Home Blog

International Museum Day 2022: Museums Are a Means of Cultural Exchange

0
International Museum Day 2022 Theme, History, Quotes, Famous Museums

International Museum Day 2022 | International Museum Day (IMD) is observed every year on 18 May. This day is celebrated to focus on the prominence of museums. The International Council of Museums (ICOM)’s official website states, “Museums are an important means of cultural exchange, enrichment of cultures and development of mutual understanding, cooperation and peace among peoples.”

International Museum Day 2022: Highlights

  • International Museum Day (IMD) is celebrated on 18 May every year
  • IMD is celebrated since 1977
  • IMD’s aim is to create awareness about the importance of Museums as a means of cultural exchange
  • International Museum Day 2022 theme is “The Power of Museums”
  • The theme highlights the power of achieving sustainability, the power of innovating on digitalization and accessibility, and the power of community building through education

What Is the Objective of International Museum Day (IMD)?

International Museum Day (IMD)’s objective is to highlight awareness about the importance of Museums as a means of cultural exchange, enrichment of cultures, and development of mutual understanding and cooperation. peace among peoples.

What Is Date of International Museum Day (IMD)?

International Museum Day (IMD) is observed on 18 May every year. The events and activities can be planned to celebrate the Day on a weekend or the whole week. Since 1977, IMD has been celebrated with the participation of more than 37,000 museums in about 158 countries and territories.

International Museum Day 2022 Theme

Year 2022’s theme for International Museum Day is ‘The Power of Museums’. The theme highlights the power of museums to transform the world. The International Museum Day 2022 will explore the potential of museums to create change in the communities through following aspects:

  • The power of achieving sustainability: Museums play a significant role in the implementation of the Sustainable Development Goals by partnering with the United Nations.
  • The power of innovating on digitization and accessibility: Museums help audiences understand complicated and less understood concepts through propagating new technologies and digital innovation.
  • The power of community building through education: Museums become an important link in community building through its educational programs.

History of International Museum Day

International Museum Day was organized for the first time by the International Council of Museums in 1977. A resolution for International Museum Day was adopted during ICOM General Assembly in Moscow, in the same year. However, the thought of celebrating an International Museum Day came first time in a meeting known as ‘Crusade for Museums,’ organized by ICOM in 1951. 

■ Also Read | On World Book and Copyright Day Read Sant Rampal Ji’s Sacred Books

Museums worldwide were invited to participate and promote the role of museums. The museums celebrate the event by organizing various activities around the theme.

Famous Museums Around the World 

  • Louver Museum Paris France
  • State Russian Museum, St Petersburg
  • British Museum, London
  • Guggenheim Museum, New York
  • Van Gogh Museum, Amsterdam
  • Museo Larco, Lima
  • The Acropolis Museum, Athens

 Famous Museums in India

  • National Museum Delhi
  • Shankar’s International Dolls Museum Delhi
  • National Rail Museum Delhi
  • Chhatrapati Shivaji Vastu Museum Mumbai
  • Dr. Bhau Daji Lad Museum Mumbai
  • Indian Museum Kolkata
  • Government Museum Chennai
  • Salar Jung Museum Hyderabad
  • Calico Museum Ahmedabad
  • Napier Museum Trivandrum

■ Also Read | Supreme God Kabir Sahib: The Father of All Souls

International Museum Day: Quotes on Museums

  • “Museums are an important means of cultural exchange, enrichment of cultures and development of mutual understanding, cooperation and peace among peoples.” -ICOM
  • “A country that has few museums is both materially poor and spiritually poor …museums, like theaters and libraries, are a means to freedom.” – Wendy Beckett
  • “A visit to a museum is a search for beauty, truth, and meaning in our lives. Go to museums as often as you can.” – Maira Kalman
  • “A museum is a spiritual place. People lower their voices when they get close to art.” – Mario Botta
  • “The best introduction to art is to stroll through a museum. The more art you see, the more you’ll learn to define your own taste.” – Jeanne Frank

Frequently Asked Questions About International Museum Day 2022

What is the aim of International Museum Day?

IMD’s aim is to create awareness about the importance of Museums as a means of cultural exchange

What is the importance of Museums?

As per ICOM, Museums are an important means of cultural exchange, enrichment of cultures and development of mutual understanding, cooperation and peace among peoples.

When is International Museum Day celebrated? 

International Museum Day (IMD) is celebrated on 18 May every year

How long is International Museum Day celebrated? 

IMD is celebrated since 1977

What is the theme of International Museum Day 2022?

The theme of International Museum Day 2022 is “The Power of Museums

World Hypertension Day 2022: Sat-Bhakti Is the Guaranteed Cure for Hypertension

0
World Hypertension Day 2022 Theme, History, Facts, Quotes, Cure

Last Updated on 17 May 2022, 3:10 PM IST | World Hypertension Day 2022 | Hypertension is another term for high blood pressure that can lead to serious health issues such as strokes, heart attacks, chronic kidney disease, dementia, and vision loss. So to spread awareness all around the world, every year, on the 17th of May, World Hypertension Day is observed. On the occurrence of World Hypertension Day 2022, we have brought you some necessary information, such as symptoms of hypertension and the history, theme, and significance of this day. Our Real Savior is Almighty God Kabir who can protect us from deadly diseases and untimely death.

World Hypertension Day 2022: Highlights 

  • Since 2006, World Hypertension Day (WHD) has been observed on 17th May.
  • WHD was first observed on the 14th of May 2005.
  • WHD 2022 theme is ‘Measure Your Blood Pressure Accurately, Control It, Live Longer.’
  • A study shows that hypertensive patients are more vulnerable to Covid-19.
  • Sat-bhakti is the only available vaccine for all sorts of diseases and is a permanent cure for hypertension.

History & Significance of World Hypertension Day

World Hypertension Day was first observed on the 14th of May 2005. Since 2006, the day has been observed on 17th May. This day came into existence to initiate the awareness of hypertension as people don’t have proper knowledge regarding this disorder. World Hypertension Day was started by the World Hypertension League (WHL).

WHL is an umbrella to eighty-five organizations of national hypertension leagues and societies. The day commenced by increasing the awareness of hypertension. This was particularly essential because of the lack of proper knowledge among hypertensive patients. 

In 2005, as the inaugural action, the theme was simply ‘Awareness of high blood pressure.’ The 2006 theme was ‘Treat to the goal’, with a focus on keeping blood pressure under control. The advised blood pressures are less than 140/90 mmHg for the hypertensive population without any other disorder. It is the same for those who don’t have hypertension. Less than 130/80 mmHg for those with chronic kidney disease or diabetes mellitus. These are the cut-off values approved by Canadian and International guidelines. 

■ Also Read | Know How to Keep Heart Healthy on World Heart Day

The 2007 WHD theme was ‘Healthy diet, healthy blood pressure.’ Through such particular themes, the WHL aims to raise awareness not only of hypertension but also of aspects supporting an upswing in the incidence of hypertension and on directions to suppress it. For public awareness, the theme for 2008 was ‘Measure your blood pressure at home.’ New reports confirm the accuracy, ease, and safety of blood pressure measurements using home monitors. For the five years from 2013 to 2018, ‘Know Your Numbers’ was the WHD theme to increase awareness about high blood pressure in all communities around the globe.

World Hypertension Day 2022 Theme

This year’s WHD theme is ‘Measure Your Blood Pressure Accurately, Control It, Live Longer‘ to withstand low awareness rates globally. Those who are suffering from Hypertension can take free online classes on accurate automated blood pressure measurement.

What Is Hypertension?

Hypertension is another term for high blood pressure that can lead to serious health issues such as strokes, heart attacks, chronic kidney disease, dementia, and vision loss. Those who suffer from hypertension are commonly not familiar with their condition because there are no specific symptoms to recognize in the early stages of this disease. Hypertension is the major risk factor for cardiovascular disease which is also known as Silent Killer due to its unknown symptoms.

World Hypertension Day 2022 | Signs & Symptoms of Hypertension

There are no particular symptoms until one’s organs are severely affected, but here are some common signs and symptoms that can be used as a sign of warning:

  • Blurred Vision
  • Severe Headache
  • Fatigue
  • Breathlessness
  • Nose Bleeding 
  • Nausea
  • Irregular pulse rate
  • Buzzing ears

Causes of Hypertension

Some reasons for hypertension are taking too much salt, no exercise,  mental pressure, anxiety, tensions, consuming alcohol or caffeine, smoking, being overweight, lack of sleep etc. Hypertension is sometimes linked to heredity. Every year Hypertension causes many deaths due to lack of awareness about it. Hypertension should be taken as seriously and one should not delay in medical counselling as one observes any kind of symptoms.

Facts about World Hypertension Day 

  • Only one in 4 adults struggling with hypertension has controlled blood pressure.
  • Men have higher blood pressure in comparison to women
  • One in every 4 people aged 22 to 44 is dealing with the problem of hypertension.
  • Hypertension may linked to dementia.

World Hypertension Day Quotes 2022

  • “People with high blood pressure, diabetes – those are conditions brought about by life style. If you change the life style, those conditions will leave.” — Dick Gregory
  • “A systemic cleansing and detox is definitely the way to go after each holiday. It is the key to fighting high blood pressure, heart disease, cancer, and other health-related illnesses.” — Lee Haney
  • “Health is a state of complete harmony of the body, mind, and spirit.” — B.K.S. Iyengar

FAQ about World Hypertension Day

Why is World Hypertension Day celebrated?

It is celebrated to highlight the importance of having controlled blood pressure and to create global awareness to the 1 billion people having high blood pressure worldwide.

Why is World Hypertension Day celebrated?

It is celebrated to highlight the importance of having controlled blood pressure and to create global awareness to the 1 billion people having high blood pressure worldwide.

Who started World Hypertension Day?

In 2005 the World Hypertension League (WHL) which is an umbrella organization of many national hypertension societies and leagues with 85 countries as its members, started World Hypertension Day.

When was World Hypertension Day started?

World Hypertension Day was started to celebrate from May 14, 2005 now the World Hypertension League has been devoting May 17 of every year as World Hypertension Day ever since 2006

Is hypertension a disease?

A: Hypertension is itself not a great disease. But it can cause other diseases like heart attack. The term “hypertensive heart disease” refers to heart conditions caused due to hypertension.

Importance Amid Covid-19 

A growing body of research indicates that some people with diabetes, hypertension and heart disease may generate more serious complications and severe symptoms once infected with the coronavirus. The Covid-19 outbreak is also contributing to an increased preponderance of hypertension within all age groups. This is occurring due to lack of outdoor exercise due to frequent lockdowns, intensified stress levels, as well as unhealthy dietary patterns.

Emphasizing the importance of controlling and managing high blood pressure during the coronavirus outbreak, Dr. Santosh Kumar Dora, Senior Cardiologist at Asian Heart Institute in Mumbai said, “Blood pressure needs to be reviewed at regular intervals. If found increased, it should be treated immediately and actions should be made to retain it within the normal range.”

How to Prevent Hypertension?

Hypertension is a severe disorder and can be found in many people. There are many preventive measures suggested by medical science but they’re subjective to work, hence will not work for everyone every time. Only one known working preventive measure for hypertension or any other disease is the refuge of an enlightened Saint. An enlightened Saint who is showing the true way of worship of Almighty God Kabir according to the holy scriptures of all the religions. The sadbhakti will lead to unlocking the chakras in the human body which ultimately makes the power of the universe in favour of the one who is doing sadbhakti as guided by the enlightened saint. 

Guaranteed Cure for Hypertension

Everyone must take Initiation (Naam Diksha) from Sant Rampal Ji Maharaj. Because presently, He is the only enlightened Saint in the entire world. He is the Incarnation of Supreme God Kabir Himself. After taking the refuge, one must perform Sat-Bhakti or true worship. With the power of Sat-Bhakti, a cure for any deadly disease is guaranteed, if one binds to the rules of the enlightened Saint. For more information on sadbhakti and Saint Rampal Ji Maharaj, one can download Sant Rampal Ji Maharaj App from the google play store.

