कबीर साहेब के अवतरण को लेकर क्या है भ्रांतियां?

spot_img

कबीर साहेब काशी (वाराणसी) शहर के बाहर लहरतारा तालाब में कमल के फूल पर प्रकट हुए। {लहरतारा तालाब आज भी मौजूद है, जो कबीर साहेब के प्रकट होने का प्रमाण देता है, जहां आज एक विशाल आश्रम (मंदिर) भी बना हुआ है। यह कहना गलत है कि कबीर साहेब जी मगहर में प्रकट हुए या किसी अन्य स्थान पर या फूलों की टोकरी में पाए गए। ये ऐसी किंवदंतियाँ हैं जिनका कहीं कोई प्रमाण नहीं है। सूक्ष्म वेद में अगम निगम बोध में कबीर साहेब जी की पवित्र कबीर सागर की वाणी साबित करती है कि वे काशी में एक तालाब में कमल के फूल पर प्रकट हुए थे। वहाँ से नीरू और नीमा नाम के एक निःसंतान दंपत्ति ने शिशु परमेश्वर कबीर जी को प्राप्त किया था।

 कबीर साहेब जी का अवतरण: मुख्य बिंदु

  • कबीर साहब जी लहरतारा तालाब काशी में कमल के फूल पर प्रकट हुए।
  • निःसंतान दंपत्ति नीरू और नीमा कबीर साहेब जी को लहरतारा तालाब से ले गए।
  • ऋषि अष्टानंद जी कबीर साहेब जी के अवतरण के साक्षी व दृष्टा बने।
  • नीरू और नीमा को काशी के मुस्लिम समुदाय द्वारा जबरदस्ती मुसलमान बना दिया गया।
  • नीरू और नीमा ने अपनी आजीविका के एक हिस्से के रूप में बुनकरों के रूप में काम करना शुरू किया।

कबीर साहेब जी के जन्म के बारे में मिथक

ऐसा माना जाता है कि कबीर साहेब जी ने एक विधवा ब्राह्मणी से जन्म लिया था जो उन्हें काशी में कहीं छोड़ गई थी। वहां से निःसंतान दंपत्ति नीरू और नीमा उन्हें ले गए। इसके अलावा कबीर साहेब जी का मगहर में प्रकट होना या किसी अन्य स्थान पर या फूलों की टोकरी में पाया जाना जैसी अन्य किंवदंतियाँ और मिथक भी पूरी तरह से बेतुके हैं। आइए जानते हैं असलियत के बारे में हमारे पवित्र शास्त्रों से पूरे प्रमाण और गवाहों के साथ।

नीरू-नीमा कौन थे?

नीरू और नीमा दोनों ही ब्राह्मण जाति के थे और इनका असली नाम गौरी शंकर और सरस्वती था। वे भगवान शिव को अपने इष्ट के रूप में पूजते थे। गौरी शंकर निस्वार्थ भाव से और नि:शुल्क शिव पुराण की कथा करके भक्तों को भगवान शिव की महिमा सुनाया करते थे। वे इतने गुणी आत्मा थे कि कोई उन्हें बिना मांगे दक्षिणा दे देता था तो वह उसमें से केवल अपने भोजन जितना ही रखते थे और शेष भंडारे पर खर्च कर देते थे।

गौरी शंकर और सरस्वती को जबरन मुसलमान बनाया गया

अन्य स्वार्थी ब्राह्मण गौरी शंकर और सरस्वती से ईर्ष्या करते थे क्योंकि गौरी शंकर बिना पैसे लिए शिव पुराण सुनाया करते थे। उन्होंने पैसे के लालच में भक्तों को गुमराह नहीं किया, जिससे वे प्रशंसा के पात्र बने रहे। वहां से मुसलमानों को पता चला कि गौरीशंकर और सरस्वती के समर्थन में कोई हिंदू या ब्राह्मण नहीं है। उन्होंने इस स्थिति का फायदा उठाया और उन्हें बलपूर्वक मुसलमानों में परिवर्तित कर दिया। मुसलमानों ने उनके घर और कपड़ों पर पानी छिड़का और कुछ जबरन उनके मुँह में भी डाला।  स्थिति का लाभ उठाकर हिंदू ब्राह्मणों ने भी घोषणा कर दी कि अब वे मुसलमान हो गए हैं और उन्हें काशी के पंचगंगा घाट पर स्नान करने से मना कर दिया गया।

