा हुआ तो हम लॉकडाउन को फिर से लागू करने के लिए मजबूर हो जाएंगे। मैं सभी से अनुरोध कर रहा हूं कि कृपया भीड़ में जाने से बचें।

  • भारत में कोरोना वायरस से स्थिति बेहद गंभीर है
  • दिल्ली और महाराष्ट्र को छोड़कर भारत के कई राज्यों में अभी भी लाकडाउन की तिथि बढ़ा दी गई है।

नोमुरा रिसर्च फर्म ने अपने अध्ययन में कहा है कि भारत उन 15 देशों में से है, जहां लॉकडाउन 5.0 में दी जा रही ढील के चलते कोविड-19 का संक्रमण तेज़ी से बढ़ सकता है और इससे दोबारा लॉकडाउन लगाने जैसी स्थिति पैदा हो सकती है।

नोमुरा फर्म द्वारा किए विश्लेषण के तहत 45 देशों को सर्वे में शामिल किया गया। विश्लेषण के तहत 45 देशों को शामिल किया गया जिसमें तीन समूह बनाए गए इसमें पहला ऑन ट्रैक यानी सही रास्ते पर। दूसरा चेतावनी यानी वार्निंग साइन और तीसरा है डेंजर ज़ोन। भारत डेंजर ज़ोन में है। भारत के साथ इंडोनेशिया, चिली, पाकिस्तान, स्वीडन, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका और कनाडा जैसे देश शामिल हैं। वहीं जिन देशों में स्थिति बेहतर बताई जा रही है उसमें फ्रांस, इटली और दक्षिण कोरिया शामिल हैं, जबकि अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देश चेतावनी यानी वार्निंग साइन श्रेणी में शामिल किए गए हैं। यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई है जब विभिन्न देश अपने यहां लागू लॉकडाउन में ढील दे रहे हैं और लोग काम पर लौट रहे हैं।

WHO ने सभी देशों से की अपील

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सभी देशों से अपील की है:

“यह समय किसी भी देश के लिए सब कुछ खुला छोड़ देने का नहीं है”

भारत में 8 जून , 2020 को सार्वजनिक स्थान विभिन्न शर्तों और सावधानियों के साथ खोले गए जिनमें धार्मिक स्थल, मॉल और सभी बाज़ार अनलॉक प्लान का हिस्सा हैं। दिल्ली सरकार के अनुमान अनुसार भारत में 30 जुलाई तक कोरोना संक्रमितों की संख्या 5.5 लाख तक पहुंच सकती है जबकि भारत में अस्पतालों में मरीजों की स्थिति अति दयनीय है।

प्रेस इनफारमेशन ब्यूरो ने लॉकडाउन की खबर को Fake News कहा

सोशल मीडिया पर प्रसारित की जा रही एक तस्वीर का दावा है कि गृह मंत्रालय (एमएचए) ट्रेन और हवाई सेवाओं को प्रतिबंधित कर सकता है और 15 जून से पूरा लॉकडाउन लागू कर सकता है।

दावा: सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही एक फोटो में दावा किया जा रहा है कि गृह मंत्रालय द्वारा ट्रेन और हवाई यात्रा पर प्रतिबंध के साथ 15 जून से देश में फिर से पूर्ण लॉकडाउन लागू किया जा सकता है। दुनिया भर में नहीं थम रहा कोरोनावायरस का कहर अब तक पूरी दुनिया में 7.04M लोग हो चुके हैं कोरोना संक्रमित और 404K लोग गवां चुके हैं अपनी जान

Lockdown Hindi News India-भारत में कोविड-19 के आंकड़ें

पिछले 24 घंटे में भारत में लगभग 10 हजार नए कंफर्म कोरोना केस और 274 मौतें स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्रालय ने दर्ज की हैं और इसी के साथ भारत में कोरोना के आंकड़ों की संख्या 287k हो चुकी है तथा अब तक 8,102 लोगों ने कोरोनावायरस के कारण अपनी जान गवांई हैं तथा अब तक कुल 141k लोग कोरोना वायरस से रिकवर हुए हैं।

कोरोनावायरस ने महाराष्ट्र को बुरी तरह से प्रभावित किया है अकेले महाराष्ट्र में लगभग एक लाख कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए हैं और तमिलनाडु में 36,841 और दिल्ली में 32,810 मामले सामने आए हैं। कोरोना काल में अनलॉक की स्थिति में भी प्रत्येक व्यक्ति को घर से बाहर तभी निकलना चाहिए जब बहुत अधिक ज़रूरत हो । बेहतर होगा अभी कुछ और समय घर पर ही रह कर अपने आपको और अन्यों को कोरोनावायरस के कहर से बचाया जा सके।