Delhi Excise Policy Case:अरविंद केजरीवाल को दिल्ली हाईकोर्ट ने राहत देने से किया इंकार, 3 अप्रैल को होगी फिर सुनवाई

spot_img

ईडी द्वारा दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल को शराब नीति में बदलाव को लेकर को 21 मार्च को उनके आवास पर पूछताछ कर गिरफ्तार कर लिया गया था। गिरफ्तारी तथा रिमांड को लेकर सीएम केजरीवाल ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी जिसकी सुनवाई पर कल कोर्ट ने राहत देने से इंकार कर दिया है। दिल्ली हाईकोर्ट जस्टिस स्वर्ण कांता शर्मा ने ED से 2 अप्रैल तक जवाब दाखिल करने को कहा है, जिसकी सुनवाई 3 अप्रैल को होगी। इस मामले पर सड़क से लेकर विधानसभा तक सियासी हलचल तेज हो गई है। पूरी खबर विस्तार से जानने के लिए पढ़ना जारी रखें।

Table of Contents

Delhi Excise Policy Case से संबंधित मुख्यबिंदु

  • दिल्ली सीएम केजरीवाल को लगा झटका, हाईकोर्ट से नही मिली राहत
  • दिल्ली शराब नीति केस में 21 मार्च को हुई थी गिरफ्तारी
  • 3 अप्रैल को फिर से होगी सुनवाई
  • ईडी से कोर्ट ने 2 अप्रैल तक मांगा जवाब
  • आज केजरीवाल की ED कस्टडी खत्म हो जाएगी। ऐसे में ED गुरुवार को राउज एवेन्यू कोर्ट में केजरीवाल को पेश करेगी
  • पूर्ण संत रामपाल जी महाराज जी के द्वारा बताए मार्ग का अनुसरण करने से दुर्गुणों से मिलता है पूर्ण छुटकारा

आबकारी घोटाला केस में सीएम केजरीवाल को लगा झटका, कोर्ट से नहीं मिली राहत

आबकारी घोटाले मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिल्ली हाई कोर्ट से राहत नहीं मिली है कोर्ट ने केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ ईडी को जवाब दाखिल करते हैं के लिए 2 अप्रैल तक का समय दिया है इस मामले में अगली सुनवाई अब 3 अप्रैल को होगी। बुधवार देर शाम हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया औऱ कहा कि “किसी मामले की सुनवाई और फैसला करते समय अदालत प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए दोनों पक्षों को निष्पक्ष रूप से सुनने के लिए बाध्य है। वर्तमान मामले पर निर्णय लेने के लिए ईडी का जवाब बेहद जरूरी और महत्वपूर्ण है।” 

ईडी को 2 अप्रैल देना होगा कोर्ट को गिरफ्तारी से सम्बंधित जवाब

ईडी की ओर से पेश हुए एएसजी एसवी राजू ने कहा कि उन्हें याचिका की कॉपी मंगलवार को ही दी गई थी। उन्हें एप्लीकेशन के साथ-साथ रिट याचिका में जवाब दाखिल करने के लिए समय चाहिए। जिसके बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने ईडी (ED) को जवाब दाखिल करने के लिए 2 अप्रैल तक का समय दे दिया है।

आखिर क्या है अरविंद केजरीवाल के गिरफ्तारी का मामला?

दिल्ली शराब नीति घोटाला केस (Delhi Exices Policy Case) में ED की टीम केसीआर की बेटी के. कविता को हिरासत में लेकर लगातार पूछताछ कर रही है। ईडी की टीम ने अपनी ओर से जो बयान जारी किया है उसमे बताया है कि एजेंसी ने शराब नीति घोटाला केस में गिरफ्तार के. कविता के साथ अरविंद केजरीवाल का भी नाम लिया है। ईडी की टीम ने दावा किया है कि के. कविता ने अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया के साथ मिलकर शराब नीति में बदलाव करवाए थे। आबकारी नीति में बदलाव मामले में अब तक 9 समन भेज चुकी ED ने 21 मार्च को 10वां समन लेकर अरविंद केजरीवाल को पूछताछ कर गिरफ्तार कर लिया है। बता दें गिरफ्तारी से बचने के लिए दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की थी जिसे खारिज कर दिया गया था।

