भगवान एक- फिर कैसे बन गए धर्म अनेक

भगवान एक- फिर कैसे बन गए धर्म अनेक | SA News Channel

यह प्रश्न सब के मन में उठता है कि इतने सारे धर्मों की स्थापना कैसे हुई। जाति और धर्म के नाम पर अनेक संप्रदाय बन गये। अनेक धर्म भी बन गये। लेकिन  वह एक भगवान कौन है जो हर जीव का उत्पत्ति करता है फिर चाहे वह इंसान हो या जानवर हो। सभी आत्माओ का जनक एक है जिसे प्राप्त करने के लिए किसी धर्म विशेष की अवश्यकता नही। हर धर्म अपने ईश्वर को सर्वोच्च और सृष्टिकर्ता मानता है लेकिन सच क्या है? मुस्लिमों का अल्लाह, खुदा सबसे बड़ा है या हिंदुओ का निराकार ब्रह्म? या फिर ब्रह्मा,विष्णु शंकर से बड़ा कोई नहीं है ? सिक्ख धर्म मे गुरु नानक जी को ही वाहेगुरु कहकर सर्वोच्च स्थान दिया गया है और ईसाइयो के लिए यीशु ही भगवान के बेटे है? पर आखिर कौन है सबसे बड़ा ईश्वर और कितने है ईश्वर?

Continue Reading
Will God save women from social evil like he saved Draupadi?

क्या आज भी भगवान बहन बेटियों को द्रौपदी की तरह बचा सकता है?

बलात्कार की घातक वारदातें दिनों-दिन फैल रही हैं जिन्हें रोक पाने में सरकार और समाज दोनों निष्फल दिख रहे हैं । दुष्कर्मी लोग बलात्कार के बाद अपना गुनाह छिपाने के लिए पीड़िता को जान से मार देते हैं। मनुष्य के भीतर छुपकर बैठी हैवानियत कब कहाँ किस लड़की पर हमला कर दे कुछ कहा नहीं […]

Continue Reading