Home Blog

World Teachers’ Day 2022: Find an Enlightened Teacher to Unfold the Mystery of Birth & Death

0
World Teachers' Day 2022 Theme, History, Quotes, Facts, Essay

Last Updated on 05 October 2022, 2:15 PM IST | World Teachers’ Day 2022: The day presents the chance to applaud the teaching profession worldwide, take stock of successes, and attract attention to teachers’ voices, who always try hard to attain the global education target of leaving no one behind.  

World Teachers’ Day 2022 Highlights 

  • World Teachers’ Day, is known as International Teachers’ Day and Teachers’ Day
  • Commemorated to respect teachers and teacher organizations
  • To take stock of successes and attract attention to teachers’ voices
  • “The transformation of education begins with teachers” is the theme for 2022
  • The Supreme Kabir Saheb and His Incarnation Enlightened Saint Rampal Ji are the Perfect Master (Satguru)
  • On World Teachers’ Day, the humans should realize the Divine Truth from Perfect Master  

What Is World Teachers’ Day? 

World Teachers’ Day, also known as International Teachers’ Day and Teachers’ Day, commemorates teachers and teacher organizations for their crucial role in the education and advancement of forthcoming generations. The day presents the chance to applaud the teaching profession worldwide, take stock of successes, and attract attention to teachers’ voices, who always try hard to attain the global education target of leaving no one behind. 

UN recognized the teachers as key to achieving the Education 2030 agenda by adopting the Sustainable Development Goal 4 on education, and the dedicated target SDG 4.c. World Teachers’ Day became an opportunity to gauge progress and suggest ways to respond to future challenges for promoting the teaching profession.  

When Is World Teachers’ Day 2022? 

Since October 5, 1994, World Teachers’ Day has been celebrated to honor the anniversary of the 1966 adoption of the ILO/UNESCO Recommendations concerning the Status of Teachers. To commemorate this day, UNESCO conducts a campaign every year to allow the world to better understand teachers and their impact on students’ development within society. 

What Is the 2022 Year’s Theme and Its Rationale? 

The theme of World Teachers’ Day 2022 is “the transformation of education begins with teachers.” 

UNESCO, ILO and Education International issued a joint message, “Today, on World Teachers’ Day, we celebrate the critical role of teachers in transforming learners’ potential by ensuring they have the tools they need to take responsibility for themselves, for others and for the planet. We call on countries to ensure that teachers are trusted and recognised as knowledge producers, reflective practitioners, and policy partners,” 

UNESCO has tweeted to remind the urgent need of  nearly 69 million teachers to reach quality education for all by 2030. Without them, it is impossible to imagine the desired outcome. The time to act & Invest in teachers is now.

According to Unesco, a series of global and regional events will be held this year to highlight the impact of the coronavirus pandemic on the teaching profession, highlight effective and promising policy responses, and establish the steps that must be taken to ensure that teaching personnel develop to their full potential.

It is critical to explore the teachers’ leadership and expedite the teachers’ contribution to provide remote learning, reopen schools, support vulnerable masses, and mitigate learning gaps. World Teachers’ Day is the chance to discuss teachers’ role in building resilience and shaping the future of education and the teaching profession. 

How Is World Teachers’ Day Celebrated? 

Every year, UNESCO and Education International (EI) launch a campaign to commemorate World Teachers’ Day. They collaborate with the private sector and several media organizations to educate the world about teachers and the role they play in society’s development.

According to a joint statement issued by Unesco, ILO, Unicef, and Education International, “We are not only honoring all teachers on World Teachers’ Day. We are urging countries to invest in and prioritize them in global education recovery efforts so that every learner has access to a qualified and well-supported teacher. Let us support our teachers!”

History of World Teachers Day 

On October 5, 1966, UNESCO and ILO organized a conference of governments in Paris to expand teachers’ status. UNESCO and ILO representatives agreed on the recommendation of the forum. The proposal described teachers’ rights, responsibilities, and various other aspects of the teaching profession worldwide. 

■ Also Read: Teachers’ Day India: Date, Quotes, Importance, Special Gift, Message  

On October 5, 1994, UNESCO established the first World Teacher’s Day. The purpose was to emphasize participation and development and highlight issues of teachers and priorities regarding education. The date of October 5 was marked to observe Teachers’ Day globally on the anniversary of the adoption of the 1966 ILO / UNESCO recommendation.

The governments realized the importance of qualified, competent, and motivated teachers. On November 11, 1997, during UNESCO’s 29th session, the proposal included teaching and research personnel in higher education. 

World Teachers’ Day Quotes in English

  • A Spiritual Teacher can guide mankind to attain salvation and eternal peace
  • Teacher is like a candle, who burn himself and provide a us light
  • Teachers are the ones who teach the art of living well
  • A spiritual teacher will guide us how to worship the supreme Almighty
  • A good teacher in any particular field is the key to success.
  • Without teachers students’ lives are without any directions
  • Teacher is that person, who feels proud when you achieve success.
  • Teacher is like a Potter, who treats you to make you greater.
  • A teacher who teaches the right way of living is the teacher indeed.
  • Spiritual teacher is like a moon, who provides us light in the night.
  • A real spiritual teacher makes a wonderful shift in life from material to eternal.
  • Other professions won’t exist without a teacher
  • A spiritual teacher is like a Sun, who finishes the darkness of your life, and makes your day live with luminosity.

Who Celebrates World Teachers’ Day Globally? 

More than 100 nations observe World Teachers’ Day internationally. Education International, along with its 401 associations globally, perceive and celebrate World Teachers’ Day globally. There are several Professional organizations and Trade unions actively participating in organizing World Teacher’s Day across the globe; some are given below: 

  • The All India Secondary Teachers’ Federation
  • The Australian Education Union
  • The Elementary Teachers’ Federation of Ontario at Canada
  • The Canadian Teachers’ Federation
  • The Japan Teachers’ Union
  • The Teachers Council at New Zealand
  • The National Association of Schoolmasters Union of Women Teachers at the United Kingdom
  • The National Union of Teachers at the United Kingdom
  • The National Education Association at the United States 

Some Facts About World Teachers’ Day 

To observe World Teachers’ Day, the best thing you can do is show gratitude by thanking your Guru or a teacher who made an impact on your life. While celebrating World Teachers Day, everyone should know the following interesting facts

  • According to UNESCO, a trained teacher has the prescribed qualifications and the minimum academic teacher training to teach at a related level
  • October 5, 1994, observed the first World Teachers’ Day
  • 100+ countries celebrate World Teachers’ Day; each state has its unique celebration
  • World Teachers’ Day is to promote the teaching profession
  • On average, primary school teachers spend 782 hours every year
  • Teachers’ day is not a public holiday but a global overview
  • The Teacher is one of the most trusted professions after doctors and nurses.   

How Can I Mark World Teachers’ Day? 

Countless questions surge into the mind: Who am I? Who made me? What am I supposed to do? 

Who can answer all the questions? Only the one who made all these, The Supreme. According to the Holy Scriptures, Kabir Saheb is the Creator of all beings and all things. He and a Saint enlightened by Him are the Perfect Master (Satguru) who can unfold the original Abode’s mystery.  The humans must go to the Enlightened Teacher Saint Rampal Ji Maharaj, to realize the Divine Truth. Read the Book the “Way of Living” and visit “Satlok Ashram YouTube Channel.”

FAQ (Frequently Asked Questions) About World Teachers’ Day 2022

When is World Teachers’ Day celebrated? 

World Teachers’ Day is celebrated on October 5 every year.

Why is World Teachers Day Celebrated?

World Teachers’ Day, also known as International Teachers’ Day, is celebrated to thank and honor teachers for their contributions to their students. 

What is the theme of World Teachers’ Day 2022?

This year’s theme for World Teachers’ Day is “the transformation of education begins with teachers”.

Who is a true teacher?

■ Who ensures students’ academic success
■ Who acts as counselor for better understanding of subject matter
■ Helps in solving problems affecting students’ learning
■ Who guides mankind to attain salvation and eternal peace

World Animal Day 2022: How Many Species of Animals Can Be Saved Which Are on the Verge of Extinction?

0
World Animal Day 2022 Date,Theme,History,Quotes,Essay,Activity

Last Updated on 4 October 2022, 2:35 PM IST | Every year on 4 October, the feast day of Francis of Assisi, the patron saint of animals, World Animal Day, or World Animal Welfare Day, is observed. This is an international action day for animal rights and welfare. Its goal is to improve the health and welfare of animals. The day strives to promote animal welfare, establish animal rescue shelters, raise finances, and organize activities to improve animal living conditions and raise awareness. Here’s everything you need to know about this attempt on World Animal Day which is also known as Animal Lovers Day. 

World Animal Day 2022: Highlights

  • The first World Animal Day was celebrated on March 24, 1925, at the Sports Palace in Berlin by cynologist Heinrich Zimmermann.
  • Every country celebrates this day differently, regardless of religion, nationality, faith, or political stance.
  • The Day strives to promote animal welfare, establish animal rescue shelters and raise finances.
  • The celebration mobilizes people to act today for a brighter future for animals. Naturewatch Foundation, a UK-based animal protection nonprofit organization, is currently in charge of the global celebrations.
  • Killing innocent animals is a heinous sin that is against the constitution of God. 

World Animal Day Aim

The major purpose of the day is to increase the status of animals to enhance welfare standards around the world. Creating the sentiment of this day unites the animal welfare movement by mustering it into an international force to make the earth a better place for all animals.

Every country celebrates it differently, regardless of religion, nationality, faith, or political stance. We can create a society where animals are always recognized as sentient beings and their wellbeing is always prioritized through increasing education and awareness.

The theme for World Animal Day 2022

This year’s theme for World Animal Day 2022 is “A Shared Planet.”

History of World Animal Day

The first World Animal Day was celebrated on March 24, 1925, at the Sports Palace in Berlin by cynologist Heinrich Zimmermann. Over 5,000 people attended the event, which was initially set for October 4 to coincide with Saint Francis of Assisi’s feast day. Because the site was unavailable on October 4, the celebrations were rescheduled for March 24 the following year. However, the day was marked on October 4 in the years that followed.

■ Also Read: World Wildlife Day: Spirituality Prevents Birth In Wildlife Cycles And Leads To Attain Salvation

Today, World Animal Day is a global celebration that brings together animal protection movements and animal organizations from all over the world. Naturewatch Foundation, a UK-based animal protection nonprofit, is currently in charge of the global celebrations.

Significance of World Animal Day

World Animal Day is significant because creating the Day’s celebration mobilizes people to act today for a brighter future for animals. Social movements have always been a vital vehicle for drawing the attention of ordinary people to politics and other crucial subjects for social justice and transformation.

Because the acts of humans and enterprises have a significant impact on the lives of animals, it is critical to building effective animal management programs all over the world.

World Animal Day 2022 Quotes

  • “If a person strives to live a righteous life, his maiden act of sobriety is from animal cruelty.” – Albert Einstein
  • “The noblest trait of a man is his affection for all living animals.” – Charles Darwin
  • We must protect and respect all the creatures as we all are sons and daughters of one God – Saint Rampal Ji Maharaj
  • Killing animals is a heinous sin and those who consume meat are sinners – Almighty God Kabir

Harming Animals Is a Cruel Act

According to the Holy Bible–Genesis, all the living creatures like animals, insects, birds, and others are created by the same God who created us. God has ordered us to take care of them and to protect them as we are smarter and more capable. God has created trees, plants, fruits, vegetables, and other vegetarian food items for all living beings to survive. Harming innocent animals who are sons and daughters of the creator God, is a heinous act that causes great sin. 

Killing Animals Is Against the Constitution of God

Killing innocent animals for food, shelter, fashion and other things is a barbaric act that breaks the constitution of God. Those who break the constitution, are guilty of committing the act, and hence are punishable according to the constitution of God. God can never be pleased by killing His innocent sons and daughters for any purpose. Everyone should read the sacred book “Way of Living” and should know about the real constitution of God. 

FAQS about World Animal Day 2022

What is the purpose of celebrating World Animal Day?

-To raise awareness about the importance of Animals so that everyone starts treating Animals as one of us.

What is the theme of World Animal Day 2022?

The theme for World Animal Day 2022 is “A Shared Planet”. 

When did World Animal Day start?

The first World Animal Day was observed on March 24, 1925, at the Sport Palace in Berlin, Germany. The event drew over 5,000 people.

Which date is declared as World Animal Day?

October 4 

What do you do on World Animal Day?

-Get educated about the importance of Animals for a sustainable natural balance. 
-Stop using products that require the killing of animals or which harm them in any way. 
-Stop eating meat and become vegetarian.

Dussehra in Hindi | दशहरा (विजयादशमी) 2022: किस ज्ञान से हमारे अंदर का रावण समाप्त होगा?