Lunar Eclipse 2022: साल का पहला चन्द्र ग्रहण, जानें कैसे बचें सभी प्रकार के ग्रहणो से?

2
Lunar Eclipse (चंद्र ग्रहण) 2022सतभक्ति से जीवन में आने वाले ग्रहण से बचाव सम्भव

Last Updated on 16 May 2022, 10:27 PM IST | Lunar Eclipse 2022 (Chandra Grahan): ज्योतिष के अनुसार वर्ष 2022 में दो सूर्यग्रहण और दो चंद्र ग्रहण को मिलाकर कुल 4 ग्रहणों का संयोग था। हिंदू पंचांग के अनुसार, वर्ष का पहला चंद्रग्रहण आज की रोज यानी कि 16 मई 2022 वैशाख पूर्णिमा को निकल चुका है। सतभक्ति से करें जीवन के हर ग्रहण को खत्म। पढ़ें पूरा लेख और जाने विस्तार से। 

Lunar Eclipse 2022 (चंद्र ग्रहण): मुख्य बिंदु

  • वर्ष 2022 में 4 ग्रहण, दो सूर्यग्रहण और दो चंद्रग्रहण का संयोग है।
  • पहला चंद्र ग्रहण आज 16 मई को हुआ तथा आखिरी चंद्र ग्रहण 8 नवम्बर को लगेगा।
  • क्या होता है चंद्र ग्रहण।
  • चंद्र ग्रहण से जुड़ी वर्जनाएँ और सतभक्ति का प्रभाव।
  • सतभक्ति से सभी आपदाएं होती हैं समाप्त। 

वर्ष 2021 में कितने ग्रहण का संयोग था?

वर्ष 2021 अर्थात संवत 2078 में 2 सूर्यग्रहण और 2 चंद्रग्रहण, कुल मिलाकर चार ग्रहणों का संयोग बना। इसमें से एक भी ग्रहण भारत के पूरे भू भाग पर दिखाई नहीं दिया।

वर्ष 2022 में कब-कब बनेगा चन्द्र ग्रहण (Lunar Eclipse) का संयोग? 

वर्ष 2022 का पहला और तीसरा ग्रहण चंद्रग्रहण होगा। वर्ष का आखिरी चन्द्रग्रहण 8 नवंबर 2022 को लगेगा। यह 2022 का दूसरा और आख‍िरी चंद्रग्रहण होगा। वर्तमान समय में आज के दिन 16 मई को इस वर्ष का पहला चंद्रग्रहण लगा। जो पूरी तरह से लाल रंग का था इसल‍िए उसे सुपरमून या फ‍िर रेड ब्‍लड मून भी कहा जाता है। 

Lunar Eclipse 2022: वर्ष 2022 का पहला चंद्र ग्रहण?

15 और 16 मई के दिन इसे उत्तरी व दक्षिणी अमेरिका, प्रशांत व हिन्द महासागर, यूरोप, अफ्रीका और मिडल ईस्ट के कुछ क्षेत्रों में देखा गया। भारतीय समय के अनुसार ग्रहण का समय 16 मई सुबह 7:02 मिनट से शुरू होकर दोपहर 12:20 मिनट तक रहा था।

कब लगेगा वर्ष का दूसरा चंद्र ग्रहण? (Lunar Eclipse 2022, Date and Timing)

वर्ष 2022 का दूसरा चंद्रग्रहण नवंबर माह में 7 और 8 तारीख को होगा। भारतीय समय के अनुसार यह चंद्रग्रहण 19 नवंबर को दोपहर 1 बजकर 32 म‍िनट पर शुरू होगा और 7 बजकर 26 म‍िनट तक द‍िखाई देगा। ये आपके टाइमजोन पर भी निर्भर करता है कि ये वहां किस वक्त होगा। 

चंद्र ग्रहण 2022 (Lunar Eclipse 2022) कहाँ-कहाँ दिखेगा?

यह चंद्रग्रहण भारत के किसी भी विस्तार से नहीं देखा गया। यह ब्लड मून चंद्र ग्रहण यूरोप और अफ्रीका के कुछ हिस्सों से दिखाई दिया था। इसके अलावा यह उत्तर और दक्षिण अमेरिका के अधिकांश हिस्सों से पूरी तरह से दिखाई दे रहा था।  

क्या है चंद्र ग्रहण?

सर्व विदित है कि पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमते हुए सूर्य के चक्कर लगाती है और चंद्रमा पृथ्वी के। अपनी परीधि में घूर्णन करते हुए जब ये तीनों ग्रह एक सीधी रेखा में आ जाते हैं एवं पृथ्वी की छाया चंद्रमा पर पड़ने लगती है तब ग्रहण होता है। सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा की ऐसी स्थिति को चंद्र ग्रहण कहा जाता है। एक साल में अधिकतम तीन चंद्र ग्रहण हो सकते हैं। नासा का अनुमान है कि 21वीं सदी में कुल 228 चंद्र ग्रहण होंगे।

कितने प्रकार के चन्द्र ग्रहण होते हैं? (Types of Lunar Eclipse)

मुख्यतः चन्द्रग्रहण तीन प्रकार के माने गए हैं एक ग्रहण होता है पूर्ण चंद्र ग्रहण, एक आंशिक चंद्र ग्रहण और उपच्छाया चंद्र ग्रहण। जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा एक सीध में आ जाते हैं और पृथ्वी की छाया चांद को पूरी तरह से ढक लेती है तब पूर्ण चंद्र ग्रहण होता है। इस दौरान चंद्रमा पूरी तरह से लाल दिखाई देता है। 

■ Read in English | Chandra Grahan (Lunar Eclipse) 2022 | How to watch Blood Moon from India?

वहीं, जब चंद्रमा और सूर्य के बीच पृथ्वी आ जाती है और चंद्रमा के कुछ ही भाग पर पृथ्वी की छाया पड़ पाती है, इसे ही आंशिक चंद्र ग्रहण कहते हैं। उपछाया चंद्र ग्रहण में सूर्य और चंद्र के बीच पृथ्वी उस समय आती है, जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीधी रेखा में नहीं होते हैं।

चंद्रग्रहण से जुड़ी वर्जनाएँ और सतभक्ति

चंद्रग्रहण से बहुत सी वर्जनाएँ जुड़ी हुई हैं जैसे कई कार्यों पर रोक लगना, सूतक मानना, बाहर न आना जाना आदि। ये सभी मान्यताएँ केवल मान्यताएँ ही हैं और ग्रहण एक खगोलीय घटना है। वास्तविक जीवन में व्यक्ति अपने कर्मफल भोगता और उसके ही कारण उसके जीवन में सुख, दुख, बीमारियाँ आतीं हैं। चूँकि ग्रहण केवल एक खगोलीय घटना है, इसे ज्योतिष भिन्न भिन्न राशियों और उन पर प्रभाव से भी जोड़कर देखते हैं। सतभक्ति सभी प्रकार के ग्रहण चाहे वो जीवन में हों या भाग्य में, से बचाती है।

पूर्ण परमेश्वर सच्चे साधक की रक्षा स्वयं करता है। पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब हैं इस बात की शास्त्र गवाही देते हैं। इस लोक में सबकुछ फना अर्थात नाशवान है। राजा, गांव, शहर, जीव-जंतु, वन, दरिया सब नाशवान है। शिवजी का कैलाश पर्वत तक नाशवान है। यह सब कृत्रिम संसार सब झूठ है। अतः तत्वदर्शी संत  रामपाल जी महाराज से नामदीक्षा लेकर श्वांसों का स्मरण करके अविनाशी परमेश्वर की भक्ति करें।

गरीब, दृष्टि पड़े सो फना है, धर अम्बर कैलाश।

कृत्रिम बाजी झूठ है, सुरति समोवो श्वास ||

क्या है सतभक्ति?

सतभक्ति मंदिर जाना, उपवास करना और शास्त्रों का अध्ययन करना कतई नहीं है। सतभक्ति है गीता अध्याय 4 श्लोक 34 में कहे अनुसार पूर्ण तत्वदर्शी संत की शरण खोजना और उससे अध्याय 17 श्लोक 23 में दिए तीन मन्त्रों को प्राप्त कर उनका जाप करना है। सतभक्ति केवल पूर्ण तत्वदर्शी संत ही समझा सकता है। वही शास्त्रानुकूल भक्ति बताते हैं और मोक्ष प्राप्त करवाते हैं। याद रखें कि सतभक्ति से केवल मोक्ष प्राप्ति नहीं होगी बल्कि इस लोक के सभी सुख और इन ग्रहण, सूतक, देवी-देवताओं से होने वाले कष्टों से भी राहत मिलती है। राहु-केतु हो या अकाल मृत्यु की चपेट में पूर्ण तत्वदर्शी संत की शरण में रहने वाला कभी नहीं आता। तत्वदर्शी संत पूरे विश्व में एक समय में एक ही होता है। 

जगतगुरु रामपाल जी से नामदीक्षा लेकर जीवन में आने वाले कष्ट रूपी ग्रहणों से मुक्ति पाएं

वर्तमान में एकमात्र तत्वदर्शी संत जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज हैं उनसे नाम दीक्षा लेकर अपने हर तरह के असाध्य कष्टों का निवारण करवाएं एवं भक्ति करके मोक्ष का रास्ता चुनें। यह समय विनाशकारी समय है और बिना तत्वदर्शी संत की शरण के जीवन, बिना पानी के कुएं की भाँति है। इस समय तत्वदर्शी संत की शरण में रहकर मर्यादा में भक्ति करने वाले ही मोक्ष प्राप्त कर सकेंगे। अधिक जानकारी के लिए देखें सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल

Chandra Grahan 2022 | How to watch Blood Moon from India?

0
Chandra Grahan 2022 How to watch Blood Moon from India

last updated on 16 May 2022, 4:47 PM IST | Today, on May 16, the world is witnessing the first Lunar Eclipse (Chandra Grahan 2022). It will be visible in South America, North America, Europe, eastern Asia, and some parts of the Middle East. Though it will not be visible in India this time.

Lunar Eclipse 2022 (Chandra Grahan) | Highlights

  • The first Lunar Eclipse of 2022 will not be visible in India.
  • The Eclipse will be visible for over 2 hours partially.
  • According to Indian time, the time of the eclipse will be from 7:02 AM to 12:20 PM IST.
  • The eclipse will be visible from some of our neighbouring countries from the Middle east.
  • Only Saint Rampal Ji Maharaj can end the Grahan of Karma and Sins.

What Is a Lunar Eclipse (Chandra Grahan)?

Lunar eclipse is an astronomical event when the moon comes at the right back of the earth or in the shadow of the earth, firstly it looks black and after that it gets dark red gradually. The scientists see the astronomical event of lunar eclipse while the scholars see it differently, relating to present and future and something spiritual.

Chandra Grahan 2022 Date and Timings

On May 15th and 16th, the Moon will pass into Earth’s shadow for a few hours, resulting in a partial lunar eclipse. This time the weather permitted the visibility of the eclipse in Northern & South America and was evident from many other regions as well.

Where will Chandra Grahan (Lunar Eclipse) be Visible in India? 

This rare phenomenon will not be visible from India. The partial eclipse will begin at 7:02 a.m. and last until 12.20 p.m. IST on 16th of May. 

This Blood Moon lunar eclipse’s total phase will be visible from parts of Europe and Africa. It was completely visible from most of the parts in North & South America. Some of the eclipse will be visible in Africa, South/West Asia, South/West Europe, Africa, Antarctica, Atlantic, Pacific, and Indian Ocean.

What Are the Effects of a Lunar Eclipse (Chandra Grahan)?

The scientists advise not to see the lunar eclipse without wearing goggles because it can affect eyes. 