बेचारे गौरी शंकर और सरस्वती असहाय हो गए। मुसलमानों ने पुरुष का नाम नीरू और महिला का नाम नीमा रखा। पहले जो भी चंदा मिलता था वह उनकी रोजी-रोटी चला रहा था, और जो भी पैसा बचता था, उसका दुरुपयोग नहीं करते थे। बचे हुए पैसों से वे धार्मिक भंडारा करते थे। अब तो चंदा भी आना बंद हो गया। उन्होंने सोचा अब हम क्या काम करें? उन्होंने एक हाथ-चक्की स्थापित की और बुनकरों के रूप में काम करना शुरू कर दिया। उस समय वे अपनी जरूरतें पूरी करने के बाद बचा हुआ पैसा भंडारे में खर्च कर दिया करते थे। हिंदू ब्राह्मणों ने नीरू-नीमा को गंगा में स्नान करने से मना किया था। वे कहते थे कि अब तुम मुसलमान हो गए हो।

लहरतारा तालाब में कमल के फूल पर कबीर साहेब जी का प्राकट्य

काशी नगरी में लहरों से छलक कर गंगा का जल लहरतारा नाम के एक बड़े सरोवर में भर जाता था। यह बहुत शुद्ध जल से भरा रहता था। उसमें कमल के फूल उग रहे थे। 1398 ईस्वी में (विक्रमी संवत 1455) ज्येष्ठ मास (मई-जून) में पूर्णिमा के दिन, ब्रह्म-मुहूर्त में (ब्रह्म-मुहूर्त सूर्योदय से लगभग डेढ़ घंटे पहले), परमेश्वर कबीर (कविर्देव) स:शरीर आए। वे सत्यलोक (ऋतधाम) से बाल रूप धारण कर काशी नगरी के लहरतारा सरोवर में कमल के फूल पर विराजमान हुए।

■ यह भी पढ़ें: कबीर प्रकट दिवस: कलयुग में कबीर परमेश्वर का प्राकट्य

नीरू और नीमा ब्रह्म-मुहूर्त में सुबह-सुबह स्नान करने उसी सरोवर में जा रहे थे। प्रकाश का एक बहुत उज्ज्वल द्रव्यमान (परमेश्वर कबीर जी बहुत उज्ज्वल शरीर वाले बच्चे के रूप में आए थे, दूरी के कारण, केवल प्रकाश के द्रव्यमान के रूप में प्रतीत हो रहे थे) ऊपर से (सत्यलोक से) आए और कमल के फूल पर विराजमान हुए। जिससे पूरी लहरतारा झील जगमगाने लगी और फिर प्रकाश का गोला एक कोने में जाकर समाप्त हो गया।

कबीर साहेब के प्राकट्य के चश्मदीद गवाह और दृष्टा बने ऋषि अष्टानंद जी

रामानंद जी के शिष्यों में से एक ऋषि अष्टानंद जी इस प्रकरण को अपनी आंखों से देख रहे थे। अष्टानंद जी भी प्रतिदिन स्नान करने के लिए एकांत स्थान पर जाया करते थे। गुरुदेव ने जो मन्त्र दिया था उसका जाप वहाँ बैठकर प्रकृति का आनन्द लिए करते थे। स्वामी अष्टानंद जी ने जब ऐसा तेज प्रकाश देखा तो उनकी आंखें भी चमक उठीं और ऋषि जी ने सोचा कि यह मेरी भक्ति की कोई उपलब्धि है या आंखो का धोखा। यह सोचकर कारण पूछने के लिए अपने गुरुदेव स्वामी रामानंद जी के पास गए।

अष्टानंद जी ने आदरणीय रामानन्द जी से पूछा हे गुरुदेव ! मैंने आज ऐसी रोशनी देखी है जो मैंने अपने जीवन में पहले कभी नहीं देखी। सारा वाकया सुनाया कि आकाश से प्रकाश का एक गोला आ रहा था। जब मैंने इसे देखा तो मेरी आंखे उस तेज को सहन नहीं कर सकी। इसलिए मेरी आंखे बंद हो गई, मैंने बंद आँखों से एक बच्चे का रूप देखा। (जैसे सूर्य को देखने के बाद बंद आंखों से केवल एक गेंद दिखाई देती है, वैसे ही बच्चा दिखाई दिया।) क्या यह मेरी भक्ति या मेरी दृष्टि दोष की कोई उपलब्धि थी?