1
Dussehra in Hindi दशहरा 2022 इस ज्ञान से मरेगा अंदर का रावण

Last Updated on 3 October 2022, 10:50 PM IST | Dussehra in Hindi | दशहरा हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। भगवान श्रीराम द्वारा रावण का वध किए जाने के उपलक्ष्य में दशहरा मनाया जाता है। दशहरा का त्योहार दीपावली से कुछ दिन पूर्व मनाया जाता है। इस बार 26 सितंबर को नवरात्रि शुरु हुई वहीं विजया दशमी (दशहरा 2022) का पर्व 5 अक्टूबर, 2022 के दिन मनाया जाएगा।

Dussehra in Hindi | दशहरा (विजयादशमी) 2022

हर साल यह पर्व आश्विन मास शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि के दिन मनाया जाता है। वैसे तो देशभर में दशहरा बहुत ही धूमधाम व उत्साह के साथ मनाया जाता है लेकिन हिन्दु धर्म में यह त्योहार विशेष महत्व रखता है। पूरे देश में विजयादशमी के दिन रावण के पुतले को फूंकने की परंपरा है। विजयादशमी का यह त्योहार भारतीय संस्कृति में वीरता का प्रतीक है। व्यक्तियों और समाज में बुराई को समाप्त कर अच्छाई स्थापित हो इसलिए दशहरे (विजयादशमी) का उत्सव मनाया जाता है।

दशहरा का त्योहार क्यों मनाया जाता है?

दशहरा बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक है। अश्विन (क्वार) मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को यह मनाया जाता है। इसके मनाने के पीछे कई कारण हैं जैसे कि

  • रावण की नाभि में अमृत होने के कारण वह स्वयं को अविनाशी मान रहा था लेकिन असली अविनाशी राम ने रावण की नाभि में तीर मारकर उसका वध किया।
  • देवी दुर्गा ने नौ रात्रि एवं दस दिन के युद्ध के उपरान्त महिषासुर पर विजय प्राप्त की थी। 
  • इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है इसीलिये दशमी को ‘विजयादशमी’ के नाम से भी जाना जाता है।

Dussehra in Hindi | रावण कैसे स्वभाव का व्यक्ति था?

लंकापति रावण दशानन के नाम से भी जाना जाता है। वह तमोगुणी शिव जी का परम भक्त था। रावण को चारों वेदों का ज्ञान था। वह एक कुशल राजनीतिज्ञ, सेनापति और वास्तुकला का मर्मज्ञ होने के साथ ज्ञानी तथा बहु-विद्याओं का जानकार था। वह मायावी भी था क्योंंकि वह इंद्रजाल, तंत्र, सम्मोहन और कई तरह के जादू जंतर करने में माहिर था। उसने सारी लंका सोने की बना रखी थी जिसमें इटें, पत्थर, यहां तक गारा भी सोने का था। परंतु शिव की इतनी भक्ति करने के बावजूद उसमें कामवासना तथा अभिमान चरम सीमा पर थे जिसके परिणामस्वरूप उसका वंश ही समाप्त हो गया।

“एक लाख पुत्र सवा लाख नाती

आज उस रावण के दीवा न बाती”।।

रावण कैसी मौत मारा गया और क्यों?

Dussehra in Hindi | रावण तमस, अंहकार और असुर स्वभाव का व्यक्ति था। कबीर साहेब जी ने मुनिन्दर ऋषि रूप में आकर अपनी शिष्या मंदोदरी ( रावण की पत्नी) के प्रार्थना करने पर, रावण को समझाया था कि यह सीता लक्ष्मी का अवतार है जिसे तू उठा कर ले आया है। जिस शिव की तू भक्ति करता है यह उसकी भाभी है तेरी मां समान हुई। सीता को राम के पास छोड़ आ। परंतु मूर्ख न माना और सत्तर बार अपनी तलवार से ऋषि मुनिंदर रूप में आए परमात्मा पर‌ वार किया परंतु परमात्मा का बाल भी बांका न कर सका और सर्व विदित है की रावण का अंत कितना कष्टकारी रहा।

किसने किया था राक्षस रावण का वध?

शिव जी से वरदान प्राप्त करने के बाद रावण बहुत शक्तिशाली हो गया था उसे पराजित करना नामुमकिन सा माना जाने लगा था। जब श्री राम और रावण का युद्ध हुआ तब रावण ने श्री राम के छक्के छुड़ा दिए। रावण इतना मायावी था कि उसे मारना कोई आसान कार्य नहीं था और श्री राम भी हार मानने लगे थे। 

Dussehra in Hindi | विभीषण ने जब बताया कि इसकी नाभि में निशाना लगाओ, जहां अमृत है। परन्तु उसको भी श्री राम निशाना नहीं लगा पा रहे थे और अत्यंत दुखी होकर अंत में राम ने पूर्ण परमात्मा को याद किया तब परमात्मा ने सूक्ष्म रूप में वहां प्रकट होकर रावण को मारने में राम की मदद की थी। (राम की रूदन पुकार पर पूर्ण परमात्मा ने वहां प्रकट होकर राम के हाथों रावण का वध किया।) राम स्वयं रावण को मार सकने और पराजित करने में अक्षम थे। राम ने रावण के वध के पश्चात पूर्ण परमात्मा को नतमस्तक हो प्रणाम किया था।

Read in English: Dussehra (Vijayadashami): Is Lord Rama The True GOD?

Dussehra in Hindi | क्या श्री राम अविनाशी भगवान हैं?

भगवान राम, भगवान विष्णु जी के सातवें अवतार थे जिनका जन्म त्रेता युग में अयोध्या के राजा दशरथ और रानी कौशल्या के घर हुआ था। श्री राम ‘इक्ष्वाकु वंश ’ से संबंधित हैं जिसे राजा ‘इक्ष्वाकु’ जो भगवान सूर्य के पुत्र थे, उनके द्वारा स्थापित किया गया था, इसी वजह से रामचंद्र जी को ‘सूर्यवंशी राजा’ कहा जाता है। श्री राम जी के रूप में विष्णु जी का मानव अवतार हुआ और उन्होंने जिन भी कष्टों का सामना किया उससे साबित होता है कि सतोगुण विष्णु जन्म और मृत्यु के चक्र में हैं। वह शाश्वत नहीं है। श्रीमद् देवी भागवत (दुर्गा) पुराण और शिव महापुराण इस बात का प्रमाण देते हैं कि ब्रह्मा, विष्णु, शिव जन्म और पुनर्जन्म के चक्र में हैं। वे नश्वर (नाशवान) हैं।

असली राम कौन है?

हर कोई राम को याद करता है लेकिन यह कोई नहीं जानता कि असली राम कौन है? एक आदि राम है जो अमर है और अविनाशी है।

राम राम सब जगत बखाने, आदि राम कोई बिरला जाने ||

“एक राम दशरथ का बेटा, एक राम घट-घट में बैठा।

एक राम का सकल पसारा, एक राम दुनिया से न्यारा।।

वह परम अक्षर पुरुष है जो पृथ्वी पर एक तत्वदर्शी संत के रूप में अवतार लेता है। वह अपनी प्यारी आत्माओं को सच्चा आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान करते हैैं और उन्हें जन्म मृत्यु से मुक्त करते हैं। सच्चा आध्यात्मिक ज्ञान न होने के कारण पूरी दुनिया भगवान राम उर्फ ​​भगवान विष्णु की ही पूजा करती है जो आत्माओं को जन्म और पुनर्जन्म के दुष्चक्र से मुक्त नहीं कर सकते क्योंकि वे स्वयं ब्रह्म-काल के जाल में फंसे हुए हैं।

किसके ज्ञान से हमारे भीतर का रावण समाप्त होगा?

Dussehra in Hindi | हम सबके अंदर भी रावण है। हमें काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार रूपी विकारों को हराकर अपने अंदर के रावण पर विजय पाने की आवश्यकता है। रावण एक असामाजिक प्रवृत्ति है, अहंकार और अज्ञानता का प्रतीक है, राक्षसी विचारधारा है। अगर अहंकार, असामाजिकता और आतंक जैसी राक्षसी बुराइयों का पुतला जलाना है तो क्यों नहीं पहले हम अपने अंदर इन प्रवृत्तियों को खत्म करें। असंख्य विकार, अकुंठित वासनाएं, राक्षसी स्वभाव सभी के अंदर गुठली मारे बैठा है जिस पर ज़रा सा घर्षण लगते ही सबका असली चेहरा सामने आ जाता है। 

जो बड़ा ही खतरनाक है। दशहरा हमें ये भी संदेश देता है कि अगर कोई गलत कार्य कर रहा है तो उसका विनाश निश्चित है भले ही वह रावण जैसा महायोद्धा या मायावी क्यों न हो। हम जानते हैं कि त्रेतायुग का रावण तो मर गया लेकिन कलयुगी रावण जैसे दहेज, नशा, भ्रष्टाचार, यौन उत्पीड़न, बलात्कार, धार्मिक असंतोष, माया की दौड़ इत्यादि आज भी समाज में विधमान हैं। धरती पर कई युगों के बाद यह दुर्लभ समय आया है जब संत रामपालजी महाराज पूर्ण संत रूप में आए हुए हैं और यही असली राम हैं उनके द्वारा दी जा रही आध्यात्मिक शिक्षा से ही पूरे मानव समाज का कल्याण होगा और हम असली राम को पहचान पाएंगे तथा अपने अंदर व बाहर मौजूद रावण को शांत कर सकेंगे।

मनुष्य जीवन को सफल व समाज को बुराइयों रहित स्थान बनाने के लिए आज ही जगतगुरु तत्त्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी से निःशुल्क नाम दीक्षा ले। अधिक जानकारी के लिए आप उनके सत्संग साधना चैनल पर शाम 7:30 बजे अवश्य देखें।

FAQ about Dussehra [Hindi]

1. दशहरा का क्या महत्व है?

यह राक्षस राजा रावण पर भगवान राम की विजय और राक्षस महिषासुर पर मां दुर्गा की जीत को चिह्नित करने के लिए मनाया जाता है ।

2. रावण किस भगवान की पूजा करता था?

रावण भगवान शिव की पूजा करता था। रावण ने भगवान शिव को दस बार अपना मस्तक काट कर भेंट में चढ़ाया था।

3.दशहरा मनाने से समाज को क्या सीख मिलती है?

दशहरा के दिन रावण, मेघनाद और कुंभकर्ण जैसे राक्षसों के पुतले जलाने से अच्छा बलात्कार, स्त्री निंदा, भ्रूण हत्या, चोरी, भ्रष्टाचार, दहेज, छुआछूत, धार्मिक बंटवारा, क्रोध, वासना, अभिमान, लालच, ईर्ष्या, अन्याय, क्रूरता और अहंकार जैसे व्यक्तिगत दोषों और सामाजिक बुराइयों को हमेशा के लिए जला देना चाहिए।

4.क्या दशहरा पर रावण, मेघनाद और कुंभकर्ण के पुतले जलाने से समाज की प्रगति हो रही है?

नहीं, यह तीनों राक्षस आज भी मनुष्यों में किसी न किसी रूप में विधमान हैं। पहले इन्हें नष्ट करने की ज़रूरत है।

राम,लक्ष्मण,भरत,शत्रुघ्न की बड़ी बहन का नाम क्या था?

1.कौशल्या, 2.सुमित्रा 3. कैकेयी 4. शांता

Dussehra 2022 (Vijayadashami): Did Lord Ram Kill Ravan? [Reality Revealed]

1
Dussehra 2022 (Vijayadashami) Date, Story Mystery of Ram Setu

Last Updated on 3 October 2022, 1:12 PM IST | Dussehra (Vijayadashami) 2022: Dussehra, also popularly known as Vijayadashami & Dashain, is one of the major Hindu festivals celebrated at the end of Navratri. This year, Dussehra festival will be celebrated on October 5, 2022 Wednesday. The day witnesses  ‘Shami puja’, ‘Aparajita puja’, and ‘Seema avalanghan’ rituals. The readers will know if the rituals are conforming to holy scriptures and what is the correct way of worship that fulfills the purpose of human birth. 

Dussehra 2022 (Vijayadashami): Highlights

  • The festival Dussehra symbolizes the triumph of good over evil
  • Dussehra or Vijayadashami is celebrated at the end of Navratri
  • The day witnesses ‘Shami puja’, ‘Aparajita puja’, and ‘Seema avalanghan’ rituals
  • The rituals are not confirmatory to holy scriptures
  • Know correct worship to fulfill the purpose of human birth

Brief Information About Dussehra

Dussehra 2022 (Vijayadashami): The festival Dussehra symbolizes the triumph of good over evil to the Hindu devotees. This festival is celebrated all over India, Nepal, and wherever there is Hindu community. According to the Ramayan, on this day the Hindu god Shri Ram killed the evil King Ravan of Sri Lanka who had abducted his wife. This is celebrated as a victory over Ravan by Lord Shri Ramchandra. The festival traditionally represents the legend of Lord Ram and King Ravan (Ramayan)

When Is Dussehra in 2022?