The maximum partial eclipse will be visible at 2.34 p.m. when the Earth’s shadow will cover 97 percent of the moon. The moon is likely to appear blood-red in color, which occurs when red sunlight beams pass through the Earth’s atmosphere and are least deflected before falling on the moon. The penumbral eclipse will be visible from UP, Bihar, Jharkhand, West Bengal, and Odisha, but penumbral eclipse is not as spectacular and dramatic as a partial eclipse and is sometimes overlooked. 

Who Can End the Grahan of Karma and Sins? 

According to Holy Vedas, Almighty God Kabir can destroy all the sins of His true devotees who perform His worship after taking Naam Initiation from an authorized enlightened Saint (Tatvdarshi Saint). Supreme God Kabir is the enemy of sins and is the destroyer of Karma. Only He can liberate us from the vicious circle of Karma. He is the only savior of everyone.

Thoughts of Sant Rampal Ji Maharaj

Jagatguru Tatvdarshi Saint Rampal Ji Maharaj says, if you do Right Worship according to the scriptures, there’s no need to fear from events like the lunar eclipse. Those who perform right worship, they do not get into the problems either by astronomical events or any other. 

Those who follow Saint Rampal Ji Maharaj, they live a happy life by doing the right devotion according to the holy books. And His devotees don’t believe in such types of beliefs. The Supreme God can do anything to eliminate any problem and He is empowered to cut every sin. The Supreme God has the power to give all kinds of happiness to seekers in their life.

Saint Rampal Ji Maharaj Ji Is Our Only Savior

In the present time, only Saint Rampal Ji Maharaj Ji is enlightened with complete spiritual knowledge in the entire universe. Almighty God Kabir Himself plays the role of a Tatvdarshi Saint. Presently, He has incarnated in the form of Saint Rampal Ji Maharaj. Everyone must take His refuge and start performing true worship based on holy scriptures of all the religions

Delhi Mundka Fire News Update | दिल्ली के मुंडका में लगी भीषण आग, 29 लोगों की जलकर मृत्यु, कई लापता

0
Delhi Mundka Fire News [Hindi] दिल्ली के मुंडका में लगी भीषण आग, 29 मौत

Delhi Mundka Fire News Update | दिल्ली के मुंडका स्थित एक इमारत में शुक्रवार शाम लगभग 04.00 बजे भीषण आग लग गई थी। इमारत में आग लगने से 29 लोगों की मौत हो गई। सभी शव बरामद कर लिए गए हैं। 100 से ज्यादा लोगों को रेस्क्यू किया गया। पुलिस ने सीसीटीवी और राउटर बनाने वाली कंपनी के दो मालिकों को तत्काल गिरफ्तार कर लिया, जबकि जिस इमारत में हादसा हुआ उसके मालिक की तलाश की जा रही है। 

Table of Contents

Delhi Mundka Fire News Update | मुख्य बिंदु

  • पश्चिमी दिल्ली के मुंडका में शुक्रवार को चार मंजिला इमारत में आग लगने से कम से कम 29 लोगों की मृत्यु हो गई और करीब 12 लोग गंभीर रूप से झुलस गए। 
  • यह आग मुंडका मेट्रो स्टेशन के पिलर नंबर 544 के निकट लगी।
  • मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मुंडका घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को शनिवार को 10-10 लाख रुपये और घायलों को 50-50 हजार रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की। 
  • पीएम ने मृतकों के परिजनों के लिए 2 लाख के मुआवजे का एलान किया
  • गोदाम के पास नहीं था फायर NOC सर्टिफिकेट
  • अब तक 29 की मौत, 7 शवों की हुई पहचान। कई लोग अभी भी लापता हैं, जिन्हें ढूंढ रहे हैं उनके परिजन
  • कुछ लोग इमारत से कूद गए थे उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। फायर कर्मचारियों ने तकरीबन 300-350 लोगों को बाहर निकाला।
  • पुलिस ने सीसीटीवी और राउटर बनाने वाली कंपनी के मालिक हरीश गोयल और वरुण गोयल को गैर गैरइरादतन हत्या समेत विभिन्न आपराधिक धाराओं के तहत गिरफ्तार किया है। 
  • मकान मालिक मनीष लाकड़ फरार है तथा पुलिस उसकी तलाश में जुटी हुई है।
  • कंपनी के मालिक हरीश गोयल और वरुण गोयल के पिता की भी इसी हादसे में हुई मौत।
  • मुंडका हादसे पर पीएम मोदी समेत राष्ट्रपति कोविंद से लेकर सीएम केजरीवाल ने शोक जताया 
  • आग लगने पर यहां करें तुरंत सूचित: पुलिस के लिए डायल करें 100, फायरब्रिगेड 101, एंबुलेंस के लिए 102, आग लगने पर 108.

आग एक सीसीटीवी एंड राउटर मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में लगी थी

जिस चार मंजिला व्यावसायिक इमारत में आग लगी, उसमें ज्यादातर अलग अलग कम्पनीज के आफिस थे। पुलिस के अनुसार आग पहली मंजिल पर स्थित एक सीसीटीवी एंड राउटर मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में लगी थी।

आग लगने का कारण जेनरेटर में हुए शॉर्टसर्किट को माना जा रहा है

Delhi Mundka Fire News Update | आग करीब चार बजे लगने की बात लोग कह रहे हैं लेकिन अग्निशमन को पहली काल 4 बजकर 50 मिनट पर मिली। इसके 18 मिनट बाद अग्निशमन की गाड़ी मौके पर पहुंची। आग लगने का कारण जेनरेटर में हुआ शॉर्टसर्किट बताया जा रहा है, जो पहले तल पर रखा था।

पीसीआर कॉल से मिली थी आग लगने की जानकारी

शुक्रवार शाम 04.45 बजे एक ऑफिस में आग लगने की घटना के संबंध में पुलिस स्टेशन मुंडका में एक पीसीआर कॉल आई। कॉल की सूचना पर स्थानीय पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची और लोगों को बचाने में लग गई। पुलिस अधिकारियों ने इमारत की खिड़कियां तोड़कर लोगों को बाहर निकाला और घायलों को अस्पताल में भर्ती करवाया।

मुख्यमंत्री ने दिए मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे

Delhi Mundka Fire News Update | मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘‘घटना की मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे दिए गए हैं। आग भीषण थी और शव इस हद तक झुलस गए थे कि उनकी पहचान करना मुश्किल हो गया है। ‘‘दिल्ली सरकार लापता लोगों और मृतकों की पहचान के लिए मदद मुहैया करा रही है।” दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शुक्रवार की रात घटनास्थल का दौरा किया था और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सीएम के साथ शनिवार को ही घटनास्थल का दौरा किया। 

पीएम ने मृतकों के परिजनों के लिए किया 2 लाख के मुआवजे का एलान

प्रधानमंत्री ने मृतकों के परिजनों के लिए 2-2 लाख रुपये और घायलों के लिए 50-50 हजार रुपये के मुआवजे की घोषणा की है जो प्रधानमंत्री राहत कोष से दी जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, गृहमंत्री अमित शाह, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ,प्रियंका गांधी व तमाम नेताओं ने इस घटना पर शोक व्यक्त किया।

मृतकों और गुमशुदा हुए लोगों के परिजनों को नहीं लग रहा है अपनों का पता

Delhi Mundka Fire News Update | लोगों का कहना है कि उनके जानकारों का कोई पता नहीं चल रहा है। यह भी नहीं पता चल पा रहा है कि वह कौन से अस्पताल में है। वहीं, कुछ परिजन अपनों की फोटो दिखाकर परिचितों के बारे में जानकारी लेने की कोशिश कर रहे थे। परिजनों का आरोप है कि समय रहते न तो फायर ब्रिगेड की गाड़ियां मौके पर पहुंची और ना ही कोई अधिकारी। 

Delhi Mundka Fire News Update | हादसे में कुल 29 लोगों की मौत हो चुकी है

100 लोगों को रेस्क्यू किया गया और 29 लोग अब भी लापता हैं, बता दें आग लगने के बाद एनडीआरएफ ने लोगों को निकालने के लिए सीढ़ियों का इस्तेमाल किया था। पुलिस कर्मियों ने इमारत की खिड़कियां तोड़कर फंसे लोगों को बाहर निकालने में मदद की थी। आग से बचने के लिए इमारत के अंदर फंसे कई लोगों ने निचले फ्लोर की खिड़कियों से छलांग लगा दी थी। चश्मदीदों का कहना है कि घटना स्थल का मंजर इतना भयानक था कि हम स्तब्ध रह गए, इमारत में फंसे लोग जान बचाने के लिए जो भी कर सकते थे वो सब करते हुए नजर आए।

फायर ब्रिगेड के 125 लोगों को लगाया गया राहत कार्य के लिए

Delhi Mundka Fire News Update | मुंडका आग घटना पर दिल्ली फायर सर्विसेज के निदेशक अतुल गर्ग ने बताया कि हमने कुल 30 फायर टेंडर को भेजा और काम में 125 लोगों को लगाया। हमें रात को 27 शव मिले, कुछ शवों के हिस्से सुबह मिले हैं, जिससे लगता है कि ये 2-3 शव और होंगे। कुल मृतकों की संख्या 29-30 हो सकती है।

हर दोषी के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई: DCP

दिल्ली बाहरी जिला के डीसीपी समीर शर्मा ने बताया कि हमने उचित धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली है। हम उचित कार्रवाई करेंगे और अगर कोई अधिकारी दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ भी सख्त कार्रवाई होगी। जिन्होंने भी कुछ गलत किया है या नियम फॉलो नहीं किए उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी

मैंने उससे कहा कि कूद जाओ, पर वह नहीं कूदी (आप बीती)

बिजनेसमैन इस्माइल खान अपनी बहन मुस्कान (21) की तलाश कर रहे थे, जो एक सेल्स एग्ज़ीक्यूटिव थी। इस्माइल ने कहा “उसने मुझे लगभग 4.30 बजे फोन किया और रो रही थी। मैं मदद के लिए दौड़ा। मैंने उसे कूदने के लिए कहा और भरोसा दिलाया कि मैं उसे पकड़ लूंगा। लेकिन उसने ऐसा नहीं किया।” इस्माइल ने बताया कि उसके बाद मुस्कान का फोन बंद हो गया। पुलिस ने इस्माइल को बताया 27 शव बरामद कर लिए गए हैं। 

■ Also Read | Gyanvapi Masjid News | जानिए क्या है काशी में ज्ञानवापी मस्जिद विवाद!

