Earthquake in Delhi NCR Today: दिल्ली-NCR में फिर भूकंप, 24 घंटे में दूसरी बार महसूस किए गए झटके दिल्ली में लगातार दूसरे दिन भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 2.7 रही है, 01 बजकर 26 मिनट पर महसूस किए गए झटके। ये झटके रविवार को भी महसूस किए गये थे और इनकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.5 मापी गई।

मौसम विभाग के मुताबिक, सोमवार को दोपहर 1 बजकर 26 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र दिल्ली में ही था । हालांकि, किसी जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है, लेकिन लगातार दूसरे दिन भूकंप से लोग चिंतित हैं।

इससे पहले रविवार को दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। शाम 5 बजकर 45 मिनट पर 3.5 तीव्रता वाला भूकंप आया था । रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.5 थी लेकिन दिल्ली केंद्र होने के कारण भूकंप के झटके तेज थे। लोग अपने घरों से बाहर निकल आए थे।

कहां था भूकंप का केंद्र?

कल और आज यानी दोनों दिन भूकंप का केंद्र पूर्वी दिल्ली ही रहा। कल जमीन से 8 किलोमीटर नीचे भूकंप का केंद्र था, जबकि आज मात्र 5 किलोमीटर नीचे केंद्र रहा। जानकारों का कहना है कि अगर भूकंप का केंद्र जमीन में 15-20 किलोमीटर अंदर होता है तो रिक्टर स्केल पर तीव्रता भी ज्यादा होती है और झटके ज्यादा बड़े इलाके में महसूस किए जाते हैं।

यह भी पढें: कोरोना हॉटस्पॉट क्या है?: दिल्ली के कोरोना हॉटस्पॉट (HotsPot) इलाके सील

दिल्ली में कल महसूस किए गए भूकंप आने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में भूकंप (Earthquake in Delhi NCR Today) के झटके महसूस किए गए। आशा है कि सभी लोग सुरक्षित होंगे । मैं आप में से हर एक की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं। वहीं, भूकंप के झटकों को लेकर दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता मनीष सिसोदिया ने मजाकिया अंदाज में ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा, कोरोना कम था जो भूकम्प भी मचा दिया….क्या मन में है देवा?

कब कब आये दिल्ली में भूकंप?

26 दिसंबर 2015 को दिल्ली एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में

  • आधी रात को करीब 3 मिनट तक।
  • तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.5 मापी गई।
  • भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान के हिंदुकुश में था।

Earthquake in Delhi NCR Today: 24 सितंबर 2019 को दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके महसूस किए गए ये झटके करीब 4 बजकर 35 मिनट पर महसूस हुए। 19 नवंबर 2019 दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तराखंड में मंगलवार शाम भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए.

  • 7 बजकर 1 मिनट पर आए।
  • भूकंप की तीव्रता 5 मापी गई।
  • भूकंप का केंद्र भारत-नेपाल सीमा पर था।

क्यों संवेदनशील है दिल्ली?

भूकंप के लिहाज से दिल्ली हमेशा काफी संवेदनशील इलाका माना जाता है. मैक्रो सेस्मिक जोनिंग मैपिंग में भारत को 4 जोन में बांटा गया है। यह जोन-2 से जोन-5 तक है। इसमें जोन-2 सबसे कम संवेदनशील क्षेत्र है, जबकि जोन-5 ऐसा क्षेत्र है, जहां भूकंप आने की आशंका सबसे ज्यादा है। दिल्ली को जोन-4 में रखा गया है।