This year Dussehra will be celebrated on October 5, 2022 the Wednesday. But the religious practices done on this day are opposite to our religious texts so they can’t yield any benefits.

Legend From Ramayana About Dussehra 2022 (Vijayadashami)

Ravan, the demon king of Lanka (Sri Lanka), abducted the beloved wife of Ram, Sita. Shri Ramchandra rescued his wife Sita. Proving victory by killing the powerful and evil king Ravan.

The Dussehra festival is 10 days long. Culminating on the 10th day, Dussehra is celebrated. It also happens to be a holiday. On the day of Dussehra, large wooden effigies filled with dried grass and wrapped by paper of Ravan and his brother Kumbhkaran, and son Meghnath are burnt.  

Durga & Mahishasur Battle Legend of Dussehra 2022 (Vijayadashami) and Navratri

Also known as Dashain or Tenth day of Navratri or Durga utsav, Vijaya Dashmi commemorates the day that Durga appeared riding a lion to slay the demon Mahishasura.

The festival is associated with the prominent battle that took place between goddess Durga and demon Mahishasura and is celebrated as the victory of good over evil by the Hindu community. These nine days are solely dedicated to goddess Durga and her nine Avatars, the Navadurga, by Hindus. The Supreme God is, however, someone else other than Durga as well. 

This is clarified in Shri Devi Puran 7th Skandh where Durga Devi Ji is asking King Himalaya to, leaving everything else, only worship Brahm whose Mantra is “OM”. In Geeta Ji 8:13, the Knowledge-Giver of Geeta Kaal Brahm is saying that His Mantra is “OM” but the salvation attained from his worship is written “Anuttamam”, i.e., very bad in 7:18. So, he asks Arjuna to worship another Supreme God for attaining Supreme Peace in 18:66 and 18:62 whose Mantra is written “Om-Tat-Sat” (this is coded Mantra, not actual) in 17:23 and His way of worship and true knowledge is written to be asked from Tatvadarshi Saint in 4:34. For more info, kindly read the Priceless Book “Gyan Ganga“.

How Is the Festival of Dussehra 2022 (Vijayadashami) Celebrated at Home?

On this day, Hindu families get together. They feast on special vegetarian dishes of sweet and savoury in the evening.

Brief but True Story of Ramayana

In all the four yugas Supreme GOD KABIR Sahib comes with different names. And change the course of history as He wants, So that His beloved souls could easily recognize Him. Read in detail about Ramayan Story in Hindi.

In Tretayuga Supreme GOD KABIR Sahib Has Come as Rishi Munindra 

In Tretayuga, two cousin brothers named Nal and Neel were living a bad life. They were mentally and physically ill (which comes under Teen Taap) and all the sages of that time had told Nal Neel that this pain won’t go away as it is written in their destiny, that they have to live with this burden, and they cannot do anything. But, Nal and Neel never gave up hope that one day a saint might come and cure them. This wish was granted when they came to the Refuge of Sage Munindra. He blessed Nal and Neel and all their pains went away.

Who Built Ram Setu Bridge?

Nal and Neel were overjoyed. They started to do Seva in the Ashram of Sage Munindra where they would take the clothes and utensils for cleaning on the river but because of prolonged illness their mental stability had weakened and they would forget to bring back few of these items which would sink away, so Sage Munindra granted a boon that whatever thing Nal, Neel would place on water will not sink, be it a stone or a metal utensil.

However, on the day Ram Setu was to be built, Nal-Neel didn’t remember their Gurudev out of the craving for praise. Because of which, the Blessing given by their Gurudev finished, and no stone floated on the water by their hands thereafter. Then, realizing their mistake, both of them remembered their Gurudev Rishi Munindra. Then, it was only with the help of Rishi Munindra ji that Shri Ramachandra was able to create the bridge to Sri Lanka. 

Rishi Munindra Took Mandodari in His Refuge

It was Sage Munindra who gave initiation to Chandra Vijay Bhath and his family and then to Mandodari, the wife of Ravan and to Ravan’s younger brother Vibhishan. After listening to Sage Munindra’s spiritual Sermons and taking initiation from Him, Mandodari started to plead in front of Ravan to let go of Sita, and mend his ways, but Ravan was a very egoistic person for whom, beyond Lord shiva there was no one else.

Ravan Didn’t Listen to Sage Munindra, Hence, Suffered

On the request of Mandodari, Sage Munindra agreed to talk to Ravan once and reached the front gate of his Raj Sabha but the guards did not allow Sage Munindra any further as they were ordered to disallow anyone to enter the Raj Sabha as there was a top secret meeting going on. Sage Munindra simply vanished right from the front Gates and reappeared inside the Raj Sabha of Ravan. When Ravan saw Sage Munindra coming in, he was full of rage and anger that whoever has allowed this Sage in will lose his head.

But Sage Munindra stopped Ravan right then, stating that it was not the fault of gatekeepers but He can go anywhere anytime without anyone’s permission and Ravan should release Sita and ask forgiveness from Ramchandra. On hearing these words Ravan jumped from his throne filled with rage and anger. He took the sword out and attacked Sage Munindra with all his might. Sage Munindra was merely holding a single broomstick in His Hand on which fell all the attacks of Ravan, and Ravan got exhausted but because of his egocentric nature, he did not listen to Sage Munindra’s advice and paid the ultimate price with his life.

Ravana was Killed by the Supreme God 

Ravana was so elusive that killing him was not an easy task and Shri Ram also started giving up. Every time Shri Ram used to cut off the head of Ravana with his arrow, another head would emerge again at that place.

When Vibhishan told Rama that aim at its navel, there lies the nectar. But Shri Ram was not able to target that too and being very sad, he remembered Supreme God, hearing Ram’s call, God himself came in a subtle form and shot an arrow in the navel of Ravan. After killing Ravan, Ram bowed down to the Supreme God. That’s how Ravan was Killed.

Is Ram the True GOD?

Hindu consider Shri Ramchandra as God and worship him. However, Shri Ramchandra is not the complete GOD. He is in the cycle of birth and death. He too has to endure the sufferings he is destined for. He took birth from a mother’s womb. Holy Rigveda clearly mentions that the Supreme GOD never takes birth from a mother’s womb. HE does not fall in the cycle of birth and death as HE is Eternal. Only by understanding the true way of worship as guided by a truly enlightened Sage, one can Identify the Real Supreme Ram and attain salvation .

Who Is a True Sage?

A true Sage is the one who can explain all the parts of the inverted hanging world-like tree according to the Srimad Bhagwad Gita Verses 15:1-15:4.  Today, only Saint Rampal Ji Maharaj is the One who is imparting the true spiritual knowledge and the true way of worship to attain the Supreme Almighty. To know who the Supreme Almighty is, kindly listen to the spiritual Discourses of Saint Rampal ji Maharaj on Sadhna TV channel from 7:30 pm (IST) onwards. Please read the Book GYAN GANGA in many different languages. To download the book, download  #Sant Rampal ji Maharaj app from your mobile phone’s play store.

FAQ on Dussehra 2022

What is the meaning of the word Dussehra?

The 10-headed demon king Ravana, abducted Rama’s wife, Sita. The festival’s name is derived from the Sanskrit words dasha (“ten”) and hara (“defeat”).

Why do Hindu people celebrate Dussehra every year?

They celebrate it to remember their God Ram’s victory over the demon king Ravan and the triumph of good over evil.

What are the other names of Dussehra?

Vijayadashami, Dussehra, Dasara or Dashain, are the names of this Hindu festival celebrated at the end of Navaratri every year.

How many sons and relatives of Ravan’s died between the war of Ram and him?

Ravan had one lakh sons and one lakh twenty five thousand grandchildren who all died in the war.

Attorney General of India | वरिष्ठ वकील आर. वेंकटरमणी बने देश के नये अटॉर्नी जनरल, 3 साल का होगा कार्यकाल

0
Attorney General of India आर. वेंकटरमणी बने देश के नये अटॉर्नी जनरल

Attorney General of India | सीनियर एडवोकेट आर. वेंकटरमणी को तीन साल के लिए भारत का नया अटॉर्नी जनरल नियुक्त किया गया है। उन्होंने 1 अक्टूबर को पद संभाला। मौजूदा अटॉर्नी जनरल (AG) के.के. वेणुगोपाल का कार्यकाल 30 सितंबर को समाप्त हो गया है। तीन साल के लिए महान्यायवादी के रूप में सीनियर एडवोकेट आर. वेंकटरमणी (R Venkataramani) को चुना गया है।

Attorney General of India (R Venkataramani) : मुख्य बिंदु

  • सीनियर एडवोकेट आर. वेंकटरमणि को भारत का नया अटॉर्नी जनरल नियुक्त किया गया। 
  • उन्होंने देश के महान्यायवादी (Attorney General) के रूप में 1 अक्टूबर को पद संभाला।
  • सीनियर एडवोकेट आर. वेंकटरमणी (R Venkataramani) का तीन साल का होगा कार्यकाल।
  • मौजूदा अटॉर्नी जनरल (AG) के.के. वेणुगोपाल का कार्यकाल 30 सितंबर को समाप्त हो गया है।
  • केंद्र सरकार ने वेंकटरमणी (R. Venkataramani) से पहले पूर्व ए.जी. मुकुल रोहतगी को अटॉर्नी जनरल के लिए प्रस्ताव दिया था जिसे उन्होंने ठुकरा दिया था।
  • भारतीय संविधान के अनुच्छेद 76 में देश के महान्यायवादी (Attorney General of India-AG) के पद का प्रावधान किया गया है।

Attorney General of India | वर्तमान अटॉर्नी जनरल (AG) कार्यकाल समाप्त

वर्तमान महान्यायवादी (Attorney General) के. के. वेणुगोपाल जिनका कार्यकाल 30 सितंबर को समाप्त हो गया है, 91वर्ष के हो चुके हैं। उन्होंने बढ़ती उम्र की वजह से इस संवैधानिक पद पर बने रहने से मना किया था। के. के. वेणुगोपाल को जुलाई 2017 में देश के शीर्ष कानून अधिकारी यानि अटॉर्नी जनरल के पद पर 3 साल के लिए नियुक्त किया गया था। तीन साल का कार्यकाल पूरा होने पर सरकार ने ए.जी. वेणुगोपाल का कार्यकाल लगातार तीन बार बढ़ाया था।

पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने ठुकराया पद

पूर्व अटॉर्नी जनरल और वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी को कुछ दिन पहले भारत सरकार की ओर से अटॉर्नी जनरल बनने की पेशकश की गई थी जिसे उन्होंने अस्वीकार कर दिया था। जिसके बाद भारत सरकार द्वारा सीनियर एडवोकेट आर. वेंकटरमणि (R. Venkataramani) को अटॉर्नी जनरल नियुक्त किया गया है। 

■ यह भी पढ़ें: Supreme Court Decision on Sedition Law | सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, देशद्रोह कानून पर लगाई रोक, नहीं होंगे नये मामले दर्ज

हम आपको याद दिला दें कि मुकुल रोहतगी पूर्व में जून 2014 से जून 2017 के बीच महान्यायवादी (Attorney General) के पद पर रह चुके हैं।

कौन हैं एडवोकेट आर. वेंकटरमणि (R Venkataramani) ?

भारत सरकार द्वारा देश के शीर्ष कानून अधिकारी यानि अटॉर्नी जनरल (AG) के पद पर नियुक्त किये गए सीनियर एडवोकेट आर. वेंकटरमणि (R Venkataramani) सुप्रीम कोर्ट में वरिष्‍ठ वकील और लॉ कमीशन ऑफ इंडिया के सदस्‍य हैं। इसके अलावा 2010 में वे विधि आयोग के भी सदस्य रह चुके हैं। एडवोकेट वेंकटरमणी ने 1 अक्टूबर को महान्यायवादी (Attorney General) का पद संभाला।

अटॉर्नी जनरल एक संवैधानिक पद

अटॉर्नी जनरल यानि महान्यायवादी एक संवैधानिक पद है, जिसका प्रावधान भारतीय संविधान के अनुच्छेद 76 में किया गया है। भारत का महान्यायवादी (AG) संघ की कार्यकारिणी का एक अंग होता है। अटॉर्नी जनरल देश का सर्वोच्च कानून अधिकारी होता है। जिसकी नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा सरकार की सलाह पर की जाती है।

न्याय क्या है ?