इस्माइल ने पूछा कि क्या उनमें उसकी बहन भी है? लेकिन अभी जवाब नहीं मिला। इस्माइल ने अपनी बहन को बचाने के लिए बिल्डिंग के अंदर जाने की कोशिश की, लेकिन कांच का एक स्लैब उस पर गिर गया। इस्माइल ने रोते हुए कहा कि फायर फाइटर्स आग बुझाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन उनकी मशीनरी काम नहीं कर रही थी। 

बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं था, जिसको जहां से जगह मिली वहीं से कूदे

Delhi Mundka Fire News Update | परिसर में अपनी जान गंवाने वाले और वहां से बचकर निकले लोगों के परिचितों और परिजनों ने बताया कि दूसरी मंजिल पर एक बैठक बुलाई गई थी। अधिकांश कर्मचारी वहां जमा हो गए थे। कुर्सियों की कमी के कारण कुछ लोग फर्श पर बैठे थे। बैठक के करीब आधे घंटे बाद नीचे के एक कर्मचारी ने बिजली गुल होने और फिर आग लगने की जानकारी दी। लेकिन बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं दिखा, तो कुछ लोगों ने खिड़कियों को तोड़ने के लिए भारी वस्तुएं फेंकी और एक पाइप पर चढ़ गए। आरोप है कि बैठक शुरू होने से पहले कई लोगों को अपने फोन जमा करने के लिए कहा गया था। जिंदा बचे लोगों में गोविंद की मां रीना भी शामिल हैं, जिसने यह बात बताई।

Delhi Mundka Fire News [Hindi] | स्थानीय लोगों ने की थी लोगों को बचाने की भरपूर कोशिश 

असेंबलिंग यूनिट में काम करने वाली इमला (40) ने एक मीडिया कर्मचारी को बताया-“मैं तीसरी मंजिल पर थी। अफरा-तफरी का माहौल था। मेरे दोस्त ने एक कुर्सी ली और शीशे की खिड़कियों को तोड़ना शुरू कर दिया। मैं अन्य लोगों के साथ सीढ़ियों की ओर भागी, लेकिन जाने के लिए कोई जगह नहीं थी। आग ने सब कुछ अपनी चपेट में ले लिया। लिफ्ट ने काम करना बंद कर दिया। एक घंटे में स्थानीय लोग हमें बचाने आए। उन्हें सीढ़ियां और रस्सियां मिलीं। जो निकल पाया वो निकल गया, बाकी सब वहीं रह गए। मैं डर गई और खिड़की से कूद गई। मैं मरना नहीं चाहती थी। मेरा बेटा मेरा इंतजार कर रहा था।”

उत्तराखंड की रहने वालीं विमला के जलकर कट गए हाथ

न्यूज़ में जिस महिला के दोनों हाथों पर पट्टी बंधी दिखाया गया वह उत्तराखंड की रहने वाली विमला है जो काम के सिलसिले में दिल्ली शिफ्ट हुई थी। हादसे में उनके हाथ जलकर कट गए। 

Delhi Mundka Fire News Update | हादसे में जान गंवाने वाले 6 और लोगों की हुई पहचान

Delhi Mundka Fire News Update | हादसे में जान गंवाने वाले 6 लोगों की पहचान कर ली गई है। पुलिस के मुताबिक मृतकों की पहचान तानिया भूषण, मोहिनी पाल, यशोदा देवी, रंजू देवी, विशाल मिथलेश और दृष्टि के रूप में हुई है। पुलिस का कहना है कि अन्य मृतकों के शवों के शिनाख्त की कोशिश की जा रही है। दरअसल, हादसे में 29-30 लोगों की मौत हो गई और 29 लोग लापता हैं। इनमें 24 महिलाएं व 5 पुरुष शामिल हैं।

कुछ शवों की डीएनए सैंपल से होगी पहचान

कुछ शव पूरी तरह से जल चुके हैं, ऐसे शवों की पहचान के लिए डीएनए सैंपल एकत्र किए जा रहे हैं। फॉरेंसिक टीम डीएनए के जरिए, इनकी पहचान करेगी।

Delhi Mundka Fire News [Hindi] | हादसे में लापता हुए लोगों की सूची आई सामने

  1. गीता चौहान (45 वर्ष, महिला) पत्नी रामभवन
  2. सोनम (20 वर्ष, महिला) भाई अनुराग
  3. आशा (30 वर्ष, महिला) भाई वीरपाल
  4. सोनी कुमारी (35 वर्ष, महिला) पत्नी मनोज ठाकुर
  5. तानिया (27 वर्ष, महिला) पुत्री चंद्र भूषण
  6. नरेंद्र (26 वर्ष, पुरुष) पुत्र कन्हैया लाल
  7. मोहिनी (38 वर्ष, महिला) पत्नी विजय पाल
  8. पूजा (19 वर्ष, महिला) पुत्री राजेश
  9. भारती देवी (42 वर्ष, महिला) पत्नी चमन  
  10. गीता देवी (42 वर्ष, महिला) पत्नी उपेंद्र सिंह
  11. कैलाश जानी (55 वर्ष, पुरुष) पुत्र बहादुर सिंह
  12. प्रवीन (33 वर्ष, पुरुष) पुत्र आशाराम 
  13. पूजा (19 वर्ष, महिला) बहन मोनी
  14. मोहिनी (40 वर्ष, महिला) मां पीयूष
  15. मधु (21 वर्ष, महिला) पुत्री राकेश
  16. पूनम (19 वर्ष, महिला) पुत्री महिपाल
  17. प्रीति (24 वर्ष, महिला) पुत्री महिपाल
  18. निशा कुमारी (18 वर्ष, महिला) चाचा सुमन
  19. विशाल (24 वर्ष, पुरुष) पुत्र मिथलेश 
  20. मधु (24 वर्ष, महिला) चाचा अकन
  21. अमित जानी (34 वर्ष, पुरुष) पुत्र कैलाश जानी
  22. मधु देवी (29 वर्ष, महिला) पत्नी अमित कुमार
  23. मोनिका (21 वर्ष, महिला) पुत्री विजय बहादुर
  24. यशोदा देवी (35 वर्ष, महिला) पत्नी विश्वजीत
  25. मुस्कान (22 वर्ष, महिला) पुत्री इस्लामुद्दीन
  26. स्वीटी (32 वर्ष, महिला) पत्नी मनोज कुमार
  27. भारती नेगी (45 वर्ष, महिला) बहन वीरेंद्र नेगी
  28. रंजू देवी (32 वर्ष, महिला) देवर राजकुमार
  29. जशोदा देवी (34 वर्ष, महिला) पड़ोसी रवि कुमार

ऐसे कुछ उपाय जो आग लगने पर जान बचाने में काम आ सकते हैं: 

  • आग लगने पर तुरंत 101 नंबर पर कॉल करके सूचना दें। यह न सोचें कि कोई दूसरा इसकी सूचना पहले ही दे चुका होगा। 
  • आग लगने पर सबसे पहले इमारत की अग्नि चेतावनी की घंटी (फायर अलार्म) को बजाएं। फिर बहुत ज़ोर से “आग-आग” चिल्लाकर लोगों को इसके बारे में बताएं। चेतावनी कम शब्दों में ही दें, नहीं तो लोगों को घटना की गंभीरता समझने में ज़्यादा समय लग जाएगा।
  • आग लगने पर लिफ्ट का उपयोग कभी न करें, सिर्फ सीढ़ियों का ही प्रयोग करें।
  • धुएं से घिरे होने पर अपनी नाक और मुंह को गीले कपड़े से ढक लें। (अगर मुमकिन हो तो)।
  • अपने घर और कार्यालय में स्मोक (धुआं) डिटेक्टर ज़रूर लगाएं क्योंकि अपनी सुरक्षा के उपाय करना हमेशा बेहतर और अच्छा होता है।
  • समय-समय पर इमारत में लगे फायर अलार्म, स्मोक डिटेक्टर, पानी के स्त्रोत, अग्निशामक की जांच करवाते रहें।
  • घटनास्थल के नज़दीक भीड़ न लगने दें, इससे आपातकालीन अग्निशमन सेवा और बचाव कार्य में बाधा होती है।
  • यदि आपके कपड़ो में आग लग जाए तो भागे नहीं, इससे आग और भड़केगी। ज़मीन पर लेट जाएं और उलट पलट (रोल) करें। किसी कम्बल, कोट या भारी कपड़े से ढक कर आग बुझाएं।(अगर मुमकिन हो तो)।
  • जान बचाने के लिए उस समय जो भी मुमकिन हो जल्द से जल्द करें।

परमात्मा उन सबकी रक्षा करते हैं जो सतभक्ति करते हैं

चाहे इंसान हो या जानवर सभी आत्माओं की रक्षा परमात्मा स्वयं करते हैं। जो सच्चे परमात्मा की भक्ति करते हैं उनका परमात्मा बाल भी बांका नहीं होने देते। जब हमारे पाप कर्म इकट्ठे हो जाते हैं तो हमारे साथ किसी भी तरह की अप्रिय घटनाएं होने लगती हैं।

भक्त प्रह्ललाद को भी परमेश्वर ने जलने से बचाया था

परमात्मा हर बार अपने भक्तों की रक्षा करता है, प्रह्लाद को जलती आग में से परमात्मा ने ही बचाया था। महाभारत के युद्ध क्षेत्र में परमेश्वर ने टटीरी पक्षी (टिटहरी) के बच्चों की रक्षा की थी, तथा परमेश्वर ने कुम्हार के आवे (मिट्टी के बर्तन पकाने के लिए जो आग पहले एक महीने तक के लिए लगाते थे) में से बिल्ली के बच्चों को सुरक्षित व जीवित निकाला था।

शिक्षा का उद्देश्य 

शिक्षा का उद्देश्य अपने सदग्रंथों को पढ़कर सत भक्ति करके जन्म मृत्यु के चक्कर से हमेशा हमेशा के लिए मुक्ति पाना है, किंतु हमारा ध्यान माया जोड़ने पर ही रहता है। घर परिवार, रिश्तेदार ही दिखाई देते हैं। हम शास्त्र अनुकूल साधना अर्थात सद्भक्ति नहीं करते। यह हमारी मूर्खता ही है क्योंकि आपत्ति काल में एक परमात्मा ही है जो हमारा साथ दे सकता है उससे कभी हमने कोई संबंध बनाया ही नहीं, भक्ति भी की तो शास्त्र विरुद्ध, जिस कारण हमें कोई भी लाभ और सुरक्षा नहीं मिलती।

आगजनी व अन्य प्राकृतिक घटनाओं से बचने का एकमात्र कारगर उपाय

कबीर परमेश्वर कहते हैं;

झगड़ा ,चोरी, अग्नि लग जावे,  नशे बीमारी में धन बहुत नसावे|

धर्मवान तो धर्म में लावे, फल भक्ति का पावे।।

कबीर परमात्मा हमें समझाते हुए बताया है;

एक बंदा ना धर्म करे था, जोड़ जोड़ धन बहुत धरे था ।

कोड़ी होके फिर वौ मरै था, फूट-फूटकर रोवै सतगुरु की वाणी।।

अर्थात : एक व्यक्ति बिल्कुल भी दान धर्म नहीं करता था, दूसरों को ठग ठग के धन इकट्ठा करने में लगा रहता था, सत साधना ना करने से उसकी फिर दुर्गति हुई जब उसका बुढ़ापा आया, तो वह फूट-फूट के रोया करता था और कोड़ी हो करके उसकी मृत्यु हुई अर्थात बहुत ही बुरी मौत हुई, इसलिए हमें परम संत से नाम दीक्षा लेकर, सतगुरु आज्ञा अनुसार दान धर्म करते रहना चाहिए।

जो भी पुण्य आत्माएं शास्त्र अनुकूल साधना अर्थात सतभक्ति तत्वदर्शी संत से नाम दीक्षा लेकर मर्यादा में रहकर करता है पूर्ण परमेश्वर कबीर साहेब उस भगत आत्मा की रक्षा सदैव करते हैं। वर्तमान में उस सत्य साधना को तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी जो पृथ्वी पर एकमात्र सच्चे संत हैं, सभी को निःशुल्क नाम दीक्षा दे रहे हैं।

आप सभी लोग सतभक्ति करें, उनके द्वारा लिखित पुस्तक “ज्ञान गंगा” को एक बार अवश्य पढ़ें, ताकि पूर्ण परमेश्वर कबीर साहेब, अल्लाह हू कबीर, सर्व सृष्टि रचनहार हक्का कबीर, आपके और आपके परिवार की हमेशा हमेशा रक्षा करें।

Narsingh Jayanti 2022 | नरसिंह जयंती पर जानिए परमेश्वर कविर्देव ने कैसे की भक्त प्रहलाद की रक्षा?