21 मार्च को अरविंद केजरीवाल को किया गया था गिरफ्तार

21 मार्च के दिन दो घंटे की पूछताछ के बाद दिल्ली सीएम केजरीवाल को उनके आधिकारिक आवास से गिरफ्तार किया गया था। राउज एवेन्यू कोर्ट ने केजरीवाल को 22 मार्च से 28 मार्च तक ED की कस्टडी में भेज दिया था। 

28 मार्च तक कस्टडी में रहेंगे सीएम अरविंद केजरीवाल

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल को शराब नीति में बदलाव के मामले में 21 मार्च को हिरासत में भेजा गया हैं। जहां ED ने 10 दिन की रिमांड की मांग अदालत से की थी जिस में से उसे 6 दिन का रिमांड दिया गया। 28 मार्च तक दिल्ली सीएम हिरासत में रहेंगे।

अपनी गिरफ्तारी पर क्या बोले सीएम केजरीवाल

केजरीवाल ने अपने गिरफ्तारी पर कहा कि मनी लांड्रिंग का केस बेबुनियाद है। अभी तक इस मामले में एक रुपया भी बरामद नहीं किया गया। यह एक राजनीति षड्यंत्र है। सीएम ने कोर्ट में कहा कि “गिरफ्तारी का आधार बेकार, मुझसे छीना गया स्वतंत्रता का अधिकार।”

गिरफ्तारी के खिलाफ याचिका पर अग्रिम सुनवाई 3 अप्रैल को

अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ अरविंद केजरीवाल ने हाईकोर्ट में चुनौती दायर की थी। जिसके जवाब में हाईकोर्ट ने ED से 2 अप्रैल को जवाब मांगा है। इसके बाद 3 अप्रैल को सुनवाई होगी। बता दें 28 मार्च तक सीएम केजरीवाल हिरासत में रहेंगे।

सीएम केजरीवाल ने कहा “जेल से चलाएंगे सरकार”

दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल के गिरफ्तारी के बाद दिल्ली बीजेपी पार्टी लगातार इस्तीफे की मांग कर रही है। वही केजरीवाल सरकार में मंत्री आतिशी ने बताया कि सीएम अरविंद केजरीवाल इस्तीफा नहीं देंगे। जरूरत पड़ने पर सरकार जेल से ही चलाएंगे। इस बारे में दिल्ली LG विनय कुमार सक्सेना ने कहा कि दिल्ली की सरकार जेल से नहीं चलाई जा सकती।

अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी पर बोले जर्मनी अमेरिका

जब से दिल्ली सीएम को हिरासत में लिया गया है तब से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय राजनीति गलियारे में हलचल मची हुई हैं। इस पर जर्मनी ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि इस मामले में पूरी कार्रवाई निष्पक्ष होनी चाहिए और सीएम केजरीवाल को बिना किसी प्रतिबंध के कानूनी रास्ते अपनाने का हक मिलना चाहिए।

वहीं इस मामले पर अमेरिका विदेश विभाग का कहना है कि “हम मुख्यमंत्री केजरीवाल के निष्पक्ष,पारदर्शी और समयबद्ध कानूनी प्रक्रिया की उम्मीद करते हैं।”

जर्मनी अमेरिका की प्रतिक्रिया पर भारत का जवाब

जर्मनी और अमेरिका के लगातार प्रतिक्रिया के बाद अब भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जायसवाल ने एक्स (ट्विटर) पर जानकारी साझा करते हुए कहा कि “आज नई दिल्ली में जर्मन मिशन के उप प्रमुख को बुलाकर हमारे आंतरिक मामलों पर उनके विदेश मंत्रालय की ओर से की गई टिप्पणियों पर भारत के कड़े विरोध से अवगत कराया गया है। हम ऐसी टिप्पणियों को हमारी न्यायिक प्रक्रिया में हस्तक्षेप और न्यायपालिका की स्वतंत्रता को कमजोर करने के रूप में देखते हैं। भारत कानून के शासन वाला एक जीवंत और मजबूत लोकतंत्र है। जिस तरह भारत और अन्य लोकतांत्रिक देशों में कानून अपना काम करता है। इस मामले में भी कानून अपना काम करेगा। इस मामले में पक्षपात पूर्ण धारणाएं बनाना अनुचित हैं।”