स्वामी रामानन्द जी ने उत्तर दिया कि बेटा, ऐसे लक्षण तब होते हैं जब अवतार ऊपरी लोकों से आते हैं। वे किसी के यहाँ प्रकट होंगे, किसी माँ से जन्म लेंगे, और फिर लीला करेंगे (क्योंकि इन ऋषियों को इतना ही ज्ञान है कि कोई माँ से ही जन्म ले सकता है)। ऋषि के पास जो भी ज्ञान था, उसके आधार पर उन्होंने अपने शिष्य की शंका का समाधान किया।

नि:संतान दंपत्ति नीरू-नीमा का संतान प्राप्ति के लिए वियोग

उसी दिन नीरू और नीमा नहाने जा रहे थे। रास्ते में नीमा ने भगवान से प्रार्थना की, “हे भगवान शिव! (क्योंकि वे मुसलमान हो गए थे, लेकिन भगवान शिव की साधना को दिल से भूल नहीं पा रहे थे जो वे इतने सालों से कर रहे थे) क्या आप हमारे लिए एक बच्चे की कमी को पूरा नहीं कर सकते है? आप हमें एक बच्चा भी दे देते। हमारा जीवन भी सफल हो जाता।”  यह कह कर वह फूट-फूट कर रोने लगी। उसके पति नीरू ने कहा कि नीमा, भगवान की इच्छा में खुश रहना फायदेमंद है। अगर आप ऐसे ही रोते रहेंगे तो आपका शरीर कमजोर हो जाएगा, आपकी आंखों की रोशनी चली जाएगी। हमारे भाग्य में कोई बच्चा नहीं है।

नीरू-नीमा का कमल के फूल पर कबीर साहेब जी को देखना

यह कहते हुए वे लहार तारा के तालाब में पहुँच गए। थोड़ा अंधेरा था। नहाने के बाद नीमा ने उसके कपड़े बदल दिए। नीरू तालाब में घुस गया और पानी में गिरकर नहाने लगा। जब नीमा पुनः स्नान के समय पहने हुए वस्त्र को धोने नदी के तट पर गई, तब तक अँधेरा छंट चुका था। सूरज उगने ही वाला था। नीमा ने तालाब में देखा कि सामने कमल के फूल पर कुछ हिल रहा है।  बालक रूप में कबीर परमेश्वर के मुँह में एक पैर का अंगूठा था और वे अपना दूसरा पैर हिला हिला रहे थे।

पहले तो नीमा ने सोचा कि यह सांप हो सकता है और मेरे पति की ओर आ रहा होगा। फिर देखा कि यह एक बच्चा है। कमल के फूल पर एक बच्चा! एक बार अपने पति से चिल्ला कर कहा कि देखो, बच्चा डूब जाएगा, बच्चा डूब जाएगा! नीरू ने कहा कि मूर्ख, तुम बच्चों के लिए पागल हो गई हो। अब तुमहे पानी में भी बच्चे दिखने लगे है।  नीमा ने कहा, “हाँ, कमल के फूल के सामने देखो।” उसकी तीव्र आवाज से प्रभावित होकर, नीरू ने देखा कि वह कहाँ इशारा कर रही है; एक नवजात शिशु के रूप में एक बच्चा कमल के फूल पर लेटा हुआ था। नीरू उस बालक को फूल सहित ले आया और नीमा को दे दिया और वह नहाने लगा। नीरू जब स्नान करके सरोवर से निकला तो देखा नीमा बाल रूप में आए परमेश्वर को गले लगा रही थी और भगवान शिव की स्तुति और प्रार्थना कर रही थी कि हे भगवान, तुमने मेरी वह इच्छा पूरी कर दी जो मैंने वर्षों से की थी (क्योंकि वह शिव की उपासक थी)। आज ही में मैं ने मन से पुकारा था, और आप ने सुन लिया।

बाल कबीर की सुंदरता की अवर्णनीय महिमा

वह कबीर परमेश्वर, जिसका नाम लेने से हमारे हृदय में एक विशेष रोमांच पैदा हो जाता है, जिसके प्रेम में रोम रोम अंत तक खड़े हो जाते हैं और आत्मा हिल जाती है, वह माँ जो उसे एक बच्चे की तरह गले लगाती और प्यार करती, वह सुख जो उसने अनुभव किया होगा, यह अवर्णनीय है। जैसे एक माँ अपने बच्चे को प्यार करती है, वैसे ही वह कभी उसे चेहरे पर चूमती थी, कभी उसे गले लगाती थी और बार-बार उसके चेहरे को देखती थी।