0
Narsingh Jayanti 2022 Date [Hindi] कविर्देव ने की प्रहलाद की रक्षा

Published on: 14 May 2022, 5: 50 PM IST: Narsingh Jayanti 2022 Date: पद्म पुराण के अनुसार नरसिंह जयंती वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है जो इस वर्ष 25 मई के दिन है। नरसिंह जयंती के अवसर पर जानें कि कैसे पूर्ण परमेश्वर कबीर साहेब ने अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा की, हम सबके वास्तविक रक्षक कविर्देव जी हैं ।

Narsingh Jayanti 2022: मुख्य बिंदु

  • नरसिंह जयंती वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है जो कि इस साल 14 मई 2022 को है
  • भगवान नरसिंह शक्ति एवं पराक्रम के प्रमुख देवता माने जाते हैं
  • नरसिंह जी को नरहरि, उग्र वीर महाविष्णु तथा हिरण्यकश्यप अरि  आदि नामों से भी जाना जाता है
  • हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नरसिंह देव को विष्णु जी का चौथा अवतार बताया जाता है
  • दक्षिण भारत में वैष्णव सम्प्रदाय के लोगों के द्वारा नरसिंह जयंती खासा धूमधाम के साथ मनाई जाती है
  • कबीर परमात्मा अपने भक्त (सत्य साधक) की रक्षा के लिए सतलोक से चलकर स्वयं आते हैं
  • पूर्ण परमात्मा कविर्देव जी वास्तविक रक्षक हैं

Narsingh Jayanti 2022 Date: क्या है नरसिंह जयंती?

पद्म पुराण के अनुसार नरसिंह जयंती वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है। इस वर्ष यह जयंती अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार दिनांक 14 मई के दिवस पर है। पाठकों को यह जानना अति विशेष आवश्यक है कि नरसिंह अवतार इस बात का प्रतीक है कि जैसे भक्त प्रहलाद की रक्षा पूर्ण परमेश्वर कविर्देव जी ने नरसिंह रूप लेकर की थी ऐसे ही पूर्ण परमेश्वर हम सबके रक्षक भी हैं।

“मास वैशाख कृतिका युत, हरण मही को भार।

शुक्ल चतुर्दशी सोम दिन, लियो नरसिंह अवतार।।”

Narsingh Jayanti 2022 पर जानिए कौन थे भगवान नरसिंह जी

नरसिंह नर + सिंह (“मानव-सिंह”) जो आधे मानव एवं आधे सिंह के रूप में प्रकट हुए थे, जिनका सिर एवं धड़ तो मानव का था लेकिन चेहरा एवं पंजे सिंह की तरह थे। इन्हें हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु जी का चतुर्थ अवतार बताया जाता है, ये अत्यंत उग्र तथा रौद्र रूप में प्रकट हुए थे। परन्तु सूक्ष्म वेद में बताया गया है कि पूर्ण परमेश्वर कविर्देव जी अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा के लिए ही नृसिंह अवतार लेकर आये थे।

नरसिंह भगवान की पूजा का समय शाम का माना जाता है क्योंकि नरसिंह जी ने असुर राजा हिरण्यकश्यप का वध करने के लिए दिन के ढलने और शाम के प्रारंभ के मध्य का समय चुना था। इस समय काल में ही उन्होंने नरसिंह अवतार लिया था। यदि पूर्ण परमात्मा की शरण हो तो हर समय लाभकारी है वरना किसी भी समय पर हानि हो सकती है,। गरीब दास साहेब जी कहते हैं कि

राहु केतु रोकै नहीं घाटा, सतगुरु खोले बजर कपाटा।

नौ ग्रह नमन करे निर्बाना, अविगत नाम निरालंभ जाना

नौ ग्रह नाद समोये नासा, सहंस कमल दल कीन्हा बासा।।

पूर्ण परमेश्वर कविर्देव जी के नरसिंह अवतार की कथा

बहुत समय पहले एक ऋषि हुआ करते थे, जिनका नाम ऋषि कश्यप और उनकी पत्नी का नाम दिति था। ऋषि और उनकी पत्नी दिति को 2 पुत्र हुए, उनमें से एक का नाम हिरण्याक्ष और दूसरे का नाम हिरण्यकश्यप था। भगवान विष्णु ने हिरण्याक्ष से पृथ्वी की रक्षा के हेतु वराह रूप धारण कर उसका वध कर दिया था।

भगवान विष्णु के द्वारा अपने भाई के वध से दुखी और क्रोधित हिरण्यकश्यप ने भाई की मृत्यु का बदला लेने के लिए अजेय होने का संकल्प कर हजारों वर्षों तक घोर तप किया। हिरण्यकश्यप की तपस्या से खुश होकर ब्रह्माजी ने उसे वरदान दिया कि उसे न कोई घर में मार सके न बाहर, न अस्त्र से उसका वध होगा और न शस्त्र से, न वो दिन में मरेगा न रात में, न मनुष्य से मरे न पशु से, न आकाश में और न पृथ्वी में। हिरण्यकश्यप के अत्याचार की कोई सीमा नहीं रही, उसने प्रभु भक्तों पर अत्याचार करना शुरू कर दिया था।

गरीब,राम नाम छांड्या नहीं, अबिगत अगम अगाध।

दाव न चुक्या चौपटे, पतिब्रता प्रहलाद।।

Also Read: बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima): क्या था महात्मा बुद्ध के गृहत्याग का कारण?

हिरण्यकश्यप का एक पुत्र प्रहलाद था लेकिन वो अपने पिता से बिल्कुल विपरीत था। प्रहलाद पूर्ण परमात्मा कविर्देव जी का अनन्य भक्त था, ये बात उसके पिता को पसंद नहीं थी, जिसके चलते उसने कई बार अपने पुत्र का वध करने की कोशिश की, लेकिन पूर्ण परमात्मा का भक्त होने के कारण हिरण्यकश्यप प्रहलाद का कुछ भी नहीं बिगाड़ पाया। भक्त प्रहलाद पर हिरण्यकश्यप के अत्याचार की जब सभी सीमाएं पार कर गई, तब पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब जी ने नरसिंह अवतार लिया और हिरण्यकश्यप का वध करके अपने भक्त प्रहलाद के दुखों का अंत किया।

हिरण्यक शिपु उदर (पेट) विदारिया, मैं ही मारया कंश।

जो मेरे साधु को सतावै, वाका खो-दूँ वंश।।

उपरोक्त वाणी में सतगुरु गरीबदास जी साहेब प्रमाण दे रहे हैं कि परमेश्वर कहते हैं कि मेरे संत को दुखी मत कर देना, जो मेरे संत को दुखी करता है समझो मुझे दुखी करता है। जब मेरे भक्त प्रहलाद को दुखी किया गया तब मैंने हिरण्यकशिपु का पेट फाड़ा।

संत रामपाल जी से तत्वज्ञान लेकर जाने वास्तविक रक्षक कविर्देव जी को 

इस मृत्युलोक का स्वामी ज्योति निरंजन काल है जिसने सर्व जीवों की बुद्धि को भरमाए रखा हुआ है। इस भ्रम के कारण ही सर्व मनुष्य ज्योति निरंजन अर्थात काल के अंश विष्णु जी हैं को ही नरसिंह अवतार मानने लगा, परन्तु वास्तविकता इससे भिन्न है, क्योंकि सभी धर्मों के सद्ग्रन्थों में बताया गया है कि पूर्ण परमेश्वर कविर्देव जी अपने सच्चे भक्तों की रक्षा के लिए अपने निजधाम अर्थात सतलोक से चलकर स्वयं आते हैं, परंतु दुर्भाग्यवश मानव समाज वास्तविक रक्षक को भूल चुका है, पूर्ण संत रामपाल जी महाराज इसी अज्ञानता की गहरी खाई को समाप्त करने के लिए मानव समाज के उत्थान के लिए आये हुए हैं तथा वास्तविक रक्षक कविर्देव जी से परिचित करा रहे हैं।

क्या है वास्तविक पूजा विधि? 

सतगुरु अर्थात पूर्ण संत रामपाल जी महाराज जी के द्वारा बताई गई भक्ति विधि को करने से पूर्ण परमेश्वर जी अपने प्रत्येक साधक की रक्षा प्रत्येक क्षण करते हैं तथा उस साधक के जीवन से सर्व दुखों का निवारण करते हैं इसलिए सत्य को पहचानें तथा संत रामपाल जी महाराज जी से निःशुल्क नाम दीक्षा प्राप्त करें। संत रामपाल जी महाराज जी के अनमोल सत्संग श्रवण करने के लिए सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल देखे।

जो जन मेरी शरण है, ताका हूँ मैं दास। 

गेल-गेल लाग्या फिरूँ, जब तक धरती आकाश।।

प्रिय पाठकों से निवेदन है कि वास्तविक रक्षक कविर्देव जी ने भक्त प्रहलाद की तरह ही अपने अन्य भक्तों की कैसे रक्षा की तथा उनके जीवन से कैसे दुखों का निवारण किया इन सभी प्रश्नों के उत्तर विस्तार से जानने के लिए संत रामपाल जी महाराज जी के द्वारा लिखित पवित्र पुस्तक “ज्ञान गंगा” का अवश्य अध्ययन करें।

Gyanvapi Masjid News | जानिए क्या है काशी में ज्ञानवापी मस्जिद विवाद!

1
Gyanvapi Masjid News जानिए क्या है काशी में ज्ञानवापी मस्जिद विवाद!

Gyanvapi Masjid News Update | बनारस यानी काशी में स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर विश्व विख्यात है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि असल मंदिर पास ही स्थित ज्ञान वापी मस्जिद को बनाते समय तोड़ दिया गया था। इसलिए समय समय पर ज्ञानवापी विवाद सामने आता रहता है। वर्तमान में कुछ महिलाओं द्वारा दायर की गई सर्वे करने की याचिका से ये विवाद फिर से गरमा गया है। आइए जानते है पूर्ण जानकारी-

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद (Gyanvapi Masjid Controversy) | मुख्य बिंदु

  • आचार्य अशोक द्विवेदी ने मंदिर परिसर को लेकर बताये तथ्य।
  • सर्वे के लिए एडवोकेट कमिशनर नियुक्त करने की मांग।
  • मस्जिद में वीडियोग्राफी करवाने की मांग।
  • सर्वे के लिए अजय कुमार के साथ दो नए वकील कमिशनर हुए नियुक्त।
  • 17 मई से पहले दोबारा होगा सर्वे।
  • मस्जिद के प्रत्येक भाग में होगा सर्वे सम्पन्न।
  • जिला प्रशासन, गृह मंत्रालय, पुलिस कमिशनर करेंगे सर्वे की मॉनिटरिंग।
  • मस्जिद के रकबा नंबर 9130 के सम्पूर्ण भाग में होगा सर्वे।

कैसे गरमाया ज्ञानवापी मस्ज़िद मामला?

वर्ष 2021 अगस्त में ज्ञानवापी मस्ज़िद पर याचिका दायर कर वहां पर कुछ महिलाओं द्वारा सर्वेक्षण करने की मांग की गई थी और उसी वजह से इस मस्जिद को लेकर विवाद गरमाया हुआ है। 

ज्ञानवापी मस्ज़िद का इतिहास क्या है? (History of Gyanvapi Masjid)

ऐसा माना जाता है कि ज्ञानवापी मस्ज़िद वास्तव में एक हिन्दू शिवमंदिर था, जिसको मुस्लिम आक्रांताओं द्वारा बार बार नष्ट किया जाता रहा। टोडरमल ने नारायण भट्ट के साथ शिव मंदिर को  स्थापित किया था परंतु 1669 के आसपास, मुग़ल बादशाह औरंगजेब ने मंदिर के विध्वंस का आदेश दिया और उसके स्थान पर ज्ञान वापी मस्जिद का निर्माण शुरू किया गया।

1809 में ज्ञानवापी मस्जिद और काशी विश्वनाथ मंदिर का घटनाक्रम

ब्रिटिश राज में भी यह विवाद चलता रहा जब हिंदू समुदाय द्वारा ज्ञानवापी मस्जिद और काशी विश्वनाथ मंदिर के बीच “तटस्थ” स्थान पर एक मंदिर बनाने के प्रयास से तनाव बढ़ गया।  उसी समय मे होली और मुहर्रम का त्योहार एक ही दिन पड़ गया और मौज-मस्ती करने वालों का टकराव सांप्रदायिक दंगे में बदल गया।  मुस्लिम भीड़ ने एक गाय (हिंदुओं के लिए पवित्र) को मौके पर ही मार डाला, और उसका खून कुएं के पवित्र पानी में फैला दिया। ज्ञानवापी में आग लगा दी गई और उसे गिराने का प्रयास किया गया। ब्रिटिश प्रशासन द्वारा दंगे को कुचलने से पहले, दोनों पक्षों ने हथियार उठा लिए, जिसके परिणामस्वरूप कई मौतें और संपत्ति की क्षति हुई।

Gyanvapi Masjid News Update | क्या है वर्तमान स्थिति?