भारतीय संविधान की उद्देशिका/प्रस्तावना (Preamble) में सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक तीन प्रकार के न्याय की बात कही गई है। लेकिन वर्तमान समय में न्यायालयों में न्याय मिलने की देरी के कारण गरीब और मध्यमवर्गीय व्यक्ति को या तो न्याय नहीं मिल पाता है, या फिर वह व्यक्ति न्याय की आस ही छोड़ देता है। लेकिन असल में न्याय तो परमात्मा ही करता है। इसलिए परमात्मा को सच्चा न्यायाधीश कहा जाता है। परमेश्वर कबीर जी कहते हैं – 

दुर्बल को न सताइये, जाकी मोटी हाय।

बिना जीव की स्वाँस से, लोह भस्म ह्नै जाय।।

सच्चा न्यायाधीश है कबीर परमात्मा

कबीर परमेश्वर (God KABIR) सच्चा न्यायाधीश है जो कभी अन्याय नहीं करता और उसे किसी के साक्ष्य की भी आवश्यकता नहीं पड़ती है, क्योंकि वह मन तक कि जानने वाला है। जिनके विषय में संत गरीबदास जी ने कहा है 

चींटी पायल बाजे पैर, साहिब सुनता है सब लैर।” 

इसलिए परमेश्वर को अंतर्यामी कहा जाता है। न्यायकारी होने की वजह परमेश्वर को संतों ने अदली अर्थात न्यायकारी कहकर संबोधित किया है। संत गरीबदास जी महाराज कहते हैं –

गरीब, जम जौरा जासे डरैं, धर्म राय धरै धीर। 

ऐसा सतगुरु एक है, अदली असल कबीर।।

गरीब, जम जौरा जासे डरैं, मिटें कर्म के लेख। 

अदली असल कबीर हैं, कुल के सतगुरु एक।।

परमेश्वर की सही जानकारी पाने के लिए आज ही गूगल प्ले स्टोर से डाऊनलोड करें Sant Rampal Ji Maharaj App .

What is Lumpy Skin Disease And Its Remedy?

0
What is Lumpy Skin Disease And What is its Permanent Cure

Lumpy skin disease (LSD) is a viral disease of cattle and water buffalo that causes relatively low mortality; however, this disease can lead to animal welfare problems and significant production losses. The disease is mainly spread by biting insects, such as some types of flies, mosquitoes, and possibly ticks.

Lumpy Skin Disease (LSD): Highlight

  • LSD is a contagious viral infection that infects cattle 
  • It causes fever and, nodules on the skin, and sometimes lead to death
  • Around 1.6 million cattle were infected in 197 districts due to LSD
  • 90,000 cattle have died due to LSD till last week
  • LSD is a contagious viral infection that has 47 virus variants found in India
  • ICAR develops vaccines and transfers technology for commercial production
  • Sat-Bhakti is a permanent remedy

Lumpy Skin Disease (LSD): Why is Lumpy Skin Disease (LSD) in the News?

Lumpy Skin Disease (LSD) is a contagious viral infection that infects cattle to increase body temperature, and nodules on the skin, and sometimes lead to death. The cattle infected due to LSD are estimated at around 1.6 million and 90,000 have lost their lives till last week. LSD first started in Rajasthan and Gujarat and then quickly spread to many states across the nation. LSD is present in cattles in Assam, Andhra Pradesh, Bihar, Chhattisgarh, Goa, Gujrat, Haryana, Jharkhand, Karnataka, Maharashtra, Madhya Pradesh, Manipur, Odisha, Tamil Nadu, Telangana, Uttar Pradesh, and West Bengal.

What is Lumpy Skin Disease (LSD)?

Lumpy skin disease (LSD) is an infectious viral disease of cattle and buffalo caused by the Capripox virus of the Poxviridae family. The disease is characterized by a mild fever for 2-3 days followed by the development of hard, round skin nodules (2-5 cm in diameter) on the skin all over the body. These nodules are circumscribed, firm, round, and raised and involve the skin, subcutaneous tissue, and sometimes muscle. 

Symptoms can include lesions in the mouth, pharynx and respiratory tract, emaciation, enlarged lymph nodes, swelling of the limbs, reduced milk production, miscarriage, infertility, and sometimes death. Council of Scientific and Industrial Research – Institute of Genomic and Integrative Biology scientists confirmed that the lumpy skin disease transmission is due to a contagious virus that has 47 variants in the country. ICAR- NISHAD, Bhopal has the full testing facility to confirm suspected LSD cases.

How is LSD Transmitted?

Lumpy skin disease is primarily spread among animals by biting insects (vectors) such as mosquitoes and biting flies, ticks, lice, and wasps along with contaminated food and water.

Lumpy Skin Disease (LSD): What are LSD Symptoms?

It primarily consists of fever, fluid discharge from the eyes and nose, saliva dripping from the mouth, and blisters on the body. The animal stops eating and faces problems in chewing or eating, which leads to a decrease in milk production.

What is the Effect of LSD?

Although infected animals often recover within 2-3 weeks, milk yield in lactating cattle is reduced for several weeks. Morbidity is around 10-20% and mortality is around 1-5%.

How to Detect Suspicious Cattle?

Clinical surveillance of the susceptible cattle population for nodular skin lesions should be carried out along with the recording of morbidity and mortality data in suspected LSD areas. Monthly clinical follow-up data should be reported to the DAHD in the prescribed format. Sample submissions from representative samples of clinically affected animals (EDTA blood and skin biopsies/scabs) from suspected LSD outbreak animals should be sent to ICAR-NIHSAD, Bhopal for laboratory testing.

■ Read in Hindi: Lumpy Virus [Hindi] | देश के 13 राज्यों में फैला लंपी वायरस, लाखों गाय प्रभावित

Lumpy Skin Disease (LSD): Indian Government Issues An Advisory

Upmanyu Basu, Joint Secretary, Department of Animal Husbandry and Dairying, Ministry of Fisheries Animal Husbandry & Dairying, Government of India issued an advisory on September 02, 2022. The advisory suggests measures for prevention and control:

  • Immediate isolation of sick/infected animals from healthy animals
  • No animal suspected of having febrile nodular skin disease should be placed on an unaffected holding or farm
  • In affected villages and farms with animals, the affected animal should be kept separate from the unaffected animals by avoiding common grazing and thus direct contact.
  • Efforts should be made to reduce the vector population in affected areas. An unaffected animal should be treated with an insect repellent (ticks, flies, mosquitoes, fleas, gnats) to minimize mechanical transmission of LSD
  • Ensure strict control of the movement of animals from affected areas to free areas and local animal markets
  • Trade in live cattle and participation in fairs and exhibitions should be prohibited immediately after confirmation of infection in affected areas.
  • All biosecurity measures and strict hygiene measures should be observed for disposal of personal protective equipment (PPE) etc. used in sampling from affected animals
  • Livestock markets located within 10 km of the epicenter of the infection should be closed
  • Thorough cleaning and disinfection of affected personnel, premises, and contaminated environment including vehicles passing through affected animal farms should be carried out with appropriate chemicals/disinfectants [ether (20%), chloroform, formalin (1%), phenol (2%/15 minutes ), sodium hypochlorite (2–3%), iodine compounds (1:33 dilution), quaternary ammonium compounds (0.5%)].

Lumpy Skin Disease (LSD): Bovine Semen Can Be Infected

  1. Semen should not be collected and processed for the production and distribution of frozen bovine semen from animals showing clinical signs of LSD
  2. Blood and semen from affected and clinically obtained animals shall be subjected to PCR detection of the causative agent with negative results prior to use for AI/natural service.

Awareness Campaign is Necessary to Avoid New Infections

An information campaign must be carried out regarding the clinical signs and production losses due to LSD. As soon as suspected cases are recorded, the veterinary authority should be reported immediately.

Lumpy Skin Disease (LSD): GOI Suggests the Therapy

A. Sick animals should be kept in isolation

b. Symptomatic treatment of affected animals can be carried out after consultation with a veterinarian

C. Administration of antibiotics for 5-7 days to control secondary infection may be considered on a case-by-case basis to control secondary bacterial infection.

d. Administration of an anti-inflammatory and antihistamine may also be considered.

E. Paracetamol can be given in case of pyrexia

F. Application of an antiseptic ointment with fly repellent properties is recommended on eroded skin

G. Parenteral / oral multivitamins are recommended.

h. Liquid diet, soft feed and forage, and succulent pasture are recommended for infected animals.

Lumpy Skin Disease (LSD): Disposal of carcasses of animals affected by LSD

In the event of death, animal carcasses should be disposed of by deep burial.

India Needs 180-200 Million Indigenous Lumpy Vaccine Doses

As per estimation, the cattle population is around 193 million in India. To completely cover this population the country will require around 180-200 million indigenous lumpy vaccine doses.  ICAR’s Deputy Director-General (Animal Sciences) BN Tripathi says a minimum of 80 percent vaccination is required to achieve herd immunity. Unlike Africa, where the disease took decades to eliminate, there is a need to include the Lumpy vaccines in the country’s regular animal diseases protection program.

ICAR Develops Lumpy Skin Disease Vaccine

ICAR claims that the domestic vaccine, ‘Lumpi-ProVacind’ is safe. A single dose of the vaccine contains 103.5 TCID50 of live-attenuated LSDV (Ranchi strain). The homologous live-attenuated LSD vaccines develop immunity that lasts for one year. Lumpi-ProVacind induces LSDV-specific antibody and cell-mediated immune response. LSD provides complete protection against lethal LSDV challenges. The vaccine is used for the prophylactic immunization of animals against Lumpy Skin Disease. ICAR has applied for a patent for the technology.

ICAR All Set to Transfer Technology for Commercial Production

The premier research organization Indian Council of Agriculture Research (ICAR) has entered into an agreement with Bangalore-based company Biovet Private Ltd. ICAR will supply technology for the commercial production of the indigenous vaccine of Lumpy Skin Disease (LSD) called ‘Lumpi-ProVacind’.

Agrinnovate, the commercial arm of ICAR, has lined up for a grant of non-exclusive license of ‘Lumpi-ProVacind’. Hester Biosciences Ltd, Indian Immunological Ltd (IIL), an arm of NDDB, Haryana Veterinary Vaccine Institute, and some other organizations in Maharashtra may enter into an agreement with ICAR for the manufacture of vaccines.

ICAR’s National Research Centre on Equines (NRCE) at Hisar, Haryana, and the Indian Veterinary Research Institute (IVRI) at Izatnagar, have jointly developed Lumpi-ProVacInd. The vaccine is a live attenuated vaccine, like those used against tuberculosis, measles, mumps, and rubella.

Is it safe to drink milk from cattle infected with LSD?

The disease does not affect humans as it is a non-zoonotic infection and is not transmissible from animals to humans, a senior Indian Veterinary Research Institute (IVRI) official told PTI recently.

Ashok Kumar Mohanty, who is the joint director of IVRI, said there is no impact on the safety and quality of milk from infected cattle, which is safe to consume. He also stated that there is no problem with the quality, regardless of whether it is consumed after cooking or without cooking.

However, the infection can affect milk production in cattle. Depending on the severity of the disease and the animal’s level of immunity, milk production may decrease. This can have a local impact on milk production. The animal becomes weak due to LSD infection and due to the formation of nodules, fever, and other symptoms, said Mohanty.

However, this impact on milk production in infected cattle can be reduced by vaccination. Without vaccination, the first infection can end up reducing the milk production of cattle by 40-50 percent, the IVRI official added.

The readers should know that Karnataka- based brand Nandhini and Gujrat-based brand Amul procure 85 LLPD and 215 LLPD respectively. The outbreak has also hit milk production, which has fallen by more than 20 percent in Rajasthan.

What is a Permanent Remedy?

The bovine and its owners both are in trouble. Srimad Bhagvad Gita says as you sow so you reap. But how to eliminate the effect of past karmas by devotion? Yes, it is possible by adopting Sat-Bhakti from enlightened Sant Rampal Ji Maharaj. Take refuge at the lotus feet of Sant Rampal Ji Maharaj and achieve worldly happiness and attain salvation. For learning more, download Sant Ramal Ji Maharaj App and learn Sat-Gyan.