बाल कबीर को घर ले जाने पर नीरू और नीमा की बहस

इसी बीच नीरू ने गणना की कि हमने मुसलमानों के साथ कोई विशेष प्रेम विकसित नहीं किया है और हिंदू ब्राह्मण हमसे नफरत करते हैं। पहले तो मुसलमानों ने इसका फायदा उठाया और हमें मुसलमान बना दिया क्योंकि हमारा कोई साथी नहीं था। अब अगर हम इस बच्चे को लेंगे तो लोग कहेंगे कि बताओ, इस बच्चे के माता-पिता कौन हैं? आपने किसी का बच्चा चुरा लिया है।  उसकी माँ रो रही होगी। हम क्या जवाब देंगे, हम क्या कहेंगे? अगर हम कहें कि हमने उन्हें कमल के फूल पर पाया, तो कोई भी हम पर विश्वास नहीं करेगा।

यह सब सोचकर नीरू ने कहा कि नीमा, इस बच्चे को यहीं छोड़ दो। नीमा ने कहा कि मैं इस बच्चे को नहीं छोड़ सकती। मैं अपनी जान दे सकती हूँ; मैं तड़प-तड़प कर मर जाऊँगी। कौन जाने इस बच्चे ने मुझ पर क्या जादू कर दिया है? मैं उसे नहीं छोड़ सकती। फिर नीरू ने पूरी बात बता दी कि हमारे साथ ऐसा हो सकता है। नीमा ने कहा कि मैं इस बच्चे के लिए वनवास भी ले सकती हूं, लेकिन इसे नहीं छोड़ूंगी। उसकी मूर्खता देखकर नीरू को लगा कि वह पागल हो गई है। वह समाज को देख भी नहीं रही थी।

नीरू-नीमा का बाल कबीर को घर ले जाना

नीरू ने नीमा से कहा कि आज तक मैंने कभी तुम्हारी अवहेलना नहीं की क्योंकि हमारे बच्चे नहीं थे। आपने जो कहा, मैंने मान लिया। लेकिन मैं आज आपकी नहीं सुनूंगा। या तो तुम इस बच्चे को यहीं रखो, या मैं तुम्हें दो थप्पड़ मारूंगा। उस महापुरुष ने जीवन में पहली बार अपनी पत्नी की ओर हाथ उठाने की कोशिश की थी। उसी क्षण शिशु रूप में कबीर परमेश्वर (कविर्देव) ने कहा कि नीरू मुझे घर ले चलो। आपको किसी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। शिशु रूप में भगवान के वचन सुनकर नीरू डर गया कि यह बच्चा कोई फरिश्ता या कोई सिद्ध व्यक्ति हो सकता है और मैं मुसीबत में पड़ सकता हूं। ऐसा सोचकर वह चुपचाप चलने लगा। और वे बच्चे को घर ले आए।

कबीर साहेब जी के अवतरण के बारे में पवित्र कबीर सागर और सूक्ष्म वेद से प्रमाण

पवित्र अमरग्रंथ के पारख के अंग से: संत गरीबदास जी द्वारा बोले गए अमृत शब्दों का संग्रह:

गरीब, चौरासी बंधन कटे, कीनी कलप कबीर। भवन चतुरदश लोक सब, टूटे जम जंजीर।।376।।

गरीब, अनंत कोटि ब्रांड में, बंदी छोड़ कहाय। सो तौ एक कबीर हैं, जननी जन्या न माय।।377।।

गरीब, शब्द स्वरूप साहिब धनी, शब्द सिंध सब माँहि। बाहर भीतर रमि रह्या, जहाँ तहां सब ठांहि।।378।।

गरीब, जल थल पृथ्वी गगन में, बाहर भीतर एक। पूरणब्रह्म कबीर हैं, अविगत पुरूष अलेख।।379।।

गरीब, सेवक होय करि ऊतरे, इस पृथ्वी के माँहि। जीव उधारन जगतगुरु, बार बार बलि जांहि।।380।।

गरीब, काशीपुरी कस्त किया, उतरे अधर अधार। मोमन कूं मुजरा हुवा, जंगल में दीदार।।381।।

गरीब, कोटि किरण शशि भान सुधि, आसन अधर बिमान। परसत पूरणब्रह्म कूं, शीतल पिंडरू प्राण।।382।।

गरीब, गोद लिया मुख चूंबि करि, हेम रूप झलकंत। जगर मगर काया करै, दमकैं पदम अनंत।।383।।