1984 की शुरुआत से, विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने दक्षिणपंथी हिंदू राष्ट्रवादियों के साथ मिलकर ज्ञानवापी सहित हिंदू मंदिरों को ध्वस्त करके निर्मित मस्जिदों के स्थलों को पुनः प्राप्त करने के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान चलाया। दिसंबर 1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद तनाव बढ़ गया और ज्ञानवापी में इसी तरह की घटना को रोकने के लिए लगभग एक हजार पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था।  

■ यह भी पढ़ें | कबीर साहेब के हिन्दू मुस्लिम को चेताने और नारी सम्मान के प्रसिद्ध दोहे अर्थ सहित (Kabir Saheb Ke Dohe in Hindi)

1998 में मस्जिद प्रबंधन समिति ने अदालत द्वारा सुनाए गए फैसले जिसमे मस्जिद के सर्वेक्षण की अनुमति दी गई थी, इलाहाबाद उच्च न्यायालय में सफलतापूर्वक चुनौती दी जिसने कार्यवाही पर रोक लगा दी। ज्ञानवापी मस्जिद प्रबंधन समिति (अंजुमन इंतेज़ामिया मस्जिद) ने प्रतिवादी के रूप में कार्य करते हुए दावा किया कि औरंगजेब ने मस्जिद के निर्माण के लिए एक मंदिर को ध्वस्त कर दिया था ये गलत है।

नए विवाद की शुरुआत कैसे हुई?

बता दें कि 5 अगस्त, 2021 को कुछ महिलाओं ने वाराणसी लोकल कोर्ट में एक याचिका लगाई थी, जिसमें उन्होंने ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में स्थित श्रृंगार गौरी मंदिर समेत कई विग्रहों में पूजा करने की अनुमति देने और सर्वे कराने की मांग की थी। इसी याचिका पर कोर्ट ने यहां सर्वे करने की अनुमति दी थी। हालांकि, जब टीम सर्वे करने पहुंची तो वहां मुस्लिम पक्ष के लोगों ने उन्हें मस्जिद की वीडियोग्राफी करने से रोक दिया जिससे ये मामला फिर से सुर्खियों में आ गया। 

अप्रैल, 2022 में कोर्ट ने ज्ञानवापी परिसर का पुरातात्विक सर्वेक्षण करने का आदेश दिया और इसी आधार पर अब ज्ञानवापी परिसर के सर्वेक्षण में सम्पूर्ण जगह की वीडियोग्राफी किया जाना है।

कमिश्नर बदलने की उठी मांग

कोर्ट ने कहा कि मस्जिद के सर्वे के लिए कमिश्नर को नहीं बदला जाएगा। इसके साथ ही कोर्ट ने आदेश दिया है कि सुबह 8 से लेकर 12 बजे तक मस्जिद का सर्वे किया जाएगा जिससे ये पता चल सके कि वास्तव में यहां हिन्दू देवी देवताओं के अवशेष मौजूद हैं या नहीं। इस दौरान कमिश्नर अजय मिश्रा के साथ सहायक कमिश्नर विशाल और अजय प्रताप भी रहेंगे। कोर्ट ने इस मामले की सर्वे रिपोर्ट 17 मई तक मांगी है।

आध्यत्मिक ज्ञान के अभाव में हो रहा है विवाद

हैरानी की बात है कि एक जगह और पत्थर को लेकर किस प्रकार लगभग सभी धार्मिक स्थान विवादों में रहते है जबकि इन जगहों का लक्ष्य तो शांति स्थापना का होना चाहिए। लेकिन अज्ञानतावश श्रद्धालु भगवान प्राप्ति की चाह में नेताओं तथा झूठे धार्मिक गुरुओं की मानकर झगड़ते रहते हैं।

वर्तमान में इस तरह के प्रत्येक विवाद को केवल जगतगुरू संत रामपाल जी महाराज के तत्व ज्ञान से खत्म किया जा सकता है। पूर्ण परमात्मा कबीर साहिब जी अपनी वाणी में बताते हैं:-

पत्थर पूजे हरि मिले तो मैं पूजूँ पहाड़।।

जीव हमारी जाती है, मानव धर्म हमारा।

हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई, धर्म नही कोई न्यारा।

वही मोहम्मद वही महादेव, वही आदम वही ब्रह्मा।

कबीर दूसरा कोई नही, देख आपने घर मा ।

अर्थात जाति आदि में न पड़कर पूर्ण परमात्मा की शरण ग्रहण कर सतभक्ति करना ही मनुष्य जीवन का मुख्य उद्देश्य है। जो पूर्ण संत होगा वो समाज में व्याप्त जातिवाद को मिटाकर एक पंथ चलाएगा तथा शांति स्थापित कर श्रद्धालुओं को सत्य मार्ग की तरफ अग्रसर करेगा। अधिक जानकारी के लिए देखें सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल।

International Day of Family: Only True Devotion Can Ensure the Well Being of a Family

1
International Day of Family Theme, History, Symbols, Importance

Last Updated on 13 May 2022, 10:59 PM IST | International Day of Families 2022: International Day of Families is an annual observance which aims at highlighting the hardships of the basic element of a society, the family. In a period of such uncertainties when anything can happen to anyone anytime, everyone wants to safeguard their families. But the question is what we can do? Because we are totally unaware about the answer to this question and that’s the reason why the answer will appear to be baseless to people but it is actually not.

For guaranteeing happiness and well being of a family, adopt the true method of worship and correct way of living to experience benefits one cannot even imagine. 

International Day of Families: Key Points

  • International Day of Families is an international observance that is observed so as to highlight the challenges faced by a common family. 
  • Annually, this day is observed on 15th May. 
  • The need for the establishment of this day came into the decade of 1980s but it came into existence in the year 1993 by the United Nations. 
  • This year the theme of International Day of families is “Families and Urbanization”
  • Urbanization is one of the most important megatrends shaping our world and the life and wellbeing of families worldwide.
  • This day is observed by carrying out public workshops, seminars, exhibitions, etc to encourage people about the importance of family in one’s life. 
  • A correct way of living can guarantee mental stability and peace inside a family. 
  • The True Way of Living can only be adopted by following the true path of worship as a devastated family can be stabilized by only adopting True Devotion. 

What Is International Day of Families? 

International Day of Families is an yearly observance founded by the UN in 1993. It aims at highlighting the need to have a clean and a healthy family for the wellbeing of its members and society. Today, everyone wants to have a good family and wants to provide their family with the best of the provisions, but facilities don’t come up by thinking, the initiative of international day of families is a step in that direction.

This day came into force to recognize the value and importance of family as a whole. However it is not a public holiday, yet people try to motivate other people to realize the importance of family especially in the youth. Because a positive family leaves a positive impact on the society and generations to come, hence developing this kind of society is the need of the hour now. 

When Is International Day of Families? 

Every year by default and as decided by the United Nations, International Day of families happens to be on 15th May. 

What Is the Background of International Day of Families?

In the starting phase of the decade of 1980s, the United Nations started considering and realizing the hardships of a family. As recommended by the Economic and Social council, the Commission of Social Development requested the Secretary General via its resolution to discuss the role of family in the development process(1983/23) to generate awareness amongst the decision makers and public about the need and hardships of a family as a part of the society. 

On 29th May 1985, in its resolution (1985/29), the council called up the General Assembly so as to consider the agenda of “Families in the development process” in their forty first session. And with the aim of requesting the Secretary General to generate awareness about the same. Later, the Assembly invited all the states to present their views and comments about the possible proclamation of the International year of families.

International Day of Families Date Selection 

The Council also requested the Secretary General to submit a report regarding the views, comments and proposals of the member states about the possible proclamation of such a year and awareness about other initiatives so as to generate global efforts onto the path of welfare of a family. By resolution 44/82, 9th December 1989, International Year of Family was successfully proclaimed by The General Assembly.

Also Read | Mother’s Day: Know About the One Who Is the Originator of Soul  

However, by the year 1993, the General Assembly by its resolution A/RES/47/237 decided that 15th May is to be observed as the International Day of Families globally. It was implemented to lay its emphasis on all the social economic challenges faced by a general family so as to solve them on a bigger scale.

What Is the Theme of International Day of Families 2022? 

The Theme for the year 2022 of International Day of Family as decided by the United Nations is “Families and Urbanization”. It concentrates on Urbanization as one of the most important megatrends shaping our world and awareness about the safety, family friendliness and sustenance of families.

How Is the International Day of Families Celebrated?

International Day of Families is observed annually and the following practices are observed:

  • People carry out Seminars, Exhibition and workshops highlighting the need of family in developing one nation. 
  • Various events and plays including webinars are organized at national and international levels to generate awareness amongst youth. 
  • Even tool kits are given in some countries to the people so as to encourage people by organizing some innovative celebrations to a particular group of people like in a school or college, etc. 
  • Every year a dedicated theme has been given to this day so as to bring the importance of family into the limelight. 
  • A dedicated hashtag #InternationalDayOfFamilies and #DayofFamilies is made to trend so as to highlight the day by social media platform twitter as many of us weren’t aware about the existence of the day. 
  • However, due to the pandemic, celebrations of this day will be limited to online ways of performing it.

What Are the Symbols of International Day of Families? 

This day has a special symbol that adds value to the importance of the day. The symbol consists of a green solid circle and in the middle of that circle there is a picture of a heart under a roof. This highlights the fact that every family, every home is central to the society and together makes up a stable society. And urging us to build such a peaceful family for the society to build. With this symbol, people have developed several other symbols as well so as to celebrate the course of the day.

Quotes on International Day of Families 2022

  • “The strength of a family, like the strength of an army, lies in its loyalty to each other.” – Mario Puzo
  • “Family means nobody gets left behind or forgotten.” — David Ogden Stiers
  • “A family is a risky venture, because the greater the love, the greater the loss… That’s the trade-off. But I’ll take it all.” — Brad Pitt
  • “The bond that links your true family is not one of blood, but of respect and joy in each other’s life.” – Richard Bach
  • “A happy family is but an earlier heaven.” – George Bernard Shaw
  • “Being a family means you are a part of something very wonderful. It means you will love and be loved for the rest of your life.” – Lisa Weed
  • “Happiness is having a large, loving, caring, close-knit family in another city.” ― George Burns
  • “It didn’t matter how big our house was; it mattered that there was love in it.” — Peter Buffett

What Is the Importance of International Family Day?  

The success story of a well established family does not lie in the amount of money it has, rather it lies in the amount of satisfaction it has in life. And that satisfaction can only be obtained after having the correct WAY OF LIVING. Having a correct way of living is as necessary as oxygen in one’s life.

As we are witnessing, people are facing many problems in the era of pandemic. Earlier, what seemed to be happy is now gone in a flash? —is the case with many families today. It is because of the uncertainty of life here which arises the need to have a Spiritual Teacher or GURU to teach us the appropriate WAY OF LIVING so that we can acquire mental peace and stability inside our families. Currently, there are numerous Saints/Gurus present on this planet Earth and most of them are not connected with Almighty God Kabir and hence aren’t capable of giving you anything more than your destiny. 

Who Can Help Us in Troubles? 