5G Launch in India [Hindi] | देश में हुआ 5G सर्विसेज का आगाज, इंटरनेट की पांचवी जनरेशन है 5G

0
5G Launch in India [Hindi] देश में हुआ 5G का आगाज [5G Cities List]

5G Launch in India [Hindi] | देश में कल यानि एक अक्टूबर से 5G Services की शुरुआत हो गई है। इंडियन मोबाइल कांग्रेस (IMC 2022) के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5G सर्विसेस लॉन्च की। 5G के आने से इंटरनेट स्पीड 4G की तुलना में करीब 10 गुना बढ़ जाएगी। यह सेवा अल्ट्रा स्पीड इंटरनेट की सुविधा देगी। 8 शहरों से 5G सर्विसेज शुरू की गई है।

5G Launch in India [Hindi]: मुख्य बिंदु

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल एक अक्टूबर को 5G Services का किया उद्घाटन।
  • 5G सेवा को देश के 8 शहरों में किया गया शुरू, यह सेवा प्रथम चरण में 13 शहरों में शुरू होगी।
  • 5G के आने से इंटरनेट स्पीड 4G की तुलना में करीब 10 गुना बढ़ जाएगी। 
  • सरकार का अगले दो सालों में देश के कोने कोने तक 5G Services पहुंचाने का लक्ष्य है।
  • Jio ने 2023 तक तो भारतीय एयरटेल ने 2024 तक देश में 5G सर्विसेज पहुंचाने की बात कही।

प्रधानमंत्री ने 5G Services Launch की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल एक अक्टूबर को नई दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित होने वाले इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2022 के छठे संस्करण में बहुप्रतीक्षित सेवा का शुभारंभ किया। साथ ही देश में 5G Services का उद्घाटन किया। जिन आठ शहरों में 5जी सर्विस शुरू की गई, उनमें दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, वाराणसी का नाम शामिल है। 

8 शहरों में 5G Services शुरू

वैसे तो प्रथम चरण में 13 शहरों में 5G सर्विस शुरू होनी है। इन शहरों में दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, बेंगलुरु, चंडीगढ़, गुरुग्राम, हैदराबाद, लखनऊ, पुणे, गांधीनगर, अहमदाबाद और जामनगर शामिल हैं। लेकिन उद्घाटन के दौरान 8 शहरों से 5G Services की शुरुआत की गई। जिनमें दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, वाराणसी आदि शामिल हैं। भारतीय एयरटेल ने 8 तो जिओ ने 4 शहरों में 5G सर्विसेज की शुरुआत की। वहीं वोडाफोन-आईडिया ने जल्द ही अपनी 5G सर्विस शुरू करने की बात कही है।

दो साल में मिलेगी पूरे देश को 5G Services

5G सर्विसेस के उद्घाटन के बाद केंद्रीय संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि “देश के कोने-कोने में अगले कुछ महीनों में 5G सेवा उपलब्ध होनी शुरू होगी। अगले 6 महीने में कम से कम 200 से अधिक शहरों में इसके साथ-साथ कई कस्बों और गांवों में भी 5G सेवा शुरू होगी। कोशिश रहेगी कि अगले 2 वर्षों में देश के 80-90% इलाकों में 5G सेवा उपलब्ध हो। BSNL भी अगले वर्ष 15 अगस्त के आसपास भारत में निर्मित 5G सेवा शुरू करेगा। 5G से स्वास्थ्य, कृषि, शिक्षा क्षेत्र को सबसे ज्यादा फायदा होगा।”

वहीं मुकेश अंबानी ने इंडियन मोबाइल कांग्रेस में कहा कि JIO के जरिए दिसंबर 2023 तक देश के हर कोने में 5G सर्विस पहुंचाई जाएगी। वहीं एयरटेल का 2024 तक पूरे देश में 5G Services को पहुंचाने का प्लान है।

5G Services शुरू होने से फायदे

  • 5G Service शुरू होने के बाद देश में इंटरनेट की स्पीड 10 गुना तक बढ़ जाएगी। यह सर्विस अल्ट्रा स्पीड इंटरनेट की सुविधा देगी।
  • इस टेक्नोलॉजी से ऑटोमेशन को बढ़ावा मिलेगा, साथ ही ई-मेडिसिन, एजुकेशन, रूरल सेक्टर और कृषि को काफी बढ़ावा मिलेगा।
  • इंटरनेट ऑफ थिंग्स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और रोबोटिक्स इंडस्ट्री को 5G Services से फायदा होगा। देश में ई-गवर्नेंस का दायरा काफी बढ़ जाएगा।
  • 5G टेक्नोलॉजी से हेल्थकेयर, वर्चुअल रियलिटी के लिए नए रास्ते खुल सकते हैं।
  • 5G में, 4जी के मुकाबले 10 से 20 गुना तेजी से डाटा डाउनलोड स्पीड होगी।
  • वहीं इस सर्विस से वीडियो बिना रुके या बिना बफरिंग के स्ट्रीम कर सकेंगे।
  • 5G Service के आने से इंटरनेट कॉल में आवाज बिना रुके और साफ आएगी।

5G Launch in India [Hindi] | 5G टेक्नोलॉजी का डेमो

दिल्ली के प्रगति मैदान में एक अक्टूबर से टेलीकॉम इंडस्ट्री के बड़े इवेंट इंडियन मोबाइल कांग्रेस के छठे संस्करण की शुरूआत हुई है। यह इवेंट 4 दिन तक चलेगा। इस इवेंट में भारत में 5G टेक्नोलॉजी की क्षमता दिखाने के लिए देश के तीन प्रमुख टेलीकॉम ऑपरेटर जियो, एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने प्रधानमंत्री के सामने एक-एक यूज केस का लाइव टेस्ट कराया। 

इंटरनेट की पांचवी जनरेशन है 5G

इंटरनेट नेटवर्क के पांचवें जनरेशन को 5G कहते हैं। यह एक वायरलेस ब्रॉडबैंड इंटरनेट सर्विस है, जो हाई स्पीड इंटरनेट सर्विस उपलब्ध कराती है। इसमें मुख्य तौर पर तीन तरह के फ्रीक्वेंसी बैंड होते हैं।

  1. लो फ्रीक्वेंसी बैंड- एरिया कवरेज में सबसे बेहतर होता है और इसकी इंटरनेट स्पीड कम यानि 100 Mbps होती है।
  2. मिड फ्रीक्वेंसी बैंड- इसकी इंटरनेट स्पीड लो बैंड से ज्यादा 1.5 Gbps होती है। लेकिन एरिया कवरेज लो फ्रीक्वेंसी बैंड से कम होता है। जबकि सिग्नल के मामले में अच्छा होता है
  3. हाई फ्रीक्वेंसी बैंड- इसकी इंटरनेट स्पीड सबसे ज्यादा 20 Gbps होती है जबकि इसका एरिया कवर सबसे कम होता है। यह सिग्नल के मामले में अच्छा होता है।

टेक्नोलॉजी के साथ साथ भगवान को भी जानना जरूरी

वैसे तो दुनिया 5G, 6G टेक्नोलॉजी तक पहुंच गई है लेकिन उसे आज भी सबका मालिक एक कौन है? यह पता नहीं लग पाया है। हम कितनी भी बड़ी से बड़ी टेक्नोलॉजी खोज लें, यदि भगवान की भक्ति नहीं करेंगे तो जब कोई हमारे ऊपर संकट लाईलाज बीमारी या आपदा के रूप में आएगा तो यह टेक्नोलॉजी धरी रह जाती है और हमारी रक्षा नहीं हो पाती, लाईलाज बीमारियां ठीक नहीं हो पाती। जबकि हम यदि भगवान की सतभक्ति करते हैं तो परमात्मा हमारी पल पल में रक्षा करता है।

सबका मालिक एक कौन हैं?

वैसे तो लोग श्री विष्णु, शिव, दुर्गा, गणेश, राम, कृष्ण, अल्लाह आदि को पूजते हैं। लेकिन यदि धर्म ग्रंथों के अनुसार देखा जाए तो 600 वर्ष पूर्व काशी शहर में जुलाहे की भूमिका करने वाला कबीर ही पूर्ण परमात्मा है। उसे ही भाषा भिन्न की वजह से वेदों में कविर्देव, कुरान शरीफ में अल्लाह अकबर, गुरु ग्रंथ साहिब में हक्का कबीर कहकर संबोधित किया गया है तथा परमात्मा प्राप्त संतों ने उसे सत कबीर, बन्दीछोड़ कबीर कहा है।

कबीर साहेब जी अपनी जानकारी स्वयं बताते हुए कहते हैं –

कविः नाम जो बेदन में गावा, कबीरन् कुरान कह समझावा।

वाही नाम है सबन का सारा, आदि नाम वाही कबीर हमारा।।

कबीर, हमहीं अलख अल्लाह हैं, मूल रूप करतार।

अनंत कोटि ब्रह्मांड का, मैं ही सृजनहार।।

परमेश्वर कबीर जी की सम्पूर्ण जानकारी के लिए Sant Rampal Ji Maharaj App गूगल प्ले स्टोर से डाऊनलोड करें या फिर Sant Rampal Ji Maharaj Youtube Channel पर विजिट करें।

Haryana, Bhuna News [Hindi] | भारी बारिश के चलते भूना शहर में बाढ़, 1500 परिवारों ने घर छोड़ा, संत रामपाल जी बने लोगों के सहायक

0
Haryana News [Hindi] भारी बारिश के चलते हरियाणा के भूना शहर में बाढ़

Haryana News [Hindi] | फतेहाबाद के भूना शहर में बीते दिनों हुई भारी बारिश से हालात बिगड़ गए हैं। बाढ़ में भूना शहर में की आधी आबादी के सामने रहने-खाने की समस्या बनी हुई है। इसी समस्या के चलते 1500 परिवारों ने घर छोड़ दिया है। बाढ़ की स्थिति में संत रामपाल जी लोगों के सहायक बने हैं।

Haryana News [Hindi] : मुख्य बिंदु

  • हरियाणा के फतेहाबाद के भूना शहर में हुई भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं।
  • कुदरत की आफत के सामने बेवश हुए लोग।
  • भूना शहर की 30 हजार आबादी जिंदगी के लिए जद्दोजहद कर रही है।
  • बाढ़ के चलते 1500 परिवारों ने अपना घर छोड़ा।
  • कुदरत की आफत के सामने जिला प्रशासन के राहत के प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं।
  • बाढ़ के इस संकट में संत रामपाल जी के अनुयाई लोगों तक भोजन आदि की पहुंचा रहे मदद।

फतेहाबाद के भूना में बाढ़ जैसे हालात

भूना शहर की कुल आबादी करीब 60 हजार है। फतेहाबाद में चार दिन लगातार हुई भारी बारिश के कारण सबसे अधिक भयावह हालात भूना में बने हुए हैं। भूना की आधी से ज्यादा आबादी बाढ़ की चपेट में है। जलभराव के संकट के बीच भूनावासियों को खाने-पीने की चीजों के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है। बाढ़ प्रभावित इलाकों में बिजली नहीं आने के कारण भी लोग काफी परेशान हैं। जिससे 1500 परिवारों ने घर छोड़कर अपने रिश्तेदारों व धर्मशालाओं में शरण ली हुई हैं।

Haryana News [Hindi] | जायजा लेने पहुंचे SDM को लोगों ने घेरा

जब एसडीएम राजेश कुमार हालातों का जायजा लेने पहुंचे तो लोगों ने उन्हें घेर लिया। बाद में लोगों ने सिरसा-चंडीगढ़ रोड भी जाम कर दिया। उन्होंने एसडीएम को पूरी समस्या बताई कि घरों में कई कई फुट पानी भरा है। लोग बाहर नहीं निकल सकते, न बिजली है, न पानी है। लोग कैसे जी रहे हैं, प्रशासन समझ नहीं सकता।

Bhuna Fatehabad News | ट्रैक्टर और कस्तियां बनी लोगों का सहारा

भूना के बाढ़ग्रस्त क्षेत्र में ट्रैक्टर व प्रशासन द्वारा चलाई जा रही कस्तियां लोगों का सहारा बनी हुई हैं। 25 ट्रैक्टरों व छह कस्तियों के जरिये ही लोग इधर से उधर आते और जाते हैं।

राहत पहुंचाने में लगा प्रशासन

Haryana News [Hindi] | फतेहाबाद उपायुक्त जगदीश शर्मा ने बताया कि “भूना में बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत पहुंचाने में प्रशासन लगा हुआ है। जलभराव को खत्म करने के लिए 16 पंपसेट दिन-रात चल रहे हैं। लोगों की मदद के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। दो दिन में स्थिति सामान्य हो जाएगी।” लेकिन आपको बता दें कि प्रशासन के राहत के प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं। बाढ़ से अब तक भूना वासियों को राहत नहीं मिल सकी है।

■ Also Read | 153वीं गांधी जयंती (Gandhi Jayanti) पर जानिए वर्तमान में कौन है सत्य व अहिंसा का मार्गदर्शक?