गरीब, काशी उमटी गुल भया, मोमन का घर घेर। कोई कहै ब्रह्मा विष्णु हैं, कोई कहै इन्द्र कुबेर।।384।।

गरीब, कोई कहै छल ईश्वर नहींं, कोई किंनर कहलाय। कोई कहै गण ईश का, ज्यूं ज्यूं मात रिसाय।।388।।

गरीब, कोई कहै वरूण धर्मराय है, कोई कोई कहते ईश। सोलह कला सुभांन गति, कोई कहै जगदीश।।385।।

गरीब, भक्ति मुक्ति ले ऊतरे, मेटन तीनूं ताप। मोमन के डेरा लिया, कहै कबीरा बाप।।386।।

गरीब, दूध न पीवै न अन्न भखै, नहींं पलने झूलंत। अधर अमान धियान में, कमल कला फूलंत।।387।।

गरीब, काशी में अचरज भया, गई जगत की नींद। ऎसे दुल्हे ऊतरे, ज्यूं कन्या वर बींद।।389।।

गरीब, खलक मुलक देखन गया, राजा प्रजा रीत। जंबूदीप जिहाँन में, उतरे शब्द अतीत।।390।।

गरीब, दुनी कहै योह देव है, देव कहत हैं ईश। ईश कहै पारब्रह्म है, पूरण बीसवे बीस।।391।।

सुक्षमवेद में अगम निगम बोध में कबीर साहेब जी के इस निम्नलिखित वाणी का अर्थ है पवित्र कबीर सागर यह भी साबित करता है कि वे काशी में एक तालाब में कमल के फूल पर प्रकट हुए थे।

अवधू अविगत से चल आया, कोई मेरा भेद मर्म नहीं पाया ||

ना मेरा जन्म ना गर्भ बसेरा, बालक हो दिखलाया ||

काशी नगर जल कमल पर डेरा, तहां जुलाहे ने पाया ||

यही प्रमाण कबीर सागर के ज्ञान बोध में भी है : पृष्ठ 29

नहीं बाप ना माता जाए, अविगत से हम चल आए ||

कलयुग में काशी चल आए, जब हमारे तुम दर्शन पाए ||

उपरोक्त प्रमाणों से यह सर्वसिद्ध होता है कि कबीर साहेब जी अपने निजधाम सतलोक से स:शरीर आकार काशी शहर में एक लहरतारा नामक सरोवर में कमल के फूल पर प्रकट हुए थे। इससे कबीर साहेब जी के बारे में सभी मिथक और किवदंतियां झूठी व मिथ्या साबित होती है। कबीर साहेब जी की जीवनलीला से जुड़ी अन्य सटीक और प्रमाणित जानकारी के लिए आज ही गुगल प्लेस्टॉर से डाउनलोड कीजिए ” संत रामपाल जी ” मोबाइल एप।

Latest articles

रक्तदान से मानवता को संदेश: संत रामपाल जी के हजारों भक्तों ने पेश किया उदाहरण 

कबीर निर्वाण दिवस और संत रामपाल जी बोध दिवस के शुभ अवसर पर संत...

Blood Donation Drive by Devotees of Saint Rampal Ji Maharaj at Satlok Ashrams

The followers of Saint Rampal Ji Maharaj have showcased exceptional dedication and compassion by...

37वां संत रामपाल जी बोध दिवस और 506वां कबीर साहेब निर्वाण दिवस कार्यक्रम हुआ सम्पन्न

37वें संत रामपाल जी महाराज के बोध दिवस और 506वें कबीर परमेश्वर के निर्वाण...

World Peace and Understanding Day 2024: Know How Ultimate Peace Can Be Obtained

World Peace and Understanding Day 2024: The day is celebrated to restore the lost...
spot_img

More like this

रक्तदान से मानवता को संदेश: संत रामपाल जी के हजारों भक्तों ने पेश किया उदाहरण 

कबीर निर्वाण दिवस और संत रामपाल जी बोध दिवस के शुभ अवसर पर संत...

Blood Donation Drive by Devotees of Saint Rampal Ji Maharaj at Satlok Ashrams

The followers of Saint Rampal Ji Maharaj have showcased exceptional dedication and compassion by...

37वां संत रामपाल जी बोध दिवस और 506वां कबीर साहेब निर्वाण दिवस कार्यक्रम हुआ सम्पन्न

37वें संत रामपाल जी महाराज के बोध दिवस और 506वें कबीर परमेश्वर के निर्वाण...