बलात्कार की घातक वारदातें दिनों-दिन फैल रही हैं जिन्हें रोक पाने में सरकार और समाज दोनों निष्फल दिख रहे हैं । दुष्कर्मी लोग बलात्कार के बाद अपना गुनाह छिपाने के लिए पीड़िता को जान से मार देते हैं। मनुष्य के भीतर छुपकर बैठी हैवानियत कब…