संत रामपाल जी के अनुयाई पहुंचा रहे राहत सामग्री

प्राकृतिक संकट के बीच संत रामपाल जी महाराज के अनुयाई बाढ़ में फंसे लोगों की हरसंभव सहायता कर रहे है। खाने-पीने की जरूरी चीजों से लेकर मरीजों के लिए मुफ्त दवाइयां, दूध और अन्य राहत सामग्री की व्यवस्था भी संत जी के अनुयाई द्वारा की जा रही है। संत जी के अनुयायियों का कहना है की संत रामपाल जी महाराज मानव धर्म की शिक्षा देते हैं। उनकी शिक्षा पर ही चलकर हम अनुयाई मानवता और परोपकार का यह कार्य कर रहे है। संत रामपाल जी के आदेश से अंतिम व्यक्ति तक सहायता पहुंचाने का पूरा प्रयास किया जा रहा है।

भूना वासियों पर महामारियों का संकट मंडराया

वैसे तो अभी तक महामारी के फैलने की कोई खबर सामने नहीं आई है। लेकिन इस प्रकार की आपदाओं से हमेशा ही महामारियों के फैलने का भय बना रहता है। यहीं संकट भूना वासियों पर बना हुआ है। इन सबसे भूना वासियों को बचाने के लिए संत रामपाल जी महाराज के अनुयायियों द्वारा स्वास्थ्य शिविर के माध्यम से दवाइयों का भी प्रबंधन किया जा रहा है।

आपदाओं से बचने का उपाय

इस वक्त पृथ्वी पर पूर्णसंत रूप में संत रामपाल जी महाराज विद्यमान हैं जो पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब जी की शास्त्रानुकूल भक्ति बताते हैं। जिससे उनके अनुयायियों को वो लाभ मिलते हैं जो परमात्मा देता है। क्योंकि परमात्मा ही वह शक्ति है जो हमारी प्रत्येक आपदाओं, रोगों आदि से रक्षा करता है। जिसके विषय में संतों ने कहा है 

“संकट मोचन कष्ट हरण हो, 

मंगल करन कबीर, 

कि आ गए शरण तेरी।” 

यहीं प्रमाण कबीर सागर में है कि परमेश्वर कबीर जी सबका रक्षक है। लेकिन परमेश्वर कबीर जी से लाभ प्राप्त करने के लिए पूर्णसंत से दीक्षा लेकर सतभक्ति करनी होती है तभी परमेश्वर हमारी पल पल में रक्षा करता है। कबीर सागर, बोधसागर खंड, अध्याय ज्ञानप्रकाश के पृष्ठ 23 की वाणी है कि 

सत्य पुरुष वह सत्यगुरु आहीं। सत्यलोक वह सदा रहाहीं।।

सकल जीवके रक्षक सोई। सतगुरु भक्ति काज जिव होई।।

सतगुरु सत्यकबीर सो आहीं। गुप्त प्रगट कोइ चीन्है नाहीं।।

पूर्णसंत सतगुरु संत रामपाल जी महाराज से नामदीक्षा लेने और सम्पूर्ण आध्यात्मिक ज्ञान को जानने के लिए गूगल प्लेस्टोर से डाऊनलोड करें Sant Rampal Ji Maharaj App

153वीं गांधी जयंती (Gandhi Jayanti) पर जानिए वर्तमान में कौन है सत्य व अहिंसा का मार्गदर्शक?

0
153वीं गांधी जयंती (Gandhi Jayanti) पर जानिए वर्तमान में कौन है सत्य व अहिंसा का मार्गदर्शक

Last Updated on 1 October 2022, 3:50 PM IST | गांधी जयंती 2022 (Gandhi Jayanti in Hindi) | भारत संतों, महापुरूषों और देशभक्तों की जन्मभूमि है। भारत विलक्षण प्रतिभा के लोगों की कर्मभूमि भी है। जब भारत अंग्रेजों का गुलाम था तो भारत को आज़ाद करवाने में देश के प्रत्येक वर्ग ने अपने अपने तरीके से योगदान दिया, उन्हीं में से एक थे महात्मा गांधी जी। 2 अक्टूबर, 2022 को देश महात्मा गांधी जी की 153वीं जयंती मना रहा है। प्रति वर्ष 2 अक्टूबर को उनका जन्म दिन भारत में गांधी जयंती के रूप में और पूरे विश्व में अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता है। गांधी जी को लोग प्रेम और सम्मानपूर्वक कई नामों से संबोधित करते हैं जैसे महात्मा गांधी, बापू और राष्ट्रपिता। तो आइए जानते हैं गांधी जी से जुड़ी कुछ मुख्य बातें, उनके विचार और उनका जीवन परिचय।

Table of Contents

गांधी जयंती 2022 (Gandhi Jayanti): महात्मा गांधी जी का संक्षिप्त जीवन परिचय

महात्मा गांधी जी का भारत को आज़ादी दिलाने में बहुत महत्वपूर्ण योगदान रहा है। राष्ट्र हितैषी, सत्य व अहिंसा के मार्ग पर चलकर देश को आज़ाद कराने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी का जन्म 02 अक्टूबर, 1869 को गुजरात राज्य के तटीय क्षेत्र पोरबंदर में हुआ। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी (M.K. Gandhi) था। उनके पिता जी का नाम करमचंद उत्तमचंद गांधी एवं माता जी का नाम पुतलीबाई गांधी था।

Gandhi Jayanti in Hindi [Hindi] | महात्मा गांधी जी की धर्मपत्नी का नाम कस्तूरबा गांधी एवं उनके चार पुत्रों का नाम हरीलाल गांधी, रामदास गांधी, देवदास गांधी और मणिलाल गांधी था। गांधी जी ने अपना अधिकतर जीवन साबरमती आश्रम में बिताया और वह धोती व सूत से बनी शाल पहना करते थे जिसे वे स्वयं चरखे पर सूत कातकर हाथ से बनाते थे। वह सादा शाकाहारी भोजन खाया करते थे और आत्मशुद्धि के लिये उपवास भी रखते थे। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अग्रणी रहे गोपाल कृष्ण गोखले महान स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ ही एक मंझे हुए राजनीतिज्ञ भी थे। उन्होंने गांधी जी को देश के लिए लड़ने की प्रेरणा दी। वो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के राजनीतिक गुरु थे। बचपन से ही गांधी जी की अध्यात्म को जानने में रुचि थी जिस कारण राजचन्द्र जी को उन्होंने अपना आध्यात्मिक गुरु बनाया।

Gandhi Jayanti in Hindi | पर महात्मा गांधी जी के प्रारम्भिक जीवन से लेकर अंतिम सफ़र तक का विवरण

महात्मा गांधी जी का प्रारंभिक जीवन पोरबंदर में ही बीता। प्राथमिक पाठशाला से उनकी पढ़ाई प्रारंभ हुई। वह पाठशाला उनके घर के पास ही थी। जब मोहन के पिता पोरबंदर से राजकोट रियासत के दीवान बनकर गए तब उनके साथ महात्मा गांधी जी भी गए। 12 वर्ष का होने तक उनकी पढ़ाई राजकोट की पाठशाला में ही हुई। गांधी जी में बाल्यकाल से ही सत्य के प्रति निष्ठा थी एवं वे सात्विक विचारों से ओतप्रोत थे। अपने विद्यार्थी जीवन में उन्होंने अपने गुरुओं से एक बार भी झूठ नहीं बोला। सत्य का उन्होंने अपने जीवन में एक मंत्र की तरह पालन किया। उस समय बालविवाह प्रचलन में था। महात्मा गांधी जब 13 वर्ष के हुए तब उनका विवाह 14 वर्षीय कस्तूरबा से कर दिया गया।

Gandhi Jayanti in Hindi | आगे की शिक्षा पोरबंदर में शुरू हुई। पोरबंदर से उन्होंने मिडिल और राजकोट से हाई स्कूल किया। दोनों परीक्षाओं में शैक्षणिक स्तर पर वह एक साधारण छात्र रहे। मैट्रिक के बाद की परीक्षा उन्होंने भावनगर के शामलदास कॉलेज से कुछ समस्या के साथ उत्तीर्ण की। जब तक वे वहाँ रहे अप्रसन्न ही रहे क्योंकि उनका परिवार उन्हें बैरिस्टर बनाना चाहता था। अपने 19वें जन्मदिन से लगभग एक महीने पहले 4 सितम्बर 1888 को गांधी जी यूनिवर्सिटी कॉलेज लन्दन में कानून की पढ़ाई करने और बैरिस्टर बनने के लिये इंग्लैंड चले गये वहां से लौटने पर उन्होंने वकालत प्रारम्भ की। 

■ यह भी पढ़ें: 2 अक्टूबर: “जय जवान जय किसान” का नारा देने वाले द्वितीय प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री (Lal Bahadur Shastri) की जयंती

गांधी जयंती 2022 [Hindi]: ‘सत्य के प्रयोग’ महात्मा गांधी द्वारा लिखी वह पुस्तक है, जिसे उनकी आत्मकथा का दर्जा हासिल है। गांधी जी ने यह पुस्तक मूल रूप से गुजराती में लिखी थी। इस पुस्तक का लेखन बीसवीं शताब्दी में सत्य, अहिंसा और ईश्वर का मर्म समझने-समझाने के विचार से किया गया था। गांधी जी ने 29 नवंबर, 1925 को इस किताब को लिखना शुरू किया था और 3 फरवरी, 1929 को यह किताब पूरी हुई थी। इस पुस्तक के हिंदी में भी अनुवाद किए जा चुके हैं।

दक्षिण अफ्रीका (1893-1914) में नागरिक अधिकारों के आन्दोलन

गांधी जी का सामाजिक जीवन दक्षिण अफ़्रीका में प्रारम्भ हुआ वहाँ उन्होंने भारतीयों की खूब सहायता की। सबसे पहले गांधी जी ने प्रवासी वकील के रूप में दक्षिण अफ्रीका में भारतीय समुदाय के लोगों के नागरिक अधिकारों के लिये संघर्ष हेतु सत्याग्रह करना आरम्भ किया। 1915 में उनकी भारत वापसी हुई। उसके बाद उन्होंने यहाँ के किसानों, श्रमिकों और नगरीय श्रमिकों को अत्यधिक भूमि कर और भेदभाव के विरुद्ध आवाज़ उठाने के लिये एकजुट किया। अंग्रेजों ने गांधी जी को सार्वजनिक सेवा के लिए 1915 में ‘केसर-ए-हिंद’ की उपाधि भी प्रदान की। 

गांधी जयंती पर जाने गांधी जी द्वारा चलाए गए आंदोलन के बारे में

  1. चंपारण सत्याग्रह : बिहार के चंपारण से महात्मा गांधी के नेतृत्व में यह पहला सत्याग्रह था। 1917 में बिहार के चंपारण पहुंचकर खाद्यान के बजाय नील एवं अन्य नकदी फसलों की खेती के लिए बाध्य किए जाने वाले किसानों के समर्थन में सत्याग्रह किया।
  2. असहयोग आंदोलन : रॉलेट सत्याग्रह की सफलता के बाद महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन चलाया। 1 अगस्त 1920 को शुरू हुए इस आंदोलन के तहत लोगों से अपील की गई कि ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ असहयोग जताने के लिए स्कूल, कॉलेज, न्यायालय न जाएं और न ही कर चुकाएं।
  3. नमक सत्याग्रह : इस आंदोलन को दांडी सत्याग्रह भी कहा जाता है। नमक पर ब्रिटिश हुकूमत के एकाधिकार के खिलाफ 12 मार्च 1930 को अहमदाबाद के पास स्थित साबरमती आश्रम से दांडी गांव तक 24 दिनों का पैदल मार्च निकाला।
  4. दलित आंदोलन : 1932 में गांधी जी ने अखिल भारतीय छुआछूत विरोधी लीग की स्थापना की और इसके बाद 8 मई 1933 से छुआछूत विरोधी आंदोलन की शुरुआत की। ‘हरिजन’ नामक साप्ताहिक पत्र का प्रकाशन करते हुए हरिजन आंदोलन में मदद के लिए 21 दिन का उपवास किया।
  5. भारत छोड़ो आंदोलन :  ब्रिटिश शासन के खिलाफ़ यह गांधी जी का तीसरा बड़ा आंदोलन था। 8 अगस्त 1942 को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के बंबई सत्र में ‘अंग्रेजों भारत छोड़ो’ का नारा दिया। हालांकि, इसके तुरंत बाद गिरफ्तार हुए, पर युवा कार्यकर्ता हड़तालों और तोड़फोड़ के जरिए आंदोलन चलाते रहे।

गांधी जी ने सभी परिस्थितियों में अहिंसा और सत्य का पालन किया और सभी को इनका पालन करने के लिये वकालत भी की।

जब सारा हिंदुस्तान कहने लगा गांधी को राष्ट्रपिता

Gandhi Jayanti in Hindi [2022] | 4 जून 1944 को सुभाष चन्द्र बोस ने सिंगापुर रेडियो से प्रसारित एक सन्देश में महात्मा गांधी को सर्वप्रथम ‘राष्ट्रपिता’ कह कर सम्बोधित करते हुए आज़ाद हिन्द फौज के सैनिकों के लिये उनका आशीर्वाद और शुभकामनाएँ माँगीं थीं। तब से उन्हें सभी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी कहने लगे। 