प्राचीन युगों की शासन की शांति व्यवस्था का रहस्य

शासक यानी राजा का वर्तमान में बदला हुआ नाम प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री है। प्रत्येक शासक अपनी राज्य की व्यवस्था को बहुत ही अच्छा बनाने की कोशिश करता है। प्राचीन युगों के राजाओं में राजा अमरीश, राजा हरिश्चंद्र, राजा जनक विदेही का नाम प्रसिद्ध है। और भी बहुत से राजा हुए हैं। इनके शासन में जो शांति और न्याय व्यवस्था कायम थी। इसका प्रमुख कारण इनका आध्यात्मिक ज्ञान था। सभी गुरु अवश्य बनाते थे और भगवान की भक्ति करते थे। इसलिए उनमें नैतिकता और सदाचार कूट-कूट कर भरा था। अन्याय नहीं करते थे। वर्तमान में आध्यात्मिकता से दूर नेता, मंत्री भगवान को और उनके विधान को भूल चुके है और स्वयं को भगवान से कम नहीं मान रहे हैं। जिसके कारण पूरी दुनिया में अशांति फैल रही हैं। धार्मिक गुरु हैं, तो वे भी स्वार्थी है। अपने स्वार्थ के लिए मंत्रियों के आगे झुक जाते हैं। जिससे शासकों में सर्वे सर्वा होने का अहम बैठ जाता हैं।

भ्रष्टाचार और अन्याय से मुक्त समाज का निर्माण करेगा वह ग्रेट शायरन

वर्तमान समय के बारे में फ्रांस के प्रसिद्ध भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस ने बहुत सी भविष्यवाणी की थीं जिसमें उन्होंने विश्व के कई शासकों का अन्याई और अत्याचारी होना लिखा है। जिसके कारण पूरी दुनिया में हाहाकार मचेगा। लेकिन भारत के एक ग्रामीण परिवार में जन्में ग्रेट शायरन यानी एक महान संत की विचारधारा से पूरा विश्व प्रभावित होगा। उसके नेक विचारों से प्रभावित होकर सभी को बुराई त्यागकर नेक जीवन जीने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। वह महान संत जगतगुरू तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी हैं। जिनके आध्यात्मिक ज्ञान से पूरे विश्व में शांति फैलेगी तथा अन्याय, भ्रष्टाचार सदा के लिये खत्म हो जाएगा। अधिक जानकारी के लिए डाऊनलोड करें Sant Rampal Ji Maharaj App

FAQ About Delhi Excise Policy Case

Q1. दिल्ली सीएम केजरीवाल को किस आरोप में गिरफ्तार किया गया है?

Ans. सीएम केजरीवाल को आबकारी घोटाले से सम्बंधित मामले में ईडी ने गिरफ्तार किया है।

Q2. अरविंद केजरीवाल को कब गिरफ्तार किया गया था?

Ans. दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल को 21 मार्च को गिरफ्तार किया गया था।

Q3. सीएम केजरीवाल की याचिका पर हाईकोर्ट ने क्या कहा?

Ans. दिल्ली हाईकोर्ट ने केजरीवाल की अर्जी को खारिज कर दिया है।

Q4. दिल्ली आबकारी घोटाला केस की अगली सुनवाई कब है?

Ans. 3 अप्रैल को।

Latest articles

6.4 Magnitude Earthquake Jolts Japan 

Japan was rocked by a powerful 6.4 magnitude earthquake on April 17, 2024, according...

Mahavir Jayanti 2024: Know Why Mahavir Jain Suffered Painful Rebirths in the Absence of Tatvagyan

Last Updated on 17 April 2024 IST: Mahavir Jayanti 2024: Mahavir Jayanti is one...

UPSC CSE Result 2023 Declared: यूपीएससी ने जारी किया फाइनल रिजल्ट, जानें किसने बनाई टॉप 10 सूची में जगह?

संघ लोकसेवा आयोग ने सिविल सर्विसेज एग्जाम 2023 के अंतिम परिणाम (UPSC CSE Result...
spot_img

More like this

6.4 Magnitude Earthquake Jolts Japan 

Japan was rocked by a powerful 6.4 magnitude earthquake on April 17, 2024, according...

Mahavir Jayanti 2024: Know Why Mahavir Jain Suffered Painful Rebirths in the Absence of Tatvagyan

Last Updated on 17 April 2024 IST: Mahavir Jayanti 2024: Mahavir Jayanti is one...