आठ सितंबर,1951 कलयुग का वह सुनहरा दिन है जब एक महान परोपकारी संत पूर्णपरमात्मा की कृपा से पृथ्वी पर जन्म ले चुका है। “वो तारणहार धरती पर प्रकट हो चुका है यदि उसका अभी पता बता दूं तो सब उसके पीछे हो लेंगे। अभी वह…