सत्य व अहिंसा के पुजारी थे गांधी जी

Gandhi Jayanti in Hindi [2022]| आज हम आज़ाद भारत में सांस ले रहे हैं परंतु यह आज़ादी हमें इतनी आसानी से नहीं मिली है इसके लिए हजारों लोग शहीद हुए हैं, हजारों माताओं ने अपने लाल कुर्बान किए और बहनों ने अपने भाई, पिता ने अपने बेटे और पत्नी ने अपना सिंदूर मिटाया है। भारत को अंग्रेजों की हुकूमत से 15 अगस्त 1947 को आज़ादी मिली थी। यहाँ लोग अलग-अलग विचार धाराओं में बटें हुए थे। जिनमें एक तरफ तो वे लोग थे जो आज़ादी को अपनी ताकत के दम पर हासिल करना चाहते थे तो वहीं कुछ अहिंसा के मार्ग पर चलते हुए आज़ादी पाना चाहते थे। इन्हीं अहिंसावादी लोगों में से एक थे महात्मा गांधी। 78 वर्षीय महात्मा गांधी की हत्या 30 जनवरी 1948 की शाम को नई दिल्ली स्थित बिड़ला भवन में नाथूराम विनायक गोडसे ने गोली मारकर की थी। वे रोज शाम को वहां प्रार्थना किया करते थे। नाथूराम गांधी जी की धर्मनिरपेक्ष विचारधारा से नफ़रत करता था। नाथूराम हिंदी अख़बार ‘हिंदू राष्ट्र’ का संपादक था।

Gandhi Jayanti 2022 (गांधी जयंती) जानिए महात्मा गांधी जी के तीन बन्दर प्रतीकों की वर्तमान में प्रासंगिकता

गांधी जी के तीन आदर्शवादी बंदर थे, बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो और बुरा मत देखो। ये आदर्श वर्तमान में भी उतने ही प्रासंगिक हैं। आइए जानते हैं-

बुरा मत देखो – एक बन्दर ने अपने दोनों हाथों से आँखों को ढक रखा है। इस बन्दर के माध्यम से बुरा न देखने की शिक्षा दी गई है। आज हमें परमात्मा ने जो आधुनिक तकनीक दी है उसका हमें दुरुपयोग नहीं करना चाहिए बल्कि सदुपयोग करना चाहिए। बुरा देखते हुए अपना समय बर्बाद करती युवा पीढ़ी स्वयं बर्बाद हो रही है।

■ यह भी पढ़ें: Bhagat Singh Birth Anniversary [Hindi]: जानिए कैसे भगत सिंह मानव जीवन के मूल उदेश्य से वंचित रह गए?

उदाहरण के लिए हमें परमात्मा ने मोबाइल, इंटरनेट जैसी अत्याधुनिक तकनीकी सुविधाएं फिल्में, अश्लीलता, क्रिकेट, यूट्यूब, इंस्टाग्राम ट्वीटर और फेसबुक चलाने और मात्र मनोरंजन देखने के लिए नहीं दिए हैं। बल्कि ये तकनीक और शिक्षा ज्ञान अर्जन के लिए उपयोग की जानी चाहिए। आज हम परमात्मा की ही दया से शिक्षित हुए हैं अत: हमें आध्यात्मिक ज्ञान को समझने के लिए ये तकनीक परमात्मा ने दी है ताकि इसके माध्यम से हम सत्संग सुनें, परमात्मा की खोज करें, परमात्मा को पहचानें और मोक्ष प्राप्त करें।

बुरा मत सुनो – दूसरे बन्दर ने अपने दोनों हाथों से दोनों कान ढंक रखे हैं। इसका अर्थ है हमें बुरा नहीं सुनना चाहिए। हमें अच्छी संगत करनी चाहिए। पूर्ण गुरु की तलाश करनी चाहिए और उनके ज्ञान को सुनना चाहिए। केवल मनोरंजन करने, आजीविका कमाने और राजनीतिक निंदा करना परमात्मा द्वारा दी गई इन इंद्रियों का अपमान है। सभी को पूर्ण संत के सत्संग वचनों को सुनना चाहिए।

बुरा मत बोलो – तीसरे बन्दर ने दोनों हाथों को अपने मुँह पर रखा हुआ है। इसका अर्थ है कि किसी को भी अपशब्द, निंदा, असत्य नहीं कहना चाहिए। किसी को भी अपनी वाणी से आघात न पहुंचे ऐसा व्यवहार करना चाहिए। सदा सत्य बोलना चाहिए झूठ नहीं।

परमात्मा कबीर साहेब जी कहते हैं

कबीर, ऐसी बानी बोलिये, मन का आपा खोय |

औरन को शीतल करै, आपुहिं शीतल होय ||

Gandhi Jayanti in Hindi: लेकिन जीव यानी मनुष्य यह जानने के बावजूद कि क्या उचित है और क्या अनुचित अपने मन माफिक कार्य करता रहता है। निंदा रस में उसे आनन्द आता है। निंदा करने और सुनने दोनों में रुचि होती है। सत्संग या अच्छे विचारों से लोग ऊब जाते हैं। बिना फिल्मों के लोगों का समय नहीं कटता। राजनीति करने में उन्हें मज़ा आता है। आत्मा जानती है कि क्या सही है और क्या गलत भले ही कुतर्क देकर उन्हें सही साबित किया जाए। यह सभी बुराइयाँ पूर्ण गुरु यानी तत्वदर्शी सन्त अपने सतज्ञान से छुड़वा सकता है, सच्चे संत की शरण में जाने से सर्व सुख मिल सकते हैं। इसके अतिरिक्त सत्य वाचन, स्वावलंबन, अंहिसा गांधी जी द्वारा सिखाये महत्वपूर्ण पाठों में से हैं। गांधी जी ने समय व संसाधनों की बचत की ओर ज़ोर भी दिया था।

गांधी जयंती (Gandhi Jayanti in Hindi) पर जानिए गुरु बनाना क्यों ज़रूरी है?

महात्मा गांधी जी ने मोक्ष प्राप्ति के लिए कई व्रत भी किए और उन्होंने राजचंद्र जी को अपना गुरु बनाया। गांधी जी सत्य के पुजारी थे एवं उन्होंने ‘सत्य के प्रयोग’ नामक पुस्तक भी लिखी जिसमें सत्य के साथ अपने अनुभवों को साझा किया।

संसार में यदि कोई अच्छे कार्य करता है तो उन कार्यों से उसके पुण्य में बढ़ोतरी होती है और उन पुण्य के फलस्वरुप वह कुछ समय के लिए स्वर्ग में प्रवेश पा जाता है। साथ ही साथ अच्छे कार्यों के कारण उसकी संसार में भी कीर्ति बढ़ती है और यहां भी लोग उसका सम्मान करते हैं। यहां पर उसकी मूर्तियां बनाई जाती है जिन पर साल में एक दो बार मालाएं चढ़ाई जाती है लेकिन सद्भक्ति नहीं मिलने के कारण ऐसी पुण्यकर्मी आत्माएं भी स्वर्ग में अपने पुण्य को खत्म होने पर पृथ्वी पर आकर 84 लाख योनियों में शरीर धारण करती है और फिर ऐसा हो सकता है कि वह पुण्यात्मा अन्य शरीर धारण करके अपने ही मूर्ति के ऊपर बैठकर उसको गंदा करें।

संतों के सत्संग में जाने से जीव को उसके वास्तविक कर्मों की जानकारी मिलती है जिन्हें कर कर वह पूर्ण मोक्ष प्राप्त कर सकता है तथा सतलोक चला जाता है जहां जाने के बाद उसका दोबारा जन्म मृत्यु नहीं होता और उसे वास्तविक कीर्ति या यश की प्राप्ति होती है।

सतगुरु मिले तो इच्छा मेटै, पद मिल पदै समाना |

चल हंसा उस लोक पठाऊँ, जो आदि अमर अस्थाना ||

गुरु बनाना जरूरी होता है गुरु के बिना ज्ञान भी नहीं हो सकता। गुरु के बिना जीवन अधूरा है क्योंकि गुरु के बिना शास्त्रों को भी समझना नामुमकिन है।

कबीर साहिब जी कहते हैं

कबीर, गुरु गोविंद दोनों खड़े, किसके लागूं पाय|

बलिहारी गुरु आपने गोविंद दिया मिलाय ||

गांधी जयंती पर जानिए कौन है वह तत्वदर्शी सन्त जो सभी बुराइयाँ छुड़वा सकता है

पूर्ण संत कौन है जिसकी शरण में जाने से हर तरह की बुराई छूट जाती है? आईये जानें हमारे धर्म ग्रन्थों में से उस पूर्ण संत की क्या पहचान बताई है?

  • श्रीमद्भागवत गीता के अध्याय 4 के श्लोक 34 में गीता ज्ञानदाता ने अर्जुन को तत्वदर्शी सन्त की खोज कर उसकी शरण में जाने के लिए कहा है। तत्वदर्शी सन्त की पहचान गीता अध्याय 15 के श्लोक 1 से 4 तथा श्लोक 16 व 17 में प्रमाण है कि जो संत उल्टे लटके हुए संसार रूपी वृक्ष के सभी हिस्सों को समझा देगा, वही पूर्ण संत है। वह तत्व को जानने वाला है। वह पूर्ण संत इस वृक्ष के सभी भागों के बारे में जानता है।

कबीर, अक्षर पुरुष एक पेड़ है, निरंजन वाकी डार |

तीनों देवा शाखा हैं, पात रूप संसार ||

  • कबीर साहेब जी ने धर्मदास जी को बताया था कि मेरा संत सतभक्ति बतायेगा लेकिन सभी संत व महंत उसके साथ झगड़ा करेंगे। यही सच्चे संत की पहचान होगी।

जो मम संत सत उपदेश दृढ़ावै (बतावै), वाके संग सभी राड़ बढ़ावै |

या सब संत महंतन की करणी, धर्मदास मैं तो से वर्णी ||

  • यजुर्वेद अध्याय 19 मंत्र 25 व 26 में लिखा है कि तत्वदर्शी सन्त वेदों के अधूरे वाक्यों अर्थात् सांकेतिक शब्दों व एक चौथाई श्लोकों को पूरा करके विस्तार से बताएगा व तीन समय की पूजा बताएगा। सुबह पूर्ण परमात्मा की पूजा, दोपहर को विश्व के सभी देवताओं का सत्कार व संध्या आरती अलग से बताएगा वह जगत का उपकारक संत है।
  • श्रीमद्भागवत गीता में अध्याय 17 के श्लोक 23 में तीन सांकेतिक मन्त्र “ओम,तत्, सत्” का प्रमाण है। श्रीमद्भागवत गीता में गीता ज्ञान दाता कहता है कि उस परमात्मा को प्राप्त करने के लिए तीन मंत्रों का होना आवश्यक है। गीता ज्ञान दाता कहता है कि तू सच्चे संत की तलाश करके उससे इन मंत्रों को हासिल कर और अपना कल्याण करवा।
  • श्री गुरु नानक जी अपनी वाणी द्वारा समाझाना चाहते हैं कि पूरा सतगुरु वही है जो दो अक्षर के जाप के बारे में जानता है।
  • सतगुरु गरीबदास जी ने भी अपनी वाणी में कहा कि वो सच्चा संत चारों वेदों, छः शास्त्रों, अठारह पुराणों आदि सभी ग्रंथों का पूर्ण जानकार होगा अर्थात् उनका सार निकाल कर बताएगा।

गरीब, सतगुरु के लक्षण कहूं, मधुरे बैन विनोद |

चार बेद, षट शास्त्र, कह अठारह बोध ||

वर्तमान में पूर्ण संत कौन हैं?

पूर्ण गुरु या संत कौन है? वर्तमान में इस पृथ्वी पर एकमात्र तत्वदर्शी व पूर्ण संत “सन्त रामपाल जी महाराज जी” हैं। केवल यही ऐसे एकमात्र गुरु और सन्त हैं जिन्होंने सतज्ञान के माध्यम से लोगों को काल के जाल से बचाया है केवल वही ऐसे सन्त हैं जिनकी शरण में आने से व्यक्ति की अकाल मृत्यु नहीं होती। संत रामपाल जी के सान्निध्य में भारत विश्वगुरु बनेगा और धरती स्वर्ग समान बनेगी। भारत फिर से सोने की चिड़िया कहलाएगा। आपस के मतभेद, जाति पाति, धन की भूख, राजनीतिक कलह, आतंकवाद सब पाप मिट जाएंगे। वर्तमान में पूर्ण गुरु व तत्वदर्शी संत, सन्त रामपाल जी महाराज जी हैं। ये वही सन्त हैं जिनके विषय में पवित्र गीता में भी संकेत दिया गया है। तत्वज्ञान एवं सतभक्ति प्राप्त करने के लिए अविलंब जगतगुरु तत्वदर्शी सन्त रामपाल महाराज जी से निःशुल्क नामदीक्षा लें और अपना जीवन सफल बनाएं। अधिक जानकारी के लिए सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल पर सत्संग सुने।

FAQs About Gandhi Jayanti in Hindi

प्रश्न:- गांधी जयंती कब मनाई जाती है?

उत्तर- गांधी जयंती प्रत्येक वर्ष 2 अक्टूबर को मनाई जाती है।

प्रश्न:- गांधी जी का पूरा नाम क्या था?

उत्तर:- गांधी जी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था।

प्रश्न:- गांधी जी ने अपना अधिकतर जीवन कहाँ बिताया?

उत्तर:- गांधी जी ने अपना अधिकतर जीवन साबरमती आश्रम में बिताया।

प्रश्न:- महात्मा गांधी को आज भी किस नाम से जाना जाता है?

उत्तर:- आज भी महात्मा गांधी को बापू और राष्ट्रपिता के नाम से सम्बोधित किया जाता है।

प्रश्न:- गांधी जी के तीन प्रमुख विचार क्या थे?

उत्तर:- गांधी जी के तीन प्रमुख विचार थे:- बुरा मत बोलो, बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो

प्रश्न:- गांधी जी ने स्वतंत्रता संग्राम में क्या भूमिका निभाई?

उत्तर:- स्वतंत्रता संग्राम में गांधी जी की अहम भूमिका थी। उन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन का नेतृत्व करते हुए अंग्रेज़ों को अहिंसात्मक तरीके से भारत छोड़ने पर मजबूर कर दिया।

प्रश्न:- गांधी जी की हत्या कब हुई?

उत्तर:- गांधी जी की हत्या 78 वर्ष की उम्र में 30 जनवरी 1948 को हुई।

प्रश्न:- गांधी जी की हत्या किसने की थी?

उत्तर:  नाथूराम विनायक गोडसे ने गांधी जी को गोली मारकर उनकी हत्या की थी।

प्रश्न:- नाथूराम विनायक गोडसे कौन थे?

उत्तर:- नाथूराम विनायक गोडसे हिंदी अख़बार ‘हिंदू राष्ट्र’ का संपादक था जो गांधी जी की धर्मनिरपेक्ष विचारधारा से नफ़रत करता था।

Chief of Defence Staff (CDS) | रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (Anil Chauhan) बने देश के दूसरे सीडीएस

0
Chief of Defence Staff Retired Anil Chauhan बने देश के 2nd CDS

Chief of Defence Staff (CDS) | बीते शुक्रवार 30 सितंबर को लेफ्टिनेंट जनरल (रि.) अनिल चौहान (Anil Chauhan) ने देश के दूसरे चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) के रूप में पदभार संभाल लिया है। भारत सरकार द्वारा बुधवार को उन्हें देश का नया चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त किया था। सीडीएस जनरल बिपिन रावत की मौत के बाद से पद खाली था। लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान भारत सरकार में सैन्य मामलों के विभाग के सचिव के रूप में भी जिम्मेदारी निभायेंगे। 

Chief of Defence Staff (CDS) : मुख्य बिंदु

  • कल 30 सितंबर को लेफ्टिनेंट जनरल (रि.) अनिल चौहान ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) का पदभार संभाल लिया है।
  • भारत सरकार ने बुधवार को लेफ्टिनेंट जनरल (रि.) अनिल चौहान को New CDS (चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ) नियुक्त किया था।
  • जनरल बिपिन रावत के निधन के बाद अनिल चौहान देश के दूसरे CDS होंगे।
  • लेफ्टिनेंट जनरल (रि.) अनिल चौहान (Anil Chauhan) पूर्वी कमान के ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ रह चुके हैं।
  • चौहान, अंगोला में संयुक्त राष्ट्र मिशन के लिए भी काम कर चुके हैं।
  • 31 मई 2021 को भारतीय सेना से अनिल चौहान हुए थे सेवानिवृत्त।

कौन है New CDS अनिल चौहान ?

  1. 18 मई 1961 को उत्तराखंड में जन्मे रिटायर्ड लेफ़्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (Anil Chauhan) 1981 में भारतीय सेना के 11 गोरखा राइफ़ल्स में शामिल हुए थे।
  2. लेफ़्टिनेंट जनरल अनिल चौहान ने अपने 40 साल से अधिक सैन्य सेवा में कई कमांड संभाले हैं। उन्हें जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर राज्यों में आतंक निरोधी ऑपरेशन का व्यापक अनुभव है।
  3. वे मेजर जनरल, डायरेक्ट जनरल मिलिट्री ऑपरेशन, लेफ्टिनेंट जनरल के पद पर भी रह चुके हैं।
  4. इसके अलावा अनिल चौहान ने सितंबर 2019 से मई 2021 यानि रिटायरमेंट तक ईस्टर्न कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ़ भी रहे।
  5. लेफ़्टिनेंट जनरल चौहान, संयुक्त राष्ट्र के अंगोला मिशन में भी काम कर चुके हैं।
  6. उन्होंने 2019 में म्यांमार के आतंकी संगठनों के खिलाफ क्रॉस बॉर्डर स्ट्राइक का नेतृत्व भी किया था। 
  7. लेफ़्टिनेंट जनरल अनिल चौहान ने कल 30 सितंबर को New Chief of Defence Staff (CDS) के रूप में पदभार संभाल लिया है।

पिछले 9 महीने से खाली था CDS का पद

जनरल विपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ यानि CDS पद पर नियुक्त किया गया था। यह पद उन्होंने 1 जनवरी 2020 को संभाला था। तमिलनाडु के कुन्नूर में 1 दिसंबर 2021 को हुए हेलिकॉप्टर क्रैश में पहले CDS जनरल विपिन रावत का निधन हो गया था। इस हादसे में जनरल रावत की पत्नी समेत सेना के सभी 14 लोगों की मौत हो गई थी। जिसके बाद से Cheif of Defence Staff-CDS का पद खाली पड़ा था। करीब 9 महीने बाद देश के दूसरे CDS के रूप में अनिल चौहान (Anil Chauhan) को चुना गया था। जिन्होंने 30 सितंबर पदभार संभाल लिया है।

क्यों पड़ी Chief of Defence Staff (CDS) की जरूरत ?

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) की जरूरत तीनों सेनाओं के मध्य कोर्डिनेशन के लिए पड़ी। क्योंकि इस पद की कमी देश को सबसे पहले 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान खली थी। इसके बाद सेना के तीनों अंगों के बीच कोऑर्डिनेशन की कमी 1987-89 के दौरान भारतीय शांति सेना (IPKF) द्वारा श्रीलंका में लिबरेशन टाइगर ऑफ तमिल ईलम (LTTE) जिसे लिट्टे भी कहा जाता है, के खिलाफ चलाए गए ऑपरेशन के दौरान भी देखी गई थी। इसके बाद Chief of Defence Staff की सबसे अधिक जरूरत 1999 में हुए कारगिल युद्ध के दौरान महसूस की गई थी।

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) का गठन कब हुआ ?

1999 में कारगिल युद्ध की समीक्षा के लिए कृष्णास्वामी सुब्रह्मण्यम के नेतृत्व में कारगिल रिव्यू कमिटी का गठन किया गया था। इस कमिटी की सिफारिशों के बाद 2001 में तत्कालीन गृहमंत्री के नेतृत्व में मंत्रियों के समूह (GoM) ने प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को सौंपी अपनी रिपोर्ट में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) की नियुक्ति की सिफारिश की थी। लेकिन CDS की नियुक्ति अगले दो दशक तक अलग-अलग वजहों से नहीं हो सकी। आखिरकार 15 अगस्त 2019 को स्वतंत्रता दिवस भाषण के दौरान प्रधानमंत्री ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का पद बनाए जाने की घोषणा की थी। जिसके बाद दिसंबर 2019 में जनरल विपिन रावत को देश के पहले CDS के रूप में चुना गया था।

क्या होता है Chief of Defence Staff (CDS) ?

देश का Chief of Defence Staff (CDS), इंडियन आर्म्ड फोर्सेज का मिलिट्री प्रमुख और इंडियन आर्म्ड फोर्सेज की चीफ ऑफ स्टाफ कमिटी का चेयरमैन होता है। साथ ही, रक्षा मंत्रालय द्वारा बनाए गए नए विभाग डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स का भी प्रमुख होता है। रक्षा मंत्रालय में पहले से ही चार विभाग थे- डिपार्टमेंट ऑफ डिफेंस, डिपार्टमेंट ऑफ डिफेंस प्रोडक्शन, डिपार्टमेंट ऑफ एक्स सर्विसमेन वेलफेयर और डीआरडीओ (DRDO), अब पांचवें नए विभाग, डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स का भी प्रमुख चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) को बनाया गया है।

Chief of Defence Staff (CDS) की भूमिका

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का कार्य तीनों सेनाओं से जुड़े मामलों में रक्षा मंत्रालय को सैन्य सलाहकार देने की होती है। लेकिन वह तीनों में से किसी सेना का प्रमुख नहीं होता है। भारत एक न्यूक्लियर संपन्न देश है, ऐसे में CDS न्यूक्लियर कमांड अथॉरिटी के लिए सैन्य सलाहकार के तौर पर भी काम करता है। 

भारत ने 2008 में सेना, अंतरिक्ष विभाग और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के बीच बेहतर तालमेल के लिए अपने एयरोस्पेस कमांड (द इंटीग्रेटेड स्पेस सेल) का गठन किया था। CDS के पास इस साइबर वारफेयर डिविजन का भी चार्ज होता है। इसके अलावा, सीडीएस (Chief of Defence Staff) का काम अनुमानित बजट के आधार पर तीनों सेवाओं की लॉजिस्टिक्स के साथ-साथ कैपिटल एक्विजिशन की जरूरतों को सुव्यवस्थित करने में मदद करना होता है।

CDS और तीनों सैन्य प्रमुखों की भूमिका में अंतर

अक्सर लोगों को यह कंफ्यूजन होता है कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ही तीनों सेनाओं का भी प्रमुख होता है, लेकिन ऐसा नहीं है। CDS (चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ) का काम सैन्य आदेश जारी करने के बजाय तीनों सेनाओं से जुड़े मामलों में सरकार को निष्पक्ष सलाह देना है। आर्मी, नेवी या एयरफोर्स को सैन्य कमांड देने का काम कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी (CCS) की सलाह पर उनके प्रमुख ही देते हैं, न कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ।

भगवान से डरने वाला व्यक्ति ही दे सकता निष्पक्ष सलाह

आज भी देश में निष्पक्ष और उचित सलाह देने वाले लोगों की कोई कमी नहीं हैं। लेकिन लोगों की नैतिकता में गिरावट के चलते ऐसे व्यक्तियों की कमी देखने को मिलती है। जबकि जो व्यक्ति भगवान के विधान से परिचित होता है वह किसी भी परिस्थिति में किसी को अनुचित सलाह नहीं दे सकता। वहीं, संत रामपाल जी महाराज द्वारा लिखित पुस्तक जीने की राह लोगों को नैतिकता, धार्मिकता, मनुष्य के मूल कर्तव्य की ओर ध्यान केंद्रित कर रही हैं। क्योंकि इन पुस्तकों में बताया गया है कि –

तुमने उस दरगाह का महल नहीं देखा।

धर्मराज के तिल-तिल का लेखा।

भगवान करता है सर्व बाधाओं से रक्षा

परमात्मा प्राप्त संत गुरुनानक देव, धर्मदास जी, मलूकदास जी, संत दादू जी, संत गरीबदास जी आदि ने बताया है कि कविर्देव अर्थात कबीर साहेब ही हमारे सच्चे रक्षक हैं। जोकि पल पल पर हमारी रक्षा करते हैं। इसके अलावा धार्मिक ग्रंथ जैसे सामवेद मंत्र संख्या 822 उतार्चिक अध्याय 3 खण्ड न. 5 के श्लोक 8 और ऋग्वेद मण्डल न. 9 सूक्त 20 मंत्र न. 1 यह स्पष्ट करता है कि परमात्मा कविर्देव अर्थात कबीर साहेब सबका रक्षक है। कबीर जी के विषय में कबीर सागर, बोधसागर खंड, अध्याय ज्ञानप्रकाश के पृष्ठ 23 में लिखा है – 

सत्य पुरुष वह सत्यगुरु आहीं। सत्यलोक वह सदा रहाहीं।।

सकल जीवके रक्षक सोई। सतगुरु भक्ति काज जिव होई।।

सतगुरु सत्यकबीर सो आहीं। गुप्त प्रगट कोइ चीन्है नाहीं।।

कबीर परमेश्वर के विषय में संत दादू दयाल जी कहते हैं –

दादू नाम कबीर की, जै कोई लेवे ओट।

उनको कबहू लागे नहीं, काल वज्र की चोट।।

आदमी की आयु घटै, तब यम घेरे आय।

सुमिरन किया कबीर का, दादू लिया बचाय।।

अधिक जानकारी के लिए Sant Rampal Ji Maharaj App गूगल प्ले स्टोर से डाऊनलोड करें।

World Teachers’ Day 2022: Find an Enlightened Teacher to Unfold the Mystery of Birth & Death World Animal Day 2022: How Many Species of Animals Can Be Saved Which Are on the Verge of Extinction? How Ravana was Killed by the Supreme God [Explained]