Money is not what a family needs for survival, it’s the mental peace which is most important and it can surely be achieved by going into the refuge of a True Spiritual Master and adopting the True Method of Worship. Currently amongst all the saints around, Saint Rampal Ji Maharaj from the holy land of Haryana, India is one and only representative of Almighty God Kabir present on this planet Earth. 

He has proved via His devotees that families who were once considered to be devastated by the effect of karmas now have their mental peace and stability back in place by adopting the method of worship given by Saint Rampal Ji Maharaj. He is currently the only one on the planet who is guaranteeing by His method of worship that bad karmas can be erased. So it is the right for us to go and take advantage of Him. Saint Garibdasji (from Haryana) says in His sacred speech:

Uttar dakshin purab pashchim, Firda daane daane nu |

Sarb kala Satguru Saheb ki, Hari aaye Hariyane nu ||

Everyone wants peace in this world of uncertainties and it seems impossible without the refuge of Saint Rampal Ji Maharaj. So don’t be late and take Naam Diksha (initiation) from Him to get your welfare done. For more information download Sant Rampal Ji Maharaj App.

Frequently Asked Questions (FAQ) on International Day of Families 2022

Q. What is the theme for International Day of Families 2022?

Ans: 2022 Theme: Families and Urbanization

Q. What is International Family Day?

International Day of Families is annually celebrated by the UN on May 15 globally. The day is observed to make people aware about the important affairs about the welfare of families, such as health, education, gender equality, rights for children, and social inclusion.

Q. What is International Family Day for kids?

Ans: International Day of Families 2022 observance date is Sunday, 15 May 2022. The aim of Family Day is to highlight the benefits of the family systems to people. International Family Day has been observed on 15th May every year since 1994.

Q. Who started International Family Day?

In 1999, the United Nations sent an invitation to its members to formally celebrate the first day of the year as Global Family Day. After completion of one year in 2001, the day became an annual event due to its great success and the impact on society

Blood Donation Camp: संत रामपाल जी महाराज के सानिध्य में सम्पन्न हुए रक्तदान शिविर, बने चर्चा का विषय

1
Blood Donation camp by muninder trust in the presence of saint rampal ji

Blood Donation Camp: आज हम बात कर रहे हैं देश के उत्तरप्रदेश राज्य की, जिसके सभी 75 जिलों में एक दिन में सम्पन्न हुए विशाल रक्तदान शिविर देशभर में सुर्खियों का कारण बने हुए हैं, इन विशाल रक्तदान शिविरों का आयोजन 2 अक्टूबर, शनिवार के दिन संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में मुनींद्र धर्मार्थ ट्रस्ट द्वारा आयोजित सत्संगों के माध्यम से किया गया। संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायियों द्वारा एक दिन में किये गए इस विशाल रक्तदान समारोह की देशभर में हर जुबां पर आज चर्चा है और हो भी क्यों न, क्योंकि संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी अपने गुरुजी की बताई गई शिक्षा-दीक्षा को प्रथम मानकर समाज हित के हर हितैषी कार्य में अग्रणी रहते हैं, आइये जानते हैं विस्तार से।

Blood Donation Camp: मुख्य बिंदु

  • संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में उत्तरप्रदेश के सभी 75 जिलों में 2 अक्टूबर, शनिवार के दिन मुनीन्द्र धर्मार्थ ट्रस्ट द्वारा आयोजित सत्संगों के माध्यम से सम्पन्न हुए विशाल रक्तदान शिविर
  • संत रामपाल जी महाराज के हजारों अनुयायियों ने एक साथ किया रक्तदान
  • समाज की हर हितैषी पहल में हैं, संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी सबसे अग्रणी
  • रक्तदान शिविर के साथ-साथ सत्संगों का भी किया गया था आयोजन, सत्संगों में बुराइयों से आजीवन दूर रहने का लिया संकल्प
  • रक्तदान है एक महादान : संत रामपाल जी महाराज
  • संत रामपाल जी महाराज अद्वितीय कल्याणकारी विचारधारा के सच्चे समाजसुधारक संत हैं

समाज के सबसे बड़े समाज सुधारक

वर्तमान में पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब के प्रतिरूप तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज का धरती पर अवतरण विश्व के महान भविष्यवक्ताओं की वाणियों में छिपे संदेश के साथ मिलना महज एक संयोग नहीं है अपितु विश्व को सतभक्ति मार्ग बताने के लिए साक्षात परमात्मा का कृत्य है। सतगुरु रामपाल जी के अनुसार परम सत्य को जानने के बाद मनुष्य की आत्मा जीवन मुक्ति की अधिकारी हो जाती है और मनुष्य इस संसार समुद्र से पूर्णतया मुक्त होकर पुनः संसार चक्र में नहीं फँसता।

सतगुरु रामपाल जी महाराज एक ऐसे महान संत हैं जिन्होंने दहेज मुक्त, नशा मुक्त, भ्रष्टाचार मुक्त, व्याभिचार मुक्त समाज का निर्माण करते हुए सतज्ञान की सुगन्ध को पूरे विश्व में फैलाने का बीड़ा उठाया है। उन्होंने मानव जीवन का लक्ष्य सतगुरु की छत्रछाया में समग्रता से जीते हुए दुष्कर्म त्यागने और परमात्मा का ध्यान सुमरण प्रभु गुणगान करके काल जाल से मुक्त होकर अपनी उच्चतम संभावना को प्राप्त करने का संदेश दिया है।

सतगुरु संत रामपाल जी महाराज ने सतभक्ति साधना के साथ परमार्थ करने को श्रेष्ठ बताया है। इसी कारण उनके अनुयाई आए दिन जरूरत मंदों की सेवा में सदैव तत्पर रहते हैं। मध्यप्रदेश राज्य के जबलपुर के सभी अस्पतालों में संत रामपाल जी के अनुयायी जरूरत मंद लोगो को रक्तदान सेवा में लगे हुए हैं। जिसको भी रक्त की आवश्यकता होती है उनकी एक पुकार पर ये भक्त तुरंत पहुँचकर उनके ब्लड ग्रुप के अनुसार रक्तदान करते हैं। अभी एक ज्वलंत उदाहरण जबलपुर के विक्टोरिया हॉस्पिटल मेडिकल हॉस्पिटल में भी देखने को मिल रहा है। यहाँ संत रामपाल जी के भक्तों ने हाल ही में रक्तदान सेवा की और वहाँ उपस्थित लोगों को संत रामपाल जी महाराज द्वारा लिखित पवित्र पुस्तक “जीने की राह” भी भेंट की। स्थानीय लोगों और अस्पताल के कर्मचारियों ने सतगुरु रामपाल जी के भक्तों की भूरी भूरी प्रशंसा की और साथ ही ऐसे भक्त पैदा करने वाले संत को भी श्रद्धा से याद किया।

विशाल रक्तदान शिविर (Blood Donation Camp) क्यों बने सुर्खियों का कारण?

  • उत्तरप्रदेश के जिला अमरोहा के ग्राम पचकोरा में संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में सत्संग का आयोजन किया गया। सत्संग के पश्चात रक्तदान शिविर भी आयोजित हुआ जिसमें संत रामपाल जी महाराज जी के 37 अनुयायियों ने रक्तदान शिविर (Blood Donation Camp) में भाग लेकर रक्तदान जैसा महादान किया।
  • उत्तरप्रदेश के जिला मैनपुरी में मुनींद्र धर्मार्थ ट्रस्ट तथा कान्हा गेस्ट हाउस के द्वारा शनिवार को जिला चिकित्सालय स्थित ब्लड बैंक में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया जिसमें संत रामपाल जी महाराज जी के 12 अनुयायियों ने रक्तदान किया। 25 ने रक्तदान के लिए पंजीकरण कराया।
  • जिला बरेली में महात्मा गांधी जयंती व लाल बहादुर शास्त्री की जयंती के अवसर पर मुनींद्र धर्मार्थ ट्रस्ट द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन गंगापुर चौराहे के निकट पार्टी पैलेस बारात घर में किया गया। जिसमें संत रामपाल जी महाराज जी के दर्जनों अनुयायी सम्मिलित हुए।
  • झांसी जिले के भगवन्तपुरा स्थित विवाह घर में शनिवार को मुनीन्द्र धर्मार्थ ट्रस्ट के तत्वावधान में संत रामपाल जी महाराज जी का सत्संग आयोजित किया गया ततपश्चात रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया गया। इस रक्तदान शिविर (Blood Donation Camp) में 18 सदस्यों ने रक्तदान किया। सत्संग में संत रामपाल जी महाराज जी ने बताया की मानव देह प्राप्ति का मूल उद्देश्य आत्मा का उद्धार है, अर्थात काल के बंधन से मुक्ति।
  • उत्तरप्रदेश के ललितपुर जिले में संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायियों द्वारा कुरीतियों को दूर करने व स्वच्छ समाज की परिकल्पना को साकार करने के उद्देश्य से राजघाट रोड स्थित एक मैरेज गार्डन में सत्संग का आयोजन किया गया। साथ ही सत्संग के पश्चात रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया गया।
  • जिला बाँदा में मुनींद्र धर्मार्थ ट्रस्ट के 27 सदस्यों ने अमर उजाला फाउंडेशन के तत्वाधान में आयोजित रक्तदान शिविर में भाग लिया। स्वैच्छिक इस रक्तदान शिविर का आयोजन शनिवार को सवई बायपास के निकट किया गया। इस रक्तदान शिविर में संत रामपाल जी महाराज जी के सैकड़ों अनुयायी इकठ्ठा हुए। इसके पश्चात सत्संग हुआ जिसमें सर्व बुराइयों से जीवन भर दूर रहने का संकल्प लिया।
  • देवकली (जिला गाजीपुर, उत्तरप्रदेश) में मुनीन्द्र धर्मार्थ ट्रस्ट हरियाणा के तत्वाधान में 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी व लालबहादुर शास्त्री के जन्म दिवस पर नाम दीक्षा केन्द्र कुसुम्ही कलां द्वारा रक्तदान व सतसंग समारोह आयोजित किया गया जिसमे संत रामपाल जी महाराज जी के 13 अनुयाइयों ने रक्तदान किया। ब्लड बैंक के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर बृजभान सिंह, डॉक्टर साकेत, डॉक्टर नंदलाल दुबे एवं परामर्शदाता डॉक्टर अशोक दास ने रक्तदान शिविर में योगदान किया।
blood donation camp in gazipur up
  • संत रामपाल जी महाराज जी सानिध्य में पाकबड़ा के मंगूपुरा ग्राम की धर्मशाला में महात्मा गांधी जयंती के अवसर पर 2 अक्टूबर, शनिवार के दिन रक्तदान शिविर (Blood Donation Camp) का आयोजन किया गया। 14 लोगों ने इस रक्तदान शिविर में रक्तदान किया।
  • बस्ती जिले के अटल बिहारी वाजपेयी प्रेक्षागृह परिसर में 2 अक्टूबर, शनिवार के दिन संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायियों द्वारा सत्संग का आयोजन किया गया। इस दौरान रक्तदान शिविर का आयोजन भी किया गया जिसमें संत रामपाल जी महाराज जी के 17 अनुयायियों ने दूसरे लोगों का जीवन बचाने के लिए रक्तदान किया। साथ ही साथ सत्संग में बताया गया कि संत रामपाल जी महाराज का ज्ञान शास्त्रानुकूल है जिससे आध्यात्मिक, भौतिक व शारिरिक लाभ होते हैं तथा पूर्ण मोक्ष की प्राप्ति होती है। मांस, नशीले पदार्थों के सेवन से होने वाले पापकर्म का ज्ञान होने से लोग इनसे विरक्त हो रहे हैं।
  • उत्तरप्रदेश के आगरा जिले के दाऊजी ग्रीन्स बुढेरा मोड़, फतेहाबाद में 2 अक्टूबर 2021, शनिवार को गांधी जयंती के अवसर पर मुनीन्द्र धर्मार्थ ट्रस्ट आगरा के सदस्यों ने 62 यूनिट रक्तदान किया जिसको लेने सरोजनी नायडू कॉलेज की टीम आयी थी। तत्पश्चात एलइडी के माध्यम से संत रामपाल जी महाराज जी का सत्संग चलाया गया जिसमें जिले की प्रत्येक तहसील के अधिक से अधिक लोगों ने उपस्थित होकर सत्संग श्रवण किया।
dowry free marriage in agra up
  • उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ के वृंदावन पैलेस में मुनीन्द्र धर्मार्थ ट्रस्ट के द्वारा सत्संग का आयोजन किया गया, इस सत्संग में संत रामपाल जी महाराज जी के अनमोल उपदेशों को सुनकर लोगों ने सर्व प्रकार की कुरीतियों जैसे दहेज इत्यादि तथा नशा, मांस भक्षण इत्यादि बुराइयों को आजीवन छोड़ने का संकल्प लिया ततपश्चात रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया जिसमें संत रामपाल जी महाराज के अनुयायियों ने बढ़चढ़कर भाग लिया।

यूं ही संत रामपाल जी महाराज को देश दुनिया के सबसे बड़े समाज सुधारक संत के रूप में नहीं देखा जाता, बल्कि उन्होंने वह काम कर दिखाया जिसे न कई राष्ट्रों की सरकारें कर पाईं और न ही बड़ी-बड़ी समितियां। तो आइए जानते संत रामपाल जी महाराज जी की इस अद्वितीय कल्याणकारी विचारधारा को।

संत रामपाल जी महाराज का नशा मुक्त अभियान

देश दुनिया में नशे की बढ़ती लत चिंता का कारण बन रही थी तब सरकारें भी चिंतित थीं और सरकारों द्वारा कई कानून भी बनाये गए पर वह धरातल पर इतने प्रभावी साबित नही हुए तो वहीं दूसरी ओर पूर्ण संत रामपाल जी महाराज जी ने अपने अनमोल तत्वज्ञान के आधार पर लाखों लोगों को नशे से मुक्ति दिलाई व इन लोगों ने आजीवन नशे से दूर रहने का दृढ़ निश्चय किया और आज खुशहाल जीवन जी रहे हैं। संत रामपाल जी महाराज के अनुयायी नशा करना तो दूर नशीली वस्तुओं को छूते भी नहीं हैं और ना ही किसी को लाकर देते हैं।

संत रामपाल जी महाराज का दहेज मुक्त अभियान

दहेज नाम की कुप्रथा का जब भी नाम लिया जाता है तब-तब नारियों के साथ हुए अत्याचार व कन्या भ्रूण हत्या का दुःखदाई मंजर सामने आता है, यह मानव समाज पर लगा ऐसा कलंक है जो मानवता को भी शर्मसार करता है, सरकारों ने भी इस दहेज नाम की कुप्रथा के अंत के लिए कई कानून बनाये पर वह कानून सिर्फ कागजी जामा पहने रह गए और लोग निर्भीक होकर दहेज लेते रहे, पर वहीं दूसरी ओर संत रामपाल जी महाराज जी अपने सत्संगों में बताते हैं दहेज लेना-देना दोनों ही महापाप हैं, वर पक्ष के लिए वधु पक्ष द्वारा दिया गया सबसे उत्तम दहेज वधु होती है। संत रामपाल जी महाराज के इन उपदेशों को सुनकर संत रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी न तो दहेज लेते हैं और न ही दहेज देते हैं तथा बिल्कुल सादगी पूर्ण दहेज मुक्त विवाह करते हैं जिसे संत भाषा मे रमैनी कहा जाता है जो कि सिर्फ 17 मिनिट में सम्पन्न हो जाती है।

संत रामपाल जी महाराज जी की कल्याणकारी विचारधारा व उपदेशों के विषय में विस्तार से जानने के लिए संत रामपाल जी महाराज द्वारा लिखित पवित्र पुस्तक ‘जीने की राह का अवश्य अध्ययन करें।

स्वर्ण युग का आरम्भ हो चुका है!

समाजसुधारक संत रामपाल जी महाराज जी के इन अद्वितीय समाज सुधारों की झलक देखकर ऐसा कहना बिल्कुल उचित है कि एक नए युग का आरम्भ हो चुका है जिसे स्वर्ण युग की संज्ञा देना गलत नहीं होगा। स्वर्ण युग अर्थात कलयुग में सतयुग का माहौल। संत रामपाल जी महाराज जी महाराज जी की इस अद्वितीय विचारधारा से जुड़ने के लिए संत रामपाल जी महाराज जी से निःशुल्क नाम दीक्षा प्राप्त करें। तथा सत्संग श्रवण हेतु सतलोक आश्रम यूट्यूब चैनल विजिट करें। 

International Nurses Day 2022 Reminds Sat-Bhakti Ensures Nurses’ Safety

0
International Nurses DayTheme, History, Quotes, Activities, Aim

Last Updated on 12 May 2022, 3:16 PM IST | International Nurses Day (IND) is commemorated all around the globe on the 12th of May every year as the anniversary of Florence Nightingale’s birth. This year is her 201st birth anniversary. The International Council of Nurses (ICN) celebrates this significant day each year with the distribution and production of the International Nurses Day evidence and resources. The lives of Nurses, health workers, and all the patients can be saved by doing Sat-bhakti after taking Naam Diksha (Initiation) from spiritual leader Sant Rampal Ji Maharaj.

International Nurses Day (IND) 2022: Highlights

  • The birth anniversary of the founder of modern nursing Florence Nightingale is observed as International Nurses Day (IND).
  • In January 1974, the 12th of May was assigned to observe International Nurses Day (IND).
  • IND is commemorated by the International Council of Nurses (ICN) all around the world since 1965.
  • International Nurses Day 2022 theme is ‘A Voice to Lead – Invest in Nursing and respect rights to secure global health’.
  • Various activities like a variety of community events, educational seminars, debates, discussions, competitions, etc will be carried out.
  • Aim of International Nurses Day is to promote health as a basic human right internationally.
  • Sat-bhakti can ensure the safety of all the nurses as well as the patients from all sorts of dangers. 

International Nurses Day 2022 Theme

This year’s IND (International Nurses Day 2022) theme is ‘NA Voice to Lead – Invest in Nursing and respect rights to secure global health‘. This year ICN seeks to demonstrate how nursing will modify the successive stages of healthcare and how they will look into the future. As a part of the hundred-day countdown to International Nurses Day on May 12, ICN will be delivering a variety of key resources which will benefit the IND report on its theme.

Aim of International Nurses Day

Nurses and other health workers are crucial in transforming health care and health systems such that no individual is left behind without access to care or left impoverished because of their need for health care. ICN speculates that health is a human right. They are at the vanguard of supporting access to health and nurses are pivotal in providing it. Guaranteeing that we have enough nurses and other health care workers is an essential enabler of the human right to health. Nurses can be a voice to direct by benefiting a people-centered technique to care and the health system, and by assuring their voices are heard in impacting the planning, health policy, and provision.

Significance of International Nurses Day

One can’t avert the fact that nursing is the largest healthcare profession in the entire world and it is the key factor in achieving Millennium Development Goals (MDG). Various training modules are delivered to the nurses for retaining the health and wellness of the patients. Undoubtedly nurses have profound knowledge of providing the best health care services. National Nurses Associations (NNAs) play a vital role in providing education, encouraging nurses, informing and advising so that they can provide their work properly. Also, NNA functions with non-governmental and governmental organizations to sustain health care systems.

International Nurses Day History & Background

The International Council of Nurses (ICN) has commemorated this day since 1965. Dwight D. Eisenhower, the president of the United States Department of Health, Education, and Welfare was approached by an official named Dorothy Sutherland in 1953 to announce a ‘Nurses’ Day’ but the request was rejected.

Also Read: International Nurses Day 2020 India: Theme, Quotes, History

Later in January 1974, the 12th of May was assigned to commemorate the day as it is the anniversary of the birth of Florence Nightingale, the founder of modern nursing. Every year, ICN distributes and prepares the IND Kit. The kit comprises public and educational information materials, for nurses to use all around the world. As of 1998, 8th May was appointed as annual National Student Nurses’ Day.

International Nurses Day (IND) Celebration 

In Canada and the US, a full week is observed as National Nursing Week. Even in Australia, different varieties of nursing observances are overseen. In this entire week health care services on the international degree are looked over. Even American Nurses Association encourages and supports the work and celebration of the Nurses.

Also Read: Mother’s Day: Date, Theme, History, Significance, Spiritual Mother

Various activities are also carried like a variety of community events, educational seminars, debates, discussions, competitions, etc. Also, nurses are appreciated and honored by doctors, administrators, colleagues, friends,  and patients by distributing flowers, gifts, organizing dinners, etc. The way nurses and other health workers are fighting the coronavirus pandemic without reasoning for their safety, thus this year, the day is important and it is essential to comprehend the endeavors of nursing professionals across the world.

Importance of IND 2022 during Covid-19 crisis 

The Covid-19 pandemic is a stark remembrance of the vital role that nurses play in everyone’s life. Without nurses and other health workers, the world can not win the combat against outbreaks. The world can not achieve universal health coverage or Sustainable Development Goals. As we record this day, we advise all the countries to ensure:

  • The occupational health, safety, and protection of nurses and other health workers. Unbridled access to personal and special protective equipment should be provided so they can safely provide supervision, care, and reduce infections in health care environments.
  • Nurses and other healthcare workers have unhindered access to timely pay, sick leave, mental health support, and medical insurance; as well as access to the most recent guidance and knowledge required to concede to all health needs, including pandemics.
  • Nurses are provided with the financial support and other resources required to help concede to and prevent Covid-19 and future outbursts.

Who Can Protect Nurses, Health Workers and Patients?

Everyone including nurses, health workers, and patients are exposed to Covid-19 in some or another way. Vaccines can’t protect us completely from bad effects of getting infected. We can’t fully trust the vaccines with our life as well. Many health workers and patients have died even after taking both doses of the Covid-19 vaccine. Medical science has failed to safeguard us in the time of need. Now, people are only left with the choice of ‘Spirituality’. Those who are agnostics and atheists might change their minds after seeing the miracles of Sat-bhakti. Because Sat-bhakti is the only vaccine that can safeguard us against deadly diseases.

What can Prevent our Untimely Death?

Many young adults have succumbed to Covid-19 ranging from the age of 18 to 30. Other deadly diseases like Cancer, HIV-AIDS, TB, Ebola, etc have also taken the lives of many young bloods. One must find a place where a 100℅ guaranteed cure for these deadly diseases is provided. A Spiritual Doctor and Tatvdarshi Saint Rampal Ji Maharaj knows the cure of everything. The Tatvdarshi Saint can destroy our sins which are the main cause of these diseases and can prevent us from untimely death by extending our life span. 

What can Ensure our Guaranteed Safety?

Presently, only Jagatguru Tatvdarshi Saint Rampal Ji Maharaj is enlightened by the spiritual knowledge who cures all diseases. Almighty God Kabir Himself has incarnated in the guise of Saint Rampal Ji to free us from our sufferings. Taking the refuge of Saint Rampal Ji Maharaj ensures our safety. After taking initiation (Naam Diksha) and performing true worship (Sat-Bhakti) according to the holy scriptures, our safety is 100℅ guaranteed.

International Nurses Day 2022 Quotes

  • Nurses are superheroes and healthcare is their superpower.
  • Nurses are role models for everyone to be careful with patients and be ready to help them.
  • The refuge of Supreme God Kabir ensures the safety of Nurses who are always exposed to danger.
  • Nurses can’t pull someone out from the clutches of death, only Almighty God Kabir can do that.
  • Nurses are the real Corona Warriors who spread kindness, compassion, and positivity. 
  • Nurses are the angels of God who attempt to heal while the disease tries